भारतीय राष्ट्रीय प्रतिज्ञा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
भारत भारत के राष्ट्रीय प्रतीक
ध्वज तिरंगा
राष्ट्रीय चिह्न अशोक की लाट
राष्ट्र-गान जन गण मन
राष्ट्र-गीत वन्दे मातरम्
पशु बाघ
जलीय जीव गंगा डालफिन
पक्षी मोर
पुष्प कमल
वृक्ष बरगद
फल आम
खेल मैदानी हॉकी
पञ्चांग
शक संवत
संदर्भ "भारत के राष्ट्रीय प्रतीक"
भारतीय दूतावास, लन्दन
Retreived ०३-०९-२००७

भारत का राष्ट्रीय शपथ भारत गणराज्य के प्रति निष्ठा की शपथ है। विशेष रूप से गणतंत्रता दिवस एवं स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर स्कूलों में एवं अन्य स्थलों पर आयोजित सार्वजनिक समारोहों पर भागीदारियों द्वारा एक सुर में इसका उच्चार किया जाता है। आम तौर पर इसे स्कूलों की पाठ्यपुस्तकों के शुरूआती पन्ने पर छपा देखा जा सकता है। प्रतिज्ञा को असल रूप से 1962 में, लेखक प्यिदीमर्री वेंकट सुब्बाराव द्वारा, तेलुगू भाषा में रचा गया था। इसका पहला सार्वजनिक पठन 1963 में विशाखापट्टणम के एक विद्यालय में हुआ था। बाद में इसका अनुवाद कर के भारत की सारी अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में इसका प्रसार किया गया।

हिन्दी[संपादित करें]

भारत मेरा देश है। सब भारतवासी मेरे भाई-बहन हैँ। मैँ अपने देश से प्रेम करता हूँ। इसकी समृद्ध एवं विविध संस्कृति पर मुझे गर्व है। मैँ सदा इसका सुयोग्य अधिकारी बनने का प्रयत्न करता रहूगाँ। मैँ अपने माता-पिता, शिक्षकोँ एवं गुरुजनोँ का सम्मान करुगाँ और प्रत्येक के साथ विनीत रहूगाँ। मैँ अपने देश और देशवासियोँ के प्रति सत्यनिष्ठा की प्रतिज्ञा करता हूँ। इनके कल्याण एवं समृद्धि मेँ ही मेरा सुख निहित है।


असल तेलुगू संस्करण[संपादित करें]

భారతదేశము నా మాతృభూమి. భారతీయులందరు నా సహోదరులు. నేను నా దేశమును ప్రేమించుచున్నాను. సుసంపన్నమైన, బహువిధమైన నాదేశ వారసత్వసంపద నాకు గర్వకారణము. దీనికి అర్హుడనగుటకై సర్వదా నేను కృషి చేయుదును. నా తల్లిదండ్రులను, ఉపాధ్యాయులను, పెద్దలందరిని గౌరవింతును. ప్రతివారితోను మర్యాదగా నడచుకొందును. నా దేశముపట్లను, నా ప్రజలపట్లను సేవానిరతి కలిగియుందునని ప్రతిజ్ఞ చేయుచున్నాను. వారి శ్రేయోభివృద్ధులే నా ఆనందమునకు మూలము.


आन्य भाषाएं[संपादित करें]

संस्कृत[संपादित करें]

पद्यरूप[संपादित करें]

भारतं मम देशोऽयं भारतीयाश्च बान्धवाः।
परानुरक्तिरस्मिन्‌ मे देशेऽस्ति मम सर्वदा ॥ १॥
समृद्धा विविधाश्चास्य या देशस्य परम्पराः।
सन्ति ताः प्रति मे नित्यमभिमानोन्नतं शिरः ॥ २॥
प्रयतिष्ये सदा चाहमासादयितुमर्हताम्‌ ।
येन तासां भविष्यामि श्रद्धायुक्तः पदानुगः ॥ ३॥
संमानयेयं पितरौ वयोज्येष्ठान्‌ गुरूंस्तथा।
सौजन्येनैव वर्तेय तथा सर्वैरहं सदा ॥ ४॥
स्वकीयेन हि देशेन स्वदेशीयैश्च बान्धवैः।
एकान्तनिष्ठमाचारं प्रतिजाने हि सर्वथा ॥ ५॥
एतेषामेव कल्याणे समुत्कर्षे तथैव च ।
नूनं विनिहितं सर्वं सौख्यमात्यन्तिकं मम ॥६॥

गध्यरूप[संपादित करें]

भारतं मम मातृभूमिः।
सर्वे भारतीयाः मे भ्रातरः।
अहं मम देशे स्निह्यामि।
तस्य समृद्धायां नानाविधायां च पूर्विकसम्पत्तौ अभिमानी च भवामि।
तद्योग्यतां सम्पादयितुं सदा यतिष्ये च।
अहं पितरौ गुरूंश्चादरिष्ये बहुमानयिष्ये च।
विनयान्वित एवाहं सदा सर्वैः सह व्यवहरिष्ये।
मम राष्ट्राय राष्ट्रियेभ्यश्चाहं समर्पये स्वसेवाम्।
राष्ट्रियाणां योगक्षेमैश्वर्येष्वेवाहम् आत्मनस्तोषं कलयामि।

मैथिली[संपादित करें]

भारत हमर देश थिक।
हम सब भारतवासी भाई बहिन छी।
हमर देश अपन प्राणहुँ स प्रिय अछि।
हम भारतक आ विविध संस्कृति पर गर्व करैत छी।
हम भारतक सुयोग्य अधिकारी हैबाक सदा प्रयत्न करब।
हम अपन माता पिता शिक्षक और गुरु जनक आदर करब आ सबहक संग शिष्टताक व्यवहार करब।
अपना देश आ देशवासीक प्रति हम अपन निष्ठाक प्रतिज्ञा करैत छी।
हुनक कल्याण और सुखसमृद्धि टा में हमारा सुख निहित अछि।
जय हिन्द!


मराठी[संपादित करें]

भारत माझा देश आहे।
सारे भारतीय माझे बांधव आहेत।
माझ्या देशावर माझे प्रेम आहे।
माझ्या देशातल्या समृद्ध आणि
विविधतेने नटलेल्या परंपरांचा मला अभिमान आहे।
त्या परंपरांचा पाईक होण्याची पात्रता
माझ्या अंगी यावी म्हणून मी सदैव प्रयत्न करीन।
मी माझ्या पालकांचा, गुरुजनांचा
आणि वडीलधार्‍या माणसांचा मान ठेवीन
आणि प्रत्येकाशी सौजन्याने वागेन।
माझा देश आणि माझे देशबांधव
यांच्याशी निष्ठा राखण्याची
मी प्रतिज्ञा करीत आहे।
त्यांचे कल्याण आणि
त्यांची समृद्धी ह्यांतच माझे
सौख्य सामावले आहे।

गुजराती[संपादित करें]

ભારત મારો દેશ છે।
બધા ભારતીયો મારા ભાઈ બહેનો છે।
હું મારા દેશને ચાહું છું અને તેના સમૃદ્ધ અને
વૈવિધ્યપૂર્ણ વારસાનો મને ગર્વ છે।
હું સદાય તેને લાયક બનવા પ્રયત્ન કરીશ।
હું મારા માતાપિતા શિક્ષકો અને વડીલો પ્રત્યે આદર રાખીશ
અને દરેક જણ સાથે સભ્યતાથી વર્તીશ।
હું મારા દેશ અને દેશબાંધવોને મારી નિષ્ઠા અર્પું છું।
તેમના કલ્યાણ અને સમૃદ્ધિમાં જ મારું સુખ રહ્યું છે।

देवनागरी लिप्यांतरण:

भारत मारो देश छे। बधा भारतीयो मारा भाई बहेनो छे। हुं मारा देशने चाहुं छुं अने तेना समृद्ध अने वैविध्यपूर्ण वारसानो मने गर्व छे। हुं सदाय तेने लायक बनवा प्रयत्न करीश। हुं मारा मातापिता शिक्षको अने वडीलो प्रत्ये आदर राखीश अने दरेक जण साथे सभ्यताथी वर्तीश। हुं मारा देश अने देशबांधवोने मारी निष्ठा अर्पुं छुं। तेमना कल्याण अने समृद्धिमां ज मारुं सुख रह्युं छे।


मलयालम[संपादित करें]

ഭാരതം എന്റെ നാടാണ്.
എല്ലാ ഭാരതീയരും എന്റെ സഹോദരീസഹോദരന്മാരാണ്‌.
ഞാൻ എന്റെ നാടിനെ സ്നേഹിക്കുന്നു.
സമ്പന്നവും വൈവിദ്ധ്യപൂർണവുമായ അതിന്റെ പരമ്പരാഗതസമ്പത്തിൽ ഞാൻ അഭിമാനിക്കുന്നു.
ആ സമ്പത്തിന് അർഹനാകുവാൻ ഞാൻ എപ്പോഴും ശ്രമിക്കുന്നതാണ്.
ഞാൻ എന്റെ മാതാപിതാക്കളെയും ഗുരുജനങ്ങളെയും മുതിർന്നവരെയും ആദരിക്കുകയും -
എല്ലാവരോടും വിനയപൂർവം പെരുമാറുകയും ചെയ്യും.
ഞാൻ എന്റെ നാടിനോടും എന്റെ നാട്ടുകാരോടും സേവാനിരതനായിരുക്കുമെന്ന് പ്രതിജ്ഞ ചെയ്യുന്നു.
എന്റെ നാടിന്റെയും നാട്ടുകാരുടെയും ക്ഷേമത്തിലും അഭിവൃദ്ധിയിലുമാണ് എന്റെ ആനന്ദം.
ജയ് ഹിന്ദ്.

देवनागरी लिप्यांरण:

भारतान अइनरइ नातान। अइल्लऽ भारतीयरुन अइनरई सहेआदरीसहेआदरन्मारान। नाड़ अइनरइ नातिनई स्नेहिक्कुनु। सम्पन्नवुन वईविद्ध्यपूर्नवुमाये अतिन्रइ परम्परागतसम्पत्तिगण नाड़ अभिमानिक्कुन्नु। आ स्म्पत्तिन अर्हनाकुवाण नाड़ अइप्पेआलुन श्रमिक्कुन्नतान। नाड़ अइनरइ मातापिताक्कलइयुन गुरुजन्नलइयुन मुतिर्अन्नवरइयुन आदरिक्कुकयुन-अइल्लावरेआतुन विनयपूर्वन पइरुमारुकयुन चईय्युन। नाड़ अइनरइ नातिनेआतुन अइनरइ नाट्टुकारेआतुन सेवानिरतनायिरुक्कुमईन्न प्रतिज्ञ चईय्युन्नु। अइनरइ नातिन्रइयुन नात्तुकारुतईयुन क्षेमट्टिलुन अभिव्रधियिलुमान अइनरइ आनन्दन। जय हिन्द।


अंग्रेज़ी[संपादित करें]

India is my country.
All Indians are my brothers and sisters.
I love my country and, I am proud of it's rich and varied heritage.
I shall always strive to be worthy of it.
I shall give my parents, teachers and all elders respect and treat everyone with courtesy .
To my country and my people, I pledge my devotion.
In their well being and prosperity alone, lies my happiness.
Jai Hind !


देवनागरी में: इंडिया इज़ माई कन्ट्री। ऑल इंडियन्स् आर माई ब्रदर्स् ऐंड सिस्टर्स्। आई लव माई कन्ट्री ऐंड अई ऐम प्राउड ऑफ़ इट्स् रिच ऐंड वैरीड हेरिटेज। आई शैल ऑल्वेज़ स्ट्राइक टू बी वर्दी ऑफ इट।

आई शैल गिव माई पैरेंट्स, टीचर्स एंड ऑल एल्डर्स, रेस्पेक्ट एंड ट्रिट एवरीवन विथ कर्टसी।
टू माय कंट्री एंड माय पीपल आई प्लेज माई डिवोशन।
इं देयर वेल्बींग एंड प्रॉस्पेरिटी अलोन लाइज़ माई हैप्पीनेस।

जय हिन्द!

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]