शक संवत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भारत भारत के राष्ट्रीय प्रतीक
ध्वज तिरंगा
राष्ट्रीय चिह्न अशोक की लाट
राष्ट्रभाषा कोई नही
राष्ट्र-गान जन गण मन
राष्ट्र-गीत वन्दे मातरम्
पशु बाघ
जलीय जीव गंगा डालफिन
पक्षी मोर
पुष्प कमल
वृक्ष बरगद
फल आम
खेल मैदानी हॉकी
पञ्चांग
शक संवत
संदर्भ "भारत के राष्ट्रीय प्रतीक"
भारतीय दूतावास, लन्दन
Retreived ०३-०९-२००७

शक संवत भारत का प्राचीन संवत है जो 78 ईसवी से आरम्भ होता है। शक संवत भारत का राष्ट्रीय कैलेंडर है।

शक संवत्‌ के विषय में बुदुआ का मत है कि इसे उज्जयिनी के क्षत्रप चेष्टन ने प्रचलित किया। शक राज्यों को चंद्रगुप्त विक्रमादित्य ने समाप्त कर दिया पर उनका स्मारक शक संवत्‌ अभी तक भारतवर्ष में चल रहा है।

कुछ अन्य संवत

सन्दर्भ[संपादित करें]

शक

👉यूनानीयों के बाद शक आए। शकों की पांच शाखाएँ थीं और हर शाखा की राजधानी भारत और अफगनिस्तान में अलग-अलग भागो में थी। 👉पहली शाखा ने अफगानिस्तान, दूसरी शाखा ने पंजाब (राजधानी तक्षशिला),तीसरी शाखा ने मथुरा,चौथी शाखा ने पश्चिमी भारत एवं पाँचवीं शाखा ने ऊपरी दक्कन पर प्रभुत्व स्थापित किया । प्रथम शक राजा मोअ था।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

भारत का राष्ट्रीय संवत: शक संवत (हिन्दी स्पीकिंग ट्री)