बजरंग पूनिया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

बजरंग पूनिया (जन्म 26 फ़रवरी 1994) एक भारतीय पहलवान हैं। हरियाणा के गांव खूडन जिला झज्जर से हैं। खेल रत्न राजीव गांधी पुरस्कार २०१९ से नवाजा गया। इसके अतिरिक्त पदम श्री २०१९ से भी पुरस्कृत। [1] जिन्होंने 2018 के एशियन खेलों में पुरुषों की 65 किलोग्राम वर्ग स्पर्धा के फाइनल में जापान के पहलवान तकातानी डियाची को एकतरफा मुकाबले में 11-8 से शिकस्त दी।[2] एशियाई खेलों में गोल्ड मेडल जीतने वाले भारत के 9वें पहलवान हो गए। बजरंग ने अपना यह गोल्ड मेडल पूर्व प्रधानमंत्री स्व॰ अटल बिहारी वाजपेयी को समर्पित किया।

पुरस्कार[संपादित करें]

  • डेव स्चुल्ज़ मेमोरियल टूर्नामेंट, २०१३ – चांदी।
  • डेव स्चुल्ज़ मेमोरियल टूर्नामेंट, २०१५ – चांदी।[3]
  • अर्जुन पुरस्कार, २०१५[4]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. नौरिस प्रीतम (६ सितम्बर २०१५). "शाही पनीर, रायते को तरसे भारतीय पहलवान". बीबीसी हिन्दी. अभिगमन तिथि १५ सितम्बर २०१८.
  2. "एशियन गेम्स 2018: बजरंग पुनिया ने भारत को दिलाया पहला गोल्ड". बीबीसी हिन्दी. १९ अगस्त २०१८. अभिगमन तिथि १५ सितम्बर २०१८.
  3. "Bajrang's village celebrates the proud moment" [बजरंग के गाँव में गर्व के क्षणों को मनाते हुये] (अंग्रेज़ी में). द ट्रिब्यून. १५ मई २०१८. अभिगमन तिथि १५ सितम्बर २०१८.
  4. "विश्व चैंपियनशिप: पहलवान बजरंग भी नहीं दिला सके पदक". दैनिक जागरन. १२ सितम्बर २०१५. अभिगमन तिथि १५ सितम्बर २०१८.