बजरंग पूनिया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
बजरंग पूनिया

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने पूनिया को 2015 के लिए अर्जुन पुरस्कार से नवाजा
व्यक्तिगत जानकारी
राष्ट्रीयता भारतीय
जन्म 26 फ़रवरी 1994 (1994-02-26) (आयु 28)
खुदन, जज्जर, हरियाणा, भारत
कद 1.66 मी
वज़न 65 kg
खेल
देश भारत
खेल कुश्ती
प्रतिस्पर्धा फ्री स्टाइल कुश्ती। फ्रीस्टाइल
कोच सुजीत मान

बजरंग पूनिया (जन्म 26 फ़रवरी 1994) एक भारतीय पहलवान हैं[2] जिन्होंने 2018 के एशियन खेलों में पुरुषों की 65 किलोग्राम वर्ग स्पर्धा के फाइनल में जापान के पहलवान तकातानी डियाची को एकतरफा मुकाबले में 11-8 से शिकस्त दी।[3] एशियाई खेलों में गोल्ड मेडल जीतने वाले भारत के 9वें पहलवान हो गए। बजरंग ने अपना यह गोल्ड मेडल पूर्व प्रधानमंत्री स्व॰ अटल बिहारी वाजपेयी को समर्पित किया।

वर्तमान में, वह भारतीय रेलवे में राजपत्रित अधिकारी ओएसडी स्पोर्ट्स के पद पर काम करते हैं।[4] पुनिया को अपने गांव के बुजुर्गों का ज्ञान प्राप्त करने में आनंद आता है।[4]

करियर[संपादित करें]

2013 एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप[संपादित करें]

नई दिल्ली, भारत में, सेमीफाइनल मुकाबले में, बजरंग ने उत्तर कोरिया के ह्वांग रयोंग-हक से 3-1 से हारकर पुरुषों की फ्रीस्टाइल 60 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीता।

राउंड ऑफ़ १६ में, उन्होंने जापान के शोगो मैदा का सामना करते हुए उन्हें ३-१ से हराया।  क्वार्टर फाइनल में उनके प्रतिद्वंद्वी ईरान के मुराद हसन थे जिन्हें उन्होंने 3-1 से हराकर सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई किया।[5]

2013 विश्व कुश्ती चैंपियनशिप[संपादित करें]

हंगरी के बुडापेस्ट में, बजरंग ने पुरुषों की फ्रीस्टाइल 60 किग्रा वर्ग में रेपेचेज राउंड के माध्यम से कांस्य पदक बाउट के लिए क्वालीफाई करके कांस्य पदक जीता।  वहां उनकी मुलाकात मंगोलिया के एनखसैखानी न्याम-ओचिर से हुई और उन्हें 9-2 से हराया।

32वें राउंड में उनका सामना बुल्गारिया के व्लादिमीर डबोव से हुआ जिन्होंने उन्हें 7-0 से हराया।  बल्गेरियाई पहलवान के अंतिम मुकाबले के लिए क्वालीफाई करने के बाद, बजरंग ने जापान के शोगो मैदा का सामना किया और वॉकओवर अर्जित किया।  उनका अगला प्रतिद्वंद्वी रोमानिया का इवान गाइडिया था, और रोमानियाई पर 10-3 की जीत के साथ, बजरंग ने कांस्य पदक के मुकाबले में एक स्थान अर्जित किया।

2014 राष्ट्रमंडल खेल[संपादित करें]

स्कॉटलैंड के ग्लासगो में, उन्होंने कनाडा के डेविड ट्रेमब्ले से 1-4 से हारने के बाद पुरुषों की फ़्रीस्टाइल 61 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीता।

16वें राउंड में बजरंग ने इंग्लैंड के साशा मदयार्चिक का सामना किया और उन्हें 4-0 से हराया।  उन्होंने क्वार्टर फाइनल में दक्षिण अफ्रीका के मार्नो प्लाटजी का सामना किया और 4-1 से जीत हासिल की।  नाइजीरियाई पहलवान, अमास डेनियल, सेमीफाइनल में उनके प्रतिद्वंद्वी थे और उन्होंने 3-1 के स्कोर में उन्हें मात दी।[6]

2014 एशियाई खेल[संपादित करें]

दक्षिण कोरिया के इंचियोन में, उन्होंने ईरान के मसूद एस्माईलपुरजौयबारी से 1-3 से हारने के बाद पुरुषों की फ़्रीस्टाइल 61 किग्रा वर्ग में रजत पदक जीता।

राउंड ऑफ़ १६ में, उन्होंने मंगोलिया के तुवशिंतुल्गा तुमेनबिलेगॉफ़ का सामना किया और उन्हें ३-१ से हराया।  उनके क्वार्टर फाइनल प्रतिद्वंद्वी ताजिकिस्तान के फरखोदी उस्मोनजोडा थे, जिन्हें उन्होंने 4-1 से हराकर सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई किया।  सेमीफाइनल में जापान के नोरियुकी ताकात्सुका को ४-१ से हराकर उन्हें पदक का आश्वासन दिया गया था।[7]

2014 एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप[संपादित करें]

कजाकिस्तान के अस्ताना में, बजरंग ने पुरुषों की फ्रीस्टाइल 61 किग्रा वर्ग में ईरान के मसूद एस्माइलपुर से 0-4 से हारकर रजत पदक जीता।

16 के राउंड में, बजरंग ने दक्षिण कोरिया के ली सेउंग-चुल से मुकाबला किया, जिसे उन्होंने 3-1 से हराया।  क्वार्टर फाइनल में, उनका सामना जापान के नोरियुकी ताकात्सुका से हुआ, जिसे उन्होंने 3-1 से हराकर सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई किया।  वहां उनकी मुलाकात मंगोलिया के नजमंदख लम्गर्मा से हुई, जिन्हें उन्होंने 3-1 से हराकर पदक जीता।[8]

2015 विश्व कुश्ती चैंपियनशिप[संपादित करें]

अपने साथी नरसिंह यादव के विपरीत, बजरंग लास वेगास में टूर्नामेंट में पदक नहीं जीत पाए और 5वें स्थान पर रहे।

32 के राउंड में, वह मंगोलिया के बैटबोल्डिन नॉमिन से मिले, जिन्होंने उन्हें 10-0 से हराया।  मंगोलियाई ने ६१ किग्रा वर्ग में फाइनल मुकाबले के लिए क्वालीफाई कर लिया, बजरंग को रेपचेज राउंड में लड़ने का मौका मिला।  रिपचेज राउंड में उनका पहला प्रतिद्वंदी यूएसए के रीस हम्फ्री थे जिन्हें उन्होंने आसानी से 6-0 से हराया।  दूसरा रेपचेज प्रतिद्वंद्वी जॉर्जिया से बेका लोमताद्ज़े था जिसने एक लड़ाई लड़ी लेकिन अंततः भारतीय द्वारा 13-6 से हार गई।  दुर्भाग्य से, वह आखिरी बाधा पर गिर गया, कांस्य पदक 6-6 से ड्रॉ हुआ, लेकिन उसके प्रतिद्वंद्वी यूक्रेन के वासिल शुप्टर ने अंतिम अंक हासिल किया।[9]

एशियाई कुश्ती चैम्पियनशिप 2017[संपादित करें]

2017 मई में, उन्होंने दिल्ली में आयोजित एशियाई कुश्ती चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता।[10]

2015 प्रो रेसलिंग लीग[संपादित करें]

बजरंग नई दिल्ली में आयोजित नीलामी में JSW के स्वामित्व वाली बैंगलोर फ्रेंचाइजी का दूसरा अधिग्रहण था।  पहलवान को 29.5 लाख रुपये की राशि में चुना गया था।

प्रो रेसलिंग लीग 10 दिसंबर से 27 दिसंबर तक छह शहरों में आयोजित होने वाली थी।[11]

2018 राष्ट्रमंडल खेल[संपादित करें]

गोल्ड कोस्ट, ऑस्ट्रेलिया में, उन्होंने पुरुषों की फ़्रीस्टाइल 65 किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीता।  उन्होंने तकनीकी श्रेष्ठता से वेल्स के केन चारिग को हराकर स्वर्ण पदक जीता।

2018 एशियाई खेल[संपादित करें]

19 अगस्त को, उन्होंने पुरुषों की फ़्रीस्टाइल 65 किग्रा/स्वर्ण पदक जीता।  उन्होंने जापानी पहलवान ताकातानी दाइची को 11-8 से हराया;  पहले दौर के बाद स्कोर 6-6 पर लॉक हो गया था।[12]

2018 विश्व कुश्ती चैंपियनशिप[संपादित करें]

बजरंग ने 2019 विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में रजत पदक जीता।  रजत पदक के बाद , उन्होंने 65 किलो वर्ग में विश्व नंबर 1 का दावा किया।[13]

2019 विश्व कुश्ती चैंपियनशिप[संपादित करें]

बजरंग ने विश्व चैंपियनशिप में दूसरी बार कांस्य पदक जीता, जिससे भारत ने 65 किग्रा फ्रीस्टाइल कुश्ती स्पर्धा में टोक्यो 2020 ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया।

2020 रोम रैंकिंग सीरीज[संपादित करें]

18 जनवरी को, बजरंग ने रैंकिंग श्रृंखला में 65 किलो फ्रीस्टाइल वर्ग में फाइनल में जॉर्डन ओलिवर को 4-3 ​​से हराया।[14]


2021[संपादित करें]

2021 में, उन्होंने रोम, इटली में आयोजित मैटेओ पेलिकोन रैंकिंग सीरीज 2021 में 65 किग्रा स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता।

पुरस्कार[संपादित करें]

  • डेव स्चुल्ज़ मेमोरियल टूर्नामेंट, २०१३ – चांदी।
  • डेव स्चुल्ज़ मेमोरियल टूर्नामेंट, २०१५ – चांदी।[15]
  • अर्जुन पुरस्कार, २०१५[16]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "India dominates". The Hindu. 7 November 2016. मूल से 8 November 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 November 2016.
  2. नौरिस प्रीतम (६ सितम्बर २०१५). "शाही पनीर, रायते को तरसे भारतीय पहलवान". बीबीसी हिन्दी. मूल से 17 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि १५ सितम्बर २०१८.
  3. "एशियन गेम्स 2018: बजरंग पुनिया ने भारत को दिलाया पहला गोल्ड". बीबीसी हिन्दी. १९ अगस्त २०१८. मूल से 18 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि १५ सितम्बर २०१८.
  4. Service, Tribune News. "Bajrang's village celebrates the proud moment". Tribuneindia News Service (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-06-10.
  5. "International Wrestling Database". www.iat.uni-leipzig.de. मूल से 4 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2021-06-11.
  6. "Bajrang wins bronze at World Wrestling Championships". मूल से 21 सितंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 जून 2021.
  7. "Athletes_Profile | Biographies | Sports". web.archive.org. 2014-10-04. मूल से पुरालेखित 4 अक्तूबर 2014. अभिगमन तिथि 2021-06-13.सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  8. "International Wrestling Database". मूल से 5 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 जून 2021.
  9. "JSW bag Narsingh at Pro Wrestling League auction - Times of India". Cite journal requires |journal= (मदद)
  10. Service, Tribune News. "Bajrang's village celebrates the proud moment". Tribuneindia News Service (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-06-17.
  11. Sharma, Ravi Teja. "Pro Wrestling League: Yogeshwar Dutt gets Rs 39.7-lakh offer, Sushil Kumar Rs 38.2 lakh". The Economic Times. अभिगमन तिथि 2021-06-17.
  12. "Wrestler Bajrang Punia brings India first Asian Games gold". The Indian Express (अंग्रेज़ी में). 2018-08-20. अभिगमन तिथि 2021-06-18.
  13. Pioneer, The. "Bajrang becomes number one in world in 65kg". The Pioneer (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-06-23.
  14. RomeJanuary 18, India Today Web Desk; January 18, 2020UPDATED:; Ist, 2020 23:57. "Bajrang Punia wins gold at Rome Ranking Series event". India Today (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2021-07-12.सीएस1 रखरखाव: फालतू चिह्न (link)
  15. "Bajrang's village celebrates the proud moment" [बजरंग के गाँव में गर्व के क्षणों को मनाते हुये] (अंग्रेज़ी में). द ट्रिब्यून. १५ मई २०१८. मूल से 21 जून 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि १५ सितम्बर २०१८.
  16. "विश्व चैंपियनशिप: पहलवान बजरंग भी नहीं दिला सके पदक". दैनिक जागरन. १२ सितम्बर २०१५. मूल से 15 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि १५ सितम्बर २०१८.