पेरासिटामोल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पेरासिटामोल
सिस्टमैटिक (आईयूपीएसी) नाम
N-(4-hydroxyphenyl)ethanamide
परिचायक
CAS संख्या 103-90-2
en:PubChem 1983
en:DrugBank APRD00252
en:ChemSpider 1906
रासायनिक आंकड़े
सूत्र C8H9NO2 
आण्विक भार 151.17 g/mol
SMILES eMolecules & PubChem
भौतिक आंकड़े
घनत्व 1.263 g/cm3 g/cm³
गलनांक 168 °C (334 °F)
जल में घुलनशीलता 14 mg/mL (25 °C) मि.ग्रा/मि.ली (२० °से.)
फ़ार्मओकोकाइनेटिक आंकड़े
जैव उपलब्धता almost 100%
उपापचय 90 to 95% Hepatic
अर्धायु 1–4 h
उत्सर्जन Renal
लाइसेंस आंकड़े

US FDA:link

पेरासिटामोल (INN)(उच्चारित/ˌpærəˈsiːtəmɒl, ˌpærəˈsɛtəmɒl/) या एसिटामिनोफेन (आईपीए: /əˌsiːtəˈmɪnɵfɨn/) (USAN) व्यापक रूप से प्रयुक्त की जाने वाली काउंटर पर उपलब्ध एनाल्जेसिक (दर्द निवारक) और एंटीपायरेटिक (बुखार कम करने वाली) दवा है। इसका प्रयोग आम तौर पर बुखार, सर दर्द और अन्य छोटे मोटे दर्द से राहत पाने के लिए किया जाता है और यह असंख्य सर्दी और फ्लू के उपचार में काम में ली जाने वाली दवाओं का प्रमुख अवयव है। स्टेरोयड रहित प्रति-शोथ दवाओं (NSAIDs) और ओपिओइड एनाल्जेसिक के साथ संयोजन में, पेरासिटामोल का प्रयोग अधिक गंभीर दर्द के इलाज में भी किया जाता है। (जैसे सर्जरी के बाद में होने वाले दर्द में)ओपिओइड एनाल्जेसिक

हालांकि इसे आम तौर पर निर्धारित मात्रा में मानव उपयोग के लिए सुरक्षित माना जाता है, लेकिन पेरासिटामोल की निर्धारित मात्रा से अधिक खुराक (वयस्कों में प्रति खुराक 1000 mg से ज्यादा और प्रति दिन 4000 mg से ज्यादा और प्रति दिन 2000 mg से ज्यादा यदि एल्कोहल का सेवन किया जा रहा है[1]) लीवर की घातक क्षति का कारण बन सकती है, किसी किसी व्यक्ति में सामान्य खुराक भी इसी प्रकार से हानिकारक हो सकती है; यह जोखिम एल्कोहल के उपभोग के साथ बढ़ जाता है।

पश्चिमी दुनिया में पेरासिटामोल की विषालुता लीवर की घातक विफलता का सबसे प्रमुख कारण है और संयुक्त राज्य अमेरिका, संयुक्त राष्ट्र, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलेंड में सबसे ज्यादा ओवरडोज़ इसी दवा की ली जाती है।[2][3][4][5]

पेरासिटामोल की व्युत्पत्ति कोलतार से हुई है और यह "एनिलिन एनाल्जेसिक" नामक दवाओं के वर्ग का एक भाग है।[6] यह फेनासेटिन का सक्रिय मेटाबॉलिज़मक है, जो कभी खुद एक एनाल्जेसिक और एंटीपायरेटिक के रूप में लोकप्रिय था, लेकिन फेनासेटिन और इसके संयोजन के विपरीत, पेरासिटामोल को चिकित्सकीय खुराक में कार्सिनोजनिक नहीं माना जाता है।[7] दोनों शब्द एसिटामिनोफेन और पेरासिटामोल एक ही यौगिक के रासायनिक नाम से आये हैं, यह यौगिक है: पेरा -एसिटा इलएमिनोफिनो ल और पेरा -एसिटा इलएमि नोफिनो कुछ सन्दर्भों में, इसे संक्षिप्त रूप में केवल APAP कहा जाता है, यह संक्षिप्त रूप N-एसिटाइल -पेरा-एमिनोफिनोल के लिए है।

इतिहास[संपादित करें]

एसिटेनीलाइड पहला एनिलिन व्युत्पन्न था जिसमें एनाल्जेसिक और एंटीपायरेटिक गुण थे और यह 1886 में बहुत जल्दी ए. काहन और पी. हेप के द्वारा एंटीफेब्रिन के नाम से मेडिकल प्रैक्टिस में आ गया।[8] लेकिन इसके अस्वीकार्य विषाक्त प्रभाव, विशेष रूप से मेथेमोग्लोबिनेमिया के कारण सायनोसिस के खतरे के कारण, कम विषाक्त एनिलिन व्युत्पन्न की खोज पर जोर दिया गया।[6] 1877 में जॉन्स होपकिंस विश्वविद्यालय में हारमोन नोरथ्रोप मोर्स ग्लेशियल एसिटिक अम्ल में टिन के साथ "पी"-नाइट्रो फिनोल के अपचयन के माध्यम से पहले से ही पेरासिटामोल का संश्लेषण कर चुके थे।[9][10]

लेकिन 1887 में पहली बार नैदानिक औषध विज्ञानी जोसेफ वॉन मेरिंग ने पेरासिटामोल का मरीजों पर परीक्षण किया।[6]

1893 में, वॉन मेरिंग ने एक पत्र प्रकाशित किया जिसमें फेनासेटिन और अन्य एनिलिन व्युत्पन्न के साथ पेरासिटामोल के नैदानिक परिणामों पर रिपोर्ट दी गयी।[11]

वॉन मेरिंग ने दावा किया कि, फेनासेटिन के विपरीत, पेरासिटामोल की मेथेमोग्लोबिनेमिया उत्पन्न करने की मामूली प्रवृति है।

पेरासिटामोल को जल्दी ही फेनासेटिन के पक्ष में हटा दिया गया। फेनासेटिन की बिक्री ने बेयर को एक अग्रणी फार्मास्युतिकल कम्पनी के रूप में स्थापित किया।[12] फेनासेटिन पर एस्पिरिन आंशिक रूप से भारी थी, फेनासेटिन 1899 में हीनरीच ड्रेसर के द्वारा औषधि में आयी, फेनासेटिन कई दशकों के लिए लोकप्रिय रही, विशेष रूप से काउंटर पर बेचे जाने वाले "सर दर्द के मिश्रण" जिनका व्यापक रूप से विज्ञापन किया जाता था, में आम तौर पर फेनासेटिन, एक एमिनोपाइरीन व्युत्पन्न या एस्पिरिन, केफीन और कभी कभी एक बार्बीट्युरेट होता था।[6]

वॉन मेरिंग के दावे को आधी सदी के लिए चुनौती नहीं दी जा सकी, जब संयुक्त राज्य अमेरिका से शोधकर्ताओं की दो टीमों ने एसिटेनीलाइड और पेरासिटामोल के मेटाबॉलिज़म का विश्लेषण किया।[12]

1947 में डेविड लेस्टर और लिओन ग्रीनबर्ग ने इस बात के प्रबल प्रमाण प्राप्त किये कि पेरासिटामोल मानव के रक्त में एसिटेनीलाइड का एक मुख्य मेटाबॉलिज़मक है और बाद के एक अध्ययन में उन्होंने रिपोर्ट दी कि अल्बिनो चूहों को पेरासिटामोल की बड़ी खुराक देने पर भी मेथेमोग्लोबिनेमिया उत्पन्न नहीं हुआ।[13] जर्नल ऑफ़ फर्मकोलोग्य और एक्सपेरिमेंटल ठेरापयूतिक्स, के सितम्बर 1948 के अंक में प्रकाशित हुए तीन पत्रों में Bernard Brodieबर्नार्ड ब्रॉडी, Julius Axelrodजूलियस एक्सेरोल्ड और फ्रेडरिक फ्लिन्न ने अधिक विशिष्ट विधियों का उपयोग करते हुए यह सुनिश्चित किया कि पेरासिटामोल मानव रक्त में एसिटेनीलाइड का मुख्य मेटाबॉलिज़मक है और यह बताया कि यह अपने पूर्वगामी की तरह एक प्रभावोत्पादक एनाल्जेसिक है।[14][15][16] उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि मेथेमोग्लोबिनेमिया का मानव में उत्पादन मुख्य रूप से एक अन्य मेटाबॉलिज़मक फिनाइलहाइड्रोक्सीलएमीन के द्वारा होता है।

इसके बाद 1949 में ब्रॉडी और एक्सेरोल्ड के द्वारा दिए गए एक पत्र में यह बताया गया कि फेनासेटिन मेटाबॉलिज़म के द्वारा पेरासिटामोल भी बनाती है।[17]

इससे "एक बार फिर पेरासिटामोल की खोज" हुई.[6] यह सुझाव दिया गया कि पेरासिटामोल का 4 -एमिनोफिनोल से संक्रमण, एक पदार्थ जिससे इसे वॉन मेरिंग के द्वारा संश्लिष्ट किया गया, उसके गलत निष्कर्षों का कारण हो सकता है।[12]

बर्नार्ड ब्रॉडी और जूलियस एक्सेरोल्ड (चित्र) दर्शाता है कि एसिटेनीलाइड और फेनासेटिन दोनों मेटाबॉलिज़म के द्वारा पेरासिटामोल बनाते हैं, जो बेहतर सहन करने योग्य एनाल्जेसिक है।

पेरासिटामोल को सबसे पहले 1953 में संयुक्त राज्य अमेरिका में स्टर्लिंग-विन्थोर्प कम्पनी के द्वारा बाजार में लाया गया, इस कम्पनी ने इसे एस्पिरिन से बेहतर बताया क्योंकि इसे बच्चों और अल्सर से पीड़ित लोगों को भी सुरक्षित रूप से दिया जा सकता था।[12] संयुक्त राज्य अमेरिका में वर्तमान में पेरासिटामोल के लिए सबसे विख्यात ब्रांड, टायलीनोल, की स्थापना 1955 में हुई जब मेकनील प्रयोगशाला ने पेरासिटामोल को बच्चों के लिए दर्द और बुखार में आराम देने वाली दवा के रूप में बेचना शुरू किया, इसका ब्रांड नाम था Tylenol Children's Elixir— शब्द "टायलीनोल (Tylenol)" para -acetyl aminophenol के संक्षिप्तिकरण से प्राप्त किया गया था।[18]

1956 में, संयुक्त राष्ट्र में पेरासिटामोल की 500 मिलीग्राम की गोलियां ट्रेड नाम पेनाडोल के नाम से बेची जाने लगीं, इसे स्टर्लिंग ड्रग इन्कोर्पोरेशन की एक सहायक फ्रीडरिक स्टर्न्स एंड कम्पनी के द्वारा बनाया गया था। पेनाडोल मूल रूप से दर्द और बुखार से राहत के लिए केवल डॉक्टर की सलाह पर ही उपलब्ध थी और इसका प्रचार "आमाशय के लिए हानिरहित" होने के रूप में किया जा रहा था, चूंकि उस समय के अन्य एनाल्जेसिक कारकों में एस्पिरिन था, जो आमाशय को हानि पहुंचाता है।[तथ्य वांछित]

1963 में, पेरासिटामोल British Pharmacopoeia के साथ जुड़ गयी और इसने तभी से एक ऐसे एनाल्जेसिक कारक के रूप में लोकप्रियता प्राप्त कर ली है, जिसके पार्श्व प्रभाव बहुत कम हैं और यह अन्य औषधि कारकों के साथ बहुत कम अभिक्रियाएं करती है।[10] पेरासिटामोल की सुरक्षा के बारे में उठे मुद्दों ने इसकी व्यापक स्वीकृति को 1970 तक असंभव बनाये रखा, लेकिन 1980 में संयुक्त राष्ट्र सहित कई देशों में पेरासिटामोल की बिक्री एस्पिरिन से अधिक हो गयी। इससे फेनासेटिन व्यावसायिक रूप से बिल्कुल बंद हो गयी, क्योंकि यह एनाल्जेसिक नेफ्रोपेथी (वृक्क या गुर्दे का रोग) और रक्त की विषाक्तता का कारण थी।[6]

पेरासिटामोल का अमेरिकी पेटेंट काफी समय से समाप्त हो गया है और दवा के जेनेरिक संस्करण, औषधि मूल्य प्रतियोगिता और पेटेंट अवधि बहाली अधिनियम, 1984 के तहत व्यापक रूप से उपलब्ध हैं, हालांकि टायलीनोल (Tylenol) से युक्त कुछ विशिष्ट दवाएं 2007 तक संरक्षित थीं। 3 सितम्बर को दायर अमेरिकी पेटेंट 6,126,967 को "विस्तृत रिलीज एसिटामिनोफेन कणों" के लिए जारी किया गया था।[19]

संरचना और अभिक्रिया[संपादित करें]

पेरासिटामोल अनु का ध्रुवीय सतही क्षेत्र

पेरासिटामोल में एक बेन्ज़ीन वलय कोर (केंद्र) होता है, जिस पर पेरा (1,4) प्रतिरूप में हाइड्रोक्सील समूह और एक एमाइड समूह का नाइट्रोजन परमाणु प्रतिस्थापन अभिक्रिया के द्वारा लगे होते हैं।[20] एमाइड समूह एसिटेमाइड (एथेनेमाइड) होता है। यह व्यापक रूप से एक संयुग्मित प्रणाली है, क्योंकि हाइड्रॉक्सिल ऑक्सीजन पर एक अयुग्मित युग्म, बेन्ज़ीन पाई बादल, नाइट्रोजन अयुग्मित युग्म, कार्बोनिल कार्बन पर p कक्ष और कार्बोनिल ऑक्सीजन पर अयुग्मित युग्म सभी संयुग्मित होते हैं। दो सक्रियण समूहों की उपस्थिति भी बेन्ज़ीन वलय को इलेक्ट्रोन स्नेही ऐरोमेटिक प्रतिस्थापन के लिए उच्च अभिक्रियाशील बनाती है। चूंकि सभी प्रतिस्थापी ओर्थो, पेरा-निर्देशित हैं और एक दूसरे के सापेक्ष पेरा हैं, वलय पर सभी स्थितियां कम या अधिक समान रूप से सक्रियत हैं। संयुग्मन ऑक्सीजन और नाइट्रोजन की क्षारीयता को बहुत कम कर देता है, जबकि फ़िनोकसाइड एनायन पर विकसित विस्थानिकरण के माध्यम से हाइड्रॉक्सिल को अम्लीय बनाता है।

संश्लेषण[संपादित करें]

कई अन्य दवाओं के मुकाबले, पेरासिटामोल का संश्लेषण अधिक आसान है, क्योंकि इसमें स्टीरियोकेंद्र का अभाव होता है। इसके परिणामस्वरूप, एक स्टीरियो-चयनात्मक संश्लेषण को डिजाइन करने की कोई जरुरत नहीं होती है।

पेरासिटामोल का औद्योगिक संश्लेषण आम तौर पर नाइट्रोबेन्ज़ीन से शुरू होता है।[21] एक एक-पदीय अपचयन एसिटामिडीकरण अभिक्रिया थायो-एसिटेट के द्वारा मध्यस्थ हो सकती है।[22]

प्रयोगशाला में, सोडियम नाइट्रेट से फिनोल के नाइट्रीकरण, वांछित p-नाइट्रोफिनोल के ओर्थो -उप उत्पाद से पृथक्करण और सोडियम बोरोहाईड्राइड से नाइट्रो समूह के अपचयन के द्वारा पेरासिटामोल को आसानी से बनाया जा सकता है। इसके बाद परिणामी p-एमिनोफिनोल का एसिटिक एनहाईड्राइड से एसिटिलीकरण किया जाता है।[23] इस अभिक्रिया में, फिनोल प्रबल सक्रियणकारी होती है, इस प्रकार से अभिक्रिया को बहुत ही मंद प्रवृति की परिस्थितियों की आवश्यकता होती है। (c.f. बेन्ज़ीन का नाइट्रीकरण):

Synthesis of paracetamol from phenol.png

अभिक्रियाएं[संपादित करें]

p-एमिनोफिनोल को पेरासिटामोल के एमाइड जलीकरण के द्वारा प्राप्त किया जा सकता है। इस प्रकार से तैयार p -एमिनोफिनोल और जो वाणिज्यिक रूप से उपलब्ध मेटोल से सम्बंधित है, का उपयोग फोटोग्राफी में एक डेवलपर के रूप में किया गया है।[24]

उपलब्ध रूप[संपादित करें]

चित्र:MedAcetaminophen.jpg
गोलियां पेरासिटामोल का सबसे आम रूप है।
500 मिलीग्राम पेनाडोल सपोसिट्रीज

पेरासिटामोल सामान्यतया एक गोली, कैप्स्यूल, तरल निलंबन, सपोसिट्री अन्तर शीरीय और अन्तर पेशीय रूप में उपलब्ध है। आम वयस्क की खुराक 500 से 1000 मिलीग्राम तक होती है। एक व्यस्क के लिए अधिकतम 4 ग्राम तक दैनिक खुराक की ही सलाह दी जाती है।

डॉक्टर द्वारा बतायी गयी मात्रा में, पेरासिटामोल आम तौर पर बच्चों, नवजात शिशुओं और वयस्कों के लिए भी सुरक्षित होती है। [25]

पेनाडोल, जिसका अफ्रीका, एशिया, मध्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में विपणन किया जाता है, सबसे व्यापक रूप से उपलब्ध ब्रांड है जिसे 80 से अधिक देशों में बेचा जाता है। उत्तरी अमेरिका में, पेरासिटामोल को सामान्य रूप में (आम तौर पर एसिटामिनोफेन का लेबल लगा कर) या एक व्यापारिक नाम से बेचा जाता है, उदाहरण के लिए टायलिनोल, (मेक नील-PPC, इन्कोर्पोरेशन), एनासिन-3 , टेम्परा और देट्रिल . हालांकि ब्रिटेन में ब्रांड नाम से युक्त पेरासिटामोल उपलब्ध है (उदाहरण पेनाडोल), फिर भी बिना ब्रांड की सामान्य पेरासिटामोल को भी सामान्य रूप से बेचा जाता है।

यूरोप में, पेरासिटामोल के सबसे आम ब्रांड हैं एफेराल्गन और डोलिप्रेन

भारत में, पेरासिटामोल का सबसे आम ब्रांड क्रोसिन  है जिसे ग्लेक्सो स्मिथक्लाइन एशिया के द्वारा बनाया जाता है। 

बांग्लादेश में सबसे लोकप्रिय ब्रांड नापा है जिसे बेक्सिम्को फार्मा द्वारा निर्मित किया जाता है।

कुछ संयोजनों में पेरासिटामोल ओपिओइडकोडीन के साथ होती है, जिसे कभी कभी को-कोडामोल (बेन) कहा जाता है। संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में, इसका विपणन टायलिनोल #1/2/3/4, के नाम से किया जाता है, जिसमें क्रमशः 8–10 mg, 15 mg, 30 mg और 60 mg कोडीन होती है। अमेरिका में, यह संयोजन केवल डॉक्टर की सलाह पर ही मिलता है, जबकि सबसे कम क्षमता का संयोजन कनाडा में काउंटर पर मिल जाता है और अन्य देशों में, अन्य क्षमताएं भी काउंटर पर उपलब्ध हो सकती हैं। इन संयोजनों के सामान्य रूप भी उपलब्ध हैं। ब्रिटेन और कई अन्य देशों में, इस संयोजन का विपणन टायलेक्स CD और पेनाडीन के नाम से किया जाता है।

अन्य नाम हैं केप्टिन, डिस्प्रोल, डायमाडोन, फेन्सम, हेडेक्स, मेकसालेन, नोफेडोल, पेरालेन, पेदीएपिरिन, पर्फाल्गन और सोलपादीन. पेरासिटामोल को अन्य ओपिओइड के साथ भी संयोजित किया जाता है, जैसे डाईहाइड्रोकोडीन, जिसे को-डायड्रामोल(बेन), ओक्सिकोडोन, या हाईड्रोकोडोन के नाम से जाना जाता है, अमेरिका में इसका विपणन क्रमशः पर्कोसेट और विकोडिनके रूप में किया जाता है। एक और बहुत सामान्य रूप से प्रयुक्त किये जाने वाले एनाल्जेसिक संयोजन में पेरासिटामोल के साथ प्रोपोक्सीफीन नेप्सिलेट पाया जाता है, जिसे डार्वोकेट नामक ब्रांड से बेचा जाता है। पेरासिटामोल, कोडीन और कालमेटिव डोक्सीलेमिन सक्सिनेट का एक संयोजन सिंडोल या मरसिंडोल के नाम से बेचा जाता है।

पेरासिटामोल का उपयोग माइग्रेन के सिरदर्द के लिए बहु घटकों के संयोजन को बनाने के लिए किया जाता है, प्रारूपिक रूप से इसमें बुटालबीटल और पेरासिटामोल केफीन के साथ आय केफीन के बिना होते हैं और कभी कभी इसमें कोडीन भी हो सकता है।

ब्रांड नाम[26]
एसिटा, एक्तिमिन, एनासिन-3, एपासेट, एस्पिरिन रहित एनासिन, एटासोल, बनेसिन, बेन-युरोन, क्रोसिन, डापा, डोलो, देट्रिल एक्स्ट्रा-स्ट्रेंथ, डे क्विल, देपोन एंड देपोन मेक्सिमम, फिवरेल, फ्यू ड्रोप्स, फिबी (फिबी), फिबी प्लस, जिनापाप, जेनेब्स, लिकादोल, लेमसिप, लिक्विप्रिन, ल्युपोसेट, निओपाप, नाइ-क्विल, ओराफेन-PD, पनाडो, पेनाडोल, पेरालेन, फेनाफेन, प्लिसेट, रिदयुतेम्प, स्नेपलेट्स-FR, सुपाप, टामेन, तापानोल, टेम्परा (टेम्परा), ताइलिनोल, वेलोरिन, एक्सेल.

क्रिया प्रणाली[संपादित करें]

पेरासिटामोल को आम तौर पर गैर-स्टेरोइड प्रतिशोध दवाओं (NSAID) के साथ वर्गीकृत किया जाता है, लेकिन इसे एक नहीं माना जाता है। इस वर्ग की सभी दवाओं की तरह, इसकी मुख्य क्रिया प्रणाली साइक्लोऑक्सीजिनेज (COX) का संदमन है, यह एक एंजाइम (जैव उत्प्रेरक) है जो प्रोसटाग्लेनडिन्स के उत्पादन के लिए उत्तरदायी है, जो सूजन, दर्द और बुखार के मुख्य मध्यस्थ हैं। इसलिए, सभी NSAIDs में प्रति-शोथ, एनाल्जेसिक (दर्द विरोधी), एंटीपायरेटिक (बुखार विरोधी) गुण होते हैं।

प्रत्येक NSAID दवा की विशिष्ट अभिक्रिया उनके औषधीय गुणों, वितरण और मेटाबॉलिज़म पर निर्भर करती है।

जहां एक ओर एस्पिरिन की तुलना में पेरासिटामोल में एनाल्जेसिक और एंटीपायरेटिक गुण होते हैं, यह प्रति-शोथ क्रियाओं पर कार्य करने में असफल हैं, क्योंकि पेरासिटामोल शोथ के घावों में उपस्थित पराकसाइड के उच्च स्तर के लिए संवेदनशील होता है।


AM404- पेरासिटामोल का एक मेटाबॉलिज़मक
एनंदएमाइड-एक अंतर्जात केनाबिनोइड

बहरहाल, जिस कार्यप्रणाली से पेरासिटामोल बुखार ओर दर्द को कम करती है, अभी भी व्यापक रूप से एक बहस का विषय है[27] क्योंकि पेरासिटामोल प्रोसटाग्लेनडिन्स (पूर्व-शोथ रसायन) के उत्पादन को कम करती है। एस्पिरिन भी प्रोसटाग्लेनडिन्स के उत्पादन का संदमन करती है, लेकिन पेरासिटामोल के विपरीत इसकी प्रति-शोथ क्रिया कम होती है। इसी तरह, एस्पिरिन पूर्व-स्कंदन रसायन थ्रोम्बोक्सेन के उत्पादन को संदमित करती है, जबकि पेरासिटामोल ऐसा नहीं करती है। एस्पिरिन को एंजाइमों के साइक्लोऑक्सीजिनेज वर्ग को संदामित करने के लिए जाना जाता है और पेरासिटामोल की एस्पिरिन की क्रिया के साथ आंशिक समानता के कारण, इस विषय पर अधिक अनुसंधान हो रहा है कि पेरासिटामोल भी COX को संदमित करती है या नहीं. यह अब स्पष्ट है कि पेरासिटामोल कम से कम दो पथों के माध्यम से क्रिया करती है।[6][28][29][30]

एंजाइमों का COX वर्ग एक अस्थायी अणु, प्रोसटाग्लेनडिन H2 के लिए एराकिडोनिक अम्ल के मेटाबॉलिज़म के उत्तरदायी है, यह अणु असंख्य अन्य पूर्व शोथ यौगिकों में बदल जाता है।

क्लासिकल शोथ विरोधी, जैसे NSAIDs, इस पद को रोक देते हैं।

केवल तभी जब उपयुक्त रूप से ओक्सिकृत COX एंजाइम (जैव उत्प्रेरक) बहुत अधिक सक्रिय होता है।[31][32] पेरासिटामोल COX एंजाइम के आक्सीकृत रूप को कम करता है, इस प्रकार से इसे पूर्व-शोथ रसायनों को बनाने से रोकता है।[29][33] . इस प्रकार CNS में प्रोस्टाग्लैंडीन E2 की मात्रा को कम करके ताप नियामक केंद्र में हाइपोथेलेमस के निर्धारित बिंदु को कम कर देता है।

एक अन्य एंजाइम COX3 का संदमन पेरासिटामोल के मामले में विशेष रूप से प्रभावित होता है।

COX3 को CNS अनुच्छेद पाठ के बाहर नहीं देखा गया है।[34]

पेरासिटामोल अन्तर्जात केनाबिनोइड प्रणाली का भी नियमन करती है।

पेरासिटामोल मेटाबॉलिज़म के द्वारा AM404 बनाती है, इस यौगिक की कई क्रियाएं हैं; सबसे महत्वपूर्ण है यह न्यूरोन के द्वारा अन्तर्जात केनाबिनोइड/ वेनिलोइड एनंदएमाइड को संदमित करता है। जिससे शरीर के मुख्य दर्द ग्राही (nociceptor), TRPV1 (पुराना नाम: वेनिलोइड रिसेप्टर) का सक्रियण होता है। इसके अलावा, AM404 सोडियम चैनल का संदमन करता है, जैसा कि निश्चेतक लिदोकेन और प्रोकेन करते हैं।[35] ऐसा पाया गया है कि इन में से कोई भी क्रिया दर्द को कम करती है और ये पेरासिटामोल की संभव क्रिया प्रणाली हो सकती है, हालांकि यह दर्शाया गया है कि केनाबिनोइड ग्राही को संदमित करके और केनाबिनोइड की किसी भी क्रियाविधि को रोक कर, पेरासिटामोल एनाल्जेसिक प्रभाव को खो देती है, इसके लिए कहा जाता है कि इसकी दर्द निवारक क्रिया में अन्तर्जात केनाबिनोइड प्रणाली की मध्यस्थता होती है।[36]

एक सिद्धांत के अनुसार पेरासिटामोल एंजाइमों के COX वर्ग के COX -3 आइसोफ़ोर्म को संदमित करने के द्वारा कार्य करती है। यह एंजाइम, जब कुत्तों में कार्य करता है, एनी COX एंजाइमों की तरह काफी समानता दर्शाता है, पूर्व-शोथ रसायन बनता है और चयनात्मक रूप से पेरासिटामोल के द्वारा संदमित होता है।[37] हालांकि, कुछ शोध बताते हैं कि मनुष्यों और चूहों में, COX-3 एंजाइम शोथ क्रिया के बिना होता है।[28]

एक और संभावना यह है कि पेरासिटामोल साइक्लोऑक्सीजिनेज को रोकता है, (जैसे एस्पिरिन में), लेकिन ऐसा शोथ के वातावरण में होता है, जहां पेरोक्सिडेज का सांद्रण उच्च होता है, पेरासिटामोल की ऑक्सीकरण अवस्था उच्च होती है जो इसकी क्रिया को रोकती है।

इसका अर्थ यह हुआ कि पेरासिटामोल का शोथ के स्थान पर कोई प्रत्यक्ष प्रभाव नहीं होता है, लेकिन इसके बजाय यह CNS में कार्य करके ताप आदि को कम करता है जहां वातावरण ऑक्सीकारी नहीं होता है।[37] सटीक क्रियाप्रणाली जिसके द्वारा माना जाता है कि पेरासिटामोल कार्य करती है, यह COX-3 को प्रभावित करती है या नहीं, यह विवादित है।

मेटाबॉलिज़म[संपादित करें]

पेरासिटामोल के मेटाबॉलिज़म का मुख्य पथ (बड़ा करने के लिए क्लिक करें) नीले और बैंगनी रंग में दर्शाए गए पथ अविषाक्त मेटाबॉलिज़मक बनाते हैं; लाल रंग में दर्शाया गया पथ विषाक्त NAPQI बनाता है।

पेरासिटामोल का मेटाबॉलिज़म प्रारम्भ में यकृत में होता है, जिससे अविषाक्त उत्पाद बनते हैं। तीन मेटाबॉलिज़म मार्ग उल्लेखनीय हैं:

  • सल्फीकरण (सल्फेट संयुग्मन) 20-40% हिस्सा बनता है।[38]
  • 15% से कम हिस्सा N -हाइड्रोक्सीलीकरण और पुनर्विन्यास और फिर GSH संयुग्मन करता है।

हिपेटिक साइटोक्रोम P450 एंजाइम प्रणाली पेरासिटामोल का मेटाबॉलिज़म करती है और एक छोटा लेकिन महत्वपूर्ण एल्काइलिकरी मेटाबॉलिज़मक NAPQI (N -एसिटाइल-p -बेन्जो-क्विनोन इमीन) बनाती है।[39] NAPQI अब अनुत्क्रमणीय रूप से ग्लूटेथिओन के सल्फहाईड्रिल समूह के साथ संयुग्मित हो जाता है।[39]

इन तीनों मार्गों से जो अंतिम उत्पाद प्राप्त होते हैं, वे निष्क्रिय, अविषाक्त होते हैं और अंत में वृक्कों के द्वारा उत्सर्जित कर दिए जाते हैं। तीसरे मार्ग में, हालांकि, मध्यस्थ उत्पाद NAPQI विषैला होता है।

NAPQI प्राथमिक रूप से पेरासिटामोल के विषैले प्रभाव के लिए उत्तरदायी है; यह विषिकरण का एक उत्कृष्ट उदाहरण है।

NAPQI का उत्पादन प्राथमिक रूप से साइटोक्रोम P450 के दो आइसोएंजाइमों के करण होता है: CYP2E1 और CYP1A2. हालांकि P450 जीन अत्यधिक बहुरूपी होता है और पेरासिटामोल की विषाक्तता में व्यक्तिगत अंतर तीसरे आइसोएन्जाइम CYP2D6 के कारण माने जाते हैं। CYP2D6 में आनुवंशिक बहुरूपता NAPQI के उत्पादन की काफी अलग दरों में योगदान कर सकती है। इसके अलावा, व्यक्तियों को उनकी CYP2D6 अभिव्यक्ति के स्तरों के आधार पर "extensive", "ultrarapid" और "poor" मेटाबॉलिज़मकों के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता ह ई. हालांकि अन्य P450 एंजाइमों की तुलना में CYP2D6 कम सीमा तक पेरासिटामोल के मेटाबॉलिज़म से NAPQI बनाता है, इसकी क्रिया एक्स्टेंसिव और अल्ट्रारेपिड मेटाबॉलिज़मकों में पेरासिटामोल की विषाक्तता में योगदान करती है, जब पेरासिटामोल की बहुत अधिक खुराक ले ली जाती है।[40]

सामान्य खुराक लेने पर, NAPQI संयुग्मन के द्वारा जल्दी ही निर्विषीकृत हो जाता है।[39]

अधिक खुराक ले लेने के बाद और संभवतया एक्स्टेंसिव और अल्ट्रारेपिड मेटाबॉलिज़मकों में भी, यह निर्विषीकरण का मार्ग संतृप्त हो जाता है और अंत में NAPQI संचित हो जाता है।

संकेत[संपादित करें]

WHO की सलाह है कि पेरासिटामोल बच्चों को तभी दी जानी चाहिए जब बुखार 38.5 °C से अधिक हो. 101.3 °F)[41]

पेरासिटामोल एस्पिरिन के लिए एक उपयुक्त विकल्प है, विशेष रूप से उन रोगियों में जिनमें गेस्ट्रिक अम्ल का स्राव बहुत अधिक मात्रा में होता हो या रक्त स्राव का समय अधिक हो. जहां एक ओर एस्पिरिन की तुलना में पेरासिटामोल में एनाल्जेसिक ओर एंटीपायरेटिक गुण होते हैं, इसका प्रति-शोथ प्रभाव कमजोर होता है।

चूंकि पेरासिटामोल को आसानी से सहन किया जा सकता है, यह डॉक्टर के पर्चे के बिना भी उपलब्ध हो जाती है, इससे एस्पिरिन की तरह गेस्ट्रिक पार्श्व प्रभाव नहीं होते हैं, यह हाल ही के वर्षों में एक सामान्य घरेलू दवा बन गयी है।

प्रभावोत्पादकता और साइड इफेक्ट्स[संपादित करें]

अन्य सामान्य एनाल्जेसिक जैसे एस्पिरिन ओर इबुप्रोफेन के विपरीत, पेरासिटामोल की प्रति-शोथ क्रिया काफी कम होती है, इसलिए इसे गैर-स्टेरोइड प्रति-शोथ दवा (NSAID) नहीं माना गया है।

प्रभावोत्पादकता[संपादित करें]

तुलनात्मक प्रभावोत्पादकता के संबंध में, NSAIDs के साथ तुलना करने पर अध्ययन परस्पर विरोधी परिणाम दर्शाते हैं।

वयस्कों में ऑस्टियोआर्थराइटिस के पुराने दर्द के एक यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षण में पाया गया कि पेरासिटामोल ओर इबुप्रोफेन समान रूप से लाभकारी है।[42][अविश्वनीय स्रोत?][43]

हालांकि, बच्चों में तीव्र कंकाल पेशी के दर्द के एक यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षण में पाया गया कि इबुप्रोफेन की मानक खुराक पेरासिटामोल की मानक खुराक की तुलना में अधिक आराम देती है।[44][अविश्वनीय स्रोत?]

प्रतिकूल प्रभाव[संपादित करें]

बतायी गयी मात्रा में, पेरासिटामोल आमाशय के अस्तर को नुकसान नहीं पहुंचाती है, रक्त के स्कंदन को भी उतना ही प्रभावित करती है, जितना कि NSAIDs या वृक्कों के कार्यों को प्रभावित करती हैं।[तथ्य वांछित] हालांकि, कुछ अध्ययनों से पता चला है कि उच्च खुराक का उपयोग (2,000 mg per dayसे अधिक) उच्च जठरांत्र संबंधी जटिलताओं जैसे अमशायी रक्तस्राव के जोखिम को बढ़ाता है।[45] शोधकर्ताओं ने पाया कि एस्पिरिन या पेरासिटामोल का अधिक उपयोग-प्रति वर्ष 300 ग्राम (औसतन 1 ग्राम प्रति दिन) -एक ऐसी स्थिति से सम्बंधित है जिसमें वृक्क छोटे, दांतेदार, ओर केल्सिकृत (बीमार) हो जाते हैं। पेरासिटामोल गर्भावस्था में सुरक्षित है और NSAIDs की तरह भ्रूणीय डक्टस आर्टिरियोसस के बंद होने को प्रभावित नहीं करती है।[46] एस्पिरिन के विपरीत, यह बच्चों में सुरक्षित है, क्योंकि पेरासिटामोल वायरल बीमारी से युक्त बच्चों में रेये सिंड्रोम के जोखिम से सम्बंधित नहीं है।[47]

NSAIDs की तरह और ओपिओइड एनाल्जेसिक दवाओं के विपरीत, पेरासिटामोल किसी भी तरह से उत्साह या मूड परिवर्तन का कारण नहीं मानी गयी है।

2008 में, बच्चों में पेरासिटामोल के दीर्घकालिक पार्श्व प्रभावों के सबसे बड़े अध्ययन का प्रकाशन द लान्सेट में किया गया।

31 देशों में 200,000 से अधिक बच्चों पर किए अध्ययन में पाया गया कि जीवन के पहले वर्ष में बुखार के लिए पेरासिटामोल का उपयोग 6-7 साल की आयु में अस्थमा के लक्षणों के बढ़ने से सम्बंधित है और जीवन के पहले वर्ष के साथ 6-7 साल की आयु में भी पेरासिटामोल का उपयोग राइनोकंजकटीवाइटिस और एक्जिमा के बढ़ने से सम्बंधित है।[48] लेखकों ने यह स्वीकार किया कि उनकी "खोजें केवल संकेतों से प्राप्त भी हो सकती हैं", उदाहरण के लिए यह सम्बन्ध सामान्य नहीं हो सकता है, लेकिन पेरासिटामोल से इलाज की जा रही बीमारी के कारण भी सकता है और यह भी कहा गया कि इस विषय में और शोध की आवश्यकता है।

इसके अलावा द लान्सेट में असंख्य संपादकीय, टिप्पणियां, पत्राचार और उनके जवाब प्रकाशित किये गए जो इस अध्ययन के निष्कर्ष और प्रकार से सम्बंधित थे।[49][50][51][52][53][54][55] ब्रिटेन की नियामक संस्था द मेडीसिन एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेग्युलेटरी एजेंसी, ने भी इस अनुसंधान की समीक्षा की और इन आंकडों पर कई व्याख्याएं प्रकाशित की गयीं और माता पिता, स्वास्थ्य पेशेवरों और अन्य देखभाल करने वालों को यह सलाह दी गयी: "इस नए अध्ययन का परिणाम बच्चों में वर्तमान दिशानिर्देश में किसी भी प्रकार के उपयोग में परिवर्तन को आवश्यक नहीं बनाता है।

पेरासिटामोल बच्चों में एनाल्जेसिक का एक सुरक्षित और उपयुक्त विकल्प है।

इस शोध से बच्चों में एंटीपायरेटिक के उपयोग के समबन्ध में दिशानिर्देशों को परिवर्तित करने के अपर्याप्त प्रमाण मिलते हैं।[56]

विषाक्तता[संपादित करें]

पेरासिटामोल का बहुत अधिक उपयोग कई अंगों को क्षतिग्रस्त कर सकता है, विशेष रूप से लीवर और वृक्क को.

दोनों अंगों में, पेरासिटामोल से विषाक्तता खुद दवा के कारण नहों होती, बल्कि इसके एक मेटाबॉलिज़मक ''N-एसिटाइल-p-बेन्जोक्विनोनेमीन (NAPQI) से होती है। लीवर में, साइटोक्रोम P450 एंजाइम CYP2E1 और CYP3A4 पेरासिटामोल के NAPQI में रूपांतरण के लिए उत्तरदायी है। वृक्क में, साइक्लोऑक्सीजिनेज मुख्य पथ हैं जिनके द्वारा पेरासिटामोल NAPQI में रूपांतरित हो जाती है।[57]

पेरासिटामोल की अधिक खुराक, NAPQI के संचय का कारण बनती है, जो ग्लूटेथिओन के साथ संयुग्मितहोता है। संयुग्मन एक प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट ग्लूटेथिओन की मात्रा को कम करता है।

यह NAPQI द्वारा प्रत्यक्ष कोशिकीय चोट के साथ संयोजन में, कोशिका क्षति और मृत्यु का कारण बनता है।[58]

पेरासिटामोल के कारण लीवर की विषाक्तता अन्युक्त राज्य अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र दोनों में तीव्र लीवर विफलता का सबसे आम कारण है।[5][59] कसीस भी अन्य औषधीय पदार्थ की ओवरडोज की तुलना में पेरासिटामोल की ओवरडोज के कारण अमेरिका में पोइजन कंट्रोल सेंटर को सबसे अधिक कॉल किये जाते हैं।[60] पेरासिटामोल की विषाक्तता के लक्षण और संकेत प्रारम्भ में अनुपस्थित या असपष्ट हो सकते हैं।

ओवरडोज का इलाज न करने पर लीवर विफलता और कुछ ही दिनों में मृत्यु भी हो सकती है। इलाज का लक्ष्य होता है शरीर से पेरासिटामोल को हटाना और ग्लूटेथिओन से प्रतिस्थापित करना.

सक्रियत चारकोल का उपयोग पेरासिटामोल के अवशोषण को कम करने के लिए किया जा सकता है यदि रोगी को ओवरडोज के तुंरत बाद इलाज के लिए लाया गया हो. हालांकि एंटीडोट, एसिटाइलसिस्टीन, (जो N-एसिटाइलसिस्टीन या NAC भी कहलाती है) ग्लूटेथिओन के लिए पूर्वगामी का कार्य करती है, लीवर की क्षति से शरीर को बचाती है, यदि लीवर की क्षति बहुत गंभीर हो जाये तो अक्सर लीवर प्रत्यारोपण की जरुरत होती है।[2]

पशुओं पर प्रभाव[संपादित करें]

पेरासिटामोल बिल्लियों के लिए बहुत अधिक विषाक्त है और उन्हें किसी भी परिस्थिति में नहीं दिया जाना चाहिए.

बिल्लियों में पेरासिटामोल को सुरक्षित रूप से अपघटित करने के लिए ग्लुकुरोनिल ट्रांसफरेज एंजाइम का अभाव होता है और एक गोली का बहुत छोटा सा भाग भी उसके लिए घातक साबित हो सकता है। प्रारंभिक लक्षण हैं उल्टी, लार निकलना और जीभ और मसूडों का रंग बदल जाना. मानव में ओवरडोज के विपरीत, लीवर की क्षति कभी कभी ही मृत्यु का कारण बनती है; इसके बजाय, मेथेमोग्लोबिन का निर्माण और लाल रक्त कोशिकाओं में हीन्ज निकायों का उत्पादन, रक्त के द्वारा ऑक्सीजन के परिवहन को संदमित कर देता है, जो एस्फ़ाइक्सिएशन (मेथेमोग्लोबेमिया और हीमोलाइटिक एनीमिया) का कारण बनता है।[61] N-एसिटाइल सिस्टीन, मेथिलीन ब्लू या दोनों से उपचार कभी कभी प्रभावी होता है, जब पेरासिटामोल की कम खुराक ली गयी हो. मादा बिल्लियों की उत्तरजीविता की दर बेहतर होती है।[62]

हालांकि पेरासिटामोल की कोई महत्वपुर्ण प्रतिशोथ क्रिया ज्ञात नहीं है, इसे कुत्तों में कंकाल पेशी के दर्द के उपचार में उतना ही प्रभावी पाया गया है जितना कि एस्पिरिन को.[63] एक पेरासिटामोल-कोडीन उत्पाद (व्यापारिक नाम पारदेल-V)[64] कुत्तों में उपयोग के लिए लाइसेंस प्राप्त है और ब्रिटेन में पशु चिकित्सक की सलाह पर उपलब्ध है।[65] इसे कुत्तों में केवल पशु चिकित्सक की सलाह पर ही इस्तेमाल करना चाहिए. कुत्तों में विषाक्तता का मुख्य प्रभाव लीवर क्षति है।[66] N -एसिटाइलसिस्टीन उपचार कुत्तों में प्रभावशाली है जब इसे पेरासिटामोल लेने के कुछ ही घंटों के भीतर दिया जाता है।[63]

पेरासिटामोल सांपों के लिए भी घातक है और गुआम में ब्राउन ट्री स्नेक (Boiga irregularis) के लिए रसायन नियंत्रण प्रोग्राम के रूप में इसकी सलाह दी जाती है।[67]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.drugs.com/acetaminophen.html
  2. Daly FF, Fountain JS, Murray L, Graudins A, Buckley NA (2008). "Guidelines for the management of paracetamol poisoning in Australia and New Zealand—explanation and elaboration. A consensus statement from clinical toxicologists consulting to the Australasian poisons information centres". Med. J. Aust. 188 (5): 296–301. PMID 18312195. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  3. Khashab M, Tector AJ, Kwo PY (2007). "Epidemiology of acute liver failure". Curr Gastroenterol Rep. 9 (1): 66–73. PMID 17335680. डीओआइ:10.1007/s11894-008-0023-x. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  4. Hawkins LC, Edwards JN,PI (2007). "Impact of restricting paracetamol pack sizes on paracetamol poisoning in the United Kingdom: a review of the literature". Drug Saf. 30 (6): 465–79. PMID 17536874. डीओआइ:10.2165/00002018-200730060-00002.
  5. Larson AM, Polson J, Fontana RJ; एवं अन्य (2005). "Acetaminophen-induced acute liver failure: results of a United States multicenter, prospective study". Hepatology. 42 (6): 1364–72. PMID 16317692. डीओआइ:10.1002/hep.20948.
  6. Bertolini A, Ferrari A, Ottani A, Guerzoni S, Tacchi R, Leone S (2006). "Paracetamol: new vistas of an old drug". CNS drug reviews. 12 (3–4): 250–75. PMID 17227290. डीओआइ:10.1111/j.1527-3458.2006.00250.x.
  7. Bergman K, Müller L, Teigen SW (1996). "The genotoxicity and carcinogenicity of paracetamol: a regulatory (re)view". Mutat Res. 349 (2): 263–88. PMID 8600357. डीओआइ:10.1016/0027-5107(95)00185-9. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  8. Cahn, A; Hepp P. (1886). "Das Antifebrin, ein neues Fiebermittel". Centralbl. Klin. Med. 7: 561–64.
  9. H. N. Morse (1878). "Ueber eine neue Darstellungsmethode der Acetylamidophenole". Berichte der deutschen chemischen Gesellschaft. 11 (1): 232–233. डीओआइ:10.1002/cber.18780110151.
  10. Milton Silverman, Mia Lydecker, Philip Randolph Lee (1992). Bad Medicine: The Prescription Drug Industry in the Third World. Stanford University Press. पपृ॰ 88&ndash, 90. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0804716692.
  11. Von Mering J. Beitrage zur Kenntniss der Antipyretica.Ther Monatsch 1893;7:577–587.
  12. Sneader, Walter (2005). Drug Discovery: A History. Hoboken, N.J.: Wiley. पृ॰ 439. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0471899801. नामालूम प्राचल |publiser= की उपेक्षा की गयी (|publisher= सुझावित है) (मदद)
  13. Lester D, Greenberg LA, Carroll RP (1947). "The metabolic fate of acetanilid and other aniline derivatives: II. Major metabolites of acetanilid appearing in the blood". J. Pharmacol. Exp. Ther. 90: 68&ndash, 75.
  14. Brodie, BB; Axelrod J (1948). "The estimation of acetanilide and its metabolic products, aniline, N-acetyl p-aminophenol and p-aminophenol (free and total conjugated) in biological fluids and tissues". J. Pharmacol. Exp. Ther. 94 (1): 22–28. PMID 18885610.
  15. Brodie, BB; Axelrod J (1948). "The fate of acetanilide in man" (PDF). J. Pharmacol. Exp. Ther. 94 (1): 29–38. PMID 18885611.
  16. Flinn, Frederick B; Brodie BB (1948). "The effect on the pain threshold of N-acetyl p-aminophenol, a product derived in the body from acetanilide". J. Pharmacol. Exp. Ther. 94 (1): 76–77. PMID 18885618.
  17. Brodie BB, Axelrod J (1949). "The fate of acetophenetidin (phenacetin) in man and methods for the estimation of acetophenitidin and its metabolites in biological material". J Pharmacol Exp Ther. 94 (1): 58–67.
  18. "फेस्टिवल ऑफ़ अनाल्गेसिक्स." केमिकल हेरिटेज फाउंडेशन. 2001. 17 अगस्त 2007 को प्राप्त.
  19. , "Extended release acetaminophen particles", US patent 6126967, issued 3 अक्टूबर 2000
  20. Bales, JR; Nicholson JK, Sadler PJ (1985). "Two-dimensional proton nuclear magnetic resonance "maps" of acetaminophen metabolites in human urine". Clinical Chemistry. 31 (5): 757–762. PMID 3987005. नामालूम प्राचल |day= की उपेक्षा की गयी (मदद); नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  21. Anthony S. Travis (2007). "Manufacture and uses of the anilines: A vast array of processes and products". प्रकाशित Zvi Rappoport. The chemistry of Anilines Part 1. Wiley. पृ॰ 764. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-470-87171-3.
  22. Bhattacharya A.; Purohit V. C.; Suarez, V.; Tichkule, R; Parmer, G.; Rinaldi, F. (2006). "One-step reductive amidation of nitro arenes: application in the synthesis of Acetaminophen". Tetrahedron Letters. 47 (11): 1861–1864. डीओआइ:10.1016/j.tetlet.2005.09.196.
  23. Ellis, Frank (2002). Paracetamol: a curriculum resource. Cambridge: Royal Society of Chemistry. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-85404-375-6.
  24. Henney, K; Dudley B (1939). Handbook of Photography. Whittlesey House. पृ॰ 324.
  25. "एसिटामिनोफेन." 'फिजिशियंस की सन्दर्भ डेस्क, 63 वां संस्करण. मोंट्वाले, NJ: थॉमसन PDR, 2009:1915-1916.
  26. Reader's Digest Guide to Drugs and Supplements. Pleasantville, New York; Montreal: Reader's Digest Association, Inc. 2002. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7621-0366-3.
  27. Rossi, S. (ed.) (2008). Australian Medicines Handbook 2008. Adelaide: Australian Medicines Handbook. पृ॰ 30. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-9757919-6-7 |isbn= के मान की जाँच करें: checksum (मदद).
  28. Kis B, Snipes JA, Busija DW (2005). "Acetaminophen and the cyclooxygenase-3 puzzle: sorting out facts, fictions, and uncertainties". J. Pharmacol. Exp. Ther. 315 (1): 1–7. PMID 15879007. डीओआइ:10.1124/jpet.105.085431.
  29. Aronoff DM, Oates JA, Boutaud O (2006). "New insights into the mechanism of action of acetaminophen: Its clinical pharmacologic characteristics reflect its inhibition of the two prostaglandin H2 synthases". Clin. Pharmacol. Ther. 79 (1): 9–19. PMID 16413237. डीओआइ:10.1016/j.clpt.2005.09.009.
  30. Graham GG, Scott KF (2005). "Mechanism of action of paracetamol". American journal of therapeutics. 12 (1): 46–55. PMID 15662292. डीओआइ:10.1097/00045391-200501000-00008.
  31. Ohki S, Ogino N, Yamamoto S, Hayaishi O (1979). "Prostaglandin hydroperoxidase, an integral part of prostaglandin endoperoxide synthetase from bovine vesicular gland microsomes". J. Biol. Chem. 254 (3): 829–36. PMID 104998.
  32. Harvison PJ, Egan RW, Gale PH, Nelson SD (1986). "Acetaminophen as a cosubstrate and inhibitor of prostaglandin H synthase". Adv. Exp. Med. Biol. 197: 739–47. PMID 3094341.
  33. रोबर्ट्स, L.J II. और मेरो, J.D. " एनाल्जेसिक-एंटीपायरेटिक और प्रतिशोथ करक और गाउट के उपचार में प्रयुक्त दवाएं" "गुडमेन और गिल्मेन की दा फर्मकोलोगिकल बेसिस ऑफ़ ठेरापयूतिक्स 10 वां संस्करण" हार्डमेन, J.G. और लिम्बर्ड, L.E. के द्वारा, मेक ग्रा हिल के द्वारा प्रकाशित, 2001.
  34. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; harrison's principles of internal medicine 17th edition fever and hypothermia by Charles A Dinarello, Reuven Porat नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  35. Köfalvi A (2008). "Chapter 9: Alternative interacting sites and novel receptors for cannabinoid ligands. In: 'Cannabinoids and the Brain' स्प्रिंगर-Verlag": 131–160. डीओआइ:10.1007/978-0-387-74349-3_9.
  36. Ottani A, Leone S, Sandrini M, Ferrari A, Bertolini A (2006). "The analgesic activity of paracetamol is prevented by the blockade of cannabinoid CB1 receptors". Eur. J. Pharmacol. 531 (1–3): 280–1. PMID 16438952. डीओआइ:10.1016/j.ejphar.2005.12.015.
  37. Chandrasekharan NV, Dai H, Roos KL; एवं अन्य (2002). "COX-3, a cyclooxygenase-1 variant inhibited by acetaminophen and other analgesic/antipyretic drugs: cloning, structure, and expression". Proc. Natl. Acad. Sci. U.S.A. 99 (21): 13926–31. PMID 12242329. डीओआइ:10.1073/pnas.162468699.
  38. हेंडरिकसन, रॉबर्ट जी; केनेथ ई. बिजोवी (2006) "एसिटामिनोफेन", नेल्सन, लुईस एच. में; फ्लोमेनबम, नील; गोल्डफ्रैंक, लुईस आर एट अल. गोल्डफ्रैंक की toxicologic emergencies, p. 525, न्यू यॉर्क: मेकग्रा-हिल 18 जनवरी 2009 को गूगल बुक सर्च से पुनः प्राप्त.
  39. BORNE, रोनाल्ड एफ. "Principles of Medicinal Chemistry, चौथे संस्करण में "Nonsteroidal Anti-inflammatory Drugs" Eds.फोए, विलियम ओ; लेम्के, थॉमस एल; विलियम्स, डेविड ऐ., विलियम्स और विल्किंस के द्वारा प्रकाशित, 1995, 544-545.
  40. Dong H, Haining RL, Thummel KE, Rettie AE, Nelson SD (2000). "Involvement of human cytochrome P450 2D6 in the bioactivation of acetaminophen". Drug Metab Dispos. 28 (12): 1397–400. PMID 11095574. [11157536 फ्री फुल टेक्स्ट]
  41. "Baby paracetamol asthma concern". बीबीसी न्यूज़. 19 सितंबर 2008. अभिगमन तिथि 19 सितंबर 2008.
  42. Bradley JD, Brandt KD, Katz BP, Kalasinski LA, Ryan SI (1991). "Comparison of an antiinflammatory dose of ibuprofen, an analgesic dose of ibuprofen, and acetaminophen in the treatment of patients with osteoarthritis of the knee". N. Engl. J. Med. 325 (2): 87–91. PMID 2052056.
  43. doi:10.1111/j.1365-2710.2006.00754.x
  44. Clark E, Plint AC, Correll R, Gaboury I, Passi B (2007). "A randomized, controlled trial of acetaminophen, ibuprofen, and codeine for acute pain relief in children with musculoskeletal trauma". Pediatrics. 119 (3): 460–7. PMID 17332198. डीओआइ:10.1542/peds.2006-1347.
  45. García Rodríguez LA, Hernández-Díaz S (December 15, 2000). "The risk of upper gastrointestinal complications associated with nonsteroidal anti-inflammatory drugs, glucocorticoids, acetaminophen, and combinations of these agents". Arthritis Research and Therapy. 3: 98. PMID 11178116. डीओआइ:10.1186/ar146. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया होना चाहिए (मदद)
  46. Rudolph AM (1981). "Effects of aspirin and acetaminophen in pregnancy and in the newborn". Arch. Intern. Med. 141 (3 Spec No): 358–63. PMID 7469626. डीओआइ:10.1001/archinte.141.3.358. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  47. Lesko SM, Mitchell AA (1999). "The safety of acetaminophen and ibuprofen among children younger than two years old". Pediatrics. 104 (4): e39. PMID 10506264. डीओआइ:10.1542/peds.104.4.e39. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  48. Beasley, Richard; Clayton, Tadd; Crane, Julian; von Mutius, Erika; Lai, Christopher; Montefort, Stephen; Stewart, Alistair (2008). "Association between paracetamol use in infancy and childhood, and risk of asthma, rhino conjunctivitis, and eczema in children aged 6–7 years: analysis from Phase Three of the ISAAC programme". The Lancet. 372: 1039–1048. डीओआइ:10.1016/S0140-6736(08)61445-2. अभिगमन तिथि 19 सितंबर 2008.
  49. doi:10.1016/S0140-6736(08)61414-2
    This citation will be automatically completed in the next few minutes. You can jump the queue or expand by hand
  50. doi:10.1016/S0140-6736(08)61417-8
    This citation will be automatically completed in the next few minutes. You can jump the queue or expand by hand
  51. doi:10.1016/S0140-6736(09)60032-5
    This citation will be automatically completed in the next few minutes. You can jump the queue or expand by hand
  52. doi:10.1016/S0140-6736(09)60030-1
    This citation will be automatically completed in the next few minutes. You can jump the queue or expand by hand
  53. doi:10.1016/S0140-6736(09)60029-5
    This citation will be automatically completed in the next few minutes. You can jump the queue or expand by hand
  54. doi:10.1016/S0140-6736(09)60028-3
    This citation will be automatically completed in the next few minutes. You can jump the queue or expand by hand
  55. doi:10.1016/S0140-6736(09)60031-3
    This citation will be automatically completed in the next few minutes. You can jump the queue or expand by hand
  56. Medicines and Healthcare products Regulatory Agency; Commission on Human Medicines (2008). "Paracetamol use in infancy: no strong evidence for asthma link". Drug Safety Update. 2 (4): 9. अभिगमन तिथि 1 मई 2009.
  57. Mohandas J, Duggin GG, Horvath JS, Tiller DJ (1981). "Metabolic oxidation of acetaminophen (paracetamol) mediated by cytochrome P-450 mixed-function oxidase and prostaglandin endoperoxide synthetase in rabbit kidney". Toxicol. Appl. Pharmacol. 61 (2): 252–9. PMID 6798713. डीओआइ:10.1016/0041-008X(81)90415-4. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  58. Mitchell JR, Jollow DJ, Potter WZ, Gillette JR, Brodie BB (1973). "Acetaminophen-induced hepatic necrosis. IV. Protective role of glutathione". The Journal of pharmacology and experimental therapeutics. 187 (1): 211–7. PMID 4746329. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  59. Ryder SD, Beckingham IJ (2001). "ABC of diseases of liver, pancreas, and biliary system. Other causes of parenchymal liver disease". BMJ. 322 (7281): 290–92. PMID 11157536. डीओआइ:10.1136/bmj.322.7281.290.[11157536 फ्री फुल टेक्स्ट]
  60. Lee WM (2004). "Acetaminophen and the U.S. Acute Liver Failure Study Group: lowering the risks of hepatic failure". Hepatology. 40 (1): 6–9. PMID 15239078. डीओआइ:10.1002/hep.20293. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  61. Allen AL (2003). "The diagnosis of acetaminophen toxicosis in a cat". Can Vet J. 44 (6): 509–10. PMID 12839249.
  62. Rumbeiha WK, Lin YS, Oehme FW (1995). "Comparison of N-acetylcysteine and methylene blue, alone or in combination, for treatment of acetaminophen toxicosis in cats". Am. J. Vet. Res. 56 (11): 1529–33. PMID 8585668. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  63. Maddison, Jill E.; Stephen W. Page, David Church (2002). Small Animal Clinical Pharmacology. Elsevier Health Sciences. पपृ॰ 260–261. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0702025739.
  64. "Pardale-V Tablets: Presentation". UK National Office of Animal Health Compendium of Animal Medicines. सितंबर 28, 2006. अभिगमन तिथि 3. नामालूम प्राचल |accessyear= की उपेक्षा की गयी (|access-date= सुझावित है) (मदद); |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  65. "Pardale-V Tablets: Legal Category". UK National Office of Animal Health Compendium of Animal Medicines. November 15, 2005. अभिगमन तिथि 3. नामालूम प्राचल |accessyear= की उपेक्षा की गयी (|access-date= सुझावित है) (मदद); |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  66. Villar D, Buck WB, Gonzalez JM (1998). "Ibuprofen, aspirin and acetaminophen toxicosis and treatment in dogs and cats". Vet Hum Toxicol. 40 (3): 156–62. PMID 9610496.
  67. Johnston J, Savarie P, Primus T, Eisemann J, Hurley J, Kohler D (2002). "Risk assessment of an acetaminophen baiting program for chemical control of brown tree snakes on Guam: evaluation of baits, snake residues, and potential primary and secondary hazards". Environ Sci Technol. 36 (17): 3827–33. PMID 12322757. डीओआइ:10.1021/es015873n.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

]

साँचा:Analgesics