क्षार (रसायन विज्ञान)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

जो परमाणु अणु अपने आयन इलेक्ट्रॉन युग्म को दान करते हैं उसे क्षार कहते हैं यह सिद्धांत ब्रॉन्स्टेड लोरी ने दिया था 0.7 के बाद पीएच के मान क्षार का मान होता है इसका अर्थ यह है कि जैसे कोई परमाणु है वह अपने इलेक्ट्रॉन या इलेक्ट्रॉन युग्म को किसी अन्य तत्व या परमाणु परमाणु के साथ बंध बनाता है जिसमें वह अपने इलेक्ट्रॉन को दान करता है और दूसरे तत्व या परमाणु या योगिक को आवश्यकता अनुसार इलेक्ट्रॉन दान करता है।