पिघलता आसमान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पिघलता आसमान
पिघलता आसमान.jpg
पिघलता आसमान का पोस्टर
निर्देशक शम्मी
अभिनेता शशि कपूर,
राखी गुलज़ार,
रति अग्निहोत्री
संगीतकार कल्याणजी-आनंदजी
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1985
देश भारत
भाषा हिन्दी

पिघलता आसमान 1985 में बनी हिन्दी भाषा की फ़िल्म है। यह शम्मी द्वारा निर्मित और निर्देशित है।[1] इसमें शशि कपूर, राखी गुलज़ार और रति अग्निहोत्री प्रमुख भूमिका में हैं।

संक्षेप[संपादित करें]

दिल्ली की व्यवसायी आरती सिंह राठौर (राखी गुलज़ार), अपनी दाई, सुकु (लीला मिश्रा) और दोस्त और कर्मचारी, अनुराधा (रति अग्निहोत्री) के साथ अमीरी में रहती है। वह कश्मीर की यात्रा करने का फैसला करती है और सूरज अरोड़ा (शशि कपूर) के कब्जे वाली अपनी जमीन के एक हिस्से पर कब्जा छुड़ाना चाहती है। उसकी दाई उसे बताती है कि वह अरोड़ा परिवार द्वारा पाला गया था जब तक कि उसके पिता, करण सिंह, अमीर नहीं बन गए और उन्होंने उनके साथ सभी संबंध तोड़ दिए।

कश्मीर में पहुँचने पर, सभी मतभेद भुला दिए जाते हैं और सूरज और आरती दोनों एक-दूसरे के प्यार में पड़ जाते हैं। आरती का जीवन जल्द ही बदल जाता है जब उसे पता चालता है कि अनुराधा को भी सूरज से प्यार हो गया है। यह जानकारी न केवल दोनों महिलाओं के बीच प्रतिस्पर्धा पैदा करेगी, बल्कि सभी के जीवन को हमेशा के लिए बदल देगी।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत इन्दीवर द्वारा लिखित; सारा संगीत कल्याणजी-आनंदजी द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."मुझे ऐसा मिला मोती"लता मंगेशकर5:12
2."तेरी मेरी प्रेम कहानी"किशोर कुमार, अलका याज्ञिक4:25
3."हमसे ना सही"अलका याज्ञिक, साधना सरगम6:04
4."जिया ना ही लागे"साधना सरगम4:32
5."हमसे ना सही" (II)मनहर उधास4:30
6."जब ये दिल हो जवान"साधना सरगम, अलका याज्ञिक6:58

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "शेखर सुमन का खुलासा, शशि कपूर के व्यक्तित्व को जानना है तो 'उत्सव' देख लीजिए". अमर उजाला. अभिगमन तिथि 12 मई 2019.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]