निषेधवाचक वाक्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

एक ऐसा सन्देश जो किसी काम को न करने का आदेश दे रहा हो, वह निषेधवाचक वाक्य कहलाता है। इन वाक्यों में प्रायः न, नहीं या मत जैसे शब्दों का प्रयोग किया जाता है। 'नहीं' का प्रयोग सामान्यतः सभी स्थितियों में किया जाता है, लेकिन 'मत' का प्रयोग प्रायः आज्ञावाचक वाक्यों में और 'न' का प्रयोग 'अगर' या 'यदि' जैसे शब्दों से शुरू होने वाले वाक्यों में किया जाता है।[1]


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. सत्यार्थी, कमल; गुप्ता, रवि प्रकाश; प्रकाश, दीप्ति. मानक हिन्दी व्याकरण एवं रचना. सरस्वती प्रकाशन. पृ॰ 224. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788173357824. अभिगमन तिथि 9 जनवरी 2017. |pages= और |page= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]