प्रत्यय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

प्रत्यय वे शब्द हैं जो दूसरे शब्दों के अन्त में जुड़कर, अपनी प्रकृति के अनुसार, शब्द के अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं।

इसके दो रूप हैं:-

१. कृत प्रत्यय

२. तद्धित प्रत्यय


यह किसी व्यक्ति की विशेषता दर्शाते समय उपयोग होता है। जैसे यह पहलवान बहुत बलवान है।

  • धन + वान = धनवान
  • विद्या + वान = विद्वान
  • बल + वान = बलवान

ta

  • उदार + ता = उदारता
  • सफल + ता = सफलता
  • पण्डित + आई = पण्डिताई
  • चालाक + ई = चालाकी
  • ज्ञान + ई - ज्ञानी
ओं

इसका उपयोग एक वचन शब्दों को बहुवचन शब्द बनाने के लिए किया जाता है।

  • भाषा + ओं = भाषाओं
  • शब्द + ओं = शब्दों
  • वाक्य + ओं = वाक्यों
  • कार्य + ओं = कार्यों
याँ
  • नदी + याँ = नदियाँ
  • प्रति + याँ = प्रतियाँ

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]