विधान वाचक वाक्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

जिन वाक्योँ में क्रिया के करने या होने का बोध हो और ऐसे वाक्योँ में किसी काम के होने या किसी के अस्तित्व का बोध होता हो, उन्हें विधिवाचक या विधानवाचक वाक्य कहते हैं।

Surya purv disha se nikalta hai[संपादित करें]

  1. सूर्य गर्मी देता है।
  2. वह शिमला गया होगा।
  3. भारत हमारा देश है।
  4. वह बालक है।
  5. हिमालय भारत के उत्तर दिशा में स्थित है।
व्यख्या
उपरोक्त वाक्योँ में सूर्य का गर्मी देना, हिन्दी का राष्ट्र भाषा होना आदि कार्य हो रहे हैं और किसी के (देश तथा बालक) होने का बोध हो रहा है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]