निद्रा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सोऐ हुए बच्चे
बिल्ली का बच्चा सो रहा है

निद्रा अपेक्षाकृत निलंबित संवेदी और संचालक गतिविधि की चेतना की एक प्राकृतिक बार-बार आनेवाली रूपांतरित स्थिति है, जो लगभग सभी स्वैच्छिक मांसपेशियों की निष्क्रियता की विशेषता लिए हुए होता है.[1] इसे एकदम से जाग्रत अवस्था, जब किसी उद्दीपन या उत्तेजन पर प्रतिक्रिया करने की क्षमता कम हो जाती है, और अचेतावस्था से भी अलग रखा जाता है, क्योंकि शीत निद्रा या कोमा की तुलना में नींद से बाहर आना कहीं आसान है. नींद एक उन्नत निर्माण क्रिया विषयक (एनाबोलिक) स्थिति है, जो विकास पर जोर देती है और जो रोगक्षम तंत्र (इम्यून), तंत्रिका तंत्र, कंकालीय और मांसपेशी प्रणाली में नयी जान डाल देती है.सभी स्तनपायियों में, सभी पंछियों, और अनेक सरीसृपों, उभयचरों और मछलियों में इसका अनुपालन होता है.

नींद के उद्देश्य और प्रक्रिया सिर्फ आंशिक रूप से ही स्पष्ट हैं और ये गहन शोध के विषय हैं.[2]

शरीरविज्ञान[संपादित करें]

नींद के चरण[संपादित करें]

रात भर नींद गहरी नींद के साथ चक्र पर और अधिक REM (लाल रंग में) चिह्नित सुबह की ओर.
स्टेज N3 नींद, लाल बॉक्स द्वारा प्रकाश डाला हुआ ईईजी.50% से अधिक डेल्टा तरंगों के साथ गहरी नींद के तीस सेकंड.
आरइएम् (REM) निंद्रा, लाल बॉक्स द्वारा डाला ईईजी (EEG); लाल रेखा से प्रकाश डाला हुआ आंख आंदोलनों.सोने के तीस सेकंड.

स्तनधारियों और पक्षियों में, निद्रा को दो मुख्य भागों में बांटा जाता है: तेज नेत्र गति(REM) और गैर-तेज नेत्र गति (NREM या non-REM) नींद. प्रत्येक प्रकार एक भिन्न किस्म की शारीरिक, तंत्रिका संबंधी और मनोवैज्ञानिक विशेषताओं के सेट से जुड़े हुए हैं. अमेरिकन एकेडमी ऑफ़ स्लीप मेडिसिन (AASM) ने NREM को और भी तीन स्तरों में विभाजित किया है: N1, N2, और N3. अंतिम स्तर को डेल्टा स्लीप (डेल्टा निद्रा) या स्लो-वेव स्लीप (धीमी गति की नींद) (SWS) भी कहते हैं.[3]

REM और NREM के चक्र में निद्रा अग्रसर होती जाती है, क्रम सामान्य रूप से N1 → N2 → N3 → N2 → REM होता है. रात में आरंभ में बहुत अधिक गहरी नींद (N3 स्तर) हुआ करती है, जबकि रात में बाद में और प्राकृतिक जागरण से ठीक पहले REM नींद का अनुपात बढ़ जाता है.

1937 में सबसे पहले अल्फ्रेड ली लूमिस और उनके सहकर्मियों ने नींद के चरणों का वर्णन किया था; जिन्होंने नींद की विभिन्न इलेक्ट्रोएन्सेफालोग्राफी विशेषताओं को पांच स्तरों में विभाजित (ए से ई तक) किया था, जो जाग्रतावस्था से गहरी निद्रा के क्रम का प्रतिनिधित्व करते हैं.[4] 1953 में, REM निद्रा के भिन्न रूप की खोज की गयी, और इस प्रकार विलियम डिमेंट और नाथानियल क्लीटमैन ने निद्रा को NREM चरणों तथा REM में पुनर्वर्गीकृत किया.[5] 1968 में "आर एंड के स्लीप स्कोरिंग मैन्युअल" में अलान रेच्ट्सचाफ्फेन और एंथोनी कालेस ने चरणों के मानदंड को मानकीकृत किया.[6] आर एंड के मानक में, NREM निद्रा को चार चरणों में विभाजित किया गया था, धीमी-तरंगों की निद्रा चरणों को चरण 3 और 4 रखा गया. चरण 3 में, डेल्टा तरंगें कुल तरंग पैटर्न का 50% से कम होती हैं, जबकि चरण 4 में ये 50% से अधिक हो जाया करती हैं. इसके अलावा, REM निद्रा का उल्लेख कभी-कभी चरण 5 के रूप में किया जाता था.

2004 में, AASM ने आर एंड के स्कोरिंग प्रणाली की समीक्षा के लिए AASM दृश्य स्कोरिंग टास्क फोर्स को नियुक्त किया. समीक्षा से कई बदलाव किये गये, इनमें सबसे महत्वपूर्ण रहा चरण 3 और चरण 4 का चरण N3 में संयोजन. 2007 में संशोधित स्कोरिंग द AASM मैनुअल फॉर स्कोरिंग ऑफ़ स्लीप एंड एसोसिएटेड इवेंट्स के रूप में प्रकाशित हुआ.[7] उत्तेजना और श्वास प्रश्वास संबंधी, हृदय संबंधी तथा गति वृतांतों को भी जोड़ा गया.[8][9]

विशेषीकृत निद्रा प्रयोगशाला में पोलीसोम्नोग्राफी द्वारा नींद के चरण तथा नींद की अन्य विशेषताओं का आम तौर पर मूल्यांकन किया जाता है. लिये गये माप में मस्तिष्क की तरंगों का EEG, नेत्र गति का इलेक्ट्रोक्युलोग्राफी (EOG) और कंकालीय मांसपेशी की गतिविधि का इलेक्ट्रोमाइयोग्राफी शामिल हैं. मनुष्यों में, प्रत्येक निद्रा चक्र औसत 90 से 110 मिनट तक के लिए रहता है,[10] और प्रत्येक चरण के अलग-अलग शारीरिक कार्य हो सकते हैं. इससे नींद तो आ सकती है और बेहोशी जैसी हालत लग सकती है, लेकिन इससे शारीरिक कार्य पूरे नहीं होते (जैसे कि, पर्याप्त नींद लेने के बाद भी कोई व्यक्ति थका हुआ महसूस कर सकता है).

एनआरईएम् निद्रा[संपादित करें]

2007 के एएएसएम् मानकों के अनुसार, एनआरईएम् तीन चरणों के होते हैं. एनआरईएम् में अपेक्षाकृत कम सपने आया करते हैं.

चरण N1 मस्तिष्क के संक्रमण से संबंधित है, इस चरण में मस्तिष्क 8 से 13 हर्ट्ज (जाग्रत स्थिति में आम) की फ्रीक्वेंसी (बारंबारता) के अल्फा तरंगों से 4 से 7 हर्ट्ज फ्रीक्वेंसी की थेटा तरंगों में संक्रमण करता है. इस चरण को कई बार उनींदापन या ऊंघती नींद कहा जाता है. अचानक झटका आना और नींद के उभरने को सकारात्मक मायोक्लोनस के रूप में भी जाना जाता है, जो N1 के दौरान नींद के आरंभ के साथ जुड़ा हो सकता है. कुछ लोगों को इस चरण के दौरान निद्राजनक मतिभ्रम भी हो सकता है, जो उनके लिए परेशानी का सबब बन सकता है. N1 के दौरान, व्यक्ति कुछ मांसपेशी दशा और बाहरी वातावरण की सबसे अधिक सचेत जागरूकता गंवा देता है.

चरण N2 की विशेषता है कि इस दौरान नींद की तकली 11 से 16 हर्ट्ज और के-समष्टियों के बीच घूमती रहती है. इस चरण के दौरान, जैसा कि EMG द्वारा मापा गया, मांसपेशियों की गतिविधि कम हो जाती है और बाहरी वातावरण के प्रति सचेत जागरूकता गायब हो जाती है. वयस्कों में यह चरण कुल नींद के 45% से 55% में हुआ करता है.

स्टेज N3 (गहरी या धीमी-तरंग नींद) का चरित्र चित्रण इस तरह किया जाता है कि इस दौरान डेल्टा तरंगों का कम से कम 20% 0.5 से 2 हर्ट्ज के बीच हों और चोटी-से-चोटी आयाम >75 μV का हो.(ईईजी मानक 0-4 हर्ट्ज पर डेल्टा तरंगों को परिभाषित करते हैं, लेकिन मूल आर एंड के तथा नए 2007 के एएएसएम् दोनों के ही दिशानिर्देश में नींद मानक का क्रम 0.5 - 2 हर्ट्ज है.) इसी चरण में रात्रि आतंक, रात्रि शय्यामूत्र, नींद में चलना और नींद में बडबडाना जैसे पारासोमनियाई (नींद के अनेक विकार) हुआ करते हैं. कई दृष्टांत और विवरण अभी भी 20% -50% डेल्टा तरंगों के साथ N3 चरण और 50% से अधिक डेल्टा तरंगों के साथ N4 को दर्शाते हैं; ये संयुक्त रूप से चरण N3 हैं.

आरईएम् निद्रा[संपादित करें]

तेज नेत्र गति नींद, या आरईएम् नींद, अधिकांश मानव वयस्कों की कुल नींद का 20%–25% हुआ करती है. आरईएम् निद्रा के लिए मानदंडों में तेज नेत्र गति और एक द्रुत कम-वोल्टेज ईईजी शामिल है. इसी चरण में सबसे यादगार सपने आया करते हैं. कम से कम स्तनधारियों में, एक अवरोही मांसपेशी तनाव देखा गया है. इस तरह का पक्षाघात जरुरी हो सकता है ताकि शारीरिक रचना को आत्म-क्षति से बचाया जा सके, जो कि इस चरण के दौरान अक्सर आने वाले सजीव सपनों से शारीरिक क्रिया के जरिये हो सकता है.

समय[संपादित करें]

मानव जैविक घड़ी

नींद का समय सिर्काडियन घड़ी (circadian clock), स्लीप-वेक होमियोस्टेसिस द्वारा नियंत्रित है, और मनुष्यों में, कुछ सीमा के अंदर, इच्छाशक्ति व्यवहार पर निर्भर है. सिर्काडियन घड़ी -एक भीतरी समयनिर्धारक, तापमान-अस्थिरता, एंजाइम-नियंत्रक उपकरण- एडेनोसाइन के साथ अग्रानुक्रम में काम करती है, यह एक ऐसा न्यूरोट्रांसमीटर है जो जाग्रतावस्था के साथ जुडी अनेक शारीरिक प्रक्रियाओं को बाधित करता है. एडेनोसाइन दिन भर में तैयार होता है; एडेनोसाइन के उच्च स्तर से तंद्रा आती है. दिनचर पशुओं में, हारमोन मेलाटोनिन के निर्गमन के कारण सिरकाडियन तत्व से और शरीर के भीतरी तापमान में क्रमिक कमी से तंद्रा या उनींदापन आया करता है. किसीके क्रोनोटाईप द्वारा समय प्रभावित होता है. सिरकाडियन आवर्तन से एक सही ढंग से संरचित और स्वास्थ्यवर्द्धक निद्रा प्रकरण का आदर्श समय निर्धारित होता है.[11]

होमियोस्टेटिक निद्रा की सहजप्रवृत्ति (पिछली पर्याप्त निद्रा प्रकरण के बाद से गुजर चुकी समय राशि की एक क्रिया के रूप में नींद की जरुरत) का संतोषप्रद नींद के लिए सिर्काडियन तत्व के साथ संतुलित होना जरुरी है.[12] सिर्काडियन घड़ी से प्राप्त संदेश के साथ-साथ यह शरीर को बताता है कि इसे नींद की जरूरत है.[13] सिर्काडियन आवर्तन से नींद से जगने का मुख्य रूप से निर्धारण होता है. एक व्यक्ति जो नियमित रूप से जल्दी उठता या उठती है, आम तौर पर वह अपने सामान्य समय से अधिक देर तक सोये नहीं रह सकता या सकती, यहां तक कि भले ही उसने कम नींद ली हो.

नींद की अवधि DEC2 जीन द्वारा प्रभावित है. कुछ लोगों में इस जीन का उत्परिवर्तन होता है; वे सामान्य से दो घंटे कम सोते हैं. तंत्रिका संबंधी विज्ञान की प्रोफेसर यिंग-हुई फू और उनके सहयोगियों ने DEC2 उत्परिवर्तन लिए चूहों की नस्ल पैदा की, जो आम चूहों की तुलना में कम सोया करते.[14][15]

मानव में सर्वोत्कृष्ट मात्रा[संपादित करें]

वयस्क[संपादित करें]

नींद की सर्वोत्कृष्ट मात्रा कोई अर्थपूर्ण अवधारणा नहीं हो सकती, जब तक कि किसी व्यक्ति के सिरकाडियन आवर्तन के साथ जोड़कर नींद के समय या टाइमिंग को न देखा जाय. एक व्यक्ति का बड़ा नींद प्रकरण अपेक्षाकृत निष्फल और अपर्याप्त हो सकता है अगर यह दिन के "गलत" समय में होता है; व्यक्ति को शरीर के तापमान के न्यूनतम होने से पहले कम से कम छः घंटे सोना चाहिए.[16] सही टाइमिंग वो है जब नींद के मध्य प्रकरण के बाद और जगने से पहले निम्नलिखित दो चिह्नक या मार्कर प्रकट हो जाएं:[17]

  • हार्मोन मेलाटोनिन का अधिकतम जमाव, और
  • न्यूनतम भीतरी शरीर तापमान.

मानव नींद उम्र के हिसाब से और व्यक्तियों के बीच भिन्न हो सकती है, और अगर दिन में उनींदापन या दुष्क्रिया न हो तो नींद को पर्याप्त माना जाता है.

विश्वविद्यालय कैलिफोर्निया, सान डिएगो के दस लाख वयस्कों के एक मनःचिकित्सा अध्ययन में पाया गया कि जो लोग सबसे अधिक समय तक जीवित हैं वे रात में छः से सात घंटे रोज स्वयं प्रेरित होकर सोया करते हैं.[18] नींद की अवधि और महिलाओं में मृत्यु दर के जोखिम पर हुए एक अन्य अध्ययन में भी ऐसा ही परिणाम पाया गया.[19] अन्य अध्ययनों से पता चलता है कि "प्रतिदिन 7 से 8 घंटे से अधिक नींद लेने वालों में बढी हुई मृत्यु दर लगातार जुडी हुई है", हालांकि इस अध्ययन का यह भी कहना है कि इसका कारण अवसाद और सामाजोक-आर्थिक स्थिति हो सकती है, जो आंकड़ों की दृष्टि से सह-संबंधित हो जाते हैं.[20] यह भी कहा गया है कि अलार्म लगाकर जगने वालों की तुलना में, जो लोग प्राकृतिक रूप से कम नींद के बाद जग जाया करते हैं, सिर्फ उनमे कम नींद के घंटे और कम रुग्णता के बीच सह-संबंध प्रकट होते हैं.

निंद्रा अभाव के मुख्या स्वास्थ परिणाम,[21] सामान्य रखरखाव के सोने से हानि का संकेत

वारविक विश्वविद्यालय और विश्वविद्यालय कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं ने पाया कि नींद की कमी ह्रदय रोग से मृत्यु के खतरे को दुगुने से अधिक बढ़ा देती है, लेकिन बहुत अधिक नींद भी मृत्यु के खतरे को दुगुना करने के साथ जुड़ी हो सकती है, हालांकि मुख्य रूप से ह्रदय रोग से नहीं.[22][23] प्रोफेसर फ्रांसिस्को कैपुसीओ ने कहा, "छोटी नींद को वजन बढ़ने, उच्चरक्तचाप और टाईप 2 मधुमेह के लिए और कभी-कभी मृत्यु के लिए एक जोखिम का कारक बनता देखा गया है; लेकिन छोटी नींद-मृत्यु दर के विपरीत लंबी नींद को बढी हुई मृत्यु दर से जोड़ सकने के लिए कोई संभावित तंत्र सामने नहीं आया है, अभी इसकी जांच होना बाक़ी है. कुछ लोग इसमें शामिल हैं लेकिन इसके लिए अवसाद, निम्न सामाजिक-आर्थिक स्थिति और कैंसर-संबंधित क्लान्ति इसकी वजह रहे... रोकथाम के संदर्भ में, हमारे निष्कर्षों से पता चलता है कि लगातार प्रति रात सात घंटे के आसपास सोना स्वास्थ्य के लिए इष्टतम या सर्वोत्तम है, और नींद में निरंतर कमी बीमार स्वास्थ्य के लिए पहले से प्रवृत्त होना हो सकता है."

इसके अलावा, नींद की कठिनाइयां घनिष्ठ रूप से अवसाद, मद्यपता और द्विध्रुवी विकार जैसे मनोरोग विकारों से जुडी हैं.[24] अवसाद से ग्रस्त वयस्कों के 90% तक में नींद की कठिनाइयां पाई गयी हैं. ईईजी में पाए गये अनिमयन (Dysregulation) में नींद की निरंतरता में विघ्न, डेल्टा नींद में कमी और प्रसुप्ति के संबंध सहित बदलते REM पैटर्न, रात भर का विभाजन तथा नेत्र गति का घनत्व शामिल हैं.[25]

उम्र के साथ घंटे[संपादित करें]

विकसित होने और ठीक से काम करने के लिए बच्चों को प्रतिदिन अधिक नींद की जरूरत होती है: नवजात शिशु के लिए 18 घंटे तक, इसके बाद उम्र बढ़ने के साथ-साथ इसमें कमी आती जाती है.[13] एक नवजात शिशु रोजाना लगभग 9 घंटे की REM नींद लिया करता है. पांच वर्ष की आयु तक या उससे ऊपर, केवल दो घंटे से ज़रा ज्यादा REM नींद लिया करता है.[26]

उम्र और स्थिति प्रति दिन औसत नींद
नवजात 18 घंटे तक
1–12 महीने 14–18 घंटे
1–3 वर्ष 12–15 घंटे
3–5 वर्ष 11–13 घंटे
5–12 वर्ष 9–11 घंटे
किशोरवय 9–10 घंटे [27]
बुजुर्ग समेत वयस्क 7–8(+) घंटे
गर्भवती महिलाएं 8 (+) घंटे

सोने का कर्ज[संपादित करें]

पर्याप्त आराम और नींद नहीं लेने का असर है नींद का कर्ज; ऐसे बड़े कर्ज मानसिक, भावनात्मक और शारीरिक थकान का कारण बनते हैं.

नींद के कर्ज के परिणामस्वरूप उच्च स्तरीय संज्ञानात्मक कार्य कर पाने की क्षमता में कमी आती है. न्यूरोफिजियोलौजिकल और कार्यात्मक इमेजिंग अध्ययनों ने दिखाया है कि मस्तिष्क के सामने के क्षेत्र विशेष रूप से होमियोस्टेटिक नींद दबाव के लिए प्रतिक्रियाशील हैं.[28]

वैज्ञानिक इस बात पर सहमत नहीं हैं कि कितना नींद का कर्ज जमा होना संभव है; क्या यह किसी व्यक्ति की औसत नींद के हिसाब से जमा होता है या कोई अन्य मानदंड है; न ही हाल के दशकों में औद्योगिक विश्व में वयस्कों में नींद के कर्ज की प्रबलता में कोई उल्लेखनीय बदलाव आया है. यह जरुर हुआ है कि पहले की तुलना में पश्चिमी समाजों के बच्चे कम सो रहे हैं.[29]

आनुवंशिकी[संपादित करें]

ऐसा संदेह है कि कब और कितनी देर तक एक व्यक्ति को नींद की जरूरत है, जैसे नींद से संबंधित व्यवहार का एक बड़ा परिमाण, हमारे आनुवंशिकी द्वारा विनियमित होता है. शोधकर्ताओं ने कुछ सबूत की खोज की है जिससे इस धारणा को समर्थन मिलता हुआ लगता है.[30]

प्रकार्य[संपादित करें]

नींद के प्रकार्य के बारे में अनेक सिद्धांतों ने अपनी-अपनी व्याख्या प्रस्तावित की है, लेकिन ऐसा प्रतिबिंबित होता है कि विषय के बारे में समझदारी फिलहाल अधूरी है. ऐसा संभव है कि कुछ मौलिक कार्य को पूरा करने के लिए नींद का विकास हुआ और समय के साथ इसने कई काम अपना लिया. (उपमा के तौर पर, सभी स्तनपायियों की कंठनली भोजन और हवा के मार्ग का नियंत्रण करती है, किन्तु मनुष्यों में इनके अलावा बोलने की क्षमता अलग से मिली हो सकती है.)

यह मुद्दा उठाया गया कि अगर नींद आवश्यक नहीं होती, तो यह जानने की अपेक्षा की जाएगी:

  • वो पशु प्रजातियां जो कि कभी सोती नहीं हैं
  • वो प्राणी जिन्हें स्वास्थ्य लाभ के लिए सोने की जरूरत नहीं पडती, जब वे सामान्य से कहीं अधिक समय तक जगे होते हैं
  • वो प्राणी जिन्हें नींद की कमी से कोई गंभीर परिणाम नहीं भुगतने पड़ते

आज तक कोई भी पशु ऐसा नहीं मिला है जो इन मानदंडों को पूरा कर सके.[31]

अनेक में से नींद के कुछ प्रस्तावित कार्य निम्नलिखित हैं.

आरोग्यता[संपादित करें]

एक कुच्ची औरत सो रही है.

नींद द्वारा घाव भरने में सहायता मिलते देखा गया है. 2004 में गुमुस्टेकिन एट अल.[32] द्वारा किये गये एक अध्ययन से पता चला कि नींद के अभाव के कारण चूहों के जले को ठीक होने में बाधा आयी.

यह पाया गया है कि नींद की क्षति रोगक्षम (इम्यून) प्रणाली को प्रभावित करती है. 2007 में जागेर एट अल. द्वारा किये गये एक अध्ययन में,[33] चूहों को 24 घंटे तक नींद से वंचित रखा गया. जब एक नियंत्रित समूह के साथ तुलना की गयी तो नींद से वंचित चूहों के रक्त परीक्षण में श्वेत रक्त कण गणना में 20% की कमी पायी गयी, जो कि रोगक्षम प्रणाली में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन है. अब यह कहा जाना संभव है कि "नींद की क्षति रोगक्षम कार्य को क्षीण करती है और रोगक्षम नींद में हेरफेर की चुनौती पेश करता है," और यह बताया गया कि स्तनधारी प्राणी जो कि लंबी नींद में अपना समय लगाया करते हैं वे रोगक्षम प्रणाली में निवेश करते हैं, क्योंकि जिन प्रजातियों की लंबी नींद हुआ करती है उनमें अधिक श्वेत रक्त कण हुआ करते हैं.[34]

यह प्रमाणित होना अभी बाकी है कि नींद की अवधि दैहिक विकास को प्रभावित करती है. 2007 में जेनी एट अल.[35] द्वारा एक अध्ययन में 305 बच्चों के विकास, ऊंचाई और वजन को दर्ज किया गया, यह उनके माता-पिता के साथ सहसम्बद्ध होकर किया गया, माता-पिता द्वारा बच्चों के सोने के समय की जानकारी दी जाती रही और यह अध्ययन नौ वर्षों (उम्र 1-10) तक चला. यह पाया गया कि "बच्चों में नींद की अवधि में बदलाव का असर उनके विकास पर होता नहीं लगता है." यह देखा गया कि नींद-और अधिक विशेष रूप से धीमी गति की नींद (SWS)- वयस्क पुरुषों के हार्मोन स्तरों की वृद्धि को प्रभावित करती है. आठ घंटे की नींद के दौरान, वान काउटर, लेप्रौल्ट, और प्लाट[36] ने पाया कि जिन लोगों में SWS का ऊंचा प्रतिशत (औसत 24%) रहा उनमें हार्मोन स्राव की ऊंची संवृद्धि भी रही, जबकि लम प्रतिशत SWS वालों में हार्मोन की निम्न वृद्धि (औसत 9%) रही.

नींद के स्वस्थ्यकारी कार्य के पक्ष में अनेक तर्क है. नींद के दौरान चयापचय चरण सर्जन क्रिया है; नींद के दौरान संवृद्धि हार्मोन (जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है) जैसे सर्जन क्रिया हार्मोन जैसे अधिमान्य ढंग से स्रावित होते हैं. सामान्यतः, प्रजातियों में नींद की अवधि, जानवर के आकार से विपरीत ढंग से संबंधित है और सीधे-सीधे आधारीय चयापचय दर से जुड़ी हुई है. एक बहुत ही उच्च आधारीय चयापचय दर के साथ चूहे रोजाना 14 घंटे तक की नींद लिया करते हैं, जबकि हाथी और जिराफ निम्न आधारीय चयापचय दर के साथ मात्र 3-4 घंटे ही सोते हैं.

वातावरण से ऐन्द्रिक रचना को बंद किये बिना शांति से आराम करने के जरिये ऊर्जा संरक्षण संपन्न किया जा सकता है, जो संभवतः एक खतरनाक स्थिति है. एक मंद नहीं सोने वाला जानवर की शिकारियों से बचे रहने की अधिक संभावना है, जबकि तब भी वह ऊर्जा संरक्षण करता रहता है. सो, नींद, ऊर्जा संरक्षण करने के अलावा अन्य उद्देश्य या उद्देश्यों को पूरा करती लगती है; उदाहरण के लिए, सुप्तावस्था वाले पशु शीतनिद्रा से जगने के बाद सुप्तावस्था की अवधि के दौरान नींद पूरी नहीं होने के कारण फिर से नींद में चले जाते हैं. वे निश्चित रूप से अच्छी तरह से आराम कर चुके होते हैं और शीतनिद्रा के दौरान ऊर्जा संरक्षण भी किया है, लेकिन कुछ अन्य कारण से उन्हें सोने की जरूरत है.[37] जिन चूहों को अनिश्चितकाल तक जगाये रखा जाता है, उनमें त्वचा के जख्म, हायपरफेगिया (अत्यधिक भूख), शरीर पिंड का नुकसान, अल्पताप, और अंततः, घातक सैप्टिसीमिया का विकास होता है.[38]

व्यक्तिवृत्त[संपादित करें]

REM नींद की ओंटोजेनेटिक (व्यक्तिवृत्त) परिकल्पना के अनुसार, नवजात शिशु संबंधी REM नींद (या सक्रिय नींद) के दौरान होने वाली गतिविधि खासकर शरीर के विकास के लिए महत्वपूर्ण है (मार्क्स एट अल., 1995). सक्रिय नींद के अभाव के प्रभावों पर किये गये अध्ययनों से पता चला कि जीवन के आरम्भ में इस अभाव से व्यवहार की समस्याएं, स्थायी नींद विघ्न, मस्तिष्क पिंड में कमी (मिर्मिरान एट अल., 1983) और एक असामान्य परिमाण में न्यूरोन कोशिकाओं की मृत्यु (मोरिसे, डंटली एंड एंच, 2004) की समस्याएं पैदा होती हैं.

मस्तिष्क के विकास के लिए REM नींद महत्वपूर्ण प्रतीत होता है. शिशुओं की नींद के अधिकांश भाग पर REM नींद का ही कब्जा होता है, शिशु अपना अधिक समय नींद में ही गुजारा करते हैं. विभिन्न प्रजातियों में, जन्म लेनेवाला शिशु जितना अधिक अपरिपक्व होता है, वह उतना ही अधिक समय REM नींद में बिताता है. प्रस्तावकों का यह भी कहना है कि मस्तिष्क सक्रियण की उपस्थिति में REM-प्रेरित मांसपेशी अवरोधन से चेतोपागम को सक्रिय करने के जरिये मस्तिष्क विकास में मदद मिलती है, तथापि किसी संचालक परिणाम के बगैर इससे शिशु मुश्किल में पड़ सकता है. इसके अतिरिक्त, REM नींद के अभाव से बाद के जीवन में विकास की असामान्यताएं पैदा होती हैं.

बहरहाल, इसकी व्याख्या नहीं की गयी है कि प्रौढ़ वयस्कों को तब भी क्यों REM नींद की जरूरत पड़ती है. जलीय स्तनपायी शिशु शैशवावस्था में REM नींद नहीं लेते;[39] उम्र बढ़ने के साथ ऐसे पशुओं में REM नींद बढ़ती जाती है.

स्मृति प्रक्रमण[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: निद्रा और ज्ञान, निद्रा और रचनात्मकता, एवं निद्रा और स्मरण

वैज्ञानिकों ने ऐसे अनेक तरीके बताये हैं जिनमें नींद को स्मृति से संबंधित दिखाया गया है. टर्नर, ड्रमंड, सलामत और ब्राउन द्वारा किये गये एक अध्ययन[40] में नींद के अभाव से कार्यरत स्मृति पर प्रभाव पड़ता दिखाया गया. कार्यरत स्मृति महत्वपूर्ण है क्योंकि यह निर्णय लेने, तर्क-वितर्क करने और प्रासंगिक स्मृति जैसे उच्च स्तरीय संज्ञानात्मक कार्यों के अधिक प्रक्रमण और मदद के लिए सूचनाओं को सक्रिय रखता है. अध्ययन में 18 महिलाओं और 22 पुरुषों को चार दिनों की अवधि में प्रति रात सिर्फ 26 मिनट ही सोने की अनुमति दी गयी. इन व्यक्तियों ने पूरे आराम के बाद शुरुआत में संज्ञानात्मक परीक्षण दिए, और फिर चार दिनों में नींद के अभाव के दौरान दिन में दो बार परीक्षण किये गये. अंतिम परीक्षण में, नियंत्रित समूह की तुलना में इस नींद-अभावग्रस्त समूह की औसत कार्यरत स्मृति विस्तार में 38% की गिरावट पायी गयी.

REM और धीमी गति (या तरंग) की नींद (SWS) जैसे नींद के कुछ चरणों द्वारा स्मृति अलग तरह से प्रभावित होती जान पड़ती है. बोर्न, रास्च और गेस में उद्धृत,[41] एक अध्ययन में अनेक मानव विषयों का उपयोग किया गया था: जागरण नियंत्रित समूहों और नींद परीक्षण समूहों का. नींद और जागरण समूहों को एक कार्य सिखाया गया और फिर सभी प्रतिभागियों में संतुलित रूप से रात के क्रम में, रात की शुरुआत और देर रात दोनों ही समय परीक्षण किया गया. जब नींद के दौरान उन प्रतिभागियों के मस्तिष्क को स्कैन किया गया तो हिप्नोग्राम ने पाया कि रात के आरंभ में नींद का चरण SWS हावी रहता है, जो नींद चरण गतिविधि का औसतन 23% के आसपास का प्रतिनिधित्व करता है. नियंत्रित समूह की तुलना में, घोषणात्मक स्मृति परीक्षण में आरंभिक-रात्रि परीक्षण समूह ने 16% बेहतर प्रदर्शन किया. देर-रात्रि नींद के दौरान, लगभग 24% के साथ REM सबसे सक्रिय नींद का चरण बन गया, और नियंत्रित समूह की तुलना में प्रक्रियात्मक स्मृति परीक्षण में देर-रात्रि परीक्षण समूह ने 25% बेहतर प्रदर्शन किया. इससे पता चलता है कि देर-रात्रि REM-संपन्न नींद से प्रक्रियात्मक स्मृति को लाभ मिलता है, जबकि आरंभिक-रात्रि SWS-संपन्न नींद से घोषणात्मक स्मृति को लाभ होता है.

दत्ता द्वारा किए गए एक अध्ययन[42] में इन परिणामों का परोक्ष रूप से समर्थन किया गया है. 22 नर चूहों को अध्ययन का पात्र बनाया गया था. एक ऐसे डिब्बे का निर्माण किया गया था जिसमें एक चूहा मजे से एक छोर से दूसरे छोर तक आ-जा सके. डिब्बे की तली इस्पात की जाली से बनायी गयी थी. एक ध्वनि के साथ डिब्बे में एक रोशनी चमकती. पांच सेकंड बाद, बिजली का झटका लगाया जाता. झटका शुरू होते ही चूहा डिब्बे के दूसरे छोर पर चला जाता, तब झटका तुरंत ही समाप्त हो जाता. चूहे भी पांच सेकंड देरी का उपयोग करके डिब्बे के दूसरे छोर जा सकते थे और इस तरह झटके से पूरी तरह बच सकते थे. झटके की अवधि कभी भी पाँच सेकंड से अधिक नहीं रही. आधे चूहों पर इसे 30 बार दुहराया गया. अन्य आधे, नियंत्रण समूह, को उसी परीक्षण में रखा गया, लेकिन उनकी प्रतिक्रिया पर ध्यान दिए बिना चूहों को झटका दिया गया. प्रत्येक प्रशिक्षण सत्र के बाद, चूहे को पोलिग्राफिक रिकॉर्डिंग के लिए छह घंटे तक एक रिकॉर्डिंग पिंजरे में रखा जाता. यह प्रक्रिया लगातार तीन दिनों तक दुहरायी गयी. इस अध्ययन में पाया गया परीक्षण के बाद नींद कि नींद रिकॉर्डिंग सत्र के दौरान, चूहों ने नियंत्रण परीक्षणों के बाद की तुलना में, अभ्यास परीक्षणों के बाद REM नींद में 25.47% अधिक समय बिताया. ये परीक्षण बोर्न एट अल. अध्ययन के परिणामों का समर्थन करते हैं, इनसे REM नींद और प्रक्रियात्मक ज्ञान के बीच सहसंबंध का एक स्पष्ट संकेत मिलता है.

दत्ता अध्ययन का एक अवलोकन यह है कि परीक्षण के बाद रिकॉर्डिंग सत्र के दौरान नियंत्रण समूह की तुलना में नींद अभ्यास समूह ने SWS में 180% अधिक समय बिताया. इस तथ्य को कुद्रीमोती, बर्न्स और मैकनौटन द्वारा किये गये एक अध्ययन से समर्थन मिला.[43] इस अध्ययन से पता चलता है कि स्थानिक खोज गतिविधि के बाद, प्रयोग में हिप्पोकैम्पल की कोशिकाओं का पैटर्न SWS के दौरान पुनःसक्रिय होता है. कुद्रीमोती एट अल. के एक अध्ययन में, किसी छोर में इनाम का उपयोग करके सात चूहों को एक रेखीय ट्रैक (मार्ग) में दौड़ाया गया. चूहों को ट्रैक में अनुकूल होने के लिए 30 मिनट तक रहने दिया गया (पूर्व), फिर उन्हें इनाम-आधारित प्रशिक्षण के लिए ट्रैक में 30 मिनट तक दौड़ाया गया (दौड़), और फिर उन्हें 30 मिनट तक आराम करने दिया गया. इन तीन प्रत्येक अवधियों के दौरान, चूहों की नींद के चरणों की सूचना के लिएईईजी डेटा एकत्र किये गये. कुद्रीमोती एट अल. ने SWS (पूर्व) के पूर्व-व्यवहार के दौरान हिप्पोकैम्पल की कोशिकाओं की मीन फायरिंग रेट्स (mean firing rates) को और सात चूहों के औसतन 22 ट्रैक -दौड़ द्वारा SWS (बाद का) के उत्तर-व्यवहार में तीन बार रखे दस मिनट के अवकाश को परिकलित किया. नतीजे बताते हैं कि परीक्षण दौड़ सत्र के बाद के दस मिनट में पूर्व स्तर की तुलना में हिप्पोकैम्पल की कोशिकाओं की मीन फायरिंग रेट में 12% की वृद्धि देखी गयी; हालांकि 20 मिनट के बाद, मीन फायरिंग रेट तेजी से पूर्व स्तर पर वापस लौट गयी. स्थानिक अन्वेषण के बाद SWS के दौरान हिप्पोकैम्पल की कोशिकाओं की फायरिंग में वृद्धि से समझा जा सकता है कि आखिर क्यों दत्ता के अध्ययन में SWS नींद का स्तर बढ़ गया था, क्योंकि यह भी स्थानिक अन्वेषण के एक रूप से संबद्ध था.

SWS के दौरान धीमे दोलन के परिमाण को बढाने के लिए पुरोमुखीय वल्कल (prefrontal cortex) में एकदिश धारा उत्तेजन (direct current stimulation) को शामिल करते हुए एक अध्ययन हुआ (मार्शल एट अल., जैसा की वाकर में उद्धृत, 2009). एकदिश धारा उत्तेजन ने अगले दिन शब्द-जोड़ी स्मरण में बहुत वृद्धि कर दी, इससे यह प्रमाण मिला कि प्रासंगिक स्मृतियों के समेकन में SWS एक बड़ी भूमिका निभाता है.[44]

विभिन्न अध्ययनों का यह कहना हैं कि नींद और स्मृति के जटिल कार्यों के बीच एक सह-संबंध है. हार्वर्ड के नींद शोधकर्ता सपर और स्टिकगोल्ड[45] का कहना है कि स्मृति और अभ्यास का एक आवश्यक हिस्सा तंत्रिका कोशिका द्रुमाश्म (dendrites) से युक्त होता है, जो नए न्यूरोनल संपर्कों में संगठित होने के लिए कोशिका पिंड को सूचना भेजता है. इस प्रक्रिया की मांग है कि कोई बाहरी जानकारी इन द्रुमाश्मों को प्रस्तुत नहीं की जाय, और यह भी कहा गया कि संभवतः इसीलिए नींद के समय स्मृतियां और ज्ञान ठोस और व्यवस्थित होती हैं.

परिरक्षण[संपादित करें]

"परिरक्षण और संरक्षण" के सिद्धांत का मानना है कि नींद अनुकूलनीय कार्य करती है. दिन के 24 घंटों के उन भागों में जब प्राणी की रक्षा करता है, जब वह जगा होता है और इसीलिए आसपास घूमता रहता है, और जब व्यक्ति बड़े जोखिम में होता है.[46] जीव को भोजन करने के लिए 24 घंटे की जरूरत नहीं होती और वह अन्य जरूरतों को पूरा करता है. अनुकूलन के इस दृष्टिकोण से, जीव नुकसान के रास्ते से दूर रहते हैं, जहां वे अन्य संभावित मजबूत जीवों का शिकार बन सकते हैं. वे उसी समय नींद लेते हैं जो उनकी सुरक्षा को अधिकतम बनाता है, उन्हें शारीरिक क्षमता और उनका आवास प्रदान करता है. (एलीसन और सिच्चेट्टी, 1976; वेब्ब, 1982).

हालांकि, यह सिद्धांत इसकी व्याख्या करने में विफल रहा की आखिर क्यों सामान्य नींद के दौरान बाहरी वातावरण से मस्तिष्क का संबंध टूट जाता है. इस सिद्धांत के खिलाफ एक और तर्क है कि नींद महज वातावरण से पशुओं को अलग करने का एक निष्क्रिय परिणाम नहीं है, बल्कि एक "ड्राइव" है;नींद लेने के क्रम में पशु अपने व्यवहार में तब्दिली लेट है. इसलिए, गतिविधि और निष्क्रियता की अवधि की व्याख्या के लिए सिरकाडियन विनियमन पर्याप्त से अधिक है, जो जीव के लिए अनुकूलनीय है, लेकिन नींद की और भी अधिक अजीब विशिष्टताएं संभवतः अन्य तथा अज्ञात कार्यों को पूरा करती हैं. इसके अलावा, परिरक्षण सिद्धांत को यह व्याख्या करने की जरूरत है कि सिंह जैसे मांसाहारी, जो खाद्य श्रृंखला में सबसे ऊपर हैं और जिन्हें अधिक भय भी नहीं है, क्यों बहुत अधिक सोया करते हैं. यह कहा गया है कि वे जब शिकार पर नहीं होते तब उन्हें ऊर्जा क्षरण को कम करने की जरूरत होती है.

परिरक्षण सिद्धांत इसकी भी व्याख्या नहीं करता है कि जलीय स्तनपायी चलते हुए क्यों सोया करते हैं. इन संवेदनशील घंटों के दौरान निष्क्रियता वही करती है और अधिक लाभप्रद बन जाती है, क्योंकि प्राणी तब भी शिकारियों आदि की तरह की पर्यावरण चुनौतियों का सामना करने में सक्षम होता है. निद्राहीन रात के दोषपूर्ण अनुकूलन के बाद नींद फिर से पलट कर आती है, लेकिन स्पष्ट रूप से किसी कारण से ही आती है. अपने सोने के समय किसी सिंह से अपनी जान बचाने में लगा हुआ एक जेबरा दिन के समय नींद से निढाल होकर सो जाता है, जो शिकार बनने से कम नहीं, कहीं अधिक असुरक्षित है.

स्वप्न[संपादित करें]

नींद के दौरान संवेदी छवियों और ध्वनियों के अनुभव को महसूस करने को सपने देखना कहते हैं, अनुक्रम में आनेवाले सपनों को स्वप्नदर्शी एक पर्यवेक्षक के बजाय एक प्रकट भागीदार की तरह आम तौर पर महसूस किया करता है. सपने देखना पोन्स (मस्तिष्क का संयोजक अंश) द्वारा उत्प्रेरित होता है और नींद के REM चरण के दौरान अधिकांशतः सपने आया करते हैं.

सपने के कार्य के बारे में लोगों ने अनेक अवधारणाएं पेश की हैं. सिगमंड फ्रायड ने निर्विवाद रूप से मान लिया कि सपने उन अपूर्ण इच्छाओं की अभिव्यक्ति हैं जो अचेतन मन में डाल या फेंक दी जाती हैं, और उन्होंने इन इच्छाओं की खोज के लिए मनोविश्लेषण के रूप में सपनों की व्याख्या का उपयोग किया. देखें फ्रायड: द इंटरप्रिटेशन ऑफ़ ड्रीम्स

फ्रायड का काम सपनों की मनोवैज्ञानिक भूमिका से संबंधित है, जो स्पष्ट रूप से किसी भी शारीरिक भूमिका के हो सकने को छोड़ नहीं देता. इसलिए हाल के स्मृति और अनुभव के व्यवस्थापन और समेकन में बढ़ती आधुनिक दिलचस्पी द्वारा इससे इंकार नहीं किया गया है. हाल के शोध का दावा है कि अभ्यास और अनुभव के दौरान चेतोपागम संपर्कों के समेकन और व्यवस्थापन की समग्र भूमिका नींद की है.

जॉन एलन हौब्सन और रॉबर्ट मैककार्ले का सक्रियण संश्लेषण सिद्धांतकहता है कि REM अवधि में दिमागी वल्कल में होने वाली न्यूरोन की अंधाधुंध फायरिंग से सपने आया करते हैं. इस सिद्धांत के अनुसार, अग्रमस्तिष्क तब सामंजस्य स्थापित करने और अतर्कसंगत संवेदी सूचना प्रस्तुत करके अर्थ निकालने के प्रयास में एक कहानी बुनता है; इसीलिए अनेक सपने अजीब प्रकृति के होते हैं.[47]

नींद पर खान-पान का प्रभाव[संपादित करें]

निद्राजनक[संपादित करें]

  • अनिद्रा के रूपों के इलाज के लिए डॉक्टरों द्वारा सुझाये एस्जोपीक्लोन (लुनेस्टा), जालेप्लोन (सोनाटा) और ज़ोल्पीडेम (एम्बिएन) जैसे नॉनबेन्जोडायपाइन हिप्नोटिक्स दवाओं का आम उपयोग होता है. नॉनबेन्जोडायपाइन गोलियां बहुत आम ढंग से नियत की जाती हैं और OTC नींद की गोलिया विश्व स्तर पर इस्तेमाल होती रहीं और 1990 के दशक से इनके इस्तेमाल में बहुत वृद्धि हुई है. वे गाबा (GABAA) रिसेप्टर को लक्ष्य करती हैं.
  • बेंजोडायजेपाइन भी गाबा रिसेप्टर को लक्ष्य करती हैं, और उसी रूप में, वे आम तौर पर नींद की दवा का भी इस्तेमाल करती हैं, हालांकि पाया गया है कि बेंजोडायजेपाइन REM नींद में कमी लाती है.[48]
  • एंटीहिस्टेमाइंस, जैसे कि डिपेहेनहाइड्रेमाइन (बेनाड्रिल) और डोक्सीलेमाइन (विभिन्न OTC दवाओं में पायी जाती है, जैसे कि नाइकुइल)
  • शराब - अक्सर लोग सोने के लिए शराब पीना शुरू करते हैं (आरंभ में शराब एक शामक है और उनींदापन का कारण है, नींद को प्रोत्साहन देता है).[49] हालांकि, शराब की लत लग जाने के बाद इससे नींद में विघ्न पड़ती है, क्योंकि देर रात में शराब का उल्टा प्रभाव होता है. परिणामस्वरुप, मद्यपता और अनिद्रा के रूपों को जोड़ने के ठोस सबूत हैं.[50] शराब REM नींद को भी कम कर देती है.[48]
  • बार्बीट्युरेट्स से ऊंघ आया करती है और इसका असर शराब जैसा होता है, इसका भी उल्टा प्रभाव (rebound effect) पड़ता है और इससे REM नींद विघ्नित होती है. सो दीर्घावधि में नींद लाने के लिए इसका उपयोग नहीं किया जाता.[51]
  • मेलाटोनिन एक स्वाभाविक रूप से आनेवाला हार्मोन है जो झपकी को नियंत्रित करता है. यह मस्तिष्क में बनता है, जहां ट्राइप्टोफैन सेरोटोनिन में परिवर्तित होता है और तब मेलाटोनिन में, जो कि रात में शीर्षग्रंथि द्वारा स्रावित होकर नींद लाने और उसे कायम रखने का काम करता है. नींद की दावा के रूप में मेलाटोनिन अनुपूरण का इस्तेमाल किया जा सकता है, हायप्नोटिक और क्रोनोबायोटिक दोनों के रूप में (देखें फेज रेस्पोंस कर्व, पीआरसी).
  • मध्याह्न विश्राम और "भोजनोपरांत झपकी" - अनेक लोगों में दिन के भोजन के बाद अस्थायी रूप से एक ऊंघ छा जाती है, जिसे आम तौर पर "भोजनोपरांत झपकी" कहते हैं. जब कोई व्यक्ति पेट भर कर खाना खाता है तो उसे नींद आने लगती है, दोपहर के भोजन के बाद आनेवाली झपकी ज्यादातर जैविक घड़ी का प्रभाव होता है. स्वाभाविक रूप से लोगों को दिन में 12 घंटे के अंतर में दो बार नींद आने लगती है(सबसे ज्यादा "जोरों से नींद" आती है)—उदाहरण के लिए पूर्वाह्न 2 बजे और मध्याह्न दो बजे, इन दो समय में शरीर की घड़ी "बज उठती है". मध्याह्न लगभग 2 बजे (14:00), यह समस्थापित बकाया नींद पर हावी हो जाती है, इससे कई घंटों तक जगना पड़ जाता है. पूर्वाह्न लगभग 2 बजे रोजाना की बकाया नींद पूरी होने के साथ यह फिर से कुछ और घंटे की नींद को सुनिश्चित करने के लिए "बज उठती है."
  • ट्राइप्टोफैन – अमीनो एसिड ट्राइप्टोफैन प्रोटीन के बहुत सारे प्रखंड है. कहते हैं नींद की खुमारी में इन्हीं का योगदान होता है, चूंकि यह न्यरोट्रांसमीटर सेरोटोनिन का पूर्वलक्षण है, नींद को नियत्रित करने में इसकी भूमिका होती है. हालांकि, मामूली आहार से ट्राइप्टोफैन के परिवर्तन का नींद जुड़े होने का कोई ठोस आंकड़ा अभी तक प्राप्त नहीं है.

उत्तेजक पदार्थ[संपादित करें]

  • एम्फैटैमाइन्स (एम्फ़ैटेमिन (amphetamines), डेक्सट्रोएम्फेटैमाइन्स (dextroamphetamine) मेथम्फैटैमाइन्स (methamphetamine) वगैरह) अक्सर नींद की बीमारी (narcolepsy) तथा एडीएचडी (ADHD) विकार के इलाज के लिए इस्तेमाल होता है और जब इसका इस्तेमाल मौज-मस्ती के लिए होता है तो इसे "रफ्तार" कहा जा सकता है. इनके आम प्रभाव चिंता, अनिद्रा, उत्तेजना, सतर्कता बढ़ाने और भूख की कमी है.
  • कैफीन एक तरह का उत्तेजक पदार्थ है, जिससे मस्तिष्क में हार्मोन्स की सक्रियता की गति को धीमा कर देते है, जिसके कारण उनींदापन, खास तौर पर एडेनोसाइन अभिग्राहक के प्रतिद्वंद्वी के रूप में काम करता है.

प्रभावी खुराक कुछ हद तक पूर्व में उपयोग पर निर्भर करता है. जैसे-जैसे इसका असर खत्म होने लगता है तो यह सतर्कता में एक तेजी का करण हो सकता है.

  • कोकीन और विशुद्ध कोकीन - कोकीन पर हुए अध्ययन में इसके प्रभाव को सर्केडियन रिदम प्रणाली के जरिए दिखाया गया है.[52] हो सकता है इस हाइपरसोमिया (अतिनिद्रा) का हमला "कोकीन से प्रेरित निद्रा विकार" से संबंधित हो.[53]
  • ऊर्जा पेय - ऊर्जा पेय का उत्तेजक प्रभाव कैफीन, और शक्कर जैसे उत्तेजक पदार्थों से आता है, और वे कैफीन की ही तरह सतर्कता में एकबारगी तेजी से कमी कर देंगे.
  • एमडीएमए (MDMA) समेत एमडीए (MDA), या एमएमडीए (MMDA), एमडीएमए (MDMA) या बीके-एमडीएमए (bk-MDMA) – श्रेणी के मादक पदार्थ एम्पैथोजेन-एनटैक्टोजेन्स कहलाता है, यह उपयोगकर्ताओं को उल्लासोन्माद के साथ जगाये रखता है. सामान्यतः "परमानंद" के रूप में जाना जाता है.
  • मेथेल्फेनिडेट (methylphenidate) – आमतौर पर रिटालिन (Ritalin) और कॉन्सेर्टा (Concerta) ब्रांड के नाम से जाना जाता है, काम में यह एम्फेटामाइन्स और कोकीन के सामान है.

निद्रा से सम्बंधित कठिनाई के कारण[संपादित करें]

खराब नींद के कई कारण हैं. निम्नलिखित स्वास्थ्यकर नींद के सिद्धांत शारीरिक या भावनात्मक समस्याओं का हल हो सकते हैं.[54] जब इसके पीछे वजह दर्द, बीमारी, दवाएं, या तनाव है, तो इसके कारण का इलाज किया जाना चाहिए. (प्राथमिक, एस (सहित निद्रा अश्वसन, औंघना (narcolepsy), प्राथमिक बेचैनी से अंग आंदोलन विकार (PLMD), रेस्टलेस लेग सिंड्रोम (RLS (आरएलएस)), और सिर्काडियन रिदम निद्रा विकार (circadian rhythm sleep disorders)समेत) निद्रा विकार इलाज योग्य हैं.

बुजर्ग व्यक्ति माहौल में गड़बड़ी से आसानी से जग जाते हैं[55] और कुछ हद तक अच्छी नींद लेने की क्षमता खो दे सकते हैं.

निद्रा सहायक के रूप में विभिन्न तरह के पेटेंट, उत्पाद और नींद की तकनीक के रूप में उपलब्ध हैं, जो बेहतर रक्त संचालन और शरीर के दर्द को कम करने के लिए नींद के दौरान स्वाभाविक स्थिति की अनुमति देते हैं. चूंकि मानव इतिहास में खाट या पलंग का आविष्कार अपेक्षाकृत अभी हाल ही में हुआ है,[56] इसलिए इस तरह के तरीके वापस जमीन पर सोने की सलाह देने से लेकर ऐसे उत्पाद जो आपके पांवों से कम्बल को दूर करता हो,[57] से लेकर अनेक प्रकार के "स्मृति फोम" की क्रमबद्धता की और ले जाता है, जो एक व्यक्ति को धरातल के अनुकूल बनाता है.[58]

इसके अलावा सो जाने की कशमकश या नींद आने से रोकने का आग्रह यहां तक कि क्षणभर के लिए "दूसरी प्राथमिकता" को सक्रिय कर सकता है, जो तब अस्थायी रूप से जाने के बाद जरा ‍कठिन हो जा सकता है.

निद्रा का नृविज्ञान[संपादित करें]

शोध से पता चलता है कि निद्रा का पैटर्न विभिन्न संस्कृतियों में अलग-अलग तरह का है.[59][60] समाजों में सबसे बड़ा अंतर यह है कि कहीं बड़े पैमाने पर कृत्रिम रोशनी के स्रोत हैं और कहीं नहीं हैं.[59] प्राथमिक अंतर जो नजर आता है वह यह है कि पुरानी संस्कतियों में निद्रा का पैटर्न कहीं अधिक भंगुर रहा है.[59] उदाहरण के लिए, लोगों को हो सकता है सूरज डूबने के तुरंत बाद लोग सो जाएं, इसके बाद पूरी रात भर बार-बार बहुत बार जग जाते हैं, जग-जग कर सोने की रुक-रुक कर चलती रहती है, शायद घंटों यह चलता रहता है.[59] सोने और जागने के बीच की सीमा अन समाजों में अस्पष्ट है.[59] कुछ पर्यवेक्षकों का मानना है कि इन समाजों में नींद एक दु:स्वप्न है जहां नींद दो अवधि के बीच में टूट जाती है, पहला हिस्सा गहरी नींद का होता है और दूसरा हिस्सा REM निद्रा का.[59]

कुछ समाजों में निद्रा का पैटर्न खंडित होता है, जिसमें लोग ‍पूरे दिन भर सोते हैं और रात में थोड़े समय के लिए. बहुत सारे खानाबदोश या शिकारी-फ़रमर समाजों में लोग पूरे दिन या रात भर सोते-जगते रहते हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि कब क्या कुछ हो रहा है.[59] कम से कम मध्य 19वीं सदी से औद्योगिक पश्चिमी देशों में बड़े पैमाने पर कृत्रिम रोशनी उपलब्ध होने लगी, और प्रकाश व्यवस्था की शुरुआत होने से सभी जगह नींद के पैटर्न में उल्लेखनीय बदलाव आया.[59] सामान्य तौर पर, लोग रात के समय सोने जाने के बहुत बाद अत्यंत गहरी नींद में होते हैं, हालांकि हमेशा ऐसा सच नहीं होता है.[59]

कुछ समाजों में, आम तौर पर लोग कम से कम एक अन्य व्यक्ति (कभी कभी कई) के साथ या फिर जानवरों के साथ सोते हैं. कुछ अन्य संस्कृतियों में, लोग सबसे अंतरंग परिजन जैसे कि पति-पत्नी को छोड़कर विरले ही किसी के साथ सोते हैं. लगभग सभी समाजों में, साथ में सोनेवाला साथी सामाजिक नियमों द्वारा नियंत्रित होता है. उदाहरण के लिए, हो सकता है वे केवल सबसे नजदीकी परिवार, विस्तारित परिवार, पति-पत्नी, उनके बच्चे, हर उम्र के बच्चे, हर विशिष्ट लिंग, लिंग विशेष के साथी, मित्र, समान सामाजिक हैसियत के मित्र या फिर किसी के साथ भी नहीं होते हैं. सोना बगैर किसी अड़चन या शोर के सक्रिय सामाजिक समय हो सकता है, सोनेवाले समूह पर यह निर्भर करता है.[59]

लोग अलग-अलग किस्म के स्थानों पर सोते हैं. कोई सीधे जमीन पर सो जाता है, दूसरा कोई किसी चादर या कंबल पर और कुछ लोग तख्ती या खाट पर सोते हैं. कुछ कंबल पर, कुछ तकियों के साथ, कुछ साधारण सिरहाने के साथ, और कुछ सिर को बगैर कोई सहारा दिए सोते हैं. ये विकल्प बहुत सारे कारकों के द्वारा मसलन; आबोहवा, हमलावरों से रक्षा के लिए, घर के किस्म, तकनीक और कीड़े-कमौड़े के उत्पात को देखते हुए तय होते हैं.[59]

अमानवों में नींद[संपादित करें]

जापानी मकाक सो रही है.

कुछ पशुओं में स्नायविक निद्रावस्थाओं का पता लगाना कठिन हो सकता है. इन मामलों में, निद्रा को परिभाषित करने के लिए आचरण विशेषताओं का उपयोग किया जा समकता है; मसलन, कम से कम हिलना-डुलना, प्रजातियों की विशिष्ट मुद्राएं, और बाहरी उत्तेजना से प्रतिक्रियाशीलता का काम होना. शीतनिद्रा या कोमा के विपरीत, नींद या निद्रा तेजी से उत्क्रमणीय होता है, और नींद की कमी होने के बाद प्रतिक्रिया स्वरूप लंबी और गहरी नींद आती है. शाकाहारी पशु, जिन्हें अपना आहार इकट्ठा करने या खाने के लिए लंबे समय तक चलने की जरूरत होती है, आमतौर पर प्रतिदिन कम अवधि की नींद लेते हैं, बनिस्पत मांसाहारी पशुओं के, जो कई दिनों तक बैठे-बिठाये मांस की आपूर्ति हो जाने पर अच्छा आहार ग्रहण कर सकते हैं.

घोड़े और इसकी ही तरह खुरवाले अन्य शाकाहारी पशु खड़े-खड़े हो सकते हैं, लेकिन लेकिन आरईएम (REM) निद्रा के लिए (मांसपेशियों में कमजोरी के कारण) अनिवार्य रूप से जरूरी है कि थोडे समय के लिए लेट जाए. उदाहरण के लिए, जिराफ को केवल REM नींद के लिए एक बार में कुछ मिनटों के लिए लेट की जरूरत होती है. चमगादड़ उल्टा लटक कर सोता है. कुछ जलचर स्तनपायी और कुछ पक्षी आधे मस्तिष्क की नींद सो सकते हैं, जबकि उनका आधा मस्तिष्क जगा रहता है, तथाकथित रूप से इसे एक ओर का प्रमस्तिष्कीय गोलार्थ की धीमी गति की निद्रा (unihemispheric slow-wave sleep) कहते है.[61] पक्षियों और स्तनपायियों में गैर REM और REM नींद का चक्र होता है (जैसा कि ऊपर मानव के लिए वर्णित है), हालांकि पक्षियों का चक्र बहुत छोटा होता है और उनके मांसपेशी का टोन (शिथिल हो जाना) एक हद तक खराब नहीं होता, जैसा कि स्तनधारियों का होता है.

बहुत सारे स्तनपायी छोटी उम्र में प्रति 24 घंटे की अवधि में लंबे-लंबे अनुपात के लिए सोते हैं.[62] हालांकि, ‍कीलर व्हेल कुछ डॉल्फिन अपने जीवन के पहले महीने के दौरान नहीं सोती हैं.[63] इन अंतरों की व्याख्या इस तरह से की जा सकती है कि थलचर स्तनपायियों के नवजात जब सोते हैं तब वे अपने माता-पिताओं द्वारा संरक्षित होते हैं, जबकि समुद्रीय जीवों के लिए नन्हीं सी उम्र में भी, अपने शिकारियों से लगातार सतर्क होना जरूरी है.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • अलार्म घड़ी
  • कोर्टिसोल जागरण प्रतिक्रिया
  • दुनिया ड्रीम (भूखंड यंत्र)
  • मैक्रोस्लीप
  • मोरवन का सिंड्रोम
  • राष्ट्रीय नींद निर्माण
  • नींद विकार
  • नींद की दवा
  • अकस्‍मात शिशु मृत्यु सिंड्रोम

स्थितियों, प्रथाओं, और विधिशास्त्र[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. मैकमिलन डिक्शनरी फॉर स्टुडेंट्स मैकमिलन , पान लिमिटेड (1981), पृष्ठ 936. 01-10-2009 को पुनःप्राप्त किया गया.
  2. Bingham, Roger; Terrence Sejnowski, Jerry Siegel, Mark Eric Dyken, Charles Czeisler, Paul Shaw, Ralph Greenspan, Satchin Panda, Philip Low, Robert Stickgold, Sara Mednick, Allan Pack, Luis de Lecea, David Dinges, Dan Kripke, Giulio Tononi (February 2007). "Waking Up To Sleep" (Several conference videos). The Science Network. http://thesciencenetwork.org/programs/waking-up-to-sleep. अभिगमन तिथि: 2008-01-25. 
  3. Silber MH, Ancoli-Israel S, Bonnet MH, et al. (March 2007). "The visual scoring of sleep in adults". Journal of Clinical Sleep Medicine 3 (2): 121–31. PMID 17557422. http://www.aasmnet.org/jcsm/Articles/030203.pdf. 
  4. Loomis, Alfred L; Harvey EN, Hobart GA (1937). "III Cerebral states during sleep, as studied by human brain potentials". J Exp Psychol. 21: 127–44. doi:10.1037/h0057431. 
  5. Dement, William; Nathaniel Kleitman (1957). "Cyclic variations in EEG during sleep and their relation to eye movements, body motility and dreaming". Electroencephalogr Clin Neurophysiol 9 (4): 673–90. doi:10.1016/0013-4694(57)90088-3. PMID 13480240. 
  6. रेच्ट्सशाफ्फेन ए,केल्स ए, संपादकों. ए मनुअल ऑफ़ स्टैन्डर्डाइज़्ड टर्मिनालजी, टेक्नीक एंड स्कोरिंग सिस्टम फॉर स्लीप स्तेजेज़ ऑफ़ हिउमन सब्जेक्ट्स. वाशिंगटन: पब्लिक हेल्थ सर्विस, युएस गवर्मन्ट प्रिंटिंग ओफ्फिस, 1968.
  7. Iber, C; Ancoli-Israel, S; Chesson, A; Quan, SF for the American Academy of Sleep Medicine (2007). The AASM Manual for the Scoring of Sleep and Associated Events: Rules, Terminology and Technical Specifications. Westchester: American Academy of Sleep Medicine. 
  8. Psychology World (1998). "Stages of Sleep" (PDF). http://web.mst.edu/~psyworld/general/sleepstages/sleepstages.pdf. अभिगमन तिथि: 2008-06-15. "(includes illustrations of "sleep spindles" and "K-complexes")" 
  9. Schulz H (April 2008). "Rethinking sleep analysis". Journal of Clinical Sleep Medicine 4 (2): 99–103. PMC 2335403. PMID 18468306. 
  10. Swierzewski, Stanley J., MD (01 December 2000, reviewed 04 December 2007). "Sleep Stages. Overview, Waking, Non-REM, REM, Sleep Cycle, Factors, Age". Sleep Channel, Healthcommunities.com. http://www.sleepdisorderchannel.com/stages/. अभिगमन तिथि: 2008-02-10. 
  11. Wyatt, James K.; Ritz-De Cecco, Angela; Czeisler, Charles A.; Dijk, Derk-Jan (1 October 1999). "Circadian temperature and melatonin rhythms, sleep, and neurobehavioral function in humans living on a 20-h day". Am J Physiol 277 (4): R1152–R1163. Fulltext. PMID 10516257. http://ajpregu.physiology.org/cgi/content/full/277/4/R1152. अभिगमन तिथि: 2007-11-25. 
  12. Zisapel, N (2007). "Sleep and sleep disturbances: biological basis and clinical implications" (Abstract). Cell Mol Life Sci 64 (10): 1174–86. doi:10.1007/s00018-007-6529-9. PMID 17364142. http://www.websciences.org/cftemplate/NAPS/archives/indiv.cfm?ID=20066335. अभिगमन तिथि: 2009-01-05. 
  13. de Benedictis, Tina, PhD; Heather Larson, Gina Kemp, MA, Suzanne Barston, Robert Segal, MA (2007). "Understanding Sleep: Sleep Needs, Cycles, and Stages". Helpguide.org. http://www.helpguide.org/life/sleeping.htm. अभिगमन तिथि: 2008-01-25. 
  14. "Gene Cuts Need for Sleep - Sleep Disorders Including, Sleep Apnea, Narcolepsy, Insomnia, Snoring and Nightmares on MedicineNet.com". http://www.medicinenet.com/script/main/art.asp?articlekey=104720. अभिगमन तिथि: 2010-06-11. 
  15. He Y, Jones CR, Fujiki N, et al. (August 2009). "The transcriptional repressor DEC2 regulates sleep length in mammals". Science 325 (5942): 866–70. doi:10.1126/science.1174443. PMC 2884988. PMID 19679812. 
  16. Dijk, Derk-Jan; Steven W. Lockley (February 2002). "Functional Genomics of Sleep and Circadian Rhythm Invited Review: Integration of human sleep-wake regulation and circadian rhythmicity". J Appl Physiol 92 (2): 852–62. doi:10.1152/japplphysiol.00924.2001 (inactive 2010-03-19). PMID 11796701. http://jap.physiology.org/cgi/content/full/92/2/852. अभिगमन तिथि: 2009-04-04. "Consolidation of sleep for 8 h or more is only observed when sleep is initiated ~6-8 h before the temperature nadir.". 
  17. Wyatt, James K.; Ritz-De Cecco, Angela; Czeisler, Charles A.; Dijk, Derk-Jan (1 October 1999). "Circadian temperature and melatonin rhythms, sleep, and neurobehavioral function in humans living on a 20-h day". Am J Physiol 277 (4): R1152–R1163. PMID 10516257. http://ajpregu.physiology.org/cgi/content/full/277/4/R1152. अभिगमन तिथि: 2007-11-25. "... significant homeostatic and circadian modulation of sleep structure, with the highest sleep efficiency occurring in sleep episodes bracketing the melatonin maximum and core body temperature minimum". 
  18. Rhonda Rowland (2002-02-15). "Experts challenge study linking sleep, life span". http://archives.cnn.com/2002/HEALTH/02/14/sleep.study/index.html. अभिगमन तिथि: 2007-04-22. 
  19. Patel SR, Ayas NT, Malhotra MR, et al. (May 2004). "A prospective study of sleep duration and mortality risk in women". Sleep 27 (3): 440–4. PMID 15164896. 
  20. Patel SR, Malhotra A, Gottlieb DJ, White DP, Hu FB (July 2006). "Correlates of long sleep duration". Sleep 29 (7): 881–9. PMID 16895254. cf. Irwin MR, Ziegler M (February 2005). "Sleep deprivation potentiates activation of cardiovascular and catecholamine responses in abstinent alcoholics". Hypertension 45 (2): 252–7. doi:10.1161/01.HYP.0000153517.44295.07. PMID 15642774. 
  21. Reference list is found on image page in Commons: [43]
  22. ""Researchers say lack of sleep doubles risk of death... but so can too much sleep"". http://www2.warwick.ac.uk/newsandevents/pressreleases/researchers_say_lack/. 
  23. Ferrie JE, Shipley MJ, Cappuccio FP, et al. (December 2007). "A prospective study of change in sleep duration: associations with mortality in the Whitehall II cohort". Sleep 30 (12): 1659–66. PMC 2276139. PMID 18246975. 
  24. PMID 16889107 (PubMed)
    Citation will be completed automatically in a few minutes. Jump the queue or expand by hand
  25. Mann, Joseph John; David J. Kupfer (1993) (Google books). Biology of Depressive Disorders: Subtypes of depression and comorbid disorders, Part 2. Springer. प॰ 49. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0306442965. http://books.google.com/?id=qbbTmje6oskC&printsec=frontcover. अभिगमन तिथि: 2009-07-24. 
  26. Siegel, Jerome M (1999). "Sleep". Encarta Encyclopedia. Microsoft. Archived from the original on 2001-12-18. http://web.archive.org/20011218041544/www.npi.ucla.edu/sleepresearch/encarta/Article.htm. अभिगमन तिथि: 2008-01-25. 
  27. "Backgrounder: Later School Start Times". National Sleep Foundation. Undated. http://www.sleepfoundation.org/article/hot-topics/backgrounder-later-school-start-times. अभिगमन तिथि: 2009-10-02. "Teens are among those least likely to get enough sleep; while they need on average 9 1/4 hours of sleep per night..." 
  28. Gottselig JM, Adam M, Rétey JV, Khatami R, Achermann P, Landolt HP (March 2006). "Random number generation during sleep deprivation: effects of caffeine on response maintenance and stereotypy". Journal of Sleep Research 15 (1): 31–40. doi:10.1111/j.1365-2869.2006.00497.x. PMID 16490000. 
  29. Iglowstein I, Jenni OG, Molinari L, Largo RH (February 2003). "Sleep duration from infancy to adolescence: reference values and generational trends". Pediatrics 111 (2): 302–7. doi:10.1542/peds.111.2.302. PMID 12563055. http://pediatrics.aappublications.org/cgi/pmidlookup?view=long&pmid=12563055. "Thus, the shift in the evening bedtime across cohorts accounted for the substantial decrease in sleep duration in younger children between the 1970s and the 1990s... [A] more liberal parental attitude toward evening bedtime in the past decades is most likely responsible for the bedtime shift and for the decline of sleep duration...". 
  30. लौरन नीर्गार्ड के द्वारा डोंट नीड मच स्लीप?रेयर जीन मे प्लेय रोल.संयुक्त प्रेस. 14 अगस्त 2009. असोशीऐटड प्रेस. 14 अगस्त 2009.
  31. Cirelli, Chiara; Giulio Tononi (August 26, 2008). "Is Sleep Essential?" (Essay). PLoS Biol (Public Library of Science) 6 (8): e216. doi:10.1371/journal.pbio.0060216. PMC 2525690. PMID 18752355. http://biology.plosjournals.org/perlserv/?request=get-document&doi=10.1371/journal.pbio.0060216&ct=1. अभिगमन तिथि: 2009-04-21. "... it would seem that searching for a core function of sleep, particularly at the cellular level, remains a worthwhile exercise". 
  32. Gumustekin, K.; Seven, B., Karabulut, N., Aktas, O., Gursan, N., Aslan, S., Keles, M., Varoglu, E., Dane S. (2004). "Effects of sleep deprivation, nicotine, and selenium on wound healing in rats" (Abstract). Int J Neurosci 2004;114(11): 1433-42. http://websciences.org/cftemplate/NAPS/archives/indiv.cfm?ID=20044648. 
  33. (2007). चूहों के निरापद अधिमिश्रण पर तीव्र और जीर्ण निद्रा की हानि का प्रभाव [इलेक्ट्रॉनिक संस्करण]. नियामक, समाकलनात्मक एंड तुलनात्मक फिजियोलॉजी , 293, R504-R509.
  34. Opp, Mark R (January 2009). "Sleeping to fuel the immune system: mammalian sleep and resistance to parasites" (Full text, Creative Commons Attribution License). BMC Evolutionary Biology (BioMed Central Ltd.) 9 (8): 1471–2148. doi:10.1186/1471-2148-9-8. PMC 2633283. PMID 19134176. http://www.biomedcentral.com/1471-2148/9/8. अभिगमन तिथि: 2009-06-28. 
  35. जेन्नी,ओ.जी.,मोलिनारी, एल., कैफ्लिश,जे.ए एंड लार्गो, आर.एच.(2007). 1 उम्र से 10 साल की निंद्रा अवधि: विकास के साथ परिवर्तनशीलता और स्थिरता का तुलना [इलेक्ट्रॉनिक संस्करण]. ' बाल चिकित्सा, 120, e769- e776.
  36. वान कोटर, इ., लेपरोल्ट, आर., एंड प्लेट, एल.(2000). धीमी गति से नींद और आरइएम् (REM) नींद और वृद्धि हार्मोन और स्वस्थ पुरुषों में कोर्टिसोल स्तर के साथ संबंधों में आयु से संबंधित बदलता है.[इलेक्ट्रॉनिक संस्करण] जर्नल ऑफ द अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन, 284 , 861-868.
  37. Daan S, Barnes BM, Strijkstra AM (1991). "Warming up for sleep? Ground squirrels sleep during arousals from hibernation". Neurosci. Lett. 128 (2): 581. doi:10.1016/0304-3940(91)90276-Y. PMID 1945046. http://linkinghub.elsevier.com/retrieve/pii/0304-3940(91)90276-Y. 
  38. Guidelines for the Care and Use of Mammals in Neuroscience and Behavioral Research. Institute for Laboratory Animal Research (ILAR), National Research Council. The National Academies Press. 2003. प॰ 121. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-309-08903-6. http://books.nap.edu/openbook.php?record_id=10732&page=121. "Sleep deprivation of over 7 days with the disk-over-water system results in the development of ulcerative skin lesions, hyperphagia, loss of body mass, hypothermia, and eventually septicemia and death in rats (Everson, 1995; Rechtschaffen et al., 1983)." 
  39. Amanda Schaffer (May 27, 2007). "Why do we Sleep?". Slate.com. http://www.slate.com/id/2162475/entry/2162477/. अभिगमन तिथि: 2008-08-23. 
  40. (2007). मौखिक काम कर स्मृति के घटक प्रक्रियाओं पर 42 घंटे की निंद्रा अभाव से हानि [इलेक्ट्रॉनिक संस्करण]. न्यूरोसैकोलोगी , 21, 787-795.
  41. बौर्न, जे, रास्च, जे, और गैस, एस.(2006). याद रखने के लिए निंद्रा. [इलेक्ट्रॉनिक संस्करण] न्यूरोसाइंटिस्ट, 12 , 410.
  42. दत्ता, एस.(2000). अवोइदेंस टास्क ट्रेनिंग पोटेनशिएट फेज़िक पोंटीन-वेव डेंसिटी इन द रट: ए मेकनिज़म फॉर स्लीप-डिपेंडेंट प्लैस्टिसिटी [इलेक्ट्रॉनिक वर्ज़न] द जर्नल ऑफ न्यूरोसाइंस, 20, 8607-8613.
  43. कुद्रिमोती, एच.एस, बार्न्स, सी.ए, और मैकनौटन,बी.एल (1999). रीएक्टिवेशन ऑफ़ हिप्पोकैम्पल सेल असेम्बलिज़:एफ्फेक्ट्स ऑफ़ बिहेव्यरल स्टेट, इक्स्पीरीअन्स,एंड ईईजी दैनामिक्स [इलेक्ट्रॉनिक संस्करण]. द जर्नल ऑफ न्यूरोसाइंस , 19, 4090-4101
  44. वाकर, एम्पी "अनुभूति और जज्बात में नींद की भूमिका. " विज्ञान के न्यूयॉर्क अकादमी के इतिहास. 1156. (2009): 174.
  45. "प्रकृति, 05/10
  46. चार्ल्स क्यू द्वारानई थियुरी प्रश्न हमें नींद क्यूँ आती है. Choi, LiveScience.com अगस्त, 25,2009.
  47. होब्सन, जे.ए.,और मैक कार्ली,आर.( 1977). एक स्वप्न जनरेटर के रूप में मस्तिष्क: स्वप्न की प्रक्रिया के एक सक्रियकरण-संश्लेषण परिकल्पना. मनश्चिकित्सा के अमेरिकी जर्नल, 134, 1335-1348.
  48. Lee-chiong, Teofilo (24 April 2008). Sleep Medicine: Essentials and Review. Oxford University Press, USA. प॰ 52. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-19-530659-7. http://books.google.com/?id=s1F_DEbRNMcC&pg=PT52. 
  49. Sleepdex.org
  50. Alcoholism.about.com
  51. Sleepdex.org
  52. Abarca C, Albrecht U, Spanagel R (June 2002). "Cocaine sensitization and reward are under the influence of circadian genes and rhythm". Proceedings of the National Academy of Sciences of the United States of America 99 (13): 9026–30. doi:10.1073/pnas.142039099. PMC 124417. PMID 12084940. 
  53. प्राथमिक हैपर्सोम्निया: नैदानिक विशेषताएं
  54. Little, Nan (2007-01-01). "What Causes Sleep Difficulty?". Insight Journal. http://www.anxiety-and-depression-solutions.com/wellness_concerns/sleep/sleep_problem_causes.php. अभिगमन तिथि: 2008-01-25. 
  55. एलीसन ऑब्रे द्वारा बढती उम्र किस तरह सोने के तरीके में परिवर्तन लाती है. सुबह संस्करण, 3 अगस्त 2009
  56. BetterSleep.org
  57. FootSleepguard.com
  58. SleepAidFactory.com
  59. Carol M. Worthman and Melissa K. Melby. "6. Toward a comparative developmental ecology of human sleep" (PDF). A comparative developmental ecology. Emory University. http://webdrive.service.emory.edu/groups/research/lchb/PUBLICATIONS%20Worthman/PUBLICATIONS%20CMW%202002/Ecology%20of%20Human%20sleep.pdf. 
  60. अज्ञात लैंडस्केप निंद्रा का, विज्ञान समाचार ऑनलाइन (9/25/99)
  61. Mukhametova LM; Supina AY, Polyakovaa IG (1977-10-14). "Interhemispheric asymmetry of the electroencephalographic sleep patterns in dolphins". Brain Research 134 (3): 581–584. doi:10.1016/0006-8993(77)90835-6. PMID 902119. 
  62. Faraco, Juliette (2000-08-01). "Re: Are there animals who don't sleep or that sleep very little?". MadSci Network: Zoology. http://www.madsci.org/posts/archives/2000-08/965504574.Zo.r.html. अभिगमन तिथि: 2008-01-25. 
  63. LiveScience.com, अनिद्रा उन्माद: नवजात स्तनपायी एक महीने के लिए सोते नहीं.

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

Wiktionary-logo-en.png
निद्रा को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।
  • HealthySleep.med.harvard.edu, फ्रॉम द डिविज़न ऑफ़ स्लीप मेडिसिन एट हार्वर्ड मेडिकल स्कुल एंड डब्ल्यूजीबीएच (WBGH) एडुकेशनल फौन्देशन
  • PLOSjournals.org, क्या नींद आवश्यक है? चीअरा सिरेल्ली और जिओलियो टोनोनी के द्वारा, फ्रॉम द पब्लिक लाइब्रेरी ऑफ़ साइंस, बायोलॉजी
  • National NIH.gov, सेंटर ओन स्लीप डिसओर्देर्स रिसर्च