नास्तिक दर्शन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

नास्तिक दर्शन भारतीय दर्शन परम्परा में उन दर्शनों को कहा जाता है जो वेदों को नहीं मानते थे।

भारत में भी कुछ ऐसे व्यक्तियों ने जन्म लिया जो वैदिक परम्परा के बन्धन को नहीं मानते थे वे नास्तिक कहलाये तथा दूसरे जो वेद को प्रमाण मानकर उसी के आधार पर अपने विचार आगे बढ़ाते थे वे आस्तिक कहे गये।

नास्तिक कहे जाने वाले विचारकों की तीन धारायें मानी गयी हैं - चार्वाक, जैन तथा बौद्ध

चार्वाक दर्शन[संपादित करें]

जैन दर्शन[संपादित करें]

बौद्ध दर्शन[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]