तीसरी कसम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
तीसरी कसम
Teesrikasam.jpg
फ़िल्म का पोस्टर
निर्देशक बासु भट्टाचार्य
निर्माता शैलेन्द्र
लेखक फणीश्वर नाथ रेणु (संवाद)
पटकथा नबेन्दु घोष
आधारित तीसरी कसम उर्फ मारे गये गुलफाम 
द्वारा: फणीश्वर नाथ "रेणु"
अभिनेता राज कपूर,
वहीदा रहमान,
दुलारी,
इफ़्तेख़ार,
असित सेन,
सी एस दुबे,
कैस्टो मुखर्जी
संगीतकार शंकर-जयकिशन
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1966
समय सीमा 159 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी

तीसरी कसम 1966 में बनी हिन्दी भाषा की नाट्य फिल्म है। फ़िल्म का निर्देशन बासु भट्टाचार्य ने और निर्माण प्रसिद्ध गीतकार शैलेन्द्र ने किया था। यह हिन्दी लेखक फणीश्वर नाथ "रेणु" की प्रसिद्ध कहानी मारे गए ग़ुलफ़ाम पर आधारित है। इस फिल्म के मुख्य कलाकारों में राज कपूर और वहीदा रहमान शामिल हैं। बासु भट्टाचार्य द्वारा निर्देशित तीसरी कसम एक फिल्म गैर-परंपरागत है जो भारत की देहाती दुनिया और वहां के लोगों की सादगी को दिखाती है। यह पूरी फिल्म मध्यप्रदेश के बीना एवं ललितपुर के पास खिमलासा में फिल्मांकित की गई। इस फ़िल्म की असफलता के बाद शैलेन्द्र काफी निराश हो गए थे और उनका अगले ही साल निधन हो गया था।

यह हिन्दी के महान कथाकार फणीश्वर नाथ रेणु की कहानी 'मारे गये गुलफाम' पर आधारित है। इस फिल्म का फिल्मांकन सुब्रत मित्र ने किया है। पटकथा नबेन्दु घोष की है, जबकि संवाद स्वयं फणीश्वर नाथ "रेणु" ने लिखे हैं। फिल्म के गीत शैलेन्द्र और हसरत जयपुरी ने लिखें, जबकि फिल्म का संगीत शंकर-जयकिशन की जोड़ी ने दिया है। यह फ़िल्म उस समय व्यावसायिक रूप से सफ़ल नहीं रही थी, पर इसे आज अदाकारों के श्रेष्ठतम अभिनय तथा प्रवीण निर्देशन के लिए जाना जाता है। इस फ़िल्म के बॉक्स ऑफ़िस पर पिटने के कारण निर्माता गीतकार शैलेन्द्र का निधन हो गया था। इसको तत्काल बॉक्स ऑफ़िस पर सफलता नहीं मिली थी पर यह हिन्दी के श्रेष्ठतम फ़िल्मों में गिनी जाती है।

संक्षेप[संपादित करें]

हीरामन एक गाड़ीवान है। फ़िल्म की शुरुआत एक ऐसे दृश्य के साथ होती है जिसमें वो अपना बैलगाड़ी को हाँक रहा है और बहुत खुश है। उसकी गाड़ी में सर्कस कंपनी में काम करने वाली हीराबाई बैठी है। हीरामन कई कहानियां सुनाते और लीक से अलग ले जाकर हीराबाई को कई लोकगीत सुनाते हुए सर्कस के आयोजन स्थल तक हीराबाई को पहुँचा देता है। इस बीच उसे अपने पुराने दिन याद आते हैं और लोककथाओं और लोकगीत से भरा यह अंश फिल्म के आधे से अधिक भाग में है। इस फ़िल्म का संगीत शंकर जयकिशन ने दिया था। हीरामन अपने पुराने दिनों को याद करता है जिसमें एक बार नेपाल की सीमा के पार तस्करी करने के कारण उसे अपने बैलों को छुड़ा कर भगाना पड़ता है। इसके बाद उसने कसम खाई कि अब से "चोरबजारी" का सामान कभी अपनी गाड़ी पर नहीं लादेगा। उसके बाद एक बार बांस की लदनी से परेशान होकर उसने प्रण लिया कि चाहे कुछ भी हो जाए वो बांस की लदनी अपनी गाड़ी पर नहीं लादेगा।

अन्त में हीराबाई के चले जाने और उसके मन में हीराबाई के लिए उपजी भावना के प्रति हीराबाई के बेमतलब रहकर विदा लेने के बाद उदास मन से वो अपने बैलों को झिड़की देते हुए तीसरी क़सम खाता है कि अपनी गाड़ी में वो कभी किसी नाचने वाली को नहीं ले जाएगा। इसके साथ ही फ़िल्म खत्म हो जाती है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

दल[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

गीत गायक गीतकार समय टिप्पणी
"सजन रे झूठ मत बोलो" मुकेश शैलेन्द्र 3:43 लोकप्रिय गीत
"सजनवा बैरी हो गए हमार" मुकेश शैलेन्द्र 3:51 लोकप्रिय गीत
"दुनिया बनाने वाले" मुकेश शैलेन्द्र 5:03 लोकप्रिय गीत
"चलत मुसाफिर" मन्ना डे शैलेन्द्र 3:04 लोकप्रिय गीत
"पान खाए सैयां हमारो" आशा भोसले शैलेन्द्र 4:08 लोकप्रिय गीत
"हाय ग़ज़ब कहीं तारा टूटा" आशा भोसले शैलेन्द्र 4:13
"मारे गए गुलफाम" लता मंगेशकर हसरत जयपुरी 4:00
"आ आ आ भी जा" लता मंगेशकर शैलेन्द्र 5:03

रोचक तथ्य[संपादित करें]

  • हिंदी 'स्पर्ष 2' पाठ्यपुस्तक में यह फिल्म 'तीसरी कसम का शिल्पकार शैलेन्द्र' नामक पाठ है।

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

  • 1966 राष्ट्रपति स्वर्ण पदक - सर्वश्रेष्ठ फिल्म
  • 1967 राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार - सर्वश्रेष्ठ फिल्म
  • 1967 मास्को अन्तर्राष्ट्रीय फिल्मोत्सव: ग्रां प्री - नामांकन

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]