टैंकर (जहाज)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
वाणिज्यिक कच्चे तेल सुपरटैंकर अबकैक.

एक टैंकर (या टैंक शिप या टैंकशिप) एक जहाज होता है जो विशाल मात्रा में तरल पदार्थों के परिवहन करने की दृष्टि से बनया जाता है। टैंक शिप के प्रमुख प्रकारों के अंतर्गत तेल के टैंकर, रसायन टैंकर और द्रवित प्राकृतिक गैस संवाहक आते हैं।

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

टैंकर अपनी क्षमता के आधार पर कई सौ टनों से लेकर, जिनमें छोटे बंदरगाहों और तटीय बस्तियों के लिए आपूर्ति करने वाले टैंकर शामिल होते हैं, कई हज़ार टन के, जो अधिक-दूरी के वहन शुल्क के लिए होते हैं, हो सकते हैं। सागर के और समुद्री टैकरों के अलावा कुछ विशेष अंतर्देशीय जलमार्ग टैंकर भी होते हैं जो कुछ हज़ार टनों की औसत माल वहन क्षमता के साथ नदियों और नहरों द्वारा परिवहन का कार्य करते हैं। टैंकरों द्वारा उत्पादों की विस्तृत श्रंखला का परिवहन होता है, जिनमें निम्न शामिल हैं:

टैंकर अपेक्षाकृत नवीन संकल्पना हैं, जिनका अस्तित्व 19वीं शताब्दी के बाद के वर्षों से है। इसके पहले, तकनीकी विकास ऐसा नहीं था की भारी मात्र में तरल पदार्थों का परिवहन किया जा सके. उस समय बाज़ार भी भारी मात्र में माल को बेचने या उसके परिवहन की और उद्यत नहीं था, इसलिए अधिकांश जहाज विभिन्न दिशाओं में विभिन्न उत्पादों की विस्तृत श्रंखला का परिवहन करते थे और निश्चित मार्गों के बाहर भी व्यापार करते थे। आमतौर पर तरल पदार्थ पीपों में भरे जाते थे-इसलिए "टनभार" शब्द, जो टन (tun) इकाई में वाइन (पीपे) की मात्रा के शब्दों में वहनीय वस्तु के आयतन को व्यक्त करता है। यहां तक ​​कि पीने का पानी, जोकि चालक दल के अस्तित्व के लिए महत्वपूर्ण था वह भी पीपों में भर कर रखा जाता था। पहले के जहाज़ों में भारी मात्र में तरल पदार्थों को ले जाने में कई प्रकार की कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था:

  • सामान: इमारती लकड़ी से बने जहाज पानी, तेल या हवा का पर्याप्त प्रतिरोध नहीं कर पाते थे जिससे कि वे तरल पदार्थ को खराब होने या रिसने से रोक नहीं पाते थे। जहाज़ों के लिए लोहे और स्टील के बने पेंदों के विकास द्वारा यह समस्या समाप्त हो गयी।
  • माल चढ़ाना और उतारना: बड़ी मात्रा में तरल पदार्थों को चढाने के लिए उन्हें पम्प करने की आवश्यकता होती है - अच्छे किस्म के पम्प और पाइप प्रणाली का विकास टैंकर के विकास के लिए अत्यंत आवश्यक था। प्रारंभिक पम्पिंग प्रणालियों में भाप के इंजन मुख्य स्थानांतरण यन्त्र के रूप में विकसित किये गए। अब किनारों पर विशेष माल संचालन सुविधाओं की भी आवश्यकता थी - और साथ ही इतनी अधिक मात्रा में वस्तु की आवश्यकता रखने वाले बाज़ार की भी आवश्यकता थी। साधारण क्रेनों की सहायता से पीपों को उतारा जा सकता था और पीपों की अजीब आकृति का अर्थ होता था की उनमें तरल पदार्थ की मात्रा अपेक्षाकृत कम है - जिससे कि बाज़ार और भी स्थायी रहता था।
  • मुक्त पृष्ठ प्रभाव: यह किसी जहाज में तरल पदार्थ के बड़े पृष्ठ क्षेत्रफल के कारण जहाज के स्थायित्व पर पड़ने वाले प्रभाव का वर्णन करता है। जहाज की संरचना. पीपों में भरे तरल पदार्थ से कोई समस्या नहीं होती थी, लेकिन जहाज की धरन की दिशा में रखा टैंक उसके स्थायित्व में समस्या पैदा कर सकता है। टैंको के अत्यधिक उप-खंडीकरण द्वारा यह समस्या समाप्त हो गयी।

अंत में, टैंकर की शुरुआत तेल उद्योग में हुई, क्योंकि तेल कम्पनियां अपने परिशोधन स्थल के उत्पाद को अपने ग्राहकों तक भेजने के लिए सस्ते से सस्ता माध्यम तलाश कर रहीं थीं। इस प्रकार तेल टैंकर का जन्म हुआ। आजकल अधिकांश तरल पदार्थों का अधिक मात्र में परिवहन सस्ता है और प्रत्येक उत्पाद के लिए समर्पित टर्मिनल उपलब्ध हैं। तट पर स्थित विशाल भण्डारण क्षमता वाले टैंक तब तक उत्पाद के बह्न्दारण हेतु इस्तेमाल किये जाते हैं जब तक कि इसे छोटे ग्राहकों तक पहुंचाने हेतु कम आयतन के हिस्सों में विभाजित नहीं किया जा सके.

यहां तक की डबलिन स्थित गिनेज़ ब्र्यूअरी कम्पनी के पास प्रसिद्ध स्टाउट (एक प्रकार की तेज़ बीयर) को ब्रिटेन में निर्यात करने के लिए जहाज़ों का एक बेड़ा है।

अलग अलग उत्पादों को अलग-अलग प्रकार के संचालन और परिवहन की आवश्यकता होती है। इसलिए विशेष प्रकार के टैंकरों का निर्माण किया गया, जैसे "रसायन टैंकर" और "तेल टैंकर". "एलएनजी वाहक" के नाम से जाने जाने वाले टैंकरों का निर्माण द्रवित प्राकृतिक गैस के परिवहन के लिए किया गया है।

तेल टैंकरों में, सुपरटैंकरों को अफ्रीका के प्रक्षिप्त भागों और मध्य पूर्वी देशों में तेल परिवहन हेतु डिजाइन किया गया है। सुपर टैंकर सीवाइज़ जायंट, जिसे 2010 में हटा दिया गया था, वह 458 मीटर (1504 फीट) लंबा और 69 मीटर (226 फीट) चौड़ा था।

सुपरटैंकर बड़ी मात्रा में तेल परिवहन हेतु वरीयता दिए जाने वाले टीम माध्यमों में से एक हैं, अन्य दो माध्यम पाइपलाइन परिवहन और रेल हैं। बेहतर ढंग से नियंत्रित होने के बावजूद भी, टैंकर तेल के फ़ैल जाने से होने वाली पर्यावरणीय आपदाओं के लिए दोषी रहे हैं। तटीय दुर्घटनाओं के लिए देखें, एक्सौन वेल्डेज़, ब्रेयर, प्रेस्टीज ऑयल स्पिल, टोरी कैन्यन और एरिका .

टैंकर क्षमता[संपादित करें]

तरल ईंधन के लिए उपयोग किये जाने वाले टैंकरों को उनकी क्षमता के अनुसार वर्गीकृत किया जाता है।

1954 शेल ऑयल ने औसत माल भाड़ा दर मूल्यांकन (एएफआरए) प्रणाली विकसित की थी, जो विभिन्न आकर के टैंकरों का वर्गीकरण करता है। इसे एक स्वतन्त्र उपकरण बनाने के लिए, शेल ने लन्दन टैंकर ब्रोकर्स पैनल (LTBP) से मशविरा लिया। पहले, उन्होंने समूहों को साधारण प्रयोजन के आधार पर 25,000  tons deadweight (DWT); मीडियम रेंज, 25, 000 से 45,000 DWT तक जहाज़ों के लिए और लार्ज रेंज, 45,000 DWT से बड़े जहाज़ों के लिए, वगीकृत किया। 1970 के दशक दौरान जहाज़ों का आकार बड़ा हो गया और इनकी सूची विस्तृत हो गयी, जहां टनों का अर्थ लाँग टन होता है:[1]

  • 10,000-24,999 DWT: सामान्य प्रयोजन के टैंकर
  • 25,000- 44,999 DWT: मीडियम रेंज टैंकर
  • 45000 - 79,999 DWT: लार्ज रेंज 1 (LR1)
  • 80000 - 159,999 DWT: लार्ज रेंज 2 (LR2)
  • 160000 - 319,999 DWT: वेरी लार्ज क्रूड कैरियर (वीएलसीसी)
  • 320000 - 549,999 DWT: अल्ट्रा लार्ज क्रूड कैरियर (ULCC)
पेट्रोलियम टैंकर
वर्ग लम्बाई धरन प्रारूप आदर्श निम्नतम (DWT) आदर्श अधिकतम (DWT)
सीवेमैक्स 226 मीटर 24 मीटर 7.92 मीटर 10,000 DWT 60,000 DWT
पनामैक्स 228.6 मीटर 32.3 मीटर 12.6 मीटर 60,000 DWT 80,000 DWT
एफ्रामैक्स 253.0 मीटर 44.2 मीटर 11.6 मीटर 80,000 DWT 120,000 DWT
स्यूज़मैक्स 16 मीटर 120,000 DWT 200,000 DWT
वीएलसीसी (VLCC) (मलक्कामैक्स) 470 मीटर 60 मीटर 20 मीटर 200,000 DWT 315,000 DWT
यूएलसीसी (ULCC) 320,000 DWT 550,000 DWT

आकार श्रेणी 279,000 DWT से 320,000 DWT में लगभग 380 जहाज है, जो बड़े वीएलसीसी (VLCCs) श्रेणी के अंतर्गत अब तक की सर्वाधिक लोकप्रिय आकार श्रेणी है। केवल सात जहाजों इस से भी बड़ा है और लगभग 90 के बीच 220,000 DWT और 279,000 DWT .[2]मात्र सात जहाज ऐसे हैं जी इनसे भी बड़े हैं और लगभग 90 जहाज 220,000 DWT और 279,000 DWT के बीच हैं।[3]

Distribution of supertanker sizes.png

संपूर्ण विश्व के जहाजी बेड़े[संपादित करें]

फ्लैग स्टेट्स

2005 तक, युनाइटेड स्टेट्स मेरीटाइम एडमिनिस्ट्रेशन के आंकड़ों के अनुसार विश्व में 4,024 टैंकर 10,000 DWT या इससे अधिक क्षमता के हैं।[4] इनमें से 2,582 दोहरी पेंदी वाले जहाज हैं। 592 पंजीकृत जहाज़ों के साथ पनामा टैंकरों के फ्लैग स्टेट में अग्रणी स्थान पर है। पांच अन्य फ्लैग स्टेट्स के पास भी दो सौ से अधिक पंजीकृत टैंकर हैं: लाइबेरिया (520), द मार्शल आइलैंड्स (323), ग्रीस (233), सिंगापुर (274) और द बहामास (215). ये फ्लैग स्टेट्स, टन इकाई में खाली टैंकर के भार के अनुसार, बेड़ों के आकार के आधार पर भी शीर्ष छः में आते हैं।[4]

सर्वाधिक बड़े जहाजी बेड़े

ग्रीस, जापान और संयुक्त राज्य अमेरिका टैंकरों के शीर्ष तीन स्वामियों में आते हैं, इनके पास क्रमशः 733, 394 और 311 जहाज हैं। ये तीन राष्ट्र 1,438 या विश्व के कुल जहाज़ों में से 36 प्रतिशत के लिए उत्तरदायी हैं।[4]

निर्माणकर्ता

एशियाई कंपनियां टैंकरों के निर्माण में प्रभुत्व रखती हैं। विश्व के 4,024 टैंकरों में से 2,822 या 70 प्रतिशत से भी अधिक दक्षिण कोरिया, जापान या चीन में बनाये गए थे।[4]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • हाइड्रोजन टैंकर
  • टैंकरों की सूची

टिप्पणियां[संपादित करें]

  1. Evangelista, Joe, Ed. (2002). "Scaling the Tanker Market" (PDF). Surveyor. American Bureau of Shipping (4): 5–11. मूल से 30 सितंबर 2007 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 2008-02-27. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  2. Auke Visser (22 फ़रवरी 2007). "Tanker list, status 01-01-2007". International Super Tankers. मूल से 20 सितंबर 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2008-02-27.
  3. Auke Visser (22 फ़रवरी 2007). "Tanker list, status 01-01-2007". International Super Tankers. मूल से 20 सितंबर 2008 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2008-02-27.
  4. Office of Data and Economic Analysis (July 2006). "World Merchant Fleet 2001–2005" (.PDF). United States Maritime Administration. अभिगमन तिथि: Archived 2007-02-21 at the Wayback Machine

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

साँचा:ModernMerchantShipTypes साँचा:Ship measurements