ग्लुओन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग्लुओन कण भौतिकी में एक मूलभूत कण है। इसका आवेश शून्य होता है अतः यह विद्युत चुम्बकीय अन्योन्य क्रियाओं में भाग नहीं लेता है। इसका द्रव्यमान शून्य होता है अतः यह गुरुत्वीय अन्योन्य क्रियाओं में भी भाग नहीं लेता। इस कण का प्रचक्रण 1 होता है। यह कण एक गेज बोसॉन है।[1] यह कण प्रबल अन्योन्य क्रिया का बल वाहक कण है।[2]

ग्लुओन कलर आवेशित (colour charge) होता है इस कारण यह आठ भिन आस्वादों (flavour) में पाया जाता है। जिन्हें गणितीय रूप में निम्न समीकरणों से प्राप्त किया जाता है:[3]

(r\bar{b}+b\bar{r})/\sqrt{2}     -i(r\bar{b}-b\bar{r})/\sqrt{2}
(r\bar{g}+g\bar{r})/\sqrt{2} -i(r\bar{g}-g\bar{r})/\sqrt{2}
(b\bar{g}+g\bar{b})/\sqrt{2} -i(b\bar{g}-g\bar{b})/\sqrt{2}
(r\bar{r}-b\bar{b})/\sqrt{2} (r\bar{r}+b\bar{b}-2g\bar{g})/\sqrt{6}.

केवल निम्न सम्भावित अवस्था के ग्लुऑन प्राप्त नहीं किये जा सकते:[3]

(r\bar{r}+b\bar{b}+g\bar{g})/\sqrt{3}.

चूँकि कलर (वर्ण) आवेश सहित एक कण मुक्त अवस्था में प्राप्त नहीं किया जा सकता अतः इसकी पहुँच केवल फर्मी कोटि (10-15 मीटर) की होती है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Particle Data Group (PDG) book
  2. मूलभूत कण
  3. Introduction to Elementary Particles. John Wiley & Sons. 1987. pp. 280–281. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-471-60386-4.