ओम थानवी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ओम थानवी
गाल पर हाथ रखे कैमरे से कुछ हटकर किनारे की ओर देखते एक व्यक्ति की क्लोज अप तस्वीर
एक सम्मेलन के दौरान थानवी, 2012
जन्मफलोदी, जोधपुर जिला, राजस्थान, भारत
व्यवसायपत्रकार, सम्पादक
भाषाहिंदी
निवासदिल्ली राजधानी क्षेत्र
राष्ट्रीयताभारतीय
शिक्षास्नातकोत्तर (व्यवसाय प्रशासन)
विधासंस्मरण, समालोचना
विषयहड़प्पा संस्कृति
उल्लेखनीय कार्यमुअनजोदड़ो
अपने अपने अज्ञेय
उल्लेखनीय सम्मानबिहारी पुरस्कार, के.के. बिड़ला फाउंडेशन
शमशेर सम्मान
सक्रिय वर्ष1978-अबतक

ओम थानवी हिंदी भाषा के लेखक, वरिष्ठ पत्रकार, संपादक तथा आलोचक हैं।[1] थानवी वर्तमान में हरिदेव जोशी पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय, जयपुर के कुलपति हैं[1][2] इससे पूर्व हिंदी के प्रमुख दैनिक अख़बार जनसत्ता के संपादक रह चुके हैं। इनकी चर्चित कृति संस्मरण विधा में लिखी गयी किताब "मुअनजोदड़ो" है।

जीवन[संपादित करें]

ओम थानवी का जन्म 1 अगस्त 1957 को राजस्थान के जोधपुर जिले के फलोदी नामक क़स्बे में हुआ। इनके पिता एक शिक्षक थे।

पत्रकारिता एवं संपादन[संपादित करें]

थानवी नेअपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद, 1978 में राजस्थान के जयपुर से निकलने वाले पत्रिका समूह के साप्ताहिक पत्र 'इतवारी' से अपने पत्रकार जीवन की शुरूआत की। इसके बाद वे इस 'इतवारी' नामक पत्र के संपादक भी बने। साल 1980 से 1989 तक (लगभग नौ वर्षों तक) इन्होने राजस्थान पत्रिका में कार्य किया। इसके बाद ये एक्सप्रेस समूह के हिंदी दैनिक जनसत्ता से जुड़े और बतौर पत्रकार, स्थानीय संपादक (चंडीगढ़ एडिशन), और संपादक की भूमिकाओं का निर्वाह करते हुए अगले छब्बीस वर्षों तक (साल 1989 से 2015 तक) इस अखबार से जुड़े रहे।

जनसत्ता से अलग होने के बाद थानवी ने देश के प्रसिद्ध विश्वविद्यालय जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में विज़िटिंग प्रोफ़ेसर के रूप में सेंटर फ़ॉर मीडिया स्टडीज़ में अध्यापन का कार्य भी किया।

साहित्य, कला, सिनेमा, पर्यावरण, पुरातत्त्व, स्थापत्य और यात्राओं में थानवी की गहन रुचि है और ये मेक्सिको, मिस्र, कनाडा, संयुक्त राज्य अमेरिका, इंगलैंड, जापान, फ्रांस, जर्मनी, इटली, स्पेन, स्विटजरलैंड, ऑस्ट्रिया, नीदरलैंड, फिनलैंड, स्वीडन, पोलैंड, चेक गणराज्य, बेल्जियम, रोमानिया, थाईलैंड, आर्मेनिया, बेलारूस, चीन, ब्राजील, मलेशिया, ट्यूनिशिया, मोरक्को, पेरू, केन्या, इथियोपिया, सिंगापुर, गयाना, त्रिनिदाद एवं टोबेगो, सूरीनाम, श्रीलंका, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बांग्लादेश, तुर्की, ग्रीस और क्यूबा आदि अनेक देशों की यात्राएं कर चुके हैं।[2]

कृतित्व[संपादित करें]

  • मुअनजोदड़ो - हड़प्पा सभ्यता के ऊपर विमर्शपरक किताब।
  • अपने-अपने अज्ञेय (सं.) - संस्मरण; अज्ञेय जन्मशती पर दो खंडों में स्मृतिग्रंथ।

सम्मान[संपादित करें]

पत्रकारिता के लिए थानवी को भारत के राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित किया जा चुका है। इनकी प्रसिद्ध कृति 'मुअनजोदड़ो' के लिए इन्हें शमशेर सम्मान, सार्क लिटरेरी एवार्ड, तथा बिहारी पुरस्कार प्राप्त हुआ।[3][4][5]

अन्य सम्मान:

  • हिंदी अकादमी अवार्ड
  • हल्दीघाटी एवार्ड

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "लेखक ओम थानवी का व्यक्तित्व OM THANVI". Hindisamay.com. अभिगमन तिथि 2018-09-03.
  2. "वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी". Samachar4media.com. अभिगमन तिथि 2018-09-03.
  3. Press Trust of India. "Bihari Puraskar for writer-journalist Om Thanvi | Business Standard News". Business-standard.com. अभिगमन तिथि 2018-09-03.
  4. "'मुअनजोदड़ो' के लिए ओम थानवी को बिहारी पुरस्कार - bihari puraskar for writer journalist om thanvi - AajTak". Aajtak.intoday.in. 2015-04-14. अभिगमन तिथि 2018-09-03.
  5. vanson (2015-04-18). "Bihari Puraskar for writer journalist Om Thanvi in Hindi". Jagranjosh.com. अभिगमन तिथि 2018-09-03.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]