इंदु बंगा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

इंदु बंगा एक भारतीय इतिहासकार है जो पंजाब के इतिहास में माहिर हैं। वह पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़ के इतिहास विभाग में काम करती है।[1][2][3]

किताबें[संपादित करें]

  • अगरियन सिस्टम ऑफ द सिख्स: लेट ऐटीनथ एंड अर्ली नाइनटीनथ सेंचुरी (1978)[4]
  • द सिटी इन इंडियन हिस्ट्री: अर्बन डेमोग्राफी, सोसाइटी, एंड पॉलिटिक्स (1991)[5]
  • पोर्ट्स एंड देयर हिन्टरलैंड्स इन इंडिया, 1700-1950 (1992)[6]
  • पंजाब इन प्रोसपेरिटी एंड वायलेंस: एडमिनीस्ट्रेशन, पॉलिटिक्स, एंड सोशल चेंज, 1947-1997 (1998)[7]
  • हिस्ट्री एंड आइडियोलॉजी: द खालसा ओवर 300 इयर्स (1999)[8]
  • लाला लाजपत राय इन रेट्रोस्पेक्ट: पोलिटिकल, इकनोमिक, सोशल एंड कल्चरल कांसर्न्स(2000)[9]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. In service of history, Geetanjali Gayatri, Sunday, May 16, 2004, Chandigarh, India Archived 6 जुलाई 2007 at the वेबैक मशीन. Error in webarchive template: Check |url= value. Empty.
  2. Bajinder Pal Singh (4 April 1999). "Infighting harming only Sikhs: Experts". The Indian Express. मूल से October 1, 2000 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 December 2010. |work= और |newspaper= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद)
  3. Chaudhry, Amrita (11 May 2007). "Uprising row: It's a non-issue for historians". The Indian Express. अभिगमन तिथि 8 December 2010. |work= और |newspaper= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद)[मृत कड़ियाँ]
  4. "Agrarian System of the Sikhs at Google Books". मूल से 22 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 अप्रैल 2017.
  5. "The City in Indian History at Google Books". मूल से 22 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 अप्रैल 2017.
  6. "Ports and their hinterlands in India at Google Books". मूल से 22 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 अप्रैल 2017.
  7. "Punjab in prosperity and violence at Google Books". मूल से 22 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 अप्रैल 2017.
  8. "History and Ideology at Google Books". मूल से 22 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 अप्रैल 2017.
  9. "Lala Lajpat Rai in Retrospect at Google Books". मूल से 22 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 11 अप्रैल 2017.