अबू हुरैरा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
अबू हुरैरा
أبو هريرة
जन्म 600AD
मौत 678 AD
समाधि अल-बाक़ी
पेशा सहाबा
उल्लेखनीय कार्य {{{notable_works}}}

अब्द अल-रहमान इब्न सखर अलदाउदी (603–681), जिन को अबू हुरैरा के नाम से जाना जाता है, मुहम्मद के सहबा (साथियों) में से एक थे, और सुन्नी इस्लाम के अनुसार, हदीस का सबसे प्रसिद्ध वर्णनकर्ता भी थे। वह अपने कुनाह अबू हुरैरा "एक बिल्ली के बच्चे के पिता" के नाम से जाने जाते थे, बिल्लियों के प्रति उनके लगाव के संदर्भ में, और वह अश्ब अल-सुफा का सदस्य थे। यह स्पष्ट नहीं है कि उनका वास्तविक नाम क्या है, सबसे लोकप्रिय राय यह थी कि इनका नाम यह अब्द अल-रहमान इब्न सखर अलदाउदी है। अबू हुरैरा ने मुहम्मद[1] के साथ में लगभग 2 साल 3 महीने बिताए और उनके साथ अभियान और यात्राएं कीं।[2] उन्हें कम से कम 5374 हदीस के वर्णन करने का श्रेय दिया जाता है।[3]

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

हज़रत अबू हुरैरा , बानी दौस की अरब जनजाति से थे और बानी दौस के क्षेत्र में पैदा हुयें थें जो उस समय असीर में था। उनके पिता की मृत्यु हो गई थी, केवल उनकी मां थीं और कोई नहीं था।

संदर्भ[संपादित करें]

  1. Sahih Bukhari Volume 001, Book 003, Hadith Number 118
  2. El-Esabah Fi Tamyyz El Sahabah. P.7 p. 436.
  3. Shorter Urdu Encyclopedia of Islam, University of the Punjab, Lahore, 1997, pg. 65.