अखिल भारतीय छात्र परिषद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन' (ए आई एस एफ) या AISF भारत स्तर पर पहला छात्र संगठन है। संगठन की स्थापना 12-13 अगस्त 1936 लखनऊ के गंगाप्रसाद मेमोरियल हॉल में हुई, सम्मेलन की अध्यक्षता पण्डित जवाहर लाल नेहरू व एम ए जिन्ना ने की, महात्मा गांधी ने छात्रो की इस पहले अखिल भारतीय संग़ठन की स्थापना के लिए शुभकामनाएं सन्देश भेजे। शांति! प्रगति !! और स्वतंत्रता !!!, के नारे के साथ छात्रों ने इसकी स्थापना की थी। स्वतंत्रता सेनानियों और उस समय के क्रांतिकारियों के मार्गदर्शन के साथ एआईएसएफ ने भारत की आजादी के लिए काम किया। आजादी के बाद संगठन ने शांति! प्रगति!! और वैज्ञानिक समाजवाद !!! का नारा दिया । इसने सबको शिक्षा,सभी को रोजगार के अधिकार, न्याय और सभी के लिए अवसर के लिए आंदोलन शुरू किया। भारत में अधिकांश राज्यों में संगठन की राज्य समितियां हैं। भारत के छात्र इस देश की आजादी के लिए लड़े लोगों के सामने हैं। ब्रिटिश साम्राज्यवाद के खिलाफ उठने और औपनिवेशिक योक से देश को मुक्त करने के लिए राष्ट्र की आह्वान से प्रेरित, छात्रों ने स्वतंत्रता संग्राम में आगे बढ़े। आजादी के लिए वीर लड़ाई में गौरवशाली अध्याय छात्र शहीदों के युवा रक्त को लिखे गए थे। और इस विरोधी औपनिवेशिक संघर्ष की भट्टी में अगस्त 1936 में लखनऊ में अखिल भारतीय छात्र संघ का जन्म हुआ था। भारतीय छात्रों ने साम्राज्यवाद और उपनिवेशवाद के खिलाफ विश्वव्यापी संघर्ष से अलगाव में स्वतंत्रता के लिए अपने संघर्ष को नहीं देखा। यहां तक ​​कि इसके प्रारंभिक चरणों में भी एआईएसएफ पूरी ताकत का हिस्सा देशभक्ति बलों के शक्तिशाली युद्ध के पीछे था, सोवियत संघ के नेतृत्व में, फासीवाद के राक्षस के खिलाफ। फासीवाद की हार के बाद, एआईएसएफ युवाओं के लिए बेहतर जीवन के लिए साम्राज्यवाद के खिलाफ संघर्ष को आगे बढ़ाने के लिए इंटरनेशनल यूनियन ऑफ स्टूडेंट्स और डेमोक्रेटिक यूथ के विश्व संघ की स्थापना में दुनिया भर के अन्य फासीवादी छात्र और युवा संगठनों में शामिल हो गया। लोग। आजादी की उपलब्धि के बाद वास्तविक विकास ने युवा लोगों के इन शौकीन सपनों को झुकाया। आजादी के बाद उभरा नई राज्य शक्ति बुर्जुआ वर्ग की सभी सीमाओं के साथ थी। उन्होंने छात्रों को राजनीति छोड़ने और राष्ट्र निर्माण के नाम पर रचनात्मक गतिविधियों की राह पर जाने के लिए प्रोत्साहित करते हुए भी देश में पूंजीवाद बनाने के लिए तैयार किया। करियरवाद को प्रोत्साहित किया गया था और छात्रों का एक वर्ग इस जाल में गिर गया, उन आदर्शों को भूल गया जिनके लिए उनके बुजुर्गों के दिनों में उनके बुजुर्गों ने इतनी बहादुरी से लड़ा था।

लेकिन यह चरण लंबे समय तक नहीं था। छात्र समुदाय ने पूरी तरह से पूंजीवादी व्यवस्था की बुराइयों को अपने अनुभव से देखना शुरू कर दिया। बढ़ती बेरोजगारी, जीवन की बढ़ती लागत, बढ़ती कीमतें, लोगों का दुख, भूख, भुखमरी, अकाल की मौत - इन सभी ने लोगों के अन्य वर्गों के रूप में छात्रों की आंखें खोल दीं। संघर्ष टूट गया। छात्रों को इन लड़ाइयों में से कई में आकर्षित किया गया था, क्योंकि वे समाज के किसी भी अन्य वर्ग के रूप में समाज का हिस्सा हैं और पूंजीवादी अर्थव्यवस्था के पीड़ित हैं। छात्रों ने अपनी विशिष्ट मांग पर शक्तिशाली युद्ध, हमले और अन्य कार्रवाइयों का भी आयोजन किया: शिक्षा, लोकतांत्रिक और राजनीतिक अधिकारों, नौकरियों, समाजवादी सांस्कृतिक, खेल और अन्य मनोरंजक सुविधाओं में डेमोक्रेटाइजेशन और सुधार। छात्र इन सभी मुद्दों पर निरंतर लड़ाई कर रहे हैं।

आज एआईएसएफ छात्रों के प्रगतिशील वर्गों के इस आंदोलन की प्रगति में खड़ा है। अपने जन आधार को विस्तारित करने के लिए, एआईएसएफ एकजुट होने के लिए निरंतर काम कर रहा है और छात्र को अपने परिष्कृत लक्ष्यों की ओर ले जाता है। एआईएसएफ का मानना ​​है कि केवल समाजवाद ही हमारे छात्रों के विशाल बहुमत से वांछित समाज में बुनियादी परिवर्तन ला सकता है - शिक्षा की नई प्रणाली जो छात्रों को समाज में उनकी रचनात्मक भूमिका के लिए तैयार करेगी, सभी के लिए नौकरियां ताकि विशाल मानव शक्ति देश उपयोगी रूप से नियोजित, लोकतांत्रिक और राजनीतिक अधिकार है ताकि युवा एक सोशल इंडिया के निर्माण में योगदान दे सके।

में पूरे देश के कॉलेजों से आये हुए छात्रों के  सम्मेलन में स्थापित किया गया था। सम्मेलन लखनऊ के ऐतिहासिक गंगा प्रसाद मेमोरियल हॉल में हुआ था। संघठन ने भारत की स्वतंत्रता के लिए Yकाम किया। तब संघठन स्वतंत्रता प्रप्ति, शांति, प्रगति, के लिए काम करता था। स्वतंत्रता प्राप्ति केs बाद संगठन में अपने लक्ष्यों में शांति, प्रगति और वैज्ञानिक समाजवाद को जोड़ा।

1936 में संगठन के पहले राष्ट्रीय महासचिव बने पी ऐन भार्गव। जिस समय यह संगठन बना उस समय इस संगठन के अंदर विभिन्न प्रगतिशील दलों के छात्र एक साथ काम करते थे। यह एक स्वतंत्र छात्र संगठन है। जो हमेशा छात्रों की बेहतरी के साथ ही भगत सिंह के सपनो का देश बनाने के लिए संघर्षरत है।इस छात्रसंगठन का अंतर्राष्ट्रीय छात्र संघ से भी है। हाल के दिनों में संगठन ने व्यापक पैमाने से आंदोलन ही चलाएं मसलन अक्यूपाई UGC आन्दोल, जस्टिस फॉर रोहित वेमुला आंदोलन, स्टैंड विद JNU आंदोलन, पटना आर्ट कॉलेज बचाओ आंदोलन। BNEGA (BHAGAT SINGH NATIONAL EMPLOYEMENT GUARNTEE ACT) की मांग ।

वर्तमान में संगठन के राष्ट्रीय महासचिव विक्की माहेश्वरी और राष्ट्रीय अध्यक्ष सुवम बैनर्जी है ।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]