अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, बठिंडा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, बठिंडा
All India Institute of Medical Sciences, Bathinda Logo.png

आदर्श वाक्य:Sharīramādyam khalu dharmasādhanam (Sanskrit)
स्थापित2019
प्रकार:सार्वजनिक
अध्यक्ष:सुरेश चन्द्र शर्मा
निदेशक:दिनेश कुमार सिंह
स्नातक:50
अवस्थिति:बठिंडा, पंजाब, भारत
(30°9′42.12″N 74°55′34.68″E / 30.1617000°N 74.9263000°E / 30.1617000; 74.9263000निर्देशांक: 30°9′42.12″N 74°55′34.68″E / 30.1617000°N 74.9263000°E / 30.1617000; 74.9263000)
परिसर:शहरी
177 एकड़ (0.72 कि॰मी2)
जालपृष्ठ:aiimsbathinda.edu.in

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, बठिंडा ( एम्स बठिंडा ) बठिंडा, पंजाब, भारत में स्थित मेडिकल कॉलेज और चिकित्सा अनुसंधान के लिये सार्वजनिक विश्वविद्यालय है। [1] अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानों में से एक के रूप में यह स्वायत्त रूप से स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय तहत संचालित होता है। यह 2019 में संचालित हो रहे छह एम्स में से एक के रूप में स्थापित हुआ।

इतिहास[संपादित करें]

बठिंडा में एम्स के लिए नींव नवंबर 2016 में रखी गई थी। [2] बठिंडा में एम्स के लिये 177 एकड़ भूमि पर 750-बेड वाले चिकित्सा संस्थान के रूप में योजना बनाई गई थी। जिसमें 10 विशिष्टता वाले विभाग, 11 सुपर स्पेशियलिटी विभाग और 16 ऑपरेशन थिएटर बनाए जाने थे। इसमें मेडिकल कॉलेज में 100 सीटें और नर्सिंग कॉलेज में 60 सीटों के लिए योजना बनाई गई थी। [3] यह 50 एमबीबीएस छात्रों के पहले बैच के साथ चालू हुआ एवं 2019 में शुरू होने वाले छह एम्स में से एक बन गया। आउट पेशेंट विभाग (ओपीडी) का उद्घाटन दिसंबर 2019 में किया गया था। संस्थान की 2020 के मध्य तक पूरी तरह से चालू होने की उम्मीद थी। [4] पोस्टग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च (पीजीआईएमईआर) को अगस्त 2019 [5] में इसके मेंटरिंग संस्थान के रूप में नियुक्त किया गया था। दिनेश कुमार सिंह को मार्च 2020 में इसका निदेशक नियुक्त किया गया था। [6]

परिसर[संपादित करें]

एम्स बठिंडा के एमबीबीएस का पहला बैच बाबा फरीद यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंसेज (बीएफयूएचएस), फरीदकोट परिसर में अस्थायी आधार पर शुरू हुआ क्योंकि एम्स परिसर बठिंडा-डबवाली मार्ग पर निर्माणाधीन था। [7]

प्रवेश[संपादित करें]

एम्स बठिंडा का पहले सत्र के लिए 52 सीटों को आवंटित किया गया है जिसमें 24 सीटें सामान्य श्रेणी के छात्रों के लिए हैं, 14 ओबीसी के लिए आरक्षित हैं, 8 अनुसूचित जाति के लिए, 4 अनुसूचित जनजाति के छात्रों के लिए और 2 सीटें विकलांग के लिए आरक्षित हैं। [8]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "Bathinda AIIMS to offer 100 seats, classes from July". द ट्रिब्यून (अंग्रेज़ी में). 2019-03-18. अभिगमन तिथि 2019-08-17.
  2. "PM lays foundation for AIIMS at Bathinda, aims to open it in 2020". हिंदुस्तान टाइम्स (अंग्रेज़ी में). 2016-11-25. अभिगमन तिथि 2019-08-17. |lang= और |language= के एक से अधिक मान दिए गए हैं (मदद)
  3. "Delayed by 21 months, AIIMS at Bathinda now on track". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया (अंग्रेज़ी में). 2019-02-02. अभिगमन तिथि 2019-08-17.
  4. "Bathinda AIIMS OPD starts, college to open by mid-2020". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया (अंग्रेज़ी में). 24 December 2019. अभिगमन तिथि 26 December 2019.
  5. "AIIMS Bhatinda Recruitment: PGI Chandigarh releases 22 vacancies for Senior Resident, SR Demonstrators Posts". Medical Dialogues. 2019-08-01. मूल से 17 August 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2019-08-17.
  6. Tandon, Aditi (4 March 2020). "Govt names directors for 6 AIIMS". द ट्रिब्यून (English में). अभिगमन तिथि 5 March 2020.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  7. "AIIMS 1st batch of 50 from July". The Tribune (अंग्रेज़ी में). 2019-03-29. अभिगमन तिथि 2019-08-17.
  8. "Online counselling for AIIMS-Bathinda admissions starts". द टाइम्स ऑफ़ इण्डिया (अंग्रेज़ी में). 2019-06-21. अभिगमन तिथि 2019-08-17.