सामाजिक वर्ग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सामाजिक वर्ग समाज में आर्थिक और सांस्कृतिक व्यवस्थाओं का समूह है. समाजशास्त्रियों के लिये विश्लेषण, राजनीतिक वैज्ञानिकों, अर्थशास्त्रियों, मानवविज्ञानियों और सामाजिक इतिहासकारों आदि के लिये वर्ग एक आवश्यक वस्तु है. सामाजिक विज्ञान में, सामाजिक वर्ग की अक्सर 'सामाजिक स्तरीकरण' के संदर्भ में चर्चा की जाती है. आधुनिक पश्चिमी संदर्भ में, स्तरीकरण आमतौर पर तीन परतों : उच्च वर्ग, मध्यम वर्ग, निम्न वर्ग से बना है. प्रत्येक वर्ग और आगे छोटे वर्गों (जैसे वृत्तिक) में उपविभाजित हो सकता है.

शक्तिशाली और शक्तिहीन के बीच ही सबसे बुनियादी वर्ग भेद है.[1][2] महान शक्तियों वाले सामाजिक वर्गों को अक्सर अपने समाजों के अंदर ही कुलीन वर्ग के रूप में देखा जाता है. विभिन्न सामाजिक और राजनीतिक सिद्धांतों का कहना है कि भारी शक्तियों वाला सामाजिक वर्ग कुल मिलाकर समाज को नुकसान पहुंचाने के लिये अपने स्वयं के स्थान को अनुक्रम में निम्न वर्गों के ऊपर मज़बूत बनाने का प्रयास करता है. इसके विपरीत, परंपरावादियों और संरचनात्मक व्यावहारिकतावादियों ने वर्ग भेद को किसी भी समाज की संरचना के लिए स्वाभाविक तथा उस हद तक अनुन्मूलनीय रूप में प्रस्तुत किया है.

मार्क्सवाधी सिद्धांत में, दो मूलभूत वर्ग विभाजन कार्य और संपत्ति की बुनियादी आर्थिक संरचना की देन हैं: बुर्जुआ और सर्वहारा. उत्पादन के साधन पूंजीपतियों के पास हैं, लेकिन इसमें प्रभावी रूप से सर्वहारा वर्ग के रूप में वे भी शामिल हैं क्योंकि केवल वे अपनी श्रम शक्ति बेचने में सक्षम हैं (तनख्वाहशुदा मजदूरी भी देखें). ये असमानताएं पुनरुत्पादित सांस्कृतिक विचारधाराओं के माध्यम से सामान्यीकृत होती हैं. मैक्स वेबर ने ऐतिहासिक भौतिकवाद (या आर्थिक नियतिवाद, की समीक्षा करते हुए कहा कि स्तरीकरण विशुद्ध रूप से आर्थिक भिन्नताओं पर आधारित नहीं है, अपितु अन्य स्थ्तियों और शक्ति की असमानताओं पर भी आधारित है. व्यापक रूप से भौतिक धन से संबंधित सामाजिक वर्ग की पहचान सम्मान पर आधारित स्थिति वर्ग, प्रतिष्ठा, धार्मिक संबद्धता आदि से अलग किया जा सकता है.

राल्फ दह्रेंदोर्फ़ जैसे सिद्धांतकारों ने आधुनिक पश्चिमी समाज में विशेष रूप से तकनीकी अर्थव्यवस्थाओं में एक शैक्षिक कार्य बल की जरूरत के लिए एक विस्तृत मध्यम वर्ग की ओर झुकाव को उल्लिखित किया.[3] भूमंडलीकरण और नव-उपनिवेशवाद से संबंधित दृष्टिकोण, जैसे निर्भरता सिद्धांत सुझाता है कि ऐसा निम्न-स्तरीय श्रमिकों के विकासशील देशों एवं तीसरी दुनिया की तरफ स्थानांतरित होना है.[4] विकसित देश के प्राथमिक उद्योग (जैसे बुनियादी निर्माण, कृषि, वानिकी, खनन, आदि) में सीधे कम सक्रिय और तेजी से "आभासी" सामान और सेवाओं में शामिल हो गए हैं. इसलिए "सामाजिक वर्ग" की राष्ट्रीय अवधारणा उत्तरोत्तर जटिल और अस्पष्ट हो गई है.

अनुक्रम

सामाजिक वर्ग के कारण और परिणाम[संपादित करें]

वर्ग की स्थिति के अवधारक[संपादित करें]

न्यू ऑरलियन्स में एक सड़क पर दो आदमियों की यह तस्वीर दो लोगों के विपरीत सामाजिक वर्गों का दृश्य प्रस्तुत करती है: एक आदमी बेढंगे, संभवतः काम में गंदे हुए कपड़े (हेलमेट पर ध्यान दें) पहने हुए है, दूसरा व्यक्ति ब्रीफकेस के साथ सूट और टाई में है.

तथाकथित गैर स्तरीकृत समाजों या नेतृत्वविहीन समाजों में अस्थाई या सीमित सामाजिक स्थिति से परे सामाजिक वर्ग, शक्ति या पदानुक्र्रम की कोई अवधारणा नहीं होती. ऐसे समाज में, ज्यादातर स्थितियों में हर व्यक्ति की एक लगभग बराबर सामाजिक स्थिति होती है.

वर्ग समाजों में किसी व्यक्ति की वर्ग स्थिति एक प्रकार की समूह की सदस्यता होती है. सदस्यता का निर्धारण करने वाले तत्वों के बारे में सिद्धांतकार असहमत हैं, लेकिन कई बातों में समान विशेषताएं दिखाई देती हैं. इनमें शामिल हैं:

  • उत्पादन, स्वामित्व, और उपभोग के रिश्ते
  • समारोहिक, व्यावसायिक और प्रजनन अधिकारों सहित एक आम कानूनी स्थिति,
  • परिवार, रिश्तेदारी या आदिवासी समूह संरचना या सदस्यता
  • संस्कृति-संक्रमण सहित शिक्षा

वर्गों की अक्सर एक अलग जीवन शैली होती है जो उनके वर्ग पर जोर देती है. एक समाज में सबसे शक्तिशाली वर्ग प्रायः ऐसे चिह्नकों जैसे पोशाक, सौंदर्य, शिष्टाचार और भाषा कोड का प्रयोग करता है जो अंदरूनी और बाहरी लोगों में विभेद करते हैं; मानद उपाधियां जैसे अद्वत्तीय राजनीतिक अधिकार तथा सामाजिक सम्मान या छवि की अवधारणा केवल अंदरूनी समूह पर ही लागू होने का दावा किया जाता है. लेकिन हर वर्ग की विशिष्ट सुविधाएं है, जो अक्सर व्यक्तिगत पहचान की निर्णायक तत्व तथा समूह के व्यवहार में एकीकरण की कारक होती हैं. फ्रांसीसी समाजशास्त्री पियरे बोर्डियू उच्च और निम्न वर्गों की धारणा को बुर्जुआ वर्ग की रुचियों और संवेदनशालताओं तथा श्रमिक वर्ग की रुचियों और संवेदनशालताओं के बीच भेद के रूप में सुझाते हैं.

नस्ल और अन्य बड़े स्तर के समूहीकरण भी वर्ग अस्तित्व को प्रभावित कर सकते हैं. वर्ग स्थितियों के साथ विशेष जातीय समूहों का सहयोग कई समाजों में आम है. विजय या आंतरिक जातीय भेदभाव के एक परिणाम के रूप में, एक शासक वर्ग अक्सर जातीय आधार पर समरूप होता है और कुछ समाजों में विशेष नस्लों या जातीय समूहों को कानूनी तौर पर या प्रथानुसार विशेष वर्ग के पदों के लिए प्रतिबंधित किया जाता है. कौनसी जातियां उच्च या निम्न वर्गों से संबंध रखती हैं यह समाज-दर-समाज बदलता रहता है. आधुनिक समाज में जातीयता और वर्ग के बीच सख्त कानूनी लिंक स्थापित हो चुके हैं, जैसे रंगभेद, अफ्रीका में जातीय प्रणाली और जापानी समाज में बुराकुमिन की स्थिति.

दी गई स्थिति और हासिल की गई स्थिति के बीच अक्सर भेद किया जाता है. इसका उपयोग हासिल की गई वर्ग पहचान और क्या सामाजिक स्थिति का निर्धारण जन्म के आधार पर हुआ है या अपने जीवन काल में अर्जित की गई है, के बीच भेद करने के लिे किया जाता है. हासिल स्थितियां योग्यता, कौशल और कार्यों के आधार पर प्राप्त की जाती हैं. हासिल स्थिति के उदाहरण में एक चिकित्सक होना या एक अपराधी भी होना शामिल है, तब स्थिति व्यक्ति के लिए आचरणों और उससे अपेक्षाओं के एक सेट का निर्धारण करती है.

वर्ग की स्थिति के परिणाम[संपादित करें]

सामाजिक माल की विभिन्न खपत वर्ग का सबसे अधिक दिखाई देने वाला परिणाम है. आधुनिक समाज में, यह आय असमानता के रूप में प्रकट होता है, हालांकि गुजारा कर रहे समाजों में यह कुपोषण और आवधिक भुखमरी के रूप में प्रकट हुआ था. हालांकि वर्ग का दर्जा आय के लिए एक कारण कारक नहीं है, वहां संगत आंकड़े हैं जो दिखाते हैं कि उच्च वर्गों में लोगों की आय निम्न वर्ग के लोगों की तुलना में अधिक है. व्यवसाय के लिए नियंत्रण करते समय यह असमानता अभी भी मौजूद है. काम की परिस्थितियां वर्ग के आधार पर बहुत ज्यादा बदलती हैं. उच्च मध्यम वर्ग और मध्यम वर्ग के लोगों को उनके व्यवसायों में अधिक से अधिक स्वतंत्रता प्राप्त होती है. आम तौर पर उनका अधिक सम्मान किया जाता है, और अधिक विविधता उपलब्ध होती है, और वे कुछ अधिकारों प्रदर्शन भी कर सकते हैं. निम्न वर्ग के लोग अपने को अधिक अलग-थलग महसूस करते हैं और उन्हें समग्र कार्य-संतोष बहुत कम होता है. कार्यस्थल की भौतिक दशाएं अलग-अलग वर्गों के में अलग होती हैं. जबकि मध्यम वर्ग के श्रमिक "अलगाव की भावना अनुभव कर सकते हैं" या “कार्य-संतोष की कमी हो सकती है,” "शारीरिक श्रम करने वाले मजदूर अलगाव की भावना अनुभव करते हैं, अक्सर शारीरिक स्वास्थ्य खतरों, चोट और मृत्यु के भी अधीन काम करते हैं.[5]

और अधिक सामाजिक दायरों में, जीवन शैली पर वर्ग का प्रत्यक्ष परिणाम होता है. जीवन शैली में रुचियां, वरीयताएं, और जीने की एक सामान्य शैली शामिल हैं. ये जीवन शैलियां बहुत संभव है शिक्षा प्राप्ति, और इसलिए स्थिति प्राप्ति को प्रभावित कर सकती हैं. वर्ग की जीवन शैली इसको भी प्रभावित करता है कि बच्चों का पालन पोषण कैसे करना है. उदाहरण के लिए, एक श्रमिक वर्ग का व्यक्ति, अधिक संभावना है कि अपने बच्चे को श्रमिक बनाने के लिए और मध्यम वर्ग का व्यक्ति अपने बच्चे को मध्यम वर्गीय बनाने के लिए पालन पोषण करे. यह भविष्य की पीढ़ियों के लिए वर्ग की धारणा का अविरत बनाता है.

सैद्धांतिक मॉडल[संपादित करें]

वर्ग के सैद्धांतिक मॉडल हमें यह समझाते हैं कि वर्ग संबंध कैसे अस्तित्व में आए, और मोटे तौर पर समान प्रकार के समाजों में क्यों विशेष वर्ग संबंध मौजूद है.

मार्क्सवादी[संपादित करें]

व्यक्तियों का एक सामूहिक समूह समाज में एक दूसरे के लिए एक समान आर्थिक और सामाजिक संबंधों को साझा करता है, यह वर्ग की मार्क्सवादी अवधारणा का हिस्सा है. वर्ग आंतरिक प्रवृत्तियों और हितों के साथ एक समूह है जो समाज में अन्य समूहों से अलग है और शायद उनके हितों के खिलाफ भी हो सकता है. उदाहरण के लिए, वेतन और सुविधाओं को बढ़ाना मज़दूरों के सर्वाधिक हित में है और पूंजीपति का सर्वाधिक हित इसमें है कि इस व्यय के बदले अधिकतम मुनाफा हो, इससे पूंजीवादी प्रणाली के अंदर ही एक विरोधाभास उत्पन्न होता है, यहां तक कि मजदूरों और पूंजीपतियों को खुद इस वर्ग विरोध के बारे में पता नहीं चलता.

मार्क्स के अनुसार, वर्ग में दो कारक शामिल है:

उद्देश्यपरक कारक
उत्पादन के साधनों के साथ वर्ग एक सामान्य संबंध साझा करता है. अर्थात एक वर्ग के सभी लोग, सामाजिक हित उत्पन्न करने वाली वस्तुओं के स्वामित्व के संदर्भ में जीने का समान तरीका अपनाते हैं. एक वर्ग के स्वामित्व में वस्तुएं, ज़मीन, लोग, या कुछ भी नहीं हो सकता है, कोई अन्य उसका स्वामी हो सकता है. एक वर्ग कर वसूलता है, कृषि उत्पादन करता है, दास बनाता है और दूसरों से काम कराता है या वेतन के बदले काम करता है.
व्यक्तिपरक कारक
सदस्यों में भी उनकी समानता और आम हित आदि के बारे में जरूर कुछ अवधारणा होगी. मार्क्स ने इसे वर्ग की अभिज्ञता कहा. वर्ग की अभिज्ञता किसी वर्ग हित (उदाहरण के लिए, शेयरधारक मूल्य को अधिकतम करने; या कार्य दिवसों को न्यूनतम करने के साथ साथ वेतन को अधिकतम करने) के प्रति जागरुकता मात्र ही नही है, वर्ग की अभिज्ञता गहराई से साझा किए गये विचार भी हैं कि समाज़ को कानूनी, सांस्कृतिक, सामाजिक और राजनैतिक रूप से कैसे संगठित करना चाहिये.

पहला मापदंड समाज़ को उत्पादन के साधनों के मालिकों और गैर मालिकों में विभाजित करता है. पूंजीवाद में, ये पूंजीवादी (बुर्जुआ) और सर्वहारा वर्ग है. सूक्बष्नाम विभाजन किए जा सकते हैं, हालांकि: पूंजीवाद में सबसे महत्वपूर्ण उपसमूह छोटा सा पूंजीपति वर्ग (छोटा बुर्जुआ) रहना है, लोग जो अपने उत्पादन पर काबू रखते हैं लेकिन दूसरों को काम पर रखने की बजाय इस पर खुद काम करके मुख्य रूप से इसका उपयोग करते हैं. वे स्वरोजगार कारीगरों, छोटे दुकानदारों, और कई पेशेवरों को शामिल करते हैं. जॉन एल्स्टर ने विभिन्न ऐतिहासिक अवधियों से 15 वर्गों का मार्क्स में उल्लेख पाया है.[6]

colspan="4" वर्गों की मार्क्स योजना का जॉन एल्स्टर द्वारा विवरण.
उत्पादन का सामाजिक रूप शासक वर्ग अन्य वर्ग उदाहरण समाज
प्राचीन साम्यवाद कोई वर्ग नहीं कई कृषि पूर्व समितियां
उत्पादन का एशियाई रूप नौकरशाह या धर्मतंत्रवादी [अनाम वर्ग] पुरातन मिस्री समाज
गुलाम समाज गुलाम मालिक, अभिजात वर्ग संबंधी साधारण, स्वाधीन नागरिक, गुलाम 16वीं से 19 वीं सदी का अमेरिका, प्राचीन रोम
सामंती समाज ज़मींदार, पादरी समाज स्वामी, कारीगर, दास 12 वीं शताब्दी का पश्चिमी यूरोप
पूंजीवादी समाज औद्योगिक और वित्तीय पूंजीवाद छोटे पूंजीपति वर्ग, किसान लोग, वेतन मजदूर वर्तमान से 19 वीं शताब्दी तक का यूरोप

वर्गों के लिये पहली आवश्यकता है पर्याप्त अतिरिक्त उत्पाद का अस्तित्व. मार्क्सवादी सभ्य समाजों के इतिहास का, उत्पादन का नियंत्रण करने वाले और समाज में माल तथा सेवाएं उत्पादित करने वाले वर्गों के बीच युद्ध के रूप में वर्णन करते हैं. पूंजीवाद के प्रति मार्क्सवादी नज़रिये के अनुसार, यह पूंजीपतियों (बुर्जुआ) और वेतन मज़दूर (सर्वहारा) के बीच एक संघर्ष है. मार्क्सवादियों के लिए, वर्ग प्रतिरोध की जड़ें उस परिस्थिति में हैं जिसमें सामाजिक उत्पादन पर नियंत्रण, विशेष रूप से माल का उत्पादन करने वाले वर्ग पर नियंत्रण आवश्यक बना देता है- पूंजीवाद में यह बुर्जुआओं द्वारा श्रमिकों का शोषण है.

स्वयं मार्क्स ने तर्क दिया था कि यह सर्वहारा का स्वयं का लक्ष्य था कि पूंजीवादी व्यवस्था को समाजवाद के साथ स्थानांतरित करना, वर्ग व्यवस्था को सहारा देते हुए सामाजिक संबंधों को बदलना और फिर भविष्य के एक साम्यवादी समाज में विकसित हो जाना जिसमें: "... सब के मुफ्त विकास के लिये हर एक का मुफ्त विकास एक शर्त है.” (साम्यवादी घोषणापत्र) यह वर्गहीन समाज की शुरुआत के रूप में चिन्हित हुआ जिसमें लाभ की बजाय मानव की जरूरतें उत्पादन के लिये अभिप्रेरणा होगी. एक समाज में लोकतांत्रिक नियंत्रण और उपयोग करने के लिये उत्पादन के साथ, वहां न कोई वर्ग, न कोई राज्य और न ही कोई पैसे की जरुरत होगी.

व्लादिमीर लेनिन ने वर्गों को “एक दूसरे से सामाजिक उत्पादन की ऐतिहासिक रूप से निर्धारित व्यवस्था में धारण किए गए स्थान के आधार पर, उनके उत्पादन के साधनों के साथ संबंधों (अधिकतर मामलों में स्थाई और कानून द्वारा निर्धारित), श्रमिकों के सामाजिक संगठन में उनकी भूमिका तथा परिणामतः सामाजिक धन को प्राप्त करने के तरीके और उस धन में उनकी हिस्सेदारी के आधार पर भिन्न लोगों के एक बड़े समूह संबंध उनके द्वारा परिभाषित किया गया है.एक महान शुरुआत

सर्वहारावाद[संपादित करें]

मार्क्सवादियों के लिए समाज का सबसे महत्वपूर्ण परिवर्तन पिछले ढाई सौ सालों में सर्वहारा वर्ग की विशाल और तीव्र वृद्धि है. इंगलैंड और फ्लैंडर्स में कृषि एवं घरेलू कपड़ा मजदूरों से शुरू करके अधिक से अधिक व्यवसाय केवल मजदूरी या वेतन के माध्यम से एक आजीविका प्रदान करते हैं. निजी निर्माण, स्वरोजगार की ओर प्रेरण, अब उतना व्यावहारिक नहीं रहा जितना औद्योगिक क्रांति से पहले था क्योंकि स्वचालन ने निर्माण को बहुत सस्ता कर दिया. कई लोग हैं जिन्होंने एक बार अपने स्वयं के श्रम समय को नियंत्रित किया था औद्योगीकरण के माध्यम से सर्वहारा में परिवर्तित हो गए. जो समूह आतीत में वृत्तिका या निजी धन पर गुजारा करते थे- जैसे चिकित्सक, शिक्षाविद या वकील- अब लगातार वेतन मजदूर के रूप में कार्य कर रहे हैं. मार्क्सवादी इस प्रक्रिया को सर्वहारावाद कहते हैं, और इस की ओर “प्रथम विश्व” के धनी देशों में वर्तमान समाजों में सर्वहारा के सबसे बड़े वर्ग होने के एक प्रमुख कारक के रूप में इंगित करते हैं[7].

किसान-स्वामी संबंधों के बढ़ते विघटन (पूंजीवाद-पूर्व समाज देखें), आरंभ में वाणिज्यिक रूप से सक्रिय और औद्योगाकरणशील देशों में, और तब औद्योगिकीकरण-रहित देशों में भी, वस्तुतः किसान वर्ग समाप्त हो गया है. गरीब ग्रामीण मजदूर अभी भी मौजूद हैं, लेकिन उत्पादन के साथ उनका वर्तमान संबंध मुख्यतः भूमिहीन वेतन मज़दूर या ग्रामीण श्रमजीवी के रूप में है. कृषकों की तबाही, और एक ग्रामीण सर्वहारा में इसका रूपांतरण, मोटे तौर पर यह सभी कार्यों का सामान्य सर्वहारा बनाने का परिणाम है. यह प्रक्रिया आज काफी हद तक पूरी है, हालांकि यह यकीनन 1960 और 1970 के दशक में अधूरी थी.

द्वंद्ववाद, या मार्क्सवादी वर्ग में ऐतिहासिक भौतिकवाद[संपादित करें]

मार्क्स ने निरंतर ऐतिहासिक प्रक्रिया के द्वारा परिभाषित वर्ग श्रेणियों को देखा. मार्क्सवाद में वर्ग एक स्थैतिक संस्था नहीं थे, लेकिन उत्पादक प्रक्रिया के माध्यम से दैनिक पुनर्जीवित किये जाते हैं. मार्क्सवाद वर्गों को मानवीय सामाजिक रिश्तों के रूप में देखता है जो समय के साथ बदलते हैं, साथ ही साझा उत्पादक प्रक्रियाओं के माध्यम से ऐतिहासिक समानता को बनाया. एक 17 वीं सदी का मजदूर जिसने दैनिक वेतन के लिये कार्य किया, वह 21 वीं सदी के एक औसत कार्यालय कार्यकर्ता के रूप में उत्पादन के लिये एक समान संबंध बांटता है. इस उदाहरण में, यह वेतन मज़दूर की साझा संरचना है जो इन दोनों व्यक्तियों को "श्रमजीवी वर्ग" बनाता है.

मार्क्सवाद में उद्देश्य और व्यक्तिपरक वर्ग में कारक[संपादित करें]

मार्क्सवाद के पास कारक उद्देश्यों (जैसे कि माल के हालात, सामाजिक संरचना) और व्यक्तिपरक उद्देश्यों (जैसे कि वर्ग के सदस्यों का जागरूक संगठन ) के बीच एक नहीं बल्कि भारी परिभाषित तर्कशास्त्र हैं. जबकि ज्यादातर मार्क्सवाद कारक उद्देश्यों के आधार पर लोगों के वर्ग का विश्लेषण करता है, प्रमुख मार्क्सवादी रुझान ने श्रमिक वर्ग के इतिहास को समझने में व्यक्तिपरक उद्देश्यों का अधिक से अधिक इस्तेमाल किया है. ई.पी थॉमसन का द मेकिंग ऑफ इंग्लिश वर्किंग क्लास इस "व्यक्तिपरक" मार्क्सवादी प्रवृत्ति का एक निश्चित उदाहरण है. थॉम्पसन अंग्रेजी श्रमिक वर्ग का विश्लेषण साझा माल की शर्तों के साथ लोगों का एक समूह जो उनकी सामाजिक स्थिति की एक सकारात्मक आत्म - चेतना के लिये पहुंच रहा है आदि के रूप में करता है. सामाजिक वर्ग की इस विशेषता को मार्क्सवाद में सामान्यतः वर्ग की जागरुकता कहा जाता है, एक अवधारणा जो जॉर्ज लुकास की ईतिहास और वर्ग की जागरुकता के साथ प्रसिद्ध हुई. इसको एक "स्वयं में वर्ग" प्रक्रिया के रूप में जो एक "स्वयं के लिए ही वर्ग" की ओर बढ़ रहा है के रूप में देखा जाता है, एक सामूहिक एजेंट जो केवल ऐतिहासिक प्रक्रिया का शिकार होने के बजाय ईतिहास परिवर्तन करता है. लुकास के शब्दो में, श्रमजीवी वर्ग "ईतिहास की विषय-वस्तु" था, और पहला वर्ग जो वर्ग की नकली जागरुकता को अलग कर सकता था (स्वाभाविक पूंजीपती वर्ग की जागरुकता के लिये), जिसने आर्थिक कानूनों को सार्वभौमिक रूप में सरलता से बनाया (जबकि वहां ऐतिहासिक पूंजीवाद का एक ही परिणाम है).

मैक्स वेबर[संपादित करें]

वर्ग की प्राथमिक समाजशास्त्रीय व्याख्या को मैक्स वेबर द्वारा विकसित किया गया था. उत्पादन के साधन के स्वामित्व के लिए अधीनस्थ के रूप में वर्ग, प्रतिष्ठा और पार्टी (या राजनीति) के साथ, वेबर ने एक स्तरीकरण के तीन घटक के सिद्धांत को तैयार किया, लेकिन वेबर के लिए वे कैसे बातचीत करते हैं यह एक आकस्मिक प्रश्न है तथा एक जो समाज़ से समाज में भिन्नता रखता है. वेबर अपनी छह "अमेरिकन ड्रीम" मान्यताओं के लिये भी जाना जाता है जो इस प्रकार हैं- 1) कड़ी मेहनत, 2) वैश्वीकरण, 3) व्यक्तिवाद, 4) धन, 5) सक्रियतावाद, और 6) समझदारी.

शैक्षिक मॉडल[संपादित करें]

समाजशास्त्र के स्कूल वर्गों की अवधारणा के मामले में भिन्न हैं. सामाजिक वर्ग की विश्लेषणात्मक अवधारणाओं, जैसे कि मार्क्सवादी और वेबेरियन परम्पराओं और अधिक अनुभवजन्य परम्पराओं, जैसे कि सामाजिक- आर्थिक प्रास्थिति दृष्टिकोण, के बीच एक विभाजन रेखा खींची जा सकती है, जो आय, शिक्षा और संपत्ति के साथ सामाजिक परिणामों को बिना किसी विशिष्ट सामाजिक संरचना के आवश्यक संकेत के बगैर सूचित करती हैं. वार्नेरियन दृष्टिकोण को इस अर्थ में अनुभवजन्य माना जा सकता है कि यह अधिक वर्णनात्मक तथा विश्लेषणात्मक होता है.

पारंपरिक "वस्तुओं को समूहों में वर्गीकृत करने की प्रणाली" के लिए अधिकांश विज्ञापन उद्योग का आधार उस सामाजिक वर्ग से लिया जाता था. हाल ही में, तथापि, जैसे-जैसे समृद्धि और अधिक व्यापक हुई है, वैसे-वैसे यह प्रक्रिया काफी कम स्पष्ट हो गई है. अब यह तर्क दिया जाता है कि नये ‘वैचारिक नेता’ उसी सामाजिक वर्ग से आते हैं. विज्ञापन एजेंसियों द्वारा पारम्परिक रूप से जिन वर्ग समूहों का प्रयोग किया गया हैं, (उदाहरण के लिए: एनआरएस (NRS) सामाजिक ग्रेड स्कीमें थीं: एबी - प्रबंधकीय और पेशेवर, सी1 -पर्यवेक्षी और लिपिक, सी 2- कुशल श्रमिक, डीई -अकुशल श्रमिक और बेरोजगार) विशेष रूप से शिक्षा और प्रयोज्य आय में लिपिक कर्मचारियों और श्रमिक कार्यकर्ताओं के बीच अंतर में, हाल के दशकों में उनके महत्व में कमी सूचित की गई है.

जबकि चार दशक पहले, जब इन समूहों का पहली बार व्यापक रूप से इस्तेमाल किया गया था , मुख्य श्रेणियों (सी, डी और ई) में से प्रत्येक समुचित रूप से संतुलित थी, परन्तु आज सी समूह (हालांकि अब आम तौर पर C1 और C2 में विभाजित), सभी श्रेणियों में कुल इतने बड़े क्षेत्र का निर्माण करता हैं कि यह अकेले ही पूरी वर्गीकरण प्रणाली पर हावी है और विपणन प्रयासों के व्यवहार्य केंद्रीकरण के रूप में बहुत कम प्रदान करता है. [1]

अमेरिकी मॉडल[संपादित करें]

विलियम वॉर्नर लॉयड[संपादित करें]

एक परत वर्ग मॉडल का पहला उदाहरण समाजशास्त्री विलियम लॉयड वॉर्नर द्वारा अपनी 1949 की पुस्तक, अमेरिका में सामाजिक वर्ग में विकसित किया गया था. कई दशकों तक वार्नेरियन सिद्धांत अमेरिकी समाजशास्त्रीय सिद्धांत में प्रभावी बना रहा था.

टोरंटो से अमीर नागरिक औपचारिक रात्रिभोज में उपस्थित हुए

सामाजिक नृविज्ञान के आधार पर, वार्नर ने अमेरिकियों को तीन वर्गों (ऊपरी, मध्य, और निम्न) में विभाजित किया है, तो पुन: इनमे से प्रत्येक को निम्नलिखित तत्वों के साथ एक "उच्च"और "निम्न" खंड में उपविभाजित किया है:

  • उच्चतर वर्ग 'पुराना पैसा." "जो लोग धनी परिवारों में जन्म लेते है और उनका पालन-पोषण भी अत्यंत समृद्धि के साथ किया जाता हैं, ज्यादातर पुराने "कुलीन" या प्रतिष्ठित परिवारों (जैसे, श्रूजबरी के अर्ल, वेन्डरबिल्ट, रॉकफेलर) से होते हैं.
  • निम्न उच्च वर्ग "नया पैसा." वे व्यक्ति, जो अपने जीवन काल में ही अमीर बन गए हैं (जैसे, उद्यमी, फिल्मी सितारे, शीर्ष एथलीट, साथ ही कुछ प्रमुख पेशेवर).
  • उच्च मध्यम वर्ग कॉलेज शिक्षा के साथ पेशेवर, और प्राय: अधिकतर स्नातकोत्तर डिग्रियों एमबीए, पीएचडी, एमडी, जेडी, एमएस, आदि के साथ (जैसे, डॉक्टर, इंजीनियर, दंत चिकित्सक, वकील, बैंकर, कंपनियों के अधिकारी, प्रधान शिक्षक, विश्वविद्यालय के प्रोफेसर, वैज्ञानिक , फार्मासिस्ट, एयरलाइन पायलट, जहाज कप्तान, सांख्यिकीविद, उच्च स्तरीय नौकरशाह, नेता और सैन्य अधिकारी, वास्तुविद, कलाकार, लेखक, कवि, और संगीतकार) होते हैं.
  • निम्न मध्यम वर्ग . कम वेतन पाने वाले कार्यालयकर्मी परन्तु हाथ से कार्य करने वाले मजदूर नहीं. अक्सर सहयोगी या बैचलर डिग्री धारक. (जैसे, पुलिस अधिकारी, अग्नि -सेवा कर्मी, प्राथमिक और उच्च विद्यालय के शिक्षक, एकाउंटेंट, नर्स, नगरपालिका कार्यालय के कर्मचारी और मध्य स्तर के सिविल सेवक, विक्रय प्रतिनिधि, गैर प्रबंधन कार्यालय के कर्मचारी, पादरी, तकनीशियन, छोटे व्यापार मालिक).
  • उच्च निम्न वर्ग . शारीरिक श्रमिक कार्यकर्ता और हाथ से कार्य करने वाले मजदूर. इन्हें "कामकाजी वर्ग" के रूप में भी जाना जाता है.
  • निम्नतर वर्ग बेघर और स्थायी रूप से बेरोजगार, के साथ-साथ "काम कर रहे गरीब".

वार्नर के लिए, अमेरिकन सामाजिक वर्ग एक व्यक्ति द्वारा वास्तविक अर्जित राशि के बजाय मानसिकता पर अधिक आधारित था. उदाहरण के लिए, अमेरिका में सबसे अमीर लोग "निम्न उच्च वर्ग" के थे, क्योंकि उनमें से कई ने स्वयं अपने भाग्य को बनाया था, सर्वोच्च वर्ग में तो कोई जन्म ही ले सकता है. फिर भी, अमीर उच्चतर वर्ग के सदस्य और अधिक शक्तिशाली हो सकते है, जैसा कि अमेरिकी राष्ट्रपतियों का एक साधारण सर्वेक्षण प्रदर्शित करता है (यानी; रूजवेल्ट, कैनेडी; बुश).

अन्य प्रेक्षण: उच्च निम्न वर्ग के सदस्य, निम्न मध्यम वर्ग के सदस्यों की (यानी, एक अच्छी तरह से वेतनभोगी फैक्ट्री मजदूर बनाम साचिविक कार्यकर्ता) तुलना में ज्यादा पैसा कमा सकते है, लेकिन यह वर्ग -विभेद उनके द्वारा किए जाने वाले काम के प्रकार पर आधारित है.

अपने शोध निष्कर्षों में, वॉर्नर ने कहा कि अमेरिकी सामाजिक वर्ग काफी हद तक इन साझा दृष्टिकोणों पर आधारित था. उदाहरण के लिए, उन्होंने कहा कि निम्न मध्यम वर्ग सभी वर्गों में सबसे अधिक रूढ़िवादी समूह था, क्योंकि उनमें और कामकाजी वर्ग में बहुत कम अंतर था. उच्च मध्यम वर्ग, यद्यपि जनसंख्या का एक अपेक्षाकृत छोटा सा भाग था, आमतौर पर अमेरिकी व्यवहार के लिए उचित "मानक" स्थापित किए, जैसा जन माध्यमों में परिलक्षित हुआ.

आय स्तर के मध्य के निकटआने वालों से वेतन तथा शैक्षिक योग्यता में उच्चतर पेशेवरों (जैसे निचले स्तर के प्रोफेसर, प्रबंधकीय कार्यालय कर्मचारी, वास्तुविद) को भी सच्चा मध्यम वर्ग माना जा सकता है.

कोलमैन और रेनवाटर[संपादित करें]

सन 1978 में समाजशास्त्रियों कोलमैन और रेनवाटर ने प्रत्येक में संख्या उप वर्गों के साथ तीन सामाजिक वर्गों वाली "महानगरीय वर्ग संरचना" की संकल्पना प्रस्तुत की.

  • उच्च वर्ग के अमरीकी
    • उच्चतर वर्ग ; (सीए. 1%) विरासत में मिली संपत्ति से उत्पन्न पैसा. इस वर्ग के व्यक्तियों के पास आम तौर पर एक "स्तरीय लीग कॉलेज की डिग्री" होती है. 1978 में उनकी घरेलू आय $ 500,000 (2005 के डॉलर में $1,673,215) से अधिक थी.
    • निम्न - उच्च वर्ग ; (सी ए. 1%) यह "सफल अभिजात्य" है जिसमें "शीर्ष पेशेवर [और] वरिष्ठ कंपनी अधिकारी" शामिल हैं. इस वर्ग के लोगों के पास "अच्छे कॉलेजों" की डिग्रियां होती हैं. उनकी घरेलू आय भी आमतौर पर 77,000 डॉलर (2005 डॉलर में $251,000) से अधिक थी.Nouveau riche ("नव धनाढ्य" के लिए फ्रांसीसी शब्द), या नया धन उस व्यक्ति को संदर्भित करते हैं जिसने अपनी पीढ़ी में ही काफी धन अर्जित कर लिया है.[8] इस शब्द का प्रयोग आमतौर पर इस बात पर जोर देने के लिए किया जाता है कि व्यक्ति पहले एक निम्न सामाजिक आर्थिक श्रेणी का भाग था, और इस तरह के धन ने उसे सामान या विलासिता जो पहले अप्राप्य थी, को प्राप्त करने के लिए साधन उपलब्ध कराए.
    • उच्च मध्यम वर्ग ; (सी ए. 19%) इन्हें "व्यावसायिक और प्रबंधकीय" वर्ग भी कहा जाता है, इसमें "मध्यम स्तर के पेशेवर और प्रबंधक" आते हैं, जिनके पास एक कॉलेज और प्रायः स्नातक की डिग्रियां होती हैं. इस समूह के लोगों की घरेलू आय $35,000 (2005 डॉलर में $114,000) और 60,000 डॉलर (2005 डॉलर में $183,000) के बीच होती है.
  • मध्यम अमरीकी
    • मध्यम वर्ग (सी ए. 31%) ) इस वर्ग में "निचले स्तर के प्रबंधक, छोटे व्यापार मालिक, निम्न स्थिति के पेशेवर (एकाउंटेंट, शिक्षक), बिक्री और लिपिकीय" श्रमिक आते हैं. मध्यम वर्ग के व्यक्ति हाई स्कूल और कुछ कॉलेज की शिक्षा प्राप्त करते थे. आमतौर पर उनकी घरेलू आय $10,000 और $ 20000 (2005 डॉलर में $ 30,000 से $60,000) के बीच रहती है.
    • श्रमिक वर्ग (सीए. 35%) इस वर्ग में “उच्चतर शारीरिक श्रम करने वाले (शिल्पकार, ट्रक ड्राइवर); न्यूनतम-भोगी बिक्री तथा लिपिकीय” कार्यकर्ता शामिल हैं. सन 1978 में युवा लोग, जो इस वर्ग के सदस्य थे, ने उच्च विद्यालय की शिक्षा प्राप्त की थी. उनकी घरेलू आय $ 7500 और $15,000 (2005 डॉलर में $23,000 - $45,000) के बीच में थी.
  • निम्न अमरीकी (ca. 13%)
    • अर्द्ध गरीब , इस वर्ग के लोगों ने उच्च विद्यालय की शिक्षा प्राप्त की और इसमें "श्रम और सेवा" श्रमिक शामिल थे. इनकी घरेलू आय $ 4,500 से $ 6000 (2005 डॉलर में $14,000 - $18,000) के बीच थी.
    • निम्नतम वर्ग : , इसमें वे लोग आते है जो "अक्सर बेरोजगार" रहते हैं या कल्याणकारी योजनाओं पर निर्भर रहते हैं.इनकी घरेलू आय 4,500 डॉलर (2005 डॉलर में 14,000 डॉलर) से कम होती है.

थॉमसन और हिक्की[संपादित करें]

2005 में अपनी समाजशास्त्र की पाठ्यपुस्तक "समाज पर केन्द्रित ", में समाजशास्त्री द्वय विलियम थॉमसन और यूसुफ हिक्की ने एक पांच वर्गीय मॉडल की संकल्पना प्रस्तुत की है जिसमें में मध्यम वर्ग को दो वर्गों में बांटा गया है और शब्द श्रमिक वर्ग लिपिकीय तथा बेहतर कार्य करने वाले श्रमिकों के लिए प्रयोग किया गया है. उनकी वर्गीकरण प्रणाली इस प्रकार है:[9]

  • उच्च वर्ग , (सी ए. 1% -5%) के साथ वे व्यक्ति जिनके पास देश के आर्थिक और राजनीतिक संस्थाओं की बहुत अधिक शक्ति है. यह समूह देश के संसाधनों की आय से अधिक शेयर का मालिक है. शीर्ष 1% की $250,000 से अधिक आय थी और शीर्ष 5% की घरेलू आय $140,000 से अधिक थी. इस समूह में सशक्त समूह एकजुटता के गुण विद्यमान है जो विस्तृत पैमाने पर बहु पीढ़ीगत भाग्य के वारिस द्वारा संचालित होते है. इसमें प्रमुख सरकारी अधिकारी, मुख्य कार्यकारी अधिकारी और सफल उद्यमी आते है, भले ही वे उच्च कुलीन पृष्ठभूमि वर्ग में से नहीं है.[9]
  • उच्च मध्यम वर्ग , (सीए. 15%), उन्नत उच्च माध्यमिक शिक्षा प्राप्त कार्यालयकर्मी पेशेवर जैसे, चिकित्सक, प्रोफेसर, वकील, कंपनियों के अधिकारी और अन्य प्रबंधन. जबकि इस समूह में आमतौर पर घरों की आय छह अंकों में है, अधिकतर आय उपार्जकों की नहीं. केवल 6% व्यक्तियों की आय छः अंकों में थी, जबकि 15% उच्च मध्यम वर्ग में थे. जबकि उच्च शिक्षा प्राप्ति सामान्यतः इस समूह की मुख्य पहचान है, उद्यमी तथा व्यापार मालिक भी उच्च मध्यम वर्ग में हो सकते हैं चाहे उनमें उन्नत शिक्षा प्राप्ति का अभाव हो.[9]
  • निम्न मध्यम वर्ग , (सी ए. 33%) के लोग, जिन्होंने महाविद्यालय के माध्यम से कार्य किया, उनके पास सामान्य रूप से स्नातक की उपाधि थी या उन्होंने कुछ महाविद्यालय शिक्षा प्राप्त की थी. विद्यालय के शिक्षक, विक्रय करने वाले कर्मचारी और निम्न से माध्यम श्रेणी के पर्यवेक्षक इस समूह में आते हैं. इनकी घरेलू आय $ 30,000 से $ 75,000 के बीच होती है. इस समूह में मुख्य रूप से कार्यालयकर्मी आते हैं, परन्तु उच्च मध्यम वर्ग के पेशेवरों की तुलना में उन्हें अपने कार्य में कम स्वायत्तता प्राप्त होती है. इस वर्ग के लोग प्राय: उच्च वर्गो के लोगों का अनुकरण करने का प्रयास करते हैं और हाल ही में अपनी आरामदायक जीवनशैली की इच्छा के कारण बहुत अधिक कर्जदार हो गये हैं.[9]
  • श्रमिक वर्ग , (सी ए. 30%) में वे लोग आते हैं जो कार्यालय का कार्य करने के साथ-साथ उद्योगों में शारीरिक श्रम भी करते हैं. मुख्यतः महिला लिपिकीय पदों पर कार्यरत कर्मचारियों का इस वर्ग में होना आम बात है. इस समूह में नौकरी की सुरक्षा निम्न होती है और बेरोजगारी तथा कम होता जा रहा स्वास्थ्य बीमा संभावित आर्थिक खतरे हैं. आमतौर पर इनकी घरेलू आय $16,000 से $ 30,000 के बीच होती हैं.[9]
  • निम्न वर्ग , बेरोजगारी चक्र का पुन: दुहराव, अनेक निम्न-स्तर की अंशकालिक नौकरियां इस समूह के लोगों के लिए सामान्य बात है. बहुत से परिवार गरीबी रेखा से नीचे खिसक जाते हैं, जब रोजगार के अवसर कम हो जाते हैं.[9]

गिल्बर्ट और काल[संपादित करें]

डेनिस गिल्बर्ट ने अमेरिकी वर्ग संरचना' के 6ठे संस्करण (वेड्सवर्थ 2002) के साथ - साथ पूर्ववर्ती पांचवे संस्करण में, अमेरिकी सामाजिक वर्ग का एक संक्षिप्त विभाजन प्रस्तुत किया हैं. डेनिस गिल्बर्ट इस बात पर जोर देते हैं कि "ऐसी कोई विधि नहीं हैं जिसके द्वारा यह सिद्ध किया जा सके कि एक तरीका 'सही' हैं और दूसरा तरीका 'गलत'." वे आगे कहते हैं कि "उनका माडल आय के स्रोत पर जोर देता हैं" और वह घरेलू आय कमाने वाले लोगों की संख्या पर बहुत अधिक निर्भर करती हैं, जो प्रत्येक सामाजिक वर्ग में बहुत अधिक बदलती जाती है. उद्धरण में दिया गया वर्ग विवरण पांचवे संस्करण की पृष्ठ संख्या 284 से 285 से लिया गया है.[10]

  • पूंजीवादी वर्ग ; (सीए. 1%) को "राष्ट्रीय और स्थानीय स्तर पर उपविभाजित किया गया हैं, जिनकी आय का अधिकांश भाग सम्पति से प्राप्त होता है ." हालाँकि, उपरी 1.5% लोगों की आय $250,000 से अधिक हैं, जबकि केवल 146,000, लोग अर्थात 0.01% की आय $1,600,000 या इससे अधिक है.[10]
  • उच्च मध्यम वर्ग ; (सी ए 14%) "...महाविद्यालय प्रशिक्षित पेशेवर और प्रबंधक ( इनमें से कुछ नौकरशाही प्रभुत्व की इतनी ऊंचाई को प्राप्त कर लेते हैं या इतनी धन सम्पति अर्जित कर लेते हैं कि वे पूंजीवादी वर्ग का भाग बन जाते हैं. )" शैक्षणिक उपलब्धि इस वर्ग का मुख्य गुण है. वे खूब कार्य स्वायत्तता और आर्थिक सुरक्षा का उपभोग करते हैं. इस वर्ग में घरेलू आय कमानेवालों की संख्या पर बहुत अधिक निर्भर करती हैं.[10] अमेरिकी जनगणना ब्यूरो के सन 2005 के आर्थिक सर्वेक्षण के अनुसार, उपरी 15% कमाने वाले लोग $62,500 या इससे अधिक कमाते हैं जबकि उपरी 15% घरों की आय छ: अंकों में होती हैं.[11][12]
  • मध्यम वर्ग ; (सी ए. 30%) "... के लोगों के पास महत्वपूर्ण कौशल होता हैं और वे कम पर्यवेक्षण में कार्यस्थल पर विभिन्न प्रकार के कार्य करते हैं. वे पर्याप्त रूप से इतन कमा लेते हैं कि आरामदायक और मुख्यधारा का जीवन जी सकें. इस समूह के कुछ लोग कर्यालयकर्मी होते हैं, जबकि कुछ लोग शारीरिक रूप से श्रम करते हैं.[10] सन 2005 में इस समूह के घरों की आय $50,000 से $90,000 के बीच थी, जबकि व्यक्तिगत आय $27,500 से $52,500 के बीच थी.[11][12]
  • कामकाजी वर्ग ;( सी ए. 30%) "वे लोग जो मध्यम वर्ग से कम योग्य हैं और बहुत अधिक रूटीन के अनुसार, और बारीक निरीक्षण में शारीरिक और लिपिकीय कार्य करते हैं. उनके कार्य के परिणामस्वरूप उन्हें स्थायी आय प्राप्त हो जाती है जो मुख्यधारा के निकट का जीवनस्तर कायम रखने के लिए पर्याप्त होती है." [10] इनकी व्यक्तिगत आय वर्ष 2005 में $10,000 से $27,500 के बीच थी जबकि परिवारों की आय $20,000 से $50,000 के बीच थी.[11][12]
  • निर्धन श्रमिक ; (सी ए. 13%) "...इसमें वे लोग आते हैं जो कम कौशल की नौकरियों में साधारण फर्मों में कार्य करते हैं. इस वर्ग के सदस्य मुख्य रूप से मजदूर, सेवा कार्यकर्ता, या कम वेतन पाने वाले ऑपरेटर होते हैं. उनकी आय उन्हें मुख्य धारा के जीवन स्तर से काफी नीचे रखती है. इसके अलावा, वे स्थायी नौकरियों पर निर्भर नहीं रह सकते हैं." [10] सन 2004 में 12.2% वाले इस निचले तबके की आय $12,500 से कम थी.[12]
  • निम्न वर्ग ; (सी ए. 12%) "... के सदस्यों की श्रमिक वर्ग में भागीदारी सीमित होती हैं और उनके पास इतना धन नहीं होता हैं कि बाहर निकल सकें. बहुत सारे लोग सरकार के द्वारा किए गये स्थानांतरणों पर निर्भर करते हैं." इस वर्ग के लोगों की औसत घरेलू आय प्रतिवर्ष $12,000 होती है, और जनसंख्या में इनका अनुपात 12% के आस-पास है.

चीनी मॉडल[संपादित करें]

चीन के सामाजिक स्तर-विन्यास की संरचना और उत्पति में,[13] समाजशास्त्री ली यी ने सन 1949 के बाद चीन के सामाजिक स्तर-विन्यास की स्पष्ट संकल्पना प्रस्तुत की हैं. वर्तमान समय में चीन में एक कृषक वर्ग, एक कामकाजी वर्ग (शहरी राज्य कार्यकर्ता और शहरी सामूहिक कार्यकर्ता, शहरी गैर -राज्य कर्मचारी, और किसान- मजदूर), एक पूंजीवादी वर्ग (लगभग 1 करोड़ 50 लाख), एक संवर्ग वर्ग (लगभग 4 करोड़), एक अर्द्ध संवर्ग वर्ग (लगभग 2 करोड़ 70 लाख).


ईरानी मॉडल[संपादित करें]

फरहद नोमानी और सोहराब बेहदाद ने अपनी पुस्तक "इरान में वर्ग और श्रमिक; क्या क्रांति का कोई अर्थ होता हैं? " (सिरैक्यूज़ विश्वविद्यालय प्रेस, 2006) में ईरान में सामाजिक वर्गों परिभाषित और परिमाणित किया है तथा क्रांति के बाद के ईरान में सामाजिक वर्गों के विन्यास में परिवर्तन की जांच की है. नोमानी और बेहदाद ने अपने विश्लेषण (à la Erik Olin Wright 1) में तीन आयामों (1) संपत्ति के स्वामित्व, (2) दुर्लभ कौशल/साख पर अधिकार, और (3) संगठनात्मक संपत्ति /प्राधिकार का पालन किया है. उन्होंने चार भिन्न वर्ग - श्रेणियों और राज्य के राजनीतिक पदाधिकारियों की अस्पष्ट श्रेणी की पहचान की है.

  1. पूंजीपति: इसमें आर्थिक गतिविधियों के भौतिक और वित्तीय साधनों के मालिक शामिल हैं, जो मजदूरों को रोजगार देते हैं. पूंजीपतियों को आधुनिक और परंपरागत व्यावसायिक श्रेणियों में विभाजित किया गया है.
  2. छोटा पूंजीपति वर्ग: स्वयं कार्यरत व्यक्ति, जो किसी भी श्रमिक को किराये पर नहीं रखते हैं, इसके बदले वे पारिवारिक अवैतनिक श्रम पर निर्भर करते हैं. इनमें भी आधुनिक और पारंपरिक श्रेणियां शामिल हैं.
  3. मध्यम वर्ग: इसमें राज्य या निजी क्षेत्र के प्रशासनिक, प्रबंधकीय और पेशेवर तकनीकी पदों के कर्मचारी आते हैं. वे कुछ अधिकारों का प्रयोग करते हैं और उससे सम्बंधित स्वायत्तता का उपयोग करते हैं. इस श्रेणी में वे लोग शामिल हैं जो आर्थिक गतिविधियों और राज्य की सामाजिक सेवाओं में कार्यरत हैं. राज्य के राजनीतिक तंत्र में प्रशासनिक या प्रबंधकीय संस्था में कार्यरत कर्मियों को इसमें शामिल नहीं किया गया हैं.
  4. श्रमिक वर्ग: इसमें वे श्रमिक शामिल हैं जिनके पास कोई आर्थिक संसाधन नहीं हैं, और इन्हें मध्यम वर्ग के लोगों को मिले अधिकार और स्वायत्तता का लाभ नहीं मिलता है. वे राज्य या निजी क्षेत्र में कार्यरत कर्मचारी होते हैं जिसमें राज्य के राजनीतिक तंत्र के निचले रैंकों में काम करनेवाले शामिल नहीं होते हैं.

राज्य के राजनीतिक तंत्र में कार्यरत, राजनैतिक प्रशासन में संलग्न, राष्ट्रीय सुरक्षा और घरेलू निगरानी में लगे लोग मिल कर राजनीतिक कार्यतंत्र की अस्पष्ट श्रेणी बनाते हैं. इस श्रेणी में राज्य प्रशासन के उच्च पदों पर आसीन कर्मचारी, प्रबंधक, और सैन्य एवं अर्ध सैनिक बलों के अधिकारी, राजनीतिक तंत्र की रैंक फाइल, आक्रामक बल के निम्न श्रेणी के अधिकारी (जिसमें सैन्य ड्राफटी भी शामिल है) आते हैं.

सन 1979 की क्रांतिकारी उथलपुथल के बाद ईरान के वर्ग पुनर्विन्यासन (नीचे तालिका देखें) पर उल्लेखनीय प्रभाव पड़ा. प्रथम क्रांतिकारी दशक में संचय की प्रक्रिया के विघटन के बाद (खुमैनी काल) पूंजीवादी उत्पादन संबंधों की गति मंद हो गई (संरचनात्मक निवर्तन). इसके परिणामस्वरूप श्रमिकों का ध्रुवीकरण और कृषि का किसनीकरण हुआ और वस्तु व्यापर में समान्य वृद्धि हुई और लघु उद्योगों का प्रसार भी हुआ, छोटे पूंजीपतियों का उदय हुआ, इसके साथ ही राज्य के कार्यों में भी काफी वृद्धि हुई. खुमैनी- काल के बाद आर्थिक उदारीकरण के मध्यम से उत्पादन के पूंजीवादी संबंधों की पुनर्संरचना के लिए किए गए प्रयासों ने पूर्व की प्रवृत्तियों में से कुछ को उलट दिया. दूसरे क्रांति काल के बाद मजदूरों के ध्रुवीकरण और कृषि के गैर-किसानीकरण में वृद्धि दर्ज की गई. प्रथम काल (स्वैच्छिक 2) ने पारंपरिक पूंजीपतियों और लघु उद्योगों को प्रश्रय देने का कार्य किया, जबकि दूसरे काल (गैर स्वैच्छिक) ने अनेक आधुनिक पूंजीपतियों, आधुनिक छोटे बुर्जुआओं, आधुनिक लघु उद्योगों और मध्यम वर्ग (विशेषकर जो लोग निजी क्षेत्र में कार्यरत थे) के उत्थान में महत्वपूर्ण ढंग से सहयोग दिया.

वर्ग संरचना के सन 1996 में 1976 की अवधि की तुलना में आप यह देख सकते हैं कि कुछ विशेष भिन्नताओं के वाबजूद इन दोनों अवधियों के बीच महत्वपूर्ण समानता है. अगर 1986 और 1996 के बीच परिवर्तनों को एक प्रवृत्ति के रूप में माना जा सकता है, तो 1976 की ईरान की वर्ग संरचना आने वाले वर्षों में पुनर्निर्माण की ओर एक पैटर्न है.

1- राइट, एरिक ओलिन (1997) वर्ग गणना: वर्ग विश्लेषण का तुलनात्मक अध्ययन . कैम्ब्रिजः यूनिवर्सिटी प्रेस: कैम्ब्रिज.

2- नोमानी और बेहदाद (2006). ईरान में वर्ग और श्रम, क्या क्रांति का कोई प्रभाव हुआ? सिरैक्यूज़ विश्वविद्यालय प्रेस, अध्याय 3.

मध्यम वर्ग[संपादित करें]

1770 के दशक के लगभग, जब पद “सामाजिक वर्ग” पहली बार अंग्रेजी शब्दकोष में शामिल हुआ, उस संरचना के अंतर्गत “मध्यम वर्ग” की अवधारणा भी उस समय से महत्वपूर्ण हो रही थी. औद्योगिक क्रांति के कारण भी जनसंख्या के बड़े भाग के पास उतना समय था जिसमें वो उस प्रकार की शिक्षा एवं सांस्कृतिक तौर-तरीके अपना रहे थे जो एक समय यूरोपियन अभिजाततंत्र के सामंती विभाजन, बुर्जुआ एवं किसानों तक सीमित थे जो उस काल में शामिल हुआ जो आगे चलकर शहरों एवं नगरों का औद्योगिक सर्वहारा वर्ग बना.

वर्तमान में, सामाजिक वर्ग की अवधारणाएं तीन सामान्य कोटियों को शामिल करती है: मालिकों एवं वरीय प्रबंधकों का उच्च वर्ग; लोगों का मध्यम वर्ग जो शायद अन्य लोगों पर बल नहीं लगाते, लेकिन वाणिज्य, भू-स्वामित्व या व्यवसायिक रोजगार के द्वारा महत्वपूर्ण आय प्राप्त करते हैं और एक निम्न वर्ग जो अपनी जीविका के लिए मजदूरी पर निर्भर रहता है.

तथापि यह महत्वपूर्ण है कि इस प्रकार के वर्ग मॉडल की ब्रिटिश वर्ग अवधारणा से अंतर की विशिष्टता को दिखाने के लिए जिसमें पद उच्च, मध्यम एवं श्रमिक वर्ग की भिन्न परिभाषाएं हैं. मुख्य अंतर का संबंध वंशागत संपदा एवं भू-संपदा से है जो को उच्च वर्ग की सुनिश्चित विशिष्टता है. इस वर्ग के सदस्यों को यह मध्यम वर्ग से अलग करता है जिनकी सदस्यता ज्यादा अनिश्चित एवं रोजगर परिस्थिति और इसकी आय पर निर्भर करती है. यह एक वृहत सामान्यीकरण है क्योंकि मध्यम वर्ग के अण्तर्गत कई वर्ग हैं, जैसे उच्च मध्यम वर्ग जिनकी संस्कृति में रूचि एवं उनके तौर-तरीके मध्यम वर्ग के अन्य स्तरों से भिन्न हैं, लेकिन इसके बावजूद एक उपयोगी चिन्हक है जिसके द्वारा वर्ग की ब्रिटिश अवधारणा का नए विश्व से अंतर दिखाया जाता है.

संयुक्त राज्य में, “मध्यम वर्ग” शब्द का उपयोग बहुत विस्तृत रूप में किया जाता है एवं इसमें वो लोग भी शामिल होते हैं जिन्हें अन्य जगहों पर श्रमिक वर्ग कहा जाता है. जैसे कि अमेरिकियों का अधिकांश बहुमत अपनी पहचान मध्यम वर्ग के रूप में मानता हैं, यहां एकाधिक सिद्धांत है कि कौन अमेरिकी मध्यम वर्ग में शामिल है. इस पद का प्रयोग जीवन के सभी क्षेत्रों के लोगों, द्वारपाल से लेकर न्यायवादों तक के लिए होता है.[14][15] मध्यम वर्ग की परिभाषा भी व्यक्ति के परिप्रेक्ष्य में प्रासंगिक है. अमेरिका जैसे अमीर देशों में उच्च जीवन स्तर होने के कारण, यह शब्द मध्यम वर्ग दुनिया भऱ में लोगों के बहुमत के जीवन स्तर के लिए भी प्रासंगिक है.

इस दृष्टिकोण से, यह शब्द मध्यम वर्ग और अधिक समावेशी हो जाता है. इसके परिणामस्वरूप अमेरिकी मध्यम वर्ग अक्सर दो या तीन समूहों में उप-विभाजित है. जबकि सिद्धांतों के एक का समूह दावा है कि मध्यम वर्ग में वे लोग शामिल हैं जो सामाजिक स्तरीकरण के मध्य में हैं, जबकि अन्य सिद्धांत दृढ़तपूर्वक दावा करता है कि मध्यम वर्ग में अधिकांशतः ऐसे पेशेवर एवं प्रबंधक शामिल हैं जिनके पास कॉलेज की डिग्री है.[16] 2005 में लगभग 35% अमेरिकी पेशेवर/पेशेवर सहायता या प्रबंधकीय क्षेत्र में कार्य करते थे और 27% के पास कॉलेज की डिग्री थी.[17] डेनिस गिलबर्ट या जोसेफ जे. हिक्की जैसे समाजशास्त्री तर्क देते हैं कि मध्यम वर्ग दो उप-समूहों में विभाजित है. उच्च मध्यम वर्ग में सफेदपोश पेशेवर शामिल हैं जिन्हें उच्च शिक्षा मिली है और जो जनसंख्या का लगभग 15% हैं. 2005 में शीर्ष 15% आय अर्जकों (उम्र 25+) की आय $62,500 से अधिक थी.[18] निम्न मध्यम वर्ग (या मध्य-मध्यम वर्ग उनके लिए जो मध्यम वर्ग को तीन खण्डों में बांटते हैं) में मुख्यतया अन्य सफेदपोश कर्मचारी शामिल हैं जिन्हें अपने कार्यों में उच्च मध्यम वर्ग की तुलना में कम स्वायतत्ता, निम्न शैक्षणिक उपलब्धि, निम्न वैयक्तिक आय एवं निम्न प्रतिष्ठा हासिल होती है.

गिलबर्ट, हिक्की, जेम्स हेम्सलिन एवं विलियम थॉम्पसन जैसे समाजशास्त्रियों ने वर्ग मॉडल प्रस्तुत किए हैं जिनके अनुसार मध्यम वर्ग को दो खण्डों में विभाजित किया गया है जो सम्मिलित रूप से जनसंख्या के 47% से 49% तक का प्रतिनिधित्व करते हैं.[9][19][20] अर्थशास्त्री माइकल ज्वेग वर्ग की परिभाषा जीवनशैली या आय के आधार की बजाय एक समाज के सदस्यों के बीच शक्ति संबंधों के रूप में देते हैं.[21] ज्वेग कहते हैं कि मध्यम वर्ग अमेरिकी जनसंख्या का लगभग 34% है, जो विशिष्ट रूप से प्रबंधकों, पर्यवेक्षकों, छोटे व्यवसाय स्वामियों एवं अन्य पेशेवर लोगों से मिलकर बना है.

विभिन्न समाजों में वर्ग संरचना[संपादित करें]

हालांकि वर्ग किसी भी समाज में पहचाना जा सकता है, कुछ संस्कृतियों ने श्रेणी के लिए विशिष्ट निर्देशों को प्रकाशित किया है. कुछ मामलों में, इन श्रेणियों में प्रस्तुत आदर्श सामाजिक वर्ग की मुख्य धारा शक्ति तर्कविद्या से मेल नहीं खा सकते जैसा कि आधुनिक अंग्रेजी के उपयोग में समझा जाता है.

पूर्व पूंजीवादी वर्ग संरचना[संपादित करें]

प्राचीन रोम[संपादित करें]

प्राचीन रोम में सामाजिक वर्ग ने रोमनों के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. प्राचीन रोमन समाज पदानुक्रमित था. स्वतंत्र जन्में वयस्क रोमन नागरिक वंशानुगत एवं संपत्ति दोनों दृष्टिकोणों से कई वर्गों में विभाजित थे. कई गैर-नागरिकों के विविध वर्ग भी थे जिन्हें विभिन्न कानूनी अधिकार प्राप्त थे, दासों के साथ, जिनके कोई अधिकार नहीं थे और वे अपने स्वामियों द्वार निकाले या बेचे जा सकते थे.

यूरोप का पुनर्जागरण[संपादित करें]

15वीं सदी के अंत में फेरारा में शैक्षिक सहायक के रूप में मन्टेगना तरोची, नामक कार्डों का एक सेट बनाया गया जिसमें “मनुष्य की स्थितियों” के लिए बड़े पैमाने पर ग्रामीण जनसंख्या की अनदेखी करते हुए: निम्नलिखित पदानुक्रम का उपयोग किया गया,

1 भिखारी
2 नौकर (फैमिग्लियो)
3 शिल्पकार (आर्टिजियानों)
4 सौदागर (मरकैण्टे) - अनुमानतः भू-स्वामी के रूप में आय प्राप्ति के रूप में मुख्यतया रहनेवाले
5 भद्रपुरूष (जेन्टिल्युओमो)
6 सामंत (केवेलियर)
7 डोगे (डोगे) - उदाहरण एक स्थानीय शासक
8 राजा (रे)
9 सम्राट (इम्पेरेटोर)
10 पोप (पापा)

एज़्टेक[संपादित करें]

एज़्टेक समाज पारंपरिक रूप से वर्गों में विभाजित किया गया था. सर्वोच्च वर्ग थे पीपिल्टिन या कुलीन.[22] मूलतः पद आनुवांशिक नहीं थे, यद्यपि पिलिस के बेटों की पहुंच बेहतर संसाधनों और शिक्षा तक थी, इसलिए उनके लिए पिलिस होना ज्यादा आसान था. बाद में वर्ग व्यवस्था ने आनुवांशिक पहलुओं को ले लिया.[23]

दूसरा वर्ग था मासेहुएल्टीन (जनता), मूलतः किसान. इडुआरडो नोगुएरा[24] का अनुमान है कि बाद के चरणों में जनसंख्या का केवल 20% ही कृषि और खाद्यान्न उत्पादन के प्रति समर्पित किया गया. समाज के अन्य 80% योद्धा, शिल्पी एवं व्यापारी थे.[25]

दास या त्लाकोतिन भी एक महत्वपूर्ण वर्ग का निर्माण करते थे. एज्टेक ऋणों, आपराधिक दण्डों के कारण या युद्धबंदियों के रूप में दास हो सकते थे. एक दास के पास स्वयं की संपत्ति हो सकती थी और यहां तक कि उनके अपने अन्य दास भी.

घुमन्तु सौदागर जो पोकटेकाह कहलाते थे, छोटे लेकिन महत्वपूर्ण वर्ग थे क्योंकि इन्होंने न केवल वाणिज्य को बढ़ाया बल्कि महत्वपूर्ण सूचनाओं को साम्राज्य के चारों ओर और सरहदों के पार भी संचारित किया. उन्हें अक्सर जासूस के रूप में नियुक्त किया जाता था.

चीनी[संपादित करें]

कनफ्यूशियस-पूर्व चीन में, सामन्ती व्यवस्था ने जन्संख्या को छह भागों में बांटा था. 4 कुलीन वर्गों के साथ जिसमें सबसे ऊपर राजा (王, वांग), उससे नीचे ड्युक (诸侯, झुहाऊ), तब महान व्यक्ति (大夫, डेफ्यू) एवं अंत में विद्वान (士, शी) था. कुलीन वर्गों के नीचे थे सामान्य जन (庶民, श्यूमिन) एवं दास (奴隶, न्यूली) थे.

कन्फ्यूशियन वर्गों के लिए नीचे दी व्याख्या का मुख्य अनुच्छेद देखें: चार व्यवसाय

कन्फ्यूशियन सिद्धांत ने बाद में कुलीनों (सम्राट को छोड़कर) के महत्व को कम किया, महान व्यक्ति एवं विद्वानों को कुलीन वर्ग के रूप में समाप्त किया एवं आगे जनसामान्य को उनके कार्य की उपयोगिता को समझते हुए उसके आधार पर विभाजित किया. विद्वान (अब विशिष्ट रूप से कुलीन नहीं) को सर्वोच्च स्थान मिला उस अवसर के कारण कि फुरसत के क्षणों में स्पष्ट विचारों को ग्रहण करने से बुद्धिमत्तापूर्ण कानूनों (एक विचार जो कि एक दार्शनिक राजा के प्लेटो के आदर्श के साथ काफी समान हो) से उनका नेतृत्व करेंगे. विद्वान मुख्यतया कुलीन वर्ग से थे, जो जमीन के स्वामी थे एवं शिक्षित और अमीर हो सकते थे, लेकिन अभिजात-वर्गीय उपाधियां नहीं थी. उनके नीचे किसान थे जो आवश्यक खाद्यान्न उपजाते थे एवं शिल्पकार थे जो उपयोगी वस्तुओं का उत्पादन करते थे. सौदागरों का पद सबसे नीचे था, क्योंकि वे वास्तव में किसी भी चीज का उत्पादन नहीं करते थे, जबकि कभी-कभी सैनिकों का दर्जा इनकी उत्सर्जनीयता को महसूस करते हुए इनसे भी नीचे होता था. कन्फ्यूशियन मॉडल सामाजिक वर्ग के आधुनिक यूरोपियन दृष्टिकोण से विशेषरूप से भिन्न है, चुंकि एक गरीब किसान के अनुरूप सामाजिक स्थिति को प्राप्त किए बिना भी सौदागर अपार धन प्राप्त कर सकते थे. व्यवहार में, एक अमीर सौदागर किसान की स्थिति तक पहुंचने के लिए जमीन खरीद सकता था या यहां तक कि अपने उत्तराधिकारियों के लिए एक अच्छी शिक्षा खरीद सकता था, इस आशा के साथ कि वे विद्वान का दर्जा हासिल करेंगे और शाही नागरिक सेवा में जाएंगे. चीनी मॉडल व्यापक रूप से सम्पूर्ण एशिया में फैलाया गया था. [2]

क्रांति-पूर्व फ्रांसीसी[संपादित करें]

फ्रांस एक ऐसा राजतंत्र था जिसमें राजा एवं अन्य राजकुमार वर्ग संरचना में सर्वोच्च थे. फ्रांसीसी स्टेट्स-जनरल 1302 में स्थापित एक ऐसा विधानमंडल था जिसके सदस्यों की श्रेणी वंशानुगत वर्ग से निर्धारित थी. प्रथम एस्टेट थे पादरी, सभी रोमन कैथोलिक, एवं इस समय तक बिशपों के साथ एवं उच्च भूमिकाओं पर कुलीन वर्ग के पुत्र छाए रहे. द्वितीय एस्टेट में कुलीन वर्ग के सामान्य लोग शामिल थे, जो कुल जनसंख्या के लगभग दो प्रतिशत के आसपास थे. तृतीय एस्टेट, तकनीकी रूप से, अन्य सभी से मिलकर बना था, लेकिन जिसमें एक दुरूह प्रणाली द्वारा निर्वाचित प्रतिनिधियों का प्रतिनिधित्व था, व्यवहार में उन बुर्जुआ वकीलों द्वारा भरा था जो विभिन्न क्षेत्रीय संसदों में पदों पर आसीन रहे थे. इस प्रणाली में किसानों की कोई आधिकारिक प्रस्थिति नहीं थी. इसकी विषमता कन्फ्यूशियन चीन में कृषक वर्ग के सैद्धान्तिक रूप से उच्च स्तर से स्थापित की जा सकती है. फ्रांसीसी वंशानुगत प्रणाली की कठोरत को फ्रांसीसी क्रांति के मुख्य कारण के रूप में माना जाता है.

इंका[संपादित करें]

भारतीय[संपादित करें]

पारंपरिक रूप से भारतीय जाति व्यवस्था सामाजिक वर्ग की सबसे पुरानी एवं सर्वाधिक महत्वपूर्ण व्यवस्था थी. यह वर्णाश्रम धर्म [26] से भिन्नता रखता है जो हिन्दूवाद में पाया गया, जिसके अंतर्गत किसी निश्चित वर्ण में जन्म लिए व्यक्ति को अपनी योग्यता के अनुसार ऊपर या नीचे जाने की अनुमति थी. इसने समाज को कौशल और योग्यता के आधार पर विभाजित किया. संक्षेप में, ब्राह्मण वर्ण को धीरे-धीरे आदर्श के रूप में पुरोहित वर्ग माना गया जो धार्मिक अनुष्ठान करते थे, जबकि क्षत्रिय सैनिक राजकुमारों के रूप में उनकी रक्षा करते थे. मध्यम वर्ग की आधुनिक अवधारणा का प्रतिनिधित्व वैश्य वर्ण, शिल्पकारों, किसानों एवं सौदागरों द्वारा होता था जबकि निम्न वर्ण में शूद्र श्रमिक थे. इस मूल संरचन के अंतर्गत बड़ी संख्या में जातियां और उप-जातियां व्यवस्थित थीं. इसे एक धार्मिक व्यवस्था (हिन्दूवाद में वर्णाश्रम धर्म के रूप में वर्णित) नहीं मानना चाहिए बल्कि एक समाजिक व्यवस्था, जो वर्णाश्रम धर्म से विकसित हुआ. 1947 में ब्रिटिश आधिपत्य की समाप्ति के बाद भारतीय संविधान ने जति व्यवस्था उन्मूलन के के लिए विविध सकारात्मक कार्य योजनाएं बनाई. मुख्य वर्णों की सूची से बाहर लोगों को अछूत कहा गया, जो “द्विज” या उच्च तीन वर्णों द्वारा नहीं छुए जा सकते थे.

ईरानी[संपादित करें]

ईरान के कजर राजवंश के अधीन, वर्ग-संरचना निम्नलिखित प्रकार से संगठित हुई :

  • कजार राजकुमारों का स्थाई वंशानुगत वर्ग
  • “कुलीनों एवं विशिष्टों” का उच्च वर्ग
  • धार्मिक नेतागण एवं धर्मविज्ञान के विद्यार्थी
  • सौदागर (पूर्वी एशियाई मॉडलों से अंतर पर ध्यान दें)
  • कृषिगत भूस्वामी
  • उत्कृष्ट शिल्पकार एवं दुकानदारगण

कई आधिकारिक वर्ग संरचना की तरह, श्रमिक जो जनसंख्या के अधिकांश होते और मजदूरी पर निर्भर करते वो किसी भी प्रकार संरचना के हिस्से नहीं माने जाते थे. [3]

जापानी[संपादित करें]

जापानी वर्ग संरचना, हालांकि चीनी से प्रभावित थी, ज्यादा सामंती वातावरण पर अधारित थी. सम्राट को द्वितीय विश्व-युद्ध के पूर्व तक देवता नहीं माना गया था, सैनिक शासन ने ऐसा माना लेकिन अभी भी निर्विवाद रूप से जापानी वर्ग-संरचना (और अभी भी है, हालांकि आधिकारिक रूप से अब ईश्वर नहीं माने जाते) में चोटी पर था. तथापि जापान के अधिकांश इतिहास में सम्राट को महल के मैदान से बाहर जाने की अनुमति नहीं थी और एक शोगुन या सैनिक तानाशाह के द्वारा उसकी इच्छा “समझा” जाता था. शोगुन के नीचे, दाइमियों या क्षेत्रीय स्वामी थे, जिन्होंने प्रांतों पर अपने समुराई लेफ्टिनेंटों के सहारे शासन किया. संभवतः चीनी प्रभाव के द्वारा और कृषि भूमि की कमी से प्रेरित होकर जापानी वर्ग संरचना में कृषकों को सौदागरों एवं अन्य बुर्जुआओं के ऊपर रखा गया. स्वर्ण युग के बाद वर्ग बदल गए.

कोरियन[संपादित करें]

कोरियन शासक वर्ग या कोरियन शक्ति अभिजात्य तुलनात्मक रूप से कोरियन लोगों की एक छोटी संख्या है जो समान स्कूलों, शिक्षा, परिवार गोत्रों, पालन-पोषण या कारपोरेट चाइबोल धन एवं शहरी शक्ति के सहारे विभाजित कोरिया के दोनों ओर निर्णय प्रक्रिया एवं निर्णय को नियंत्रित किया.

इस समूह को कन्फ्यूशियनवाद एवं यांगबान विद्वानों की ऐतिहासिक परंपरा के भीतर रखा गया जिनके रचना की तिथि को गोरयेओ वंश के अंत में रखी जा सकती है; और वो 1945 के बाद गणतंत्रवादी एवं समकालीन समय तक जारी रही और जिसका प्रतिनिधित्व कोरिया की राजनीति और अर्थव्यवस्था के नियंत्रणकारी हितैषी प्रबंधक द्वारा किया जा रहा था वरिष्ठ या जनसंख्या के वरिष्ठ शहरी निवासियों द्वारा जो वर्ग, धर्म, दल एवं राजनीतिक रेखाओं से बाहर है.

मलय[संपादित करें]

पूर्व औपनिवेशिक इंडोनेशिया, मलेशिया और फिलीपीन के सामाजिक वर्गों में कुलीनता (महार्लिका), फ्रीमेन (टिमावा) और सेर्फ (अलिपिन) शामिल हैं.

कुलीन वर्ग से उच्चतम "राजा" (भारतीयकृत), "सुल्तान" (इस्लामीकृत) या "हरि" (मलय) राजा के रूप में और शासक वर्ग में उच्चतम, “दातु” के रूप में सरदार या तो स्वतंत्र या राजा के अधिकार के अधीन "मगीनू" या रईस आते हैं.

फ्रीमेन “तिमावा” कहलाते हैं जिनमें शामिल हैं “मंदिरिग्मा” (सैनिक), “मंगंगलाकल” (व्यापारी) और पुजारी/पुजारिन (बबयलान, उमालोहोकान, आपो या मुम्बाकी).

सेर्फ या दास जो "अलिपिन" कहलाते हैं, मलय समाज की सीढ़ी की सबसे नीची पायदान हैं. वे या तो रईसों या फ्रीमेन के गुलाम होते हैं. गुलाम स्वयं अपनी पत्नियों नहीं चुन सकते या उनके मालिक की सहमति से ही उनके बच्चे हो सकते हैं.

पूंजीवादी वर्ग संरचना[संपादित करें]

युनाइटेड किंगडम[संपादित करें]

यूनाइटेड किंगडम की संसद में अभी भी पूर्व पूंजीवादी यूरोपीय वर्ग संरचना विद्यमान है. रानी सामाजिक वर्ग संरचना के शीर्ष पर हॉउस आफ लार्ड्स के साथ अपनी स्थिति बनाए रखती है, और बहुत हाल ही तक वंशानुगत उच्च वर्ग का प्रतिनिधित्व करती है, हालाँकि जीवन की अभिजताता के कारण हॉउस आफ लार्ड्स के विशाल बहुमत वाले सामंत सामान्य रूप से जन्म लेते हैं, क्योंकि उनका जन्म इस वर्ग में नहीं होता हैं,[कृपया उद्धरण जोड़ें], और हॉउस आफ कामन्स तकनीकी रूप से सभी का प्रतिनिधित्व करता हैं. 20वी सदी के प्रारंभ तक हॉउस आफ कामन्स उद्योगपतियों और भू-स्वामियों का प्रतिनिधित्व करता था. विकटोरिया काल में यूनाइटेड किंगडम में सामाजिक वर्ग राष्ट्रीय उपेक्षा का शिकार बन गया, क्योंकि हॉउस आफ कामन्स के नवधनाढ्य उद्योगपति हॉउस आफ लार्ड्स के भू-स्वामियों के समान सामाजिक स्थिति अर्जित करने का प्रयास संस्कृति, शादी पदवी तथा असंगतताओं के निर्माण के माध्यम से करने लगे.

एक समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण से ब्रिटेन में वर्ग प्रणाली 'थैचर काल' के दौरान पर्याप्त रूप से परिवर्तित हो गई. गृह स्वामित्व (बंधक रखने पर) सम्पूर्ण माध्यम वर्ग और नीचे के वर्ग तक विस्तृत हो गया. बाजार से परंपरागत औद्योगिक श्रमिक वर्ग की नौकरियों की बहुसंख्या में कम होने के साथ ही, श्रमिक वर्ग के नीचे एक नया कामकाजी वर्ग उभर कर सामने आया. निम्न वर्ग को बेरोजगार वर्ग के रूप में परिभाषित किया गया, जो राज्य द्वारा प्रदत्त लाभों पर निर्भर रहती हैं. यह ब्रिटिश वर्ग तंत्र में सबसे नीचे का वर्ग है.

ब्रिटेन में माना जाता हैं कि निम्न सामाजिक स्थिति के लोग उच्च आय अर्जित कर सकते हैं, परन्तु एक व्यक्ति का सामाजिक वर्ग काफी हद तक उनके माता पिता के व्यवहार, शिक्षा और सामाजिक प्रतिष्ठा के आधार पर किया जाता हैं.

इटली[संपादित करें]

लैटिन अमेरिकी[संपादित करें]

औपनिवेशिक लैटिन अमेरिका में शक्ति और धन की स्थिति तक पहुंच को नस्लों के आधार पर चित्रित किया गया हैं. तदनुसार, प्रायद्वीपीय लोग (स्पेन में जन्म लेने वाले स्पेनियार्ड्स और पुर्तगाल में जन्म लेने वाले पुर्तगाली) उच्च पदों पर आसीन हो गए- जिसमें शीर्ष रैंक-वायसराय, कप्तान जनरल, आदि शामिल हैं. वे क्रियोलोस कहलाये (जो स्पेनियार्ड्स लोगों के सीधे वंशज थे किंतु अमेरिका में जन्मे थे), जिनके पास पर्याप्त शक्ति थी, परन्तु जिन्हें सर्वोच्च निर्णय लेने वाले पदों से वंचित रखा गया था. इन तीन के बाद वहां की जाति व्यवस्था थी, जो अपनी श्रेणी के अनुसार सूचीबद्ध थी, वहां लगभग सौ जातियां थी, उनमें से एक थी:

  • मेस्तिजो (मिश्रित अमेरिंडियन और स्पेनी);
  • मुलाटो (मिश्रित स्पेनियार्ड और अफ्रीकी)
  • अमेरिंडियन
  • ज़म्बो (मिश्रित अमेरिंडियन और अफ्रीकी)
  • नीग्रो

उल्लेखनीय यह है कि आज भी वहां वर्ग और जातीयता के बीच एक मजबूत सहसंबंध है.

न्यूज़ीलैंड[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका की सामाजिक संरचना की एक अस्पष्ट परिभाषित अवधारणा है जिसमें सामान्यरूप से प्रयोग किये जाने वाले कई पारिभाषिक शब्द जैसे कि शिक्षा प्राप्ति, आय, धन, और व्यावसायिक प्रतिष्ठा इस वर्ग के मुख्य निर्धारक कारक हैं. हालांकि अमेरिकी समाज के दायरे के भीतर सामाजिक वर्गों के दर्जनों वर्गों का निर्माण करना संभव है, अधिकांश अमेरिकी पाँच या छः वर्ग प्रणाली को स्वीकार करते हैं. सबसे अधिक प्रयुक्त वर्ग अवधारणायें जो समकालीन अमेरिकन समाज के संबंध में प्रयुक्त की गई वे निम्नलिखित हैं:[9]

  • उच्च वर्ग: महान प्रभाव, धन, तथा प्रतिष्ठा वाले लोग. इस समूह के सदस्य प्रभावशाली नीति-निर्माता होते हैं और राष्ट्रीय संस्थाओं पर काफी प्रभाव रखते हैं. इस वर्ग का जनसंख्या में अनुपात 1% हैं और वे निजी सम्पति के एक-तिहाई पर अधिकार रखते हैं.[27]
  • उच्च मध्यम वर्ग: उच्च मध्यम वर्ग में कार्यालय में कार्य करने वाले कर्मचारी होते हैं जिनके पास आधुनिक उच्चतर माध्यमिक शिक्षा की डिग्री और सुविधाजनक व्यक्तिगत आय के साधन होते हैं. उच्च मध्यम वर्ग के पेशेवरों को कार्यस्थल में बड़ी मात्रा में स्वायत्तता प्राप्त है तथा इसलिए उच्च नौकरी से संतुष्टि का आनंद लेते हैं. आय के संदर्भ में और थॉम्पसन, हिक्की, और गिल्बर द्वारा प्रयोग किये गये आंकड़ों के अनुसार 15% की जनसंख्या पर विचार करते हुए , उच्च मध्यम वर्ग के पेशेवरों की आय लगभग $ 62,500 (41,000 या £ 31500 ) या अधिक होती हैं, और उनकी घरेलू आय छः अंकों की होती है.[9][16][28]
  • (निम्न मध्यम वर्ग): अर्द्ध-पेशेवर, गैर खुदरा विक्रयकर्मी, और कारीगर आते हैं, जिनके पास कॉलेज की कुछ शिक्षा होती हैं. इस वर्ग के लोगों के लिए जो कार्य की कमी से पीडित हैं, उनके लिए आउट सोर्सिंग एक प्रमुख समस्या हो जाती है.[9][29] इस वर्ग के लोगों में घरेलू आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए दो कमाने वालों की जरूरत होती है और इस कारण इनकी घरेलू आय उच्च मध्यम वर्ग के पेशेवरों जैसे कि अटर्नी की व्यक्तिगत आय के साथ प्रतिस्पर्द्धा करती है.[29]
  • श्रमिक वर्ग: कुछ विशषज्ञों जैसे कि माइकल ज्वेइग के अनुसार इस वर्ग में बहुसंख्यक अमेरिकी आते हैं जिनमें वे भी शामिल हैं जो अन्यथा निम्न मध्यम वर्ग में आते हैं.[30] इसमें कार्यालय में काम करने वाले कर्मचारियों के साथ-साथ शारीरिक श्रम करने वाले लोग आते हैं जिनकी आपेक्षिक व्यक्तिगत आय कम होती हैं और उनके पास कालेज की डिग्री का आभाव होता है और इस वर्ग के अधिकांश लगभग 45% अमेरिकी ऐसे होते हैं जिन्होंने कभी कालेज का मुहं नहीं देखा होता.[9]
  • निम्न वर्ग: इस वर्ग में समाज के गरीब, अलग -थलग और हाशिये पर के सदस्य भी शामिल है. इस वर्ग श्रेणी के अधिकांश लोग कार्य करते हैं, इसके वाबजूद यह आम बात हैं कि गरीबी के अन्दर-बहार होते रहते हैं.[9]

वर्तमान मुद्दे[संपादित करें]

वहां समाजशास्त्र के क्षेत्र में भयंकर बहस हो चुकी थी कि क्या सामाजिक वर्ग पहचान को आकार देने के संदर्भ में प्रासंगिक हो गया है या नही. तर्क बता रहे हैं कि यह अब प्रासंगिक नही रहा है जिसे उत्तर आधुनिक युग के समर्थकों द्वारा आगे लाया जाता है. वर्ग के लिए एक तर्क जिसे महत्वहीन किया जा रहा है इस प्रकार है:

वर्ग की प्रासंगिकता के खिलाफ तर्क[संपादित करें]

  • फ्रांसीसी समाजशास्त्री मैटी डोगन ने अपनी "औद्योगिक सोसायटी में स्थिति विसंगति के लिये सामाजिक वर्ग तथा धार्मिक पहचान से" (तुलनात्मक समाजशास्त्र , 2004) में तर्क दिया है कि सामाजिक वर्ग की प्रासंगिकता कम हो गयी है, सामाजिक पहचान की भिन्न स्थितियों को अलग रूप देने के लिये जो कि मोटे तौर पर सांस्कृतिक और धार्मिक है, तथा जो पहचान संघर्ष को जन्म देती है जिसे स्थिति विसंगति कहा गया है. यह विशेष रूप से विकासशील देशों के साथ साथ कई बाद के औद्योगिक समुदायों में भी देखा जा सकता था.

वर्ग की प्रासंगिकता के लिए तर्क[संपादित करें]

सामाजिक विज्ञान के प्रमुख क्षेत्र अभी भी व्यक्तिगत पहचान के लिये वर्ग आधारित स्पष्टीकरण पर निर्भर करते हैं, उदाहरण के लिए, नीचे से इतिहास मार्क्सवाद के इतिहास का स्कूल. मार्क्सवादी प्रभावित सोच से परे, अभी भी काफी सबूत हैं जो यह बता रहे हैं कि वर्ग सभी को प्रभावित करते हैं. विभिन्न समाजशास्त्रियों के कुछ विचार इस प्रकार हैं.

  • जोर्डन ने सुझाव दिया कि जो लोग गरीबी में थे उनका अपने परिवार तथा काम के प्रति वैसा ही दृष्टिकोण था जैसा दूसरे वर्गों में था, इसका सर्वेक्षण के साथ बचाव किया गया जिसमें कहा जा रहा है कि गरीब/श्रमिक वर्ग/निम्न वर्ग आदि समाज में अपनी स्थिति के बारे में शर्म महसूस करते हैं.
  • मैकिंटोश और मूनी ने बताया कि अभी भी एक उच्च वर्ग था जो दूसरे वर्गों से अपने आपको अलग करता हुआ प्रतीत होता है. उच्च वर्ग में प्रवेश करना लगभग असंभव है. उन्होने (उच्च वर्ग) अपनी गतिविधियों (शादी, शिक्षा, मित्र समूह) को एक बंद व्यवस्था के रूप में रखा.
  • मार्शल एट अल ने बताया कि कई दस्ती वर्ग के श्रमिक अभी भी कई वर्गों के मुद्दों के प्रति जागरुक हैं. वे संभावित हितों के टकराव में विश्वास करते थे, तथा खुद को श्रमिक वर्ग के रूप में देखते थे. यह उन उत्तर आधुनिक दावों का विरोध करता है जिसमें कहा गया है कि यह खपत है जो एक व्यक्ति को परिभाषित करती है.
  • एंड्रयू एडोनिस और स्टीफन पोलार्ड (1998) ने एक नया उच्च वर्ग खोजा, जिसमें अभिजात्य पेशेवर तथा प्रबंधक शामिल थे, जिन्हें उच्च वेतन तथा स्वामित्व में भागीदारी हासिल थी.
  • चैपमैन ने बताया कि अभी भी एक स्वयं-भर्ती करने वाले उच्च वर्ग की पहचान का अस्तित्व था.
  • डेनिस गिल्बर्ट का तर्क है कि किसी भी जटिल समाज में रहने के लिये वर्ग का अस्तित्व अवश्यंभावी है जैसे कि सभी व्यवसाय समान नही हैं तथा घर पारस्परिक क्रियाओं का स्वरूप बनाते है जो सामाजिक वर्गों उत्पन्न करते हैं.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

आगे पढ़ें[संपादित करें]

  • आर्कर, लुईस एट अल. उच्च शिक्षा और सामाजिक वर्ग: बहिष्कार और समावेश के मुद्दें (रूटलेजफामर, 2003) (ISBN 0-415-27644-6)
  • एरोनोविट्ज़, स्टेनली, वर्ग कैसे काम करता है: सत्ता और सामाजिक आंदोलन , येल यूनिवर्सिटी प्रेस, 2003. ISBN 0-300-10504-5
  • Barbrook, Richard (2006). The Class of the New (paperback ed.). London: OpenMute. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-9550664-7-6. http://www.theclassofthenew.net. 
  • बेकर्ट, स्वेन, और जूलिया बी रोसेंबौम, एड्स. अमेरिकी मध्यवर्ग: उन्नीसवीं सदी में विभेद और पहचान (पैलग्रेव मैकमिलन, 2011) 284 पृष्ठ; उत्तर में शहरों पर ध्यान देने के साथ साथ अमेरिकी मध्य वर्ग के आदत, शिष्टाचार, नेटवर्क, संस्थाएं, और सार्वजनिक भूमिका पर विद्वानों का अध्ययन.
  • बर्टॉक्स, डैनियल, और थॉमसन, पॉल; सामाजिक वर्ग के पथ: सामाजिक गतिशीलता पर गुणात्मक दृष्टिकोण (क्लैरेंडन प्रेस, 1997)
  • बिसन, थॉमस एन, सत्ता की संस्कृति: यूरोप में बारहवीं में प्रभुत्व, पद और प्रक्रिया (पेनसिल्वेनिया विश्वविद्यालय प्रेस, 1995)
  • ब्लाउ, पीटर और डंकन ओटिस डी.; अमेरिकी व्यावसायिक संरचना (1967) संरचना और गतिशीलता पर उत्कृष्ट अध्ययन
  • ब्रैडी, डेविड "दरिद्रता के समाजशास्त्रीय प्रमाण पर पुनर्विचार" सामाजिक बल खंड 81 संख्या 3, (मार्च 2003), पीपी 715-751 (प्रोजेक्ट म्युज़ में सार ऑनलाइन).
  • ब्रूम, लियोनार्ड और जोन्स, एफ.लैनकास्टर, ऑस्ट्रेलिया में उपयुक्तता सिद्धि (1977)
  • कोहेन, लिज़ाबेथ; उपभोक्ता के गणराज्य , (नौफ़, 2003) (ISBN 0-375-40750-2). (संयुक्त राज्य अमेरिका में वर्ग के बाहर काम कर रहे लोगों पर ऐतिहासिक विश्लेषण).
  • क्रोइक्स, जेफ्री डी स्टे.; "मार्क्स के प्राचीन और आधुनिक इतिहास के विचार में वर्ग", न्यू लेफ्ट रिव्यू, संख्या 146, (1984), पीपी 94-111 (मार्क्स के अवधारणा का उत्तम अध्ययन)
  • डार्गिन, जस्टिन रूस के एनर्जी वर्ग का जन्म , एशिया टाइम्स (2007) (रूस में समकालीन वर्ग के गठन का उत्तम अध्ययन, पोस्ट साम्यवाद)
  • डे, गैरी, वर्ग , (रूटलेज, 2001) (ISBN 0-415-18222-0)
  • डोमहॉफ, जी. विलियम, अमेरिका में कौन शासन कर रहा है? सत्ता, राजनीति, और सामाजिक परिवर्तन , इंगेलवूड क्लिफ्स, एन.जे.: प्रेंटिस-हॉल, 1967. (कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, सांता क्रूज़ पर प्रो. डोमहॉफ कॉमपैनियन साइट टू द बुक)
  • इचर, डगलस एम.; अमेरिका में व्यवसाय और वर्ग चैतन्य (ग्रीनवुड प्रेस, 1989)
  • फैंटासिया, रिक, लेविन, रोंडा एफ.; मैकनल, स्कॉट जी., एड्स.; समकालीन और ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य में वर्ग को वापस लाया गया (वेस्टव्यू प्रेस, 1991)
  • फेदरमैन, डेविड एल. एंड हौसर रॉबर्ट एम.; मौक़ा और परिवर्तन (1978).
  • फोटोपौलस, टाकिस, आज वर्ग विभाजन: विस्तृत लोकतंत्र दृष्टिकोण, लोकतंत्र और प्रकृति, खंड 6, संख्या 2, (जुलाई 2000)
  • फुसेल, पॉल, वर्ग (अमेरिकी पद प्रणाली के माध्यम से एक कठिन सूक्ष्म गाइड) , (1983) (ISBN 0-345-31816-1)
  • गिडेंस, एंथोनी; अग्रिम सोसाइटी के वर्ग की संरचना , (लंदन: हचिंसन, 1981).
  • गिडेंस, एंथनी और मैकेंज़ी, गेविन (एड्स.), सामाजिक वर्ग और श्रम की श्रेणी .इल्या न्यूज़टैड के सम्मान में निबंध (कैम्ब्रिज: कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, 1982)
  • गोल्डथोर्प, जॉन एच. एरिक्सन रॉबर्ट; निरंतर प्रवाह: औद्योगिक समाज में वर्ग गतिशीलता के अध्ययन (1992)
  • ग्रसकी, डेविड बी. एड.; सामाजिक स्तरीकरण: सामाजिक परिप्रेक्ष्य में वर्ग, जाति, और लिंग (2001) विद्वानों के लेख
  • हैज़ेल्रिग, लॉरेंस ई. और लोप्रेएटो, जोसेफ, वर्ग, संघर्ष और गतिशीलता: वर्ग संरचना के सिद्धांत और अध्यनन (1972).
  • हिमोविट्ज़, के, अमेरिका में विवाह और वर्ग: पोस्ट-वैवाहिक आयु में अलग और असमान परिवार (2006) ISBN 1-56663-709-0
  • केबल, हेल्मुट, उन्नीसवीं और बीसवीं शताब्दी में सामाजिक गतिशीलता: तुलनात्मक दृष्टिकोण में यूरोप और अमेरिका (1985)
  • जेन्स हॉफ, "वर्ग और सार्वजनिक कर्मचारियों की अवधारणा". एक्टा सोशियोलॉजिका , खंड 28, संख्या. 3, जुलाई 1985, पीपी 207-226.
  • महालिंगम, रामस्वामी, "पदार्थवाद, संस्कृति और सत्ता: सामाजिक वर्ग का प्रतिनिधित्व" सामाजिक मुद्दों के जर्नल , खंड 59, (2003), भारत पर पीपी 733+
  • महोनी, पैट और ज्म्रोज़ेक, क्रिस्टीन; क्लास मैटर्स: 'वर्किंग-क्लास' वुमेन्स पर्सपेक्टिव ऑन सोशल क्लास (टेलर एंड फ्रांसिस 1997)
  • मांज़ा, जेफ और ब्रूक्स, क्लेम, सामाजिक विदलन और राजनीतिक बदलाव: मतदाता संरेखण और अमेरिकी पार्टी गठबंधन (ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, 1999).
  • मांज़ा, जेफ, "अमेरिका के न्यू डील के राजनीतिक सामाजिक मॉडल" समाजशास्त्र का वार्षिक समीक्षा , (2000), पीपी 297+
  • मांज़ा, जेफ, हौट, माइकल और ब्रूक्स क्लेम; "द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से पूंजीपति प्रजातंत्र में वर्गों के मतदान: प्रति संरेखण, पुनर्संरेखण और प्रवृत्ति रहित उतार-चढ़ाव?" समाजशास्त्र का वार्षिक समीक्षा , खंड. 21, (1995)
  • मर्मोट, माइकल; द स्टेटस सिंड्रोम: हाउ सोशल स्टैंडिंग अफेक्ट्स आवर हेल्थ एंड लॉन्जिविटी (2004)
  • मार्क्स कार्ल, और एंगेल्स, फ्रेडरिक; द कम्युनिस्ट मैनिसफेस्टो , (1848). (ऐतिहासिक परिवर्तन के चालक के रूप में वर्ग संघर्ष की कुंजी बयान).
  • मेरीमैन, जॉन एम.; कॉन्शियस्नेस एंड क्लास एक्सपीरियंस इन नाइनटिंथ-सेंचरी यूरोप (होम्स एंड मिएर प्रकाशक, 1979)
  • ऑस्ट्रेन्डर, सुसन ए.; ऊपरी वर्ग के महिलाएं (टेम्पल यूनिवर्सिटी प्रेस, 1984).
  • ओवेंसबी, ब्रायन पी.; इंटिमेट आइरनिज़: मॉडर्निटी एंड द मेकिंग ऑफ़ मिडल-क्लास लाइव्स इन ब्राज़ील (स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय, 1999).
  • पकुल्सकी, जैन और वॉटर्स, मैल्कम; 1996), द डेथ ऑफ़ क्लास (सेज, 1986). (आधुनिक समाजों के लिए वर्ग की प्रासंगिकता की अस्वीकृति)
  • पायेन, ज्योफ, महिला के सामाजिक गतिशीलता: पुरुष गतिशीलता मॉडल से परे (1990)
  • राइको, राल्फ, "शास्त्रीय उदार शोषण सिद्धांत: प्रोफेसर लीगियो के कागज पर एक टिप्पणी", मुक्तिवादी अध्ययनों के जर्नल , खंड 1, संख्या 3, पीपी 179-183, (1977).
  • सैवेज, माइक; वर्ग विश्लेषण और सामाजिक परिवर्तन (लंदन: ओपन यूनिवर्सिटी प्रेस, 2000).
  • सेनेट, रिचर्ड एंड कॉब, जोनाथन; द हिडेन इंजरिज़ ऑफ़ क्लास , (विंटेज, 1972) (वर्ग के व्यक्तिपरक अनुभव का उत्कृष्ट अध्ययन).
  • सिगेलबौम, लेविस एच. और सनी, रोनल्ड; एड्स.; मेकिंग वर्कर्स सोवीएट: पॉवर, क्लास, एंड आइडेंटिटी . (कॉरनेल यूनिवर्सिटी प्रेस, 1994). रूस 1870-1940
  • सोरोकिन, पिट्रिम, सामाजिक गतिशीलता (न्यूयॉर्क, 1927)
  • वॉर्नर, डब्ल्यू. लॉयड एट अल. अमेरिका में सामाजिक वर्ग: सामाजिक पद की मापन के लिए के प्रक्रिया के मैनुअल (1949).
  • व्ल्कोविट्ज़, डैनियल जे.; वर्किंग विद क्लास: सोशल वर्कर्स एंड द पॉलिटिक्स ऑफ़ मिडल-क्लास आइडेंटिटी (उत्तरी केरोलिना प्रेस के विश्वविद्यालय, 1999).
  • वेबर, मैक्स. "वर्ग, पद और पार्टी", जैसे गर्थ, हैंस और सी.राइट मिल्स, फ्रॉम मैक्स वेबर: एसेज़ इन सोशियोलॉजी , (ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, 1958). (स्तरीकरण की कई प्रकार के वेबर के कुंजी बयान).
  • विनबर्ग, मार्क; "द सोशल एनालिसिस ऑफ़ थ्री अर्ली 19थ सेंचरी फ्रेंच लिब्रल्स: से, कॉम्टे, एंड डुनोयर", जर्नल ऑफ़ लिब्रटेरियन स्टडीज़ , खंड 2 संख्या 1, पीपी 45–63, (1978).
  • वुड, एलेन मिक्सिंस; द रिट्रीट फ्रॉम क्लास: अ न्यू 'ट्रू' सोशलिज़्म , (शौकेन बुक्स, 1986) नए परिचय (ISBN 1-85984-270-4) के साथ (ISBN 0-8052-7280-1) और (वर्सो क्लासिक्स, जनवरी 1999) पुनर्मुद्रण.
  • वुड, एलेन मिक्सिंस; "लेबर, द स्टेट, एंड क्लास स्ट्रगल", मासिक समीक्षा , खंड 49, संख्या 3, (1997).
  • वौटर्स, कॅस.; "सामाजिक वर्गों का एकीकरण." सामाजिक इतिहास के जर्नल. खंड 29, अंक 1, (1995). पीपी 107+. (सामाजिक शिष्टाचार पर)
  • राइट, एरिक ओलिन; वर्गों पर बहस (वर्सो, 1990). (नव मार्क्सवादी)
  • राइट, एरिक ओलिन; क्लास काउंट्स: कॉम्पैर्टिव्स स्टडीज़ इन क्लास एनालिसिस (कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, 1997)
  • राइट, एरिक ओलिन एड. अप्रोचेज़ टू क्लास एनालिसिस (2005). (विद्वानों के लेख)
  • ज्म्रोज़ेक, क्रिस्टीन और माहोनी, पैट (एड्स.), महिला और सामाजिक वर्ग: अंतरराष्ट्रीय नारीवादी परिप्रेक्ष्य . (लंदन: यूसीएल (UCL) प्रेस 1999)

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]

स्रोत[संपादित करें]

  • जॉन एलस्टर, कार्ल मार्क्स का परिचय . कैम्ब्रिज, इंग्लैंड, 1986.
  • माइकल इवांस, कार्ल मार्क्स . लंदन, (1975)

संदर्भ[संपादित करें]

  1. रॉबर्ट्स, आर. (1975) "संरचना वर्ग", द क्लासिक स्लम , लंदन: पेंगुइन. 13-31
  2. टर्नर, जी. (1990). "नृवंशविज्ञान, इतिहास, और समाजशास्त्र". ब्रिटिश सांस्कृतिक अध्ययन: एक परिचय . सिडनी: एलेन और अनविन. 169-196
  3. डैहरेंडोर्फ़, रैल्फ. (1959) औद्योगिक समाज में वर्ग और वर्ग का संघर्ष. स्टैनफोर्ड: स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस.
  4. बोर्नशियर वी. (1996), ' संक्रमण में पश्चिमी समाज' न्यू ब्राउनस्विक, एन.जे.: ट्रांजैक्शन प्रकाशक.
  5. Kerbo, Herald (1996). Social Stratification and Inequality. New York: The McGraw-Hill Companies Inc.. pp. 231–233. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-07-034258-X. 
  6. वर्ग हैं: "उत्पादन की एशियाई रीति में नौकरशाह और धर्मतंत्रवादी; दासता के अंतर्गत स्वतंत्र व्यक्ति, दास, असंस्कृत, और अभिजात्य, सामंतवाद के अंतर्गत स्वामी, कृषि-दास, संघ स्वामी, कारिंदा और पूंजीवाद के अंतर्गत औद्योगिक पूंजीपति, वित्तीय पूंजीपति, जमींदार, कृषक, छोटे बुर्जुआ और तंख़्वाहदार मजदूर." जॉन एलस्टर, कार्ल मार्क्स का परिचय , (कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, 1986), पृष्ठ 124.
  7. यह मार्क्स के "कैपिटल" का मुख्य लेख है
  8. "Nouveau Riche". Merriam Webster. http://www.merriam-webster.com/dictionary/nouveau%20riche. 
  9. Thompson, William; Joseph Hickey (2005). Society in Focus. Boston, MA: Pearson. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-205-41365-X. 
  10. Gilbert, Dennis (1998). The American Class Structure. New York: Wadsworth Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-534-50520-1. 
  11. "US Census Bureau, personal income distribution, age 25+, 2006". http://pubdb3.census.gov/macro/032006/perinc/new03_001.htm. अभिगमन तिथि: 2006-12-28. 
  12. "US Census Bureau, overall household income distribution, 2006". http://pubdb3.census.gov/macro/032006/hhinc/new06_000.htm. अभिगमन तिथि: 2006-12-28. 
  13. University Press of America ISBN 0-7618-3331-5 / 978-0-7618-3331-4
  14. "Christian Science Monitor on What is Middle Class". http://www.csmonitor.com/2005/0510/p09s01-codc.html. अभिगमन तिथि: 2006-09-11. 
  15. "About TheMiddleClass.org". http://www.themiddleclass.org/about. अभिगमन तिथि: 2008-01-18. 
  16. Ehrenreich, Barbara (1989). Fear of Falling, The Inner Life of the Middle Class. New York, NY: Harper Collins. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-06-0973331. 
  17. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; US_Census_Bureau_report_on_educational_attainment_in_the_United_States.2C_2003 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  18. "US Census Bureau, distribution of personal income, 2006". http://pubdb3.census.gov/macro/032006/perinc/new01_001.htm. अभिगमन तिथि: 2006-12-09. 
  19. Gilbert, Dennis (1997). American Class Structure in an Age of Growing Inequality. Wadsworth. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0534505202. 
  20. Williams, Brian; Stacey C. Sawyer, Carl M. Wahlstrom (2005). Marriages, Families & Intimate Relationships. Boston, MA: Pearson. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-205-36674-0. 
  21. Zweig, Michael (2000). The Working Class Majority: America's Best Kept Secret. Ithaca, NY; London, England: Cornell University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8014-8727-7. 
  22. पिल्ली का विलक्षण रूप
  23. पिल्ली (एज़्टेक सामाजिक वर्ग)
  24. नृविज्ञान का इतिहास , यूएनएएम (UNAM), खंड xi, 1974, पृष्ठ. 56
  25. सैंडर्स, विलियम टी., केंद्रीय मैक्सिको में निपटान तरीक़ा . मध्य अमेरिकी भारतीयों का पुस्तिका , 1971. खंड 3, पृष्ठ. 3-44.
  26. क्यों वर्णाश्रम केवल भारत में ही है?
  27. "Encyclopedia Britannica Kids". http://student.britannica.com/comptons/article-208190/social-class. अभिगमन तिथि: 2008-04-07. 
  28. Eichar, Douglas (1989). Occupation and Class Consciousness in America. Westport, Connecticut: Greenwood Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-313-26111-3. 
  29. "Middle income can't buy Middle class lifestyle". http://www.news.harvard.edu/gazette/2003/10.30/19-bankruptcy.html. अभिगमन तिथि: 2006-12-28. 
  30. Vanneman, Reeve; Lynn Weber Cannon (1988). The American Perception of Class. New York, NY: Temple University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0877225931.