आर्किमिडिज़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
आर्किमिडिज़
(यूनानी: Ἀρχιμήδης)

दोमेनीको फेत्ती द्वारा रचित आर्किमिडिज़ विचारमग्न (१६२०)
जन्म लगभग २८७ ई.पू.
सिराक्यूज़, सिसली
मैग्ना ग्रीसिया
मृत्यू लगभग २१२ ई.पू.
सिराक्यूज़
निवास सिराक्यूज़, सिसली
क्षेत्र गणित, भौतिकी, अभियांत्रिकी, खगोलशास्त्र, आविष्कार
प्रसिद्ध कार्य आर्किमिडिज़ सिद्धांत, आर्किमिडिज़ पेच, द्रव्य स्थिति-विज्ञान, लीवर, अतिसूक्ष्म राशियाँ

आर्किमिडिज़ (यूनानी: Ἀρχιμήδης; लगभग २८७ – २१२ ई.पू.) प्राचीन यूनान में रहने वाले गणितज्ञ, भौतिकज्ञ, इंजीनियर, आविष्कारक और खगोलशास्त्री थे। इनके जीवन के बारे में बहुत कुछ मालूम नहीं है, लेकिन इन्हें प्राचीन पाश्चात्य सभ्यता के महानतम वैज्ञानिकों में से एक माना जाता है। भौतिकी को इन्होंने स्थिति-विज्ञान, द्रव्य स्थिति-विज्ञान और लीवर के सिद्धान्त प्रदान किए। इन्होंने कई नई मशीनें भी ईजाद कीं, जिनमें शामिल हैं घेराबंदी तोड़ने के लिए यंत्र और आर्किमिडिज़ पेच। इसके अलावा इन्होंने ऐसी मशीनों की परिकल्पना की जो पानी से जहाजों को उठा सकती थीं और दर्पणों के प्रयोग से नावों पर आग लगा सकती थीं; आधुनिक प्रयोगों से इन मशीनों की वास्तविकता सामने आई है।[1]

आर्किमिडिज़ को प्राचीन संसार का महानतम गणितज्ञ माना जाता है और आजतक के महानतम गणितज्ञों में गिना जाता है।[2][3] इन्होंने शून्यीकरण विधि का प्रयोग करके परवलय की चाप के नीचे का क्षेत्रफल निकाला और पाइ का अत्यंत सटीक परिमाण निकाला।[4] इन्होंने आर्किमिडिज़ कुण्डली, परिक्रमण की सतह का घनफल और बहुत बड़ी संख्याओं को लिखने के नए तरीके निकाले।

इनके बारे में प्रसिद्ध है कि स्नान करते हुए इन्हें अकस्माक विचार आया कि सोने में मिलावट कैसे पकड़ी जाए और ये नग्न ही "यूरेका! यूरेका!" (यूनानी: "εὕρηκα! εὕρηκα!," "मिल गया! मिल गया!") चिल्लाते हुए सिराक्यूज़ की सड़कों पर दौड़ने लगे।[5] इनका यह भी कथन प्रसिद्ध है, "मुझे यदि खड़े होने की जगह मिल जाए तो मैं (लीवर की मदद से) पृथ्वी को हिला सकता हूँ।"[6]

सिराक्यूज़ की घेराबंदी में एक रोमन सैनिक ने आर्किमिडिज़ को मार डाला, जबकि सेना को आदेश थे कि इन्हें कोई क्षति नहीं पहुँचनी चाहिए। कहा जाता है कि इनके अंतिम शब्द थे, "मेरे वृत्तों को खराब मत करो" (यूनानी: "μή μου τούς κύκλους τάραττε"), जो इन्होंने उस रोमन सैनिक को कहे।[7] सिसरो ने इनके मकबरे का वर्णन करते हुए बताया है कि उसपर एक वेलनाकार और उसके मध्य में समानाकार गेंद बने हुए थे। आर्किमिडीज़ ने प्रमाणित किया था कि गेंद का क्षेत्रफल और घनफल वेलनाकार का दो-तिहाई होता है और ये इसे अपनी सबसे बड़ी उपलब्धि मानते थे।

इनके आविष्कार तो बहुत प्रसिद्ध हुए, लेकिन इनके गणितीय रचनाओं को प्राचीन काल में अधिक महत्त्व नहीं मिला। अलेक्सेंड्रिया के गणितज्ञ इन्हें पढ़ते और उद्धृत भी करते थे, लेकिन इनकी कृतियों को सबसे पहले ५३० ईस्वी के लगभग ही एकत्रित किया जा सका। यह काम मिलेटस के इसीडोर ने किया और फिर छठी शताब्दी ईस्वी में ही यूटोसियस की टीकाओं के माध्यम से सारा संसार आर्किमिडिज़ की कृतियों से अवगत हुआ। इनकी कृतियों की कुछ पाण्डुलिपियाँ मध्ययुग तक बची रहीं और पुनर्जागरण के दौरान कई वैज्ञानिकों और दार्शनिकों की प्रेरणा का स्रोत बनीं।[8] १९०६ में आर्किमिडिज़ पालिम्पसेस्ट के नाम से मिली अन्य कृतियों से पता लगा कि इन्होंने गणितीय फार्मूले कैसे निकाले।[9]

चित्र दीर्घा[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. "आर्किमिडिज़ डेथ रे: टेस्टिंग विद मिथबस्टर्स". एमआईटी. http://web.mit.edu/2.009/www//experiments/deathray/10_Mythbusters.html. अभिगमन तिथि: 2007-07-23. 
  2. कैलिंगर, रोनाल्ड (1999). ए कंटैक्स्चुअल हिस्ट्री ऑफ़ मैथेमैटिक्स. प्रैंटिस-हाल. pp. 150. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-02-318285-7. "Shortly after Euclid, compiler of the definitive textbook, came Archimedes of Syracuse (ca. 287 212 BC), the most original and profound mathematician of antiquity." 
  3. "आर्किमिडिज़ ऑफ़ सिराक्यूज़". द मैक्ट्यूटर हिस्ट्री ऑफ़ मैथेमैटिक्स आर्काइव. जनवरी 1999. http://www-history.mcs.st-and.ac.uk/Biographies/Archimedes.html. अभिगमन तिथि: 2008-06-09. 
  4. ओ'कॉनर एवं रॉबर्टसन (फरवरी 1996). "ए हिस्ट्री ऑफ़ कैल्कुलस". युनिवर्सिटी ऑफ़ सेंट ऐंड्रूज़. http://www-groups.dcs.st-and.ac.uk/~history/HistTopics/The_rise_of_calculus.html. अभिगमन तिथि: 2007-08-07. 
  5. हाइपरफ़िज़िक्स. "बॉयैंसी". जॉर्जिया स्टेट युनिवर्सिटी. http://hyperphysics.phy-astr.gsu.edu/Hbase/pbuoy.html. अभिगमन तिथि: 2007-07-23. 
  6. सिनागॉग, पुस्तक VIII में अलेक्सांड्रिया के पैपस द्वारा उद्धृत
  7. रोरेस, क्रिस. "डेथ ऑफ़ आर्किमिडिज़ (सोर्सेज़)". कूरेंट इन्स्टीट्यूट ऑफ़ मैथेमैटिकल साइंसेज़. http://www.math.nyu.edu/~crorres/Archimedes/Death/Histories.html. अभिगमन तिथि: 2007-01-02. 
  8. बर्सिल-हॉल, पियर्स. "गैलीलियो, आर्किमिडिज़, ऍण्ड रेनेसांस इन्जीनियर्स". युनिवर्सिटी ऑफ़ कैम्ब्रिज के साथ साइंसलाइव. http://www.sciencelive.org/component/option,com_mediadb/task,view/idstr,CU-MMP-PiersBursillHall/Itemid,30. अभिगमन तिथि: 2007-08-07. 
  9. "आर्किमिडिज़ - द पैलिम्पसैट". वाल्टर्स आर्ट म्यूज़ियम. http://www.archimedespalimpsest.org/palimpsest_making1.html. अभिगमन तिथि: 2007-10-14. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]