आटोक्लेव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साँचा:Infobox Laboratory equipment

आटोक्लेव एक ऐसा साधन है, जो उपकरणों और सामग्रियों को उनके भार और अन्तर्वस्तु के आधार पर, विशेषतः 15 से 20 मिनट तक, 121 °C या अधिक के उच्च दबाव वाले वाष्प के अधीन रख कर, उन्हें निष्कीटित करता है।[1] 1879 में चार्ल्स चेम्बरलैंड द्वारा इसका आविष्कार किया गया,[2] जबकि स्टीम डाईजेस्टर नामक इसके पुरोगामी को डेनिस पापिन ने 1679 में बनाया था। इसके नाम की उत्पत्ति फ्रांसीसी शब्द aut और लैटिन शब्द clavis अर्थात् कुंजी से हुई है जिसका अर्थ है - एक स्व-अवरोधी उपकरण.[3]

प्रकार[संपादित करें]

आटोक्लेव दो मुख्य प्रकार के हैं:

  • स्टोव टॉप आटोक्लेव वस्तुतः रसोई के प्रेशर कुकर जैसे दिखते हैं। प्रत्येक इकाई में सम्पूर्ण रूप से एक बोल्ट-डाउन ढक्कन और बाहर एक दबाव गेज होता है। इन इकाइयों को एक बाह्य ताप स्रोत की आवश्यकता होती है और अप्रशिक्षित हाथों में यह अत्यंत खतरनाक हो सकता है। इनका उपयोग केवल अनुभवी पेशेवरों द्वारा किया जाना चाहिए.
  • फ्रंट लोडिंग आटोक्लेव सुविधाजनक होने के कारण व्यापक रूप से इस्तेमाल होते हैं, परन्तु इनको भी बहुत सावधानी से उपयोग में लाना चाहिए. इकाइयां, बॉक्स के आकार की और स्व-निहित होती हैं, जिसमें विसंक्रमण हेतु पानी को भाप में बदलने के लिए, तापन एकक सुसज्जित होता है। आटोक्लेव के नियंत्रक द्वारा वांछित तापमान को निर्धारित किया जा सकता है और यह भी तय किया जा सकता है कि मशीन कितनी देर तक संचालित होगी. इसमें एक गेज भी होता है जिससे कक्ष के तापमान/दबाव का पता लगाया जा सकता है।

उपयोग[संपादित करें]

आटोक्लेव का इस्तेमाल व्यापक रूप से सूक्ष्म जीव-विज्ञान, चिकित्सा, गोदना, शरीर छेदन, पशु विज्ञान, कवक विज्ञान, दंत चिकित्सा, पादचिकित्सा और कृत्रिम निर्माण में होता है।

विशिष्ट भार में शामिल हैं कांच के बने बर्तन, चिकित्सा अपशिष्ट, बर्तन, एनिमल केज बेडिंग और लाइसोजनी ब्रोथ.[4]

उपचार और अपशिष्ट के विसंक्रमण जैसे व्‍याधिजनक अस्पताल अपशिष्ट में आटोक्लेव एक उल्लेखनीय रूप से बढ़ता अनुप्रयोग है। इस श्रेणी में मशीनें बड़े पैमाने पर असली आटोक्लेव के सिद्धांतों पर ही संचालित होती हैं, जिसमें वे दबाव युक्त वाष्प और अतितापित जल के उपयोग से संभावित संक्रामक एजेंटों को बेअसर करने में सक्षम होती हैं। अपशिष्ट परिवर्तकों की एक नई पीढ़ी बिना किसी दबाव पात्र के वही प्रभाव प्राप्त करने में सक्षम हैं, जिनसे वे कल्चर मीडिया, रबर सामग्री, गाउन, ड्रेसिंग दस्ताने आदि को निष्कीटित करती है। यह विशेषकर उन वस्तुओं के लिए अधिक उपयोगी है जो गर्म हवा के अवन के उच्च तापमान को सहन नहीं कर सकते. सभी ग्लास सिरिंजों के लिए, गर्म हवा अवन एक बेहतर निष्कीटन विधि है।

हवा निष्कासन[संपादित करें]

यह सुनिश्चित करना अधिक महत्वपूर्ण है कि फंसी हुई हवा पूरी तरह निकाल दी गई है, क्योंकि गर्म हवा निष्कीटन हासिल करने में बहुत कमज़ोर होती है। जिस कीटाणु-रहित होने की स्थिति को हासिल करने में 160 °C पर गर्म हवा को दो घंटों का समय लगता है, उसे 134 °C पर वाष्प 3 मिनट में प्राप्त कर लेती है।[5] हवा की निष्कासन विधियों में शामिल हैं:

अधो विस्थापन (या गुरुत्वाकर्षण प्रकार)- चूंकि भाप हवा की तुलना में कम घनत्व वाली होती है, कक्ष में प्रवेश करते ही वाष्प ऊपरी क्षेत्रों में भर जाती है। यह हवा को नीचे की ओर दबाकर उसे निकास से बाहर निकाल देती है। प्रायः निकास में एक तापमान संवेदन यंत्र रखा जाता है। जब हवा की निकासी पूरी तरह संपन्न हो जाती है, केवल तब प्रवाह रुकता है। प्रवाह को आम तौर पर एक सोलेनॉइड वाल्व या भाप ट्रैप के उपयोग द्वारा नियंत्रित किया जाता है, लेकिन कभी-कभी ब्लीड छिद्रों का, अक्सर सोलेनॉइड वाल्व के संयोजन सहित इस्तेमाल किया जाता है। जब हवा और भाप मिश्रित होते हैं तब उस मिश्रण को नीचे के अलावा कक्ष के अन्य स्थानों से भी निकालना संभव होता है।

वाष्प स्पंद - वाष्प स्पंदों की श्रृंखला का उपयोग करते हुए वायु तनुकरण किया जाता है, जिसमें वायुमंडलीय दबाव के आस-पास पहुंचाने के लिए कक्ष को बारी-बारी से दबाव युक्त और दबाव रहित किया जाता है।

निर्वात पम्प - हवा या हवा/भाप मिश्रण को खींच कर निकालने के लिए निर्वात पम्प.

सुपर-वायुमंडलीय - इस प्रकार के चक्र निर्वात पम्पों का उपयोग करते हैं। यह निर्वात के साथ शुरू होता है, बाद में वाष्प स्पंद और उसके बाद निर्वात, जिसका अनुवर्तन वाष्प स्पंद करता है। स्पंदों की संख्या विशिष्ट आटोक्लेव और चयनित चक्र पर निर्भर करता है।

सब-वायुमंडलीय यह सुपर-वायुमंडलीय चक्र के समान ही होता है, लेकिन कक्ष का दबाव कभी भी वायुमंडलीय दबाव से अधिक नहीं बढ़ता है जब तक कि वे निष्कीटन तापमान तक दाबानुकूलित नहीं करते.

चिकित्सा में आटोक्लेव[संपादित करें]

स्टोवटॉप आटोक्लेव - आटोक्लेवों में सरलतम

चिकित्सा आटोक्लेव एक ऐसा साधन है जो वाष्प का उपयोग करके उपकरणों और अन्य वस्तुओं को निष्कीटित करता है। तात्पर्य यह कि सभी बैक्टीरिया, वायरस, कवक और बीजाणु निष्क्रिय हो जाते हैं। हालांकि, क्रुत्ज़फेल्ट-जैकोब रोग के साथ जुड़े प्रीऑन जैसे रोगाणु, ऑटोक्लेविंग द्वारा विशिष्ट रूप से 134 °C पर 3 मिनट या 121 °C पर 15 मिनट में नष्ट नहीं भी हो सकते हैं। इसके अलावा, कुछ हाल ही में खोजे गए स्ट्रेन 121 जैसे जीव, 121 °C से भी अधिक तापमान पर जीवित रह सकते हैं।

आटोक्लेव कई चिकित्सा विन्यासों में और अन्य स्थानों में पाए जाते हैं, जिनमें वस्तुओं का निष्कीटन सुनिश्चित करने की आवश्यकता होती है। आजकल की कई प्रक्रियाएं निष्कीटित, पुनरुपयोगी वस्तुओं के स्थान पर एकल-उपयोग वस्तुओं का ही इस्तेमाल करती हैं। ऐसा पहले हाइपोडर्मिक सुईयों के साथ हुआ, लेकिन आज कई सर्जिकल उपकरण (जैसे फोरसेप, सुई धारक और स्कैल्पेल हैंडल्स) पुनरुपयोगी के बजाय सामान्यतः एकल उपयोगी मदें होते हैं। अपशिष्ट आटोक्लेव देखें.

क्योंकि इसमें नम गर्मी का प्रयोग किया जाता है, कुछ ताप-परिवर्ती वस्तुएं (जैसे कि प्लास्टिक) इस प्रकार निष्कीटित नहीं की जा सकती, अन्यथा वे पिघल जाएंगी. कुछ काग़ज़ या अन्य उत्पाद भी, जो वाष्प द्वारा नष्ट हो सकती हैं, अन्य उपाय द्वारा ही निष्कीटित किए जाते हैं। सभी आटोक्लेवों में, वस्तुओं को हमेशा अलग करके रखा जाना चाहिए, ताकि भाप लदी हुई मदों के भीतर समान रूप से प्रवेश कर सकें.

आटोक्लेव प्रणाली का उपयोग अक्सर नगर निगम के मानक ठोस अपशिष्ट धारा में मिलाने से पहले चिकित्सा अपशिष्ट को निष्कीटित करने के लिए किया जाता है। यह अनुप्रयोग पर्यावरण और भस्मक के दाहक उपजातों द्वारा, विशेषकर व्यक्तिगत अस्पतालों से सामान्यतः संचालित छोटी इकाइयों से उत्पन्न स्वास्थ्य चिंताओं के कारण, भस्मीकरण के विकल्प के रूप में उभरा है। भस्मीकरण या उसके समान ऊष्मीय ऑक्सीकरण प्रक्रिया अभी भी आम तौर पर रोगनिदान संबंधी अपशिष्ट और अन्य बहुत विषाक्त और/या संक्रामक चिकित्सा अपशिष्ट के लिए अनिवार्य होती है।

आटोक्लेव गुणवत्ता आश्वासन[संपादित करें]

दाईं ओर की मशीन एक आटोक्लेव है जिसे प्रयोगशाला उपकरणों के पुनः प्रयोग से पहले और संक्रामक सामग्री निपटान से पहले पर्याप्त मात्रा में प्रक्रमण किए जाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। (बाईं ओर की और बीच की मशीनें, वाशिंग मशीनें हैं)
विसंक्रमण बैग में अक्सर एक "विसंक्रमण सूचक चिह्न" होता है जो बैग के संसाधित हो जाने पर विशिष्टतः काला हो जाता है। यदि एक सही प्रकार से संसाधित (दाईं ओर) और एक बिना संसाधित बैग (बाईं ओर) पर बने चिह्नों की तुलना की जाए, तो ज़ाहिरी तौर पर एक अंतर दिखाई देगा.

आटोक्लेव में भौतिक, रासायनिक और जैविक संकेतक मौजूद होते हैं जिनका उपयोग यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि आटोक्लेव सही समय पर, सही तापमान तक पहुंचा है या नहीं.

रासायनिक संकेतक चिकित्सा पैकेजिंग और आटोक्लेव टेप में देखे जा सकते हैं और एक बार सही स्थिति तक पहुंच जाने पर इनका रंग बदल जाता है। यह रंग परिवर्तन इस बात का संकेत देता है कि पैकेज के अंदर या टेप के नीचे की वस्तु संसाधित हो चुकी है। जैविक संकेतकों में ताप-प्रतिरोधी जीवाणु, जियोबैसीलस स्टीरोथर्मोफिलस मौजूद होते हैं। यदि आटोक्लेव सही तापमान तक नहीं पहुंचता है, तब उद्भवन पर जीवाणु बढ़ने लगते हैं और उनका चयापचय pH-संवेदनशील रसायन का रंग परिवर्तित कर देता है। कुछ भौतिक संकेतकों में एक मिश्र धातु होता है जो संबद्ध धारणीय समय से गुज़रने पर पिघलने के लिए डिज़ाइन किया हुआ होता है। यदि मिश्र धातु पिघलता है, तो परिवर्तन दिखाई देगा.

कुछ कंप्यूटर-नियंत्रित आटोक्लेव निष्कीटन चक्र को नियंत्रित करने के लिए F0 (F-nought) मूल्यों का उपयोग करते हैं। F0 मूल्यों को 15 मिनट के लिए वायुमंडलीय दबाव से ऊपर समकक्ष निष्कीटन के मिनटों तक 121 °से (250 °फ़ै) पर 15 पाउन्ड/वर्ग इंच (100 किलोपास्कल) सेट किया जाता है। चूंकि सटीक तापमान नियंत्रण कठिन है, तापमान की निगरानी की जाती है और निष्कीटन समय को तदनुसार समायोजित किया जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

Wikisource-logo.svg
विकिसोर्स में इस लेख से सम्बंधित, मूल पाठ्य उपलब्ध है:

संदर्भ[संपादित करें]

  1. माइक्रोबायोलॉजी, जैकक्वेलिन ब्लैक, प्रेंटिस हॉल, 1993 पृष्ठ 334
  2. "Chronological reference marks - Charles Chamberland (1851–1908)". Pasteur Institute. http://www.pasteur.fr/infosci/archives/chb0.html. अभिगमन तिथि: 2007-01-19. 
  3. http://www.merriam-webster.com/dictionary/autoclave
  4. "Sterilization Cycles". Consolidated Machine Corporation. http://consteril.com/index.php?pg=41. अभिगमन तिथि: 2009-06-30. 
  5. AS NZS 4815-2006 P33 और P35

साँचा:Laboratory equipment