हिन्दी विश्वकोश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(हिंदी विश्वकोश से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
हिंदी विश्वकोश  
हिंदी विश्वकोश.jpg
हिंदी विश्वकोश (प्रकाशित संस्करण) की झलक
लेखक अनेक लेखक
देश भारत
भाषा हिन्दी
श्रृंखला विश्वकोश
विषय वैश्विक ज्ञानकोशीय
प्रकार समग्र क्षेत्रों से चयनित विषयों पर विवरणात्मक टिप्पणी
प्रकाशक नागरी प्रचारिणी सभा वाराणसी
प्रकाशन तिथि 1960-1970 ई०
पृष्ठ 6,176

हिन्दी विश्वकोश, नागरी प्रचारिणी सभा द्वारा हिन्दी में निर्मित एक विश्वकोश है। यह बारह खण्डों में पुस्तक रूप में उपलब्ध है। इसके अलावा यह अन्तरजाल पर पठन के लिये भी निःशुल्क उपलब्ध है। यह किसी एक विषय पर केन्द्रित नहीं है बल्कि इसमें अनेकानेक विषयों का समावेश है।

इतिहास[संपादित करें]

भारतीय वाङ्मय में संदर्भग्रंथों - कोश, अनुक्रमणिका, निबन्ध, ज्ञानकोश (आज से कुछ भिन्न रूप में) आदि की परम्परा बहुत पुरानी है। भारतीय भाषाओं में सबसे पहला आधुनिक विश्वकोश श्री नगेंद्रनाथ बसु द्वारा सन् 1911 में संपादित बाङ्ला विश्वकोश था। बाद में 1916-32 के दौरान 25 भागों में उसका हिंदी रूपान्तर 'हिंदी विश्वकोश' के नाम से प्रस्तुत किया गया। बंगला विश्वकोश का पूरा पूरा आधार लेकर चलने पर भी हिंदी का यह प्रथम विश्वकोश नये सिरे से तैयार किया गया। मराठी विश्वकोश की रचना 23 खण्डों में श्रीधर व्यंकटेश केतकर द्वारा की गयी।

स्वराज्य प्राप्ति के बाद भारतीय विद्वानों का ध्यान आधुनिक भाषाओं के साहित्यों के सभी अंगों को पूरा करने की ओर गया और आधुनिक भारतीय भाषाओं में विश्वकोश निर्माण का श्रीगणेश हुआ। इसी क्रम में नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी ने सन् 1954 में हिंदी में मौलिक तथा प्रामाणिक विश्वकोश के प्रकाशन का प्रस्ताव भारत सरकार के सम्मुख रखा। इसके लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया गया और उसकी पहली बैठक 11 फरवरी 1956 में हुई और हिंदी विश्वकोश के निर्माण का कार्य जनवरी 1957 में प्रारम्भ हुआ। सन् 1970 तक 12 खण्डों में इस विश्वकोश का प्रकाशन कार्य पूरा किया गया। सन् 1970 में विश्वकोश के प्रथम तीन खण्ड अनुपलब्ध हो गए। इसके नवीन तथा परिवर्धित संस्करण का प्रकाशन किया गया।

राजभाषा हिंदी के स्वर्णजयंती वर्ष में राजभाषा विभाग (गृह मंत्रालय) तथा मानवसंसाधन विकास मंत्रालय ने केन्द्रीय हिंदी संस्थान, आगरा को यह उत्तरदायित्व सौंपा कि हिंदी विश्वकोश इंटरनेट पर पर प्रस्तुत किया जाए। तदनुसार केन्द्रीय हिंदी संस्थान, आगरा तथा इलेक्ट्रॉनिक अनुसंधान एवं विकास केंद्र, नोएडा के संयुक्त तत्वावधान में तथा मानव संसाधन विकास मंत्रालय तथा सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के संयुक्त वित्तपोषण से हिंदी विश्वकोश को इंटरनेट पर प्रस्तुत करने का कार्य अप्रैल 2000 में प्रारम्भ हुआ। उपलब्ध प्रस्तुत योजना के अंतर्गत हिंदी विश्वकोश के मूलरूप को इंटरनेट पर प्रस्तुत करता है।

सम्पादक मण्डल[संपादित करें]

परामर्श समिति[संपादित करें]

  • पं० गोविन्दबल्लभ पंत, अध्यक्ष, नागरीप्रचारिणी सभा, वाराणसी एवं गृहमंत्री, भारत सरकार, ६ किंग एडवर्ड रोड, नई दिल्ली।
  • डा० कालूलाल श्रीमाली, शिक्षामंत्री, भारत सरकार, नई दिल्ली।
  • प्रो० हुमायूँ कबीर, वैज्ञानिक अनुसंधान तथा सांस्कृतिक विषयों के मंत्री, भारत सरकार, नई दिल्ली।
  • श्री एम० पी० पेरियस्वामी थूरन, प्रधान संपादक, तमिल विश्वकोश, युनिवर्सिटी विल्डिग्स, मद्रास ।
  • श्री इन्द्र विद्यावाचस्पति, चंद्रलोक, जवाहरनगर, दिल्ली।
  • डा० हजारीप्रसाद द्विवेदी, अध्यक्ष, हिंदी विभाग, काशी हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी।
  • डा० दौलतसिंह कोठारी, भारत सरकार के वैज्ञानिक परामर्शदाता, प्रतिरक्षा मंत्रालय, नई दिल्ली।
  • प्रो० नीलकान्त शास्त्री, डायरेक्टर, इंस्टिट्यूट ऑव ट्रैडीशनल कलचर्स, यूनेस्को, मद्रास ।
  • डा० बाबूराम सक्सेना, प्रोफेसर, सागर विश्वविद्यालय, सागर
  • डा० जी०वी० सीतापति, १७ देवराय, मुदालियर स्ट्रीट, मद्रास ५ ।
  • डा० सिद्धेश्वर वर्मा, प्रधान संपादक (हिंदी), शिक्षामंत्रालय, भारत सरकार, नई दिल्ली।
  • श्री काजी अब्दुल वदूद, ८-बी, तारक दत्त रोड, कलकत्ता १६ ।
  • डा० सुनीतिकुमार चटर्जी, अध्यक्ष, विधानसभा, पश्चिमी बंगाल, कलकत्ता ।
  • प्रो० सत्येन बोस, सदस्य, राज्यसभा, भूतपूर्व खैरा प्रोफेसर (शुद्ध भौतिकी), युनिवर्सिटीकालेज ऑव साइंस, ६२ अपर सर्म्युलर रोड, कलकत्ता ।
  • डा० सी० पी० रामस्वामी अय्यर, पो० बी० ८, डिलाइल, उटकमंड।
  • डा० निहालकरण सेठी, भूतपूर्व प्रिंसिपल, आगरा कालेज, सिविल लाइंस, आगरा।
  • श्री काकासाहब कालेलकर, सदस्य, राज्यसभा, ‘संनिधि', राजघाट, नई दिल्ली।
  • श्री मो० सत्यनारायण, मंत्री, दक्षिण भारत हिंदीप्रचार सभा, त्यागरायनगर, मद्रास ।
  • श्री लक्ष्मण शास्त्री जोशी, तर्कतीर्थ, प्रधान संपादक, धर्मकोश, वाई, उत्तरी सतारा ।
  • श्री लक्ष्मीनारायण ‘सुधांशु', सदस्य, विधानसभा, ५/३ आर० ब्लाक, पटना।
  • डा० गोपाल त्रिपाठी, प्रिंसिपल, कालेज ऑव टेकनालॉजी, काशी हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी।
  • श्री यशवंत राव दाते, संपादक, मराठी ज्ञानकोश, पूना ।
  • डा० राजबली पाण्डेय (मंत्री), अवैतनिक प्रधान मंत्री, नागरीप्रचारिणी सभा, वाराणसी।
  • डा० धीरेन्द्र वर्मा (संयुक्त मंत्री), प्रधान संपादक, हिंदी विश्वकोश नागरीप्रचारिणी सभा, वाराणसी ।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]