सुखोई/एचएएल एफजीएफए

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
एफजीएफए
FGFA / PMF
एक रूसी टी-50 (एसयू-57 प्रोटोटाइप), जिस पर एफजीएफए आधारित है।
प्रकार स्टैल्थ मल्टीरोल/एयर श्रेष्ठता लड़ाकू विमान
उत्पत्ति का देश Flag of Russia.svg रूस / Flag of India.svg भारत
उत्पादक हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड
स्थिति विकासाधीन[1]
प्राथमिक उपयोक्ता भारतीय वायु सेना
कार्यक्रम लागत अमेरिकी डॉलर 30 अरब (अनुमानित)[2]
इकाई लागत अमेरिकी $10 करोड़ (अनुमानित)[3][4]
से विकसित किया गया सुखोई एसयू-57

सुखोई/एचएएल पाँचवी पीढ़ी के लड़ाकू विमान (एफजीएफए) या पर्सपेक्टिव मल्टी-रोल फाइटर ( Sukhoi/HAL Fifth Generation Fighter Aircraft (FGFA) or Perspective Multi-role Fighter) भारत और रूस द्वारा विकसित पांचवीं पीढ़ी का लड़ाकू विमान है। यह रूसी सुखोई एसयू-57 की एक व्युत्पन्न परियोजना है जिसे रूसी वायु सेना के लिए विकसित किया जा रहा है। एफजीएफए भारतीय संस्करण के लिए कहा जाता है जबकि संयुक्त परियोजना को अब पर्सपेक्टिव मल्टी-रोल फाइटर (पीएमएफ) कहा जाता है।

पूर्ण एफजीएफए में सुखोई एसयू-57 के कुल 43 सुधार शामिल होंगे, जिसमें स्टैल्थ, सुपरक्रूज़, उन्नत सेंसर, नेटवर्किंग और लड़ाकू एविऑनिक्स शामिल हैं। एफजीएफए के दो अलग-अलग प्रोटोटाइप विकसित किए जाएंगे, एक रूस द्वारा और भारत द्वारा। भारतीय संस्करण मे पायलट और सह-पायलट/हथियार सिस्टम ऑपरेटर (डब्ल्यूएसओ) के लिए दो सीट होगी।

विकास[संपादित करें]

ब्रह्मोस परियोजना की सफलता के बाद, रूस और भारत ने 2007 की शुरुआत में एक पांचवें जनरेशन लड़ाकू विमान (एफजीएफए) प्रोग्राम का अध्ययन और विकास करने के लिए सहमति व्यक्त की।[5][6] 27 अक्टूबर 2007 को एशिया टाइम्स के साथ एक साक्षात्कार में सुखोई के निदेशक मिखाइल पॉोगोसयन ने कहा: "हम 50-50 अनुपात में फंडिंग, इंजीनियरिंग और बौद्धिक संपदा को साझा करेंगे।"[7]

11 सितंबर 2010 को, यह बताया गया था कि भारत और रूस प्रारंभिक डिजाइन अनुबंध पर सहमत हुए थे। और इसे कैबिनेट की मंजूरी को भेजा जाएगा। संयुक्त विकास सौदे में प्रत्येक देश 6 बिलियन डॉलर का निवेश करेगा और एफजीएफए लड़ाकू विमान का विकास करने में 8-10 साल लगेंगे।[8] दिसंबर 2010 में, हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) और रूसी कंपनियों रोसोबोरोन एक्सपोर्ट और सुखोई के बीच भारत-रूस लड़ाकू विमान के प्रारंभिक डिजाइन के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर हुआ था।

कार्यक्रम को जारी रखने के लिए भारत की अनिच्छा[संपादित करें]

2 सितंबर, 2017 को, भारतीय वायु सेना ने रखरखाव कार्यक्रमों की मांग और परियोजना के साथ आगे बढ़ने के लिए अनिच्छा जताई। जिसमे मुख्य कारणों के रूप में उच्च रखरखाव की लागत का उल्लेख किया। भारतीय वायु सेना ने बताया कि एफजीएफए लड़ाकू विमान के रखरखाव मे बहुत ज्यादा लागत आने वाली है।[9] भारत का रूसी लड़ाकू विमानों के साथ एक लंबा अनुभव है क्यूकी भारत लगभग 200 सुखोई एसयू-30 संचालित करता हैं।.[10] पांच भारतीय सुखोई एसयू-30 पिछले पांच वर्षों में दुर्घटनाग्रस्त हो गए हैं, जिस पर भारत ने बीयरिंग विफलताओं को कारण बताया। भारत चीन के चेंगदू जे-20 स्टैल्थ लड़ाकू विमान के बराबर वाली क्षमता के लिए अपना पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू का उत्पादन करना पसंद कर रहा है।[11]

निर्दिष्टीकरण (अनुमानित)[संपादित करें]

इनमें से अधिकांश आंकड़े सुखोई टी-50 प्रोटोटाइप के लिए होते हैं। एचएएल एफजीएफए के बारे मे अभी ज्यादा जानकारी नहीं है।

एविएशन समाचार,[12] एविएशन वीक,[13] एयर इंटरनेशनल[14] से डेटा

सामान्य लक्षण

  • चालकदल: 2<[15]
  • लंबाई: 19.8 मीटर (65.0 फुट)
  • पंख फैलाव: 13.95 मीटर (45.8 ft)
  • ऊंचाई: 4.74 मीटर (15.6 फुट)
  • पंख क्षेत्र: 78.8 मीटर2 (848.1 फुट2)
  • खाली वजन: 18,000 किलोग्राम (39,680 पौंड)
  • उपयोगी भार: 25,000 किलोग्राम (55,115 पौंड) मिशन वजन पर, 29,270 किलोग्राम (64,530 पौंड) पूर्ण भार पर
  • अधिकतम उड़ान वजन: 35,000 किलोग्राम (77,160 पौंड)
  • ईंधन क्षमता: 10,300 कि॰ग्राम (22,700 पौंड)[16]
  • पावर प्लांट: 2 × सैर्टन एल-41 आरंभिक उत्पादन के लिए, izdeliye 30 बाद के उत्पादन के लिए[17] थ्रस्ट वेक्टर टर्बोफैन
    • मूल थ्रस्ट: 93.1 किलोन्यूटन / 110 किलोन्यूटन (21,000 पौंड बल / 24,300 पौंड बल) प्रत्येक से
    • आफ्टरबर्नर के साथ थ्रस्ट: 147 किलोन्यूटन / 176 किलोन्यूटन (33,067 पौंड बल / 39,600 पौंड बल) प्रत्येक से

प्रदर्शन

  • अधिकतम गति:
    • सुपरक्रूज: मैक 2.3 (2,440 किमी/घंटा, 1,520 मील प्रति घंटा)
    • सुपरक्रूज: मैक 1.6 (1,700 किमी/घंटा, 1,060 मील प्रति घंटा)
  • रेंज: 3,500 किमी (2,175 मील) सबसोनिक
    • 1,500 किमी (930 मील) सुपरसोनिक[17]
  • फेरी रेंज: 5,500 किमी (3,420 मील) एक उड़ान में ईंधन भरने के साथ[18]
  • अधिकतम सेवा सीमा: 20,000 मीटर (65,000 फुट)
  • विंग लोडिंग: 317–444 किलोग्राम/मीटर2 (65–91 पौंड/फुट2)
  • थ्रस्ट/वजन:
    • Saturn 117: 1.02 (1.19 मिशन वजन पर)
    • izdeliye 30: 1.23 (1.41 मिशन वजन पर)
  • अधिकतमg-लोड: +9.0 g[19]

अस्र-शस्र

  • गन्स: 1 × 30 मिमी आंतरिक तोप
  • हार्ड प्वाइंट: 6 आंतरिक, 6 पंखों पर

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Vladimir Radyuhin. "Fifth generation fighter crosses milestone". The Hindu. अभिगमन तिथि 6 April 2015.
  2. Luthra, Gulshan. "IAF decides on 144 Fifth Generation Fighters." India Strategic, October 2012.
  3. "India to jointly develop 250 fifth generation fighters". Sify. 2010-10-04. अभिगमन तिथि 2010-12-16.
  4. Ajai Shukla (15 May 2012). "Delays and challenges for Indo-Russian fighter". business-standard.com. अभिगमन तिथि 6 April 2015.
  5. Kappan, Rasheed (2007-02-08). "Indo-Russian agreement soon on PAK-FA". Chennai, India: The Hindu. अभिगमन तिथि 2007-10-20.
  6. "India, Russia to make 5th generation fighter jets". Times of India. 2007-01-24. अभिगमन तिथि 2007-10-20.
  7. "India, Russia still brothers in arms". Asia Times. 27 October 2007. अभिगमन तिथि 2010-12-16.
  8. "India, Russia to Ink gen-5 fighter pact." Business standard. Retrieved: 19 November 2012.
  9. "IAF not in favour of acquiring Russian 5th gen jets, keen on DRDO Make in India project instead". अभिगमन तिथि 2017-11-10.
  10. Rogoway, Tyler (2015-03-17). "Su-30 fleet plagued by engine woes, poor serviceability". hindustantimes.com. अभिगमन तिथि 2017-11-10.
  11. Moskvitch, Katia (17 Aug 2017). "Russia joins the stealth fighter club – but how good is the Su-57?". www.imeche.org (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2017-11-10.
  12. Butowski 2012, p. 48-52.
  13. "Sukhoi T-50 Shows Flight-Control Innovations". aviationweek.com. अभिगमन तिथि 6 April 2015.
  14. Butowski, Piotr. "Raptorski's Maiden Flight". Air International, Vol. 78, No 3, March 2010, pp. 30–37. Stamford, UK: Key Publishing.
  15. "India Fast Tracks 5th Generation Fighter Jet Project With Russia". NDTV. 22 January 2015. अभिगमन तिथि 23 January 2015.
  16. &linkid=2280&catid=255 "PAK-FA Sukhoi T-50."[मृत कड़ियाँ] warfare.ru. Retrieved: 26 January 2011.
  17. Butowski 2013, p. 81.
  18. "T-50 / Project 701 / PAK FA specifications." GlobalSecurity.org. Retrieved: 18 January 2013.
  19. "The pilots of T-50 fighters received new anti-G equipment – News – Russian Aviation". Ruaviation.com. अभिगमन तिथि 2013-11-16.