सामग्री पर जाएँ

सरिय्या अब्द अल-रहमान इब्न औफ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
रिय्या अब्द अल-रहमान इब्न औफ
मुहम्मद की सैन्य उपलब्धियाँ का भाग
तिथि 6AH के 8 वें (शाबान) महीने दिसंबर, 627AD
स्थान en:Dumatul Jandal
परिणाम
  • ऑपरेशन सफल रहा, बनू कल्ब जजिया देने को राजी हो गए
  • बनू कल्ब के राजा और कुछ जनजाति के सदस्य इस्लाम स्वीकार करते हैं
  • अब्द अल-रहमान इब्न औफ ने राजा की बेटी से शादी की[1][2]
सेनानायक
अब्द अल-रहमान इब्न औफ] अल असबाग
शक्ति/क्षमता
700 अज्ञात[2]

सरिय्या अब्द अल-रहमान इब्न औफ रजि० इसे दूमतुल_जन्दल का दूसरा अभियान (अंग्रेज़ी: Expedition of 'Abd al-Rahman ibn 'Awf के रूप में भी जाना जाता है, इस्लामिक कैलेंडर के 6AH के 8 वें (शाबान) महीने दिसंबर, 627AD में हुआ था। अब्द अल-रहमान इब्न औफ को बनू कल्ब जनजाति पर जीत हासिल करने और उन्हें इस्लाम अपनाने और मुसलमानों के पक्ष में लाने के लिए एक मिशन पर भेजा गया था, इस ऑपरेशन को सफलतापूर्वक अंजाम दिया गया था।

मुहम्मद ने लोगों पर जीत हासिल करने के लिए अब्द अल-रहमान इब्न औफ को दुमातुल जंदल के प्रमुख के रूप में नियुक्त किया।

अब्द अल-रहमान ने 700 सहाबा के साथ एक अभियान पर दुमत अल-जंदल की स्थापना की, जो कि खैबर, फदक के मार्ग पर है । वह स्थान एक बड़ा व्यापारिक केंद्र था; निवासी मुख्य रूप से ईसाई थे और एक ईसाई राजा द्वारा शासित थे। इस्लामिक शासन का पालन करते हुए, दुमातुल जंदल पहुंचने पर, 'अब्द अल-रहमान ने तीन दिनों के अनुग्रह के भीतर जनजाति के लोगों को इस्लाम अपनाने के लिए बुलाया।

3 दिन की अवधि के दौरान, बनू कल्ब के एक ईसाई प्रमुख अल-असबाग ने पालन किया और उनके कई अनुयायियों ने भी इसका पालन किया। अन्य जनजातियों ने भी 'अब्द अल-रहमान' को श्रद्धांजलि (जज़िया) दी। नियमित रूप से जजिया कर देने की सहमति पर, उन्हें अपना ईसाई धर्म रखने की अनुमति दी गई।

मुहम्मद ने एक संदेशवाहक के माध्यम से समाचार प्राप्त किया, और फिर अब्द अल-रहमान इब्न औफ को ईसाई प्रमुख अल-असबग बिन अम्र कलबी की बेटी तमाज़ीर से शादी करने का निर्देश दिया। इसलिए 'अब्द अल-रहमान ने ईसाई राजा की बेटी तमाज़ीर बिन्त असबग से शादी की और इस महिला को अपने साथ मदीना ले आए।

इस्लाम के विद्वान सफिउर्रहमान मुबारकपुरी के अनुसार यह सरिय्या हज़रत अब्दुर्रहमान बिन औफ रज़ि० के नेतृत्व में शअबान सन्‌ 06 हि० में भेजा गया। अल्लाह क रसूल सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम न इन्हें अपने सामने बिठा कर खुद अपने मुबारक हाथ से पगड़ी बांधी और लड़ाई में सब से अच्छा तरीका अपनाने की वसीयत फरमाई और फुरमाया कि अगर वे लोग तुम्हारी बात मान ले तो लुम उन के बादशाह की लड़की से शादी कर लेना । हजरत अब्दुर्रहमान बिन औफ्‌ रजि० ने वहां पहुंच कर तीन दिन लगातार इस्लाम की दावत दी, - आखिरकार कौम ने इस्लाम कूबुल कर लिया। हजरत अब्दुर॑हमान बिन औफ रजि० ने तमाजुर बिन्ते अस्बग से शादी की। यही हजरत अब्दुरहमान के बेटे अबू सलमा की मां हैं। इस महिला के पिता अपनी कौम में सरदार और बादशाह थे। [3]

सराया और ग़ज़वात

[संपादित करें]

अरबी शब्द ग़ज़वा [4] इस्लाम के पैग़ंबर के उन अभियानों को कहते हैं जिन मुहिम या लड़ाईयों में उन्होंने शरीक होकर नेतृत्व किया, इसका बहुवचन है गज़वात, जिन मुहिम में किसी सहाबा को ज़िम्मेदार बनाकर भेजा और स्वयं नेतृत्व करते रहे उन अभियानों को सरियाह(सरिय्या) या सिरया कहते हैं, इसका बहुवचन सराया है।[5] [6]

इन्हें भी देखें

[संपादित करें]

सन्दर्भ

[संपादित करें]
  1. Mubarakpuri, Saifur Rahman Al (2005), The sealed nectar: biography of the Noble Prophet, Darussalam Publications, पृ॰ 395, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9789960899558 (online)
  2. Muir, William (1861), The life of Mahomet and history of Islam to the era of the Hegira, Volume 4, Smith, Elder & Co, पपृ॰ 11–12
  3. सफिउर्रहमान मुबारकपुरी, पुस्तक अर्रहीकुल मख़तूम (सीरत नबवी ). "सरिय्या दयारे बनी कल्ब, इलाका दूमतुल जन्दल". पृ॰ 673. अभिगमन तिथि 13 दिसम्बर 2022.
  4. Ghazwa https://en.wiktionary.org/wiki/ghazwa
  5. siryah https://en.wiktionary.org/wiki/siryah#English
  6. ग़ज़वात और सराया की तफसील, पुस्तक: मर्दाने अरब, पृष्ट ६२] https://archive.org/details/mardane-arab-hindi-volume-no.-1/page/n32/mode/1up

बाहरी कड़ियाँ

[संपादित करें]
  • अर्रहीकुल मख़तूम (सीरत नबवी ), पैगंबर की जीवनी (प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार से सम्मानित पुस्तक), हिंदी (Pdf)