सरगम (1979 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सरगम
सरगम1.jpg
सरगम का पोस्टर
निर्देशक कसीनथुनी विश्वनाथ
निर्माता एन॰ एन॰ सिप्पी
लेखक कसीनथुनी विश्वनाथ
जैनेन्द्र जैन (संवाद)
अभिनेता ऋषि कपूर,
जयाप्रदा
संगीतकार लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
प्रदर्शन तिथि(याँ) 8 जनवरी, 1979
देश भारत
भाषा हिन्दी

सरगम 1979 में बनी हिन्दी भाषा की नाट्य फिल्म है, जिसका लेखन और निर्देशन कसीनथुनी विश्वनाथ ने किया। यह उनकी पूर्व तेलुगु फिल्म सिरी सिरी मुव्वा (1976) की रीमेक थी, जिसमें जयाप्रदा ने अभिनय किया था और उन्हें दक्षिण भारत में लोकप्रिय सितारा बनाया था। उन्होंने मूक नर्तक की अपनी भूमिका को दोहराते इस फिल्म के साथ हिन्दी फिल्मों में शुरुआत की।

फिल्म में ऋषि कपूर उनके साथी के रूप में, शशि कला उनकी सौतेली माँ के रूप में, श्रीराम लागू उनके पिता के रूप में और शक्ति कपूर, अरुणा ईरानी, असरानी उनके नृत्य शिक्षक के रूप में अभिनय किये हैं। लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल ने यादगार गीतों की रचना की, जिन्होंने फिल्म के लिए एकमात्र फिल्मफेयर पुरस्कार जीता। आनन्द बक्शी ने गीत लिखें। मोहम्मद रफ़ी ने सभी सात गाने गाए, उनमें से तीन लता मंगेशकर के साथ थे।

संक्षेप[संपादित करें]

ये कहानी हेमा (जयाप्रदा) से शुरू होती है, जो जन्म से ही बोल या सुन नहीं सकती है। वो अपने शिक्षक पिता, चिंतामणि, सौतेली माँ और सौतेली बहन के साथ रहती है। हेमा के साथ उसकी सौतेली माँ हमेशा से ही गलत तरीके से बर्ताव करते रहती है। वो बाद में हेमा को बेचने की योजना भी बनाती है। वो हेमा को एक बूढ़े आदमी को बेच देती है और इसे छुपाने के लिए वो उसकी शादी उसी बूढ़े आदमी से तय कर देती है। इस कारण हेमा घर छोड़ कर भाग जाती है।

घर से भागने के बाद हेमा की मुलाक़ात राजू (ऋषि कपूर) से होती है, जो एक संगीतकार है। वो उसकी मदद करता है और उसके नृतक बनने के ख्वाब को पूरा करने में भी मदद करता है। इसी बीच हेमा को राजू से प्यार हो जाता है, पर वो तय नहीं कर पाती है कि राजू उसे स्वीकार करेगा या नहीं।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत लोकप्रिय हुए। विशेषकर "डफली वाले डफली बजा" ने लोकप्रियता के सारे कीर्तिमान तोड़ दिये थे। ये गीत बिनाका गीत माला की 1980 की सूची पर शीर्ष पर रहा था।

सभी गीत आनन्द बक्शी द्वारा लिखित; सारा संगीत लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."डफली वाले डफली बजा"लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी5:15
2."हम तो चले परदेस"मोहम्मद रफ़ी4:54
3."कहाँ तेरा इंसाफ है"मोहम्मद रफ़ी4:46
4."कोयल बोली दुनिया डोली"लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी4:21
5."मुझे मत रोको मुझे गाने दो"मोहम्मद रफ़ी4:28
6."परबत के उस पार"लता मंगेशकर, मोहम्मद रफ़ी7:17
7."राम जी की निकली सवारी"मोहम्मद रफ़ी5:21

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

वर्ष नामित कार्य पुरस्कार परिणाम
1980 लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ संगीत निर्देशक पुरस्कार जीत
एन॰ एन॰ सिप्पी फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म पुरस्कार नामित
ऋषि कपूर फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार नामित
जयाप्रदा फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार नामित
असरानी फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता पुरस्कार नामित
आनन्द बक्शी ("डफली वाले डफली बजा") फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ गीतकार पुरस्कार नामित

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]