सदस्य:Vignesh0310/प्रयोगपृष्ठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
हिंदी साहित्य की किताबें

/इंटरनेशनल%20जर्नल इंटरनेशनल जर्नल] ऑफ़ हिन्दी रिसर्च पत्रिका का प्राइम फोकस हिंदी की पढ़ाई से संबंधित लेख प्रकाशित करने के लिए है। यह पत्रिका हिन्दी अनुसंधान में छात्रों और कर्मियों को प्रेरित करने के उद्देश्य के साथ मंच प्रदान करता है।

हिन्दी साहित्यए प्राचीन]] भारतीय विज्ञान (हिन्दी में), संगणना भाषा विज्ञान, संस्कृति, महाकाव्य, व्याकरण,]] इतिहास, भारतीय सौंदर्य और राजनीति, पुराणों, धर्म, साहित्य, वेद, वैदिक अध्ययन, बौद्ध साहित्य, भारतीय और पश्चिमी तार्किक सिस्टम, भारतीय प्रवचन विश्लेषण, भारतीय दर्शन, भारतीय सामाजिक-राजनीतिक चिंतन, प्दकवसवहपबंस अध्ययन, जैन साहित्य, हिंदू ज्योतिष ।

अपने विचार और टिप्पणियां अत्यधिक प्रशंसित किया जाएगा। लेखक hindi.manuscript@gmail.com के लिए अपने लेख भेज सकते हैं। सभी पांडुलिपियों त्वरित समकक्ष समीक्षा प्रक्रिया और (पहले प्रकाशित नहीं और एक अन्य पत्रिका के प्रकाशन के लिए विचाराधीन नहीं कर रहे हैं जो कर रहे हैं) के लिए उच्च गुणवत्ता के उन लोगों के बाद के अंक में बिना किसी देरी के प्रकाशित किया जाएगा के अधीन हैं। पांडुलिपि के ऑनलाइन जमा करने की जोरदार सिफारिश की है। एक पांडुलिपि नंबर एक सप्ताह या जल्दी के भीतर इसी लेखक के लिए भेज दिया जाएगा।

हिन्दी रिसर्च इंटरनेशनल जर्नल की ओर से, मैं अपने सभी साथी शोधकर्ताओं और विद्वानों]] के लिए मेरे संबंध बढ़ाने और उन्हें अपने क्षेत्र में समृद्धि की कामना करता हूं।

हिंदी प्राकृत और अपभ्रंश के माध्यम से संस्कृत के एक प्रत्यक्ष वंशज है। यह प्रभावित]] किया है और द्रविड़, तुर्की, फारसी, अरबी, पुर्तगाली और अंग्रेजी से समृद्ध किया गया है। यह एक बहुत ही अर्थपूर्ण भाषा है। कविता और गीत में, यह सरल और सौम्य शब्दों का प्रयोग भावनाओं को व्यक्त कर सकते हैं। यह भी सही और तर्कसंगत तर्क के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

भारत में अधिक से अधिक 180 मिलियन लोगों को अपनी मातृभाषा के रूप में हिन्दी में मानते हैं। एक और 300 मिलियन दूसरी भाषा के रूप में उपयोग करें। भारत के बाहर, हिंदी वक्ताओं संयुक्त राज्य अमेरिका में 100,000 रहे हैं; मॉरीशस में 685170; दक्षिण अफ्रीका में 890,292; यमन में 232760; युगांडा में 147,000; सिंगापुर]] में 5000; नेपाल में 8 लाख; न्यूजीलैंड में 20,000; जर्मनी में 30,000। उर्दू, पाकिस्तान की आधिकारिक भाषा है, के बारे में 41 मिलियन पाकिस्तान और अन्य देशों में द्वारा बोली, अनिवार्य]] रूप से एक ही भाषा है। दखिनी कम फारसी या अरबी शब्द का उपयोग करता है उर्दू के एक पुराने, दक्षिणी रूप है।

सूर्य रथ के बारे में नोट

हिन्दी साहित्य के प्रसिद्ध कहानियों

बड़े घर की बेटी | कहानी (कथा-कहानी) - रचनाकार: मुंशी प्रेमचंद

आनंदी एक बड़े घर की बेटी है जो मध्यम वर्गीय परिवार में ब्याही जाती है. पीहर में सब तरह के ऐशों आराम और सुख सुविधाओं के बीच पली आनंदी को यह पता ही नही होता कि एक माध्यम आमदनी वाले परिवार का खर्च कैसे चलता है. घर में सास नहीं है, केवल ससुर पति तथा एक देवर के होने के कारण रसोई व गृहस्थी की साड़ी जिम्मेदारियां उसी के ऊपर आ जाती हैं. किफायत ना जानने वाली आनंदी जब महीने भर का घी कुछ ही दिनों में ख़तम कर देती है तो एक दिन उसका देवर गुस्से से भड़क उठता है और दोनों में कहा सुनी हो जाती है. पति को यह बात पता चलने पर वह छोटे भाई पर बहुत नाराज़ होता है और उसे घर से निकल जाने के लिए कहता है. हालांकि देवर की शिकायत करते वक़्त आनंदी काफी गुस्से में होती है लेकिन वह यह नहीं जानती कि बात इतनी भी बढ़ सकती है. परिवार का विघटन तो वह किसी भी सूरत में चाहती ही नहीं. अतः लाख कोशिशों और मिन्नतों के बाद जैसे तैसे पति का गुस्सा शांत करने में सफल होती है और परिवार को टूटने से बचा लेती है. पूरा गाँव यही कहकार उसकी तारीफ़ करता है कि बड़े घर की बेटियाँ ऐसी ही होती हैं. बिगड़ी बात को भी सुधार देती हैं.

चीनी भाई (कथा-कहानी) रचनाकार: महादेवी वर्मा |

मुझे चीनियों में पहचान कर स्मरण रखने योग्य विभिन्नता कम मिलती है। कुछ समतल मुख एक ही साँचे में ढले से जान पड़ते हैं और उनकी एकरसता दूर करने वाली, वस्त्र पर पड़ी हुई सिकुड़न जैसी नाक की गठन में भी विशेष अंतर नहीं दिखाई देता। कुछ तिरछी अधखुली और विरल भूरी वरूनियों वाली आँखों की तरल रेखाकृति देख कर भ्रांति होती है कि वे सब एक नाप के अनुसार किसी तेज धार से चीर कर बनाई गई हैं। स्वाभाविक पीतवर्ण धूप के चरणचिह्नों पर पड़े हुए धूल के आवरण के कारण कुछ ललछौंहे सूखे पत्ते की समानता पर लेता है। आकार, प्रकार, वेशभूषा सब मिल कर इन दूर देशियों को यंत्रचालित पुतलों की भूमिका दे देते हैं, इसी से अनेक बार देखने पर भी एक फेरी वाले चीनी को दूसरे से भिन्न कर के पहचानना कठिन है। पर आज उन मुखों की एकरूप समष्टि में मुझे एक मुख आर्द्र नीलिमामयी आँखों के साथ स्मरण आता है जिसकी मौन भंगिमा कहती है - हम कार्बन की कापियाँ नहीं हैं। हमारी भी एक कथा है। यदि जीवन की वर्णमाला के संबंध में तुम्हारी आँखें निरक्षर नहीं तो तुम पढ़ कर देखो न!

कई वर्ष पहले की बात है मैं ताँगे से उतर कर भीतर आ रही थी कि भूरे कपड़े का गट्ठर बाएँ कंधे के सहारे पीठ पर लटकाए हुए और दाहिने हाथ में लोहे का गज घुमाता हुआ चीनी फेरी वाला फाटक के बाहर आता हुआ दिखा। संभवत: मेरे घर को बंद पाकर वह लौटा जा रहा था। 'कुछ लेगा मेम साब' - दुर्भाग्य का मारा चीनी। उसे क्या पता कि यह संबोधन मेरे मन में रोष की सबसे तुंग तुरंग उठा देता है। मइया, माता, जीजी, दिदिया, बिटिया आदि न जाने कितने संबोधनों से मेरा परिचय है और सब मुझे प्रिय हैं, पर यह विजातीय संबोधन मानो सारा परिचय छीन कर मुझे गाउन में खड़ा कर देता है। इस संबोधन के उपरांत मेरे पास से निराश होकर न लौटना असंभव नहीं तो कठिन अवश्य है। मैने अवज्ञा से उत्तर दिया- 'मैं विदेशी - फ़ॉरेन - नहीं ख़रीदती।' 'हम फ़ॉरेन हैं? हम तो चाईना से आता है' कहने वाले के कंठ में सरल विस्मय के साथ उपेक्षा की चोट से उत्पन्न चोट भी थी। इस बार रुककर, उत्तर देनेवाले को ठीक से देखने की इच्छा हुई। धूल से मटमैले सफ़ेद किरमिच के जूते में छोटे पैर छिपाए, पतलून और पैजामे का सम्मिश्रित परिणाम जैसा पैजामे और कुरते तथा कोट की एकता के आधार पर सिला कोट पहने, उधड़े हुए किनारों से पुरानेपन की घोषणा करते हुए हैट से आधा माथा ढके, दाढ़ी-मूँछ विहीन दुबली नाटी जो मूर्ति खड़ी थी वह तो शाश्वत चीनी है। उसे सबसे अलग कर के देखने का प्रश्न जीवन में पहली बार उठा।


हिन्दी साहित्य के इतिहास

आदि काल या वीर-गाथा कल (सी। 1375 करने के लिए 1050)

आदि काल (सी। से पहले 15 वीं सदी) के साहित्य कन्नौज, दिल्ली के क्षेत्रों में विकसित किया गया था, अजमेर मध्य भारत के लिए ऊपर खींच रहा है। [3] पृथ्वीराज रासो, एक महाकाव्य कविता चंद Bardai द्वारा लिखित (1149 - सी। 1200), हिंदी साहित्य के इतिहास में पहली कार्यों में से एक के रूप में माना जाता है। चंद Bardai पृथ्वीराज चौहान, घोर के मुहम्मद के आक्रमण के दौरान दिल्ली और अजमेर के प्रसिद्ध शासक की एक अदालत कवि थे। Jayachand, कन्नौज राठौर राजपूत कबीले से संबंधित के अंतिम शासक, संस्कृत के बजाय स्थानीय बोलियों को अधिक संरक्षण दिया। हर्षा, Naishdhiya चरित्र के लेखक, उनके दरबारी कवि था। Jagnayak (कभी कभी Jagnik), महोबा में शाही कवि, और Nalha, अजमेर में शाही कवि, इस अवधि में अन्य प्रमुख साहित्यिक आंकड़े थे। हालांकि, तराइन की दूसरी लड़ाई में पृथ्वीराज चौहान की हार के बाद, सबसे साहित्यिक इस अवधि से संबंधित काम करता घोर के मुहम्मद की सेना द्वारा नष्ट कर दिया गया। बहुत कम धर्मग्रंथों और इस अवधि से पांडुलिपियों उपलब्ध हैं और उनकी असलियत को भी संदेह है। कुछ सिद्ध और Nathpanthi काव्यगत इस अवधि से संबंधित कार्यों में भी पाए जाते हैं, लेकिन उनकी असलियत फिर से है, पर शक किया। सिद्ध वज्रयान, बाद में एक बौद्ध संप्रदाय के थे। कुछ विद्वानों का तर्क है कि सिद्ध कविता की भाषा हिंदी है, लेकिन मगधी प्राकृत के पहले के एक रूप नहीं है। Nathpanthis योगी जो हठ योग का अभ्यास कर रहे थे। कुछ जैन और Rasau (वीर कवि) कविता कार्यों से इस अवधि में भी उपलब्ध हैं।