श्वेता सिंह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
श्वेता सिंह
जन्म 21 अगस्त 1977 (1977-08-21) (आयु 46)
पटना, बिहार, भारत
शिक्षा पटना वीमेंस कॉलेज[1]
पेशा समाचार प्रस्तुतकर्ता एवम् संपादक
कार्यकाल 1996–present
उल्लेखनीय कार्य {{{notable_works}}}

श्वेता सिंह एक भारतीय पत्रकार और समाचार प्रस्तुतकर्ता हैं।[2] वह आज तक में विशेष कार्यक्रम के एक समाचार एंकर और कार्यकारी संपादक हैं।

करियर[संपादित करें]

पटना विश्वविद्यालय में प्रथम वर्ष स्नातक होने के बावजूद श्वेता ने अपना करियर शुरू किया। 1998 में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में स्विच करने से पहले टाइम्स ऑफ इंडिया, पटना और हिंदुस्तान टाइम्स, पटना में उनके नाम पर उनकी कई बाइनलाइन हैं। उन्होंने 2002 में आज तक में शामिल होने से पहले ज़ी न्यूज और सहारा के लिए काम किया था।[3] वह खेल से संबंधित समाचार को कवर करने में अपनी विशेषज्ञता के लिए जाने जाते हैं। उनके शो सौरव का सिक्सर ने 2005 में स्पोर्ट्स जर्नलिज्म फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसजेएफआई) द्वारा सर्वश्रेष्ठ खेल कार्यक्रम के लिए पुरस्कार जीता। श्वेता ने बिहार विधान सभा चुनाव,२०१५ के दौरान पाटलिपुत्र का इतिहास कार्यक्रम भी किया।

आलोचना[संपादित करें]

लैपडॉग मीडिया[संपादित करें]

सत्तारूढ़ एनडीए सरकार पर सवाल नहीं उठाने के लिए श्वेता की आलोचना की गई है और इन्हें लैपडॉग गोदी मीडिया का हिस्सा माना जाता है।[4]

छद्म विज्ञान में विश्वास[संपादित करें]

श्वेता की आलोचना हिंदुत्व के पौराणिक कथाओं को वास्तविक इतिहास मानने और छद्म विज्ञान विवेचन के लिए भी की जाती है, जैसे कि गाय ऑक्सीजन के लिए एकमात्र जानवर है, यज्ञ में एक तोला घी एक टन ऑक्सीजन पैदा करता है। [5] मार्च 2018 में, उसने द्वारका के खोए हुए शहर को खोजने के लिए स्कूबा डाइविंग की।[6]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]



सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Sweta Singh, Aaj Tak Anchor: Wanted to Become a Film Maker, But Became a News Anchor Archived 2018-11-09 at the वेबैक मशीन. Acadman.in (2017-06-17). Retrieved on 2018-09-11.
  2. Sweta Singh (1 August 2012). "Sweta Singh Editor, Special Programming, Aaj Tak". इण्डिया टुडे. मूल से 20 जुलाई 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 August 2013.
  3. Sweta Singh (1 अगस्त 2004). "Making headlines:Sweta Singh(Aaj Tak)". हिन्दुस्तान टाईम्स. मूल से 14 नवम्बर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 अगस्त 2004.
  4. "At India Today, Anchors Can Spread Fake News While Editor is Sacked For Speaking Out".
  5. "The Instances When India Today Was Ahead Of Times Now & Republic TV In Spreading Fake News".
  6. "Video: भगवान कृष्ण के राज्य का पता लगाने समुद्र में कूदीं महिला एंकर, लोग ले रहे मजे".

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]