शाकद्वीप

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

विष्णुपुराण के अनुसार पृथ्वी का वर्णन इस प्रकार है। यह वर्णन श्रीपाराशर जी ने श्री मैत्रेय ऋषि से किया था। उनके अनुसार इसका वर्णन सौ वर्षों में भी नहीं हो सकता है। यह केवल अति संक्षेप वर्णन है।

पृथ्वी के द्वीप[संपादित करें]

पृथ्वी के द्वीपों और सागरों की स्थिति

यह पृथ्वी सात द्वीपों में बंटी हुई है। वे द्वीप एस प्रकार से हैं:-

  1. जम्बूद्वीप
  2. प्लक्षद्वीप
  3. शाल्मलद्वीप
  4. कुशद्वीप
  5. क्रौंचद्वीप
  6. शाकद्वीप
  7. पुष्करद्वीप

ये सातों द्वीप चारों ओर से क्रमशः खारे पानी, इक्षुरस, मदिरा, घृत, दधि, दुग्ध और मीठे जल के सात समुद्रों से घिरे हैं। ये सभी द्वीप एक के बाद एक दूसरे को घेरे हुए बने हैं और इन्हें घेरे हुए सातों समुद्र हैं। जम्बुद्वीप इन सब के मध्य में स्थित है।[1]

शाकद्वीप का वर्णन[संपादित करें]

इस द्वीप के स्वामि भव्य वीरवर थे। इनके सात पुत्रों : जलद, कुमार, सुकुमार, मरीचक, कुसुमोद, मौदाकि और महाद्रुम के नाम संज्ञानुसार ही इसके सात भागों के नाम हैं। मठ्ठे का सागर अपने से दूने विस्तार वाले शाक द्वीप से चारों ओर से घिरा हुआ है। यहां भी सात पर्वत, सात मुख्य नदियां और सात ही वर्ष हैं।[2]

पर्वत[संपादित करें]

उदयाचल, जलाधार, रैवतक, श्याम, अस्ताचल, आम्बिकेय और अतिसुरम्य गिरिराज केसरी नामक सात पर्वत हैं।[3]

नदियां[संपादित करें]

सुमुमरी, कुमारी, नलिनी, धेनुका, इक्षु, वेणुका और गभस्ती नामक सात नदियां हैं।[4]

सात वर्ष[संपादित करें]

जलद, कुमार, सुकुमार, मरीचक, कुसुमोद, मौदाकि और महाद्रुम। यहां वंग, मागध, मानस और मंगद नामक चार वर्ण हैं।[5]

यहां अति महान शाक वृक्ष है, जिसके वायु के स्पर्श करने से हृदय में परम आह्लाद उत्पन्न होता है। वस्तुतः शाक आज के पालक सम था। यह द्वीप अपने ही बराबर के दुग्ध (दूध) से भरे समुद्र से चारों ओर से घिरा हुआ है। यह सागर अपने से दुगुने विस्तार वाले पुष्कर द्वीप से घिरा है।[6]

शाकद्वीपीय ब्राह्मण[संपादित करें]

भविष्यपुराण आदि पुराणो में एक कथा आती है जो महाभारत काल से संबंधित है। उसमें बताया गया है कि जब भगवान कृष्ण के पुत्र को कुष्ठ रोग का स्राप मिला तब भगवान नें शाकद्वीप से अट्ठारह सूर्यांश दिव्य ब्राह्मणों को सपरिवार जम्बूद्वीप के भरतखण्ड में अपने राज्य द्वारिका ले आए जिन्होंने साम्ब की चिकित्सा की। तत्पश्चात वे ब्राह्मण मगध (बिहार) आ गए। वह प्रकाण्ड संस्कृत के ज्ञानी थे तथा चिकित्सक भी थे। आज उन्हीं अट्ठारह परिवारों के वंशज को शाकद्वीपीय ब्राह्मण कहते हैं।ब्राह्मणों का बड़ा दल इन्हे ब्राह्मण नही स्वीकार करता और हीन दृष्टि से देखता है ।[7]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. भागवत पुराण पंचम स्कंध।
  2. भागवत
  3. भागवत
  4. भागवत
  5. विष्णुपुराण
  6. भागवत पंचम स्कंद बीसवाँ अध्याय।
  7. शाकद्वीपीय ब्राह्मण, विप्रवार्ता।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]