वैष्णव पदावली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

बंगला साहित्य में वैष्णव कवियों द्वारा १५वीं शताब्दी से लेकर १७वीं शताब्दी तक रचित साहित्य वैष्णब पदावली नाम से जाना जाता है। इसमें प्रधानतः राधा और कृष्ण की प्रेमलीला को आधार बनाकर साहित्य रचा गया। यह आन्दोलन विद्यापति और चण्डीदास से आरम्भ हुआ, सोलहवीं शताब्दी में इसका विकास हुआ।