वीगनवाद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वीगनवाद (अंग्रेज़ी: veganism) पशु उत्पादों के उपयोग से परहेज़ रखने की प्रथा है, विशेषकर आहार में; साथ ही, वह एक सम्बन्धित दर्शन भी है जो पशुओं की पण्य स्थिति को अस्वीकारता है।[1] इस आहार अथवा दर्शन का अनुयायी वीगन कहा जाता है।

कभी-कभी वीगनवाद की अनेक श्रेणियों के बीच अन्तर किया जाता हैं। पथ्य वीगन पशु उत्पादों का सेवन करने से परहेज़ रखते हैं। इसका अर्थ यह हुआ कि वे न केवल मांस का त्याग करते हैं, अपितु अण्डों और दुग्ध उत्पादों और अन्य पशु से निकले खाद्यपदार्थों का भी उपभोग नहीं करते। कुछ पथ्य वीगन पशु उत्पाद वाले कपड़े पहनने का चयन करते हैं (उदाहरणार्थ, चमड़ा या ऊन)।[2]

नीतिशास्त्रीय वीगन' शब्द का प्रयोग अक़्सर उनके लिए होता हैं, जो इस दर्शन को आहार से परे, जीवन के अन्य क्षेत्रों में विस्तारित करते हैं। इस दर्शन का अर्थ है किसी भी हेतु के लिए पशु उत्पादों का विरोध करना।[n 1] पर्यावरणीय वीगनवाद का सन्दर्भ पशु उत्पादों का त्याग करने से हैं, क्योंकि पशुओं की उत्पत्ति और औद्योगिक कृषि पर्यावरणीय रूप से नुकसानदायक और असंधारणीय हैं।[8]

इतिहास[संपादित करें]

उद्गम[संपादित करें]

सख़्त शाकाहारी[संपादित करें]

वीगन शब्द का ईजाद (1944)[संपादित करें]

बढ़ती रूचि[संपादित करें]

मुख्यधारा में (2010 दशक)[संपादित करें]

डेमोग्राफिक्स[संपादित करें]

पशु उत्पाद[संपादित करें]

त्याग[संपादित करें]

अण्डे, दुग्ध उत्पाद, शहद, मुलायम[संपादित करें]

वीगन आहार[संपादित करें]

सोया[संपादित करें]

पेड़ दूध, चीज़, मेयो[संपादित करें]

अण्डे के विकल्प[संपादित करें]

वीगन भोजन समूह[संपादित करें]

तत्त्व[संपादित करें]

प्रोटीन[संपादित करें]

विटामिन बी12[संपादित करें]

कैल्शियम[संपादित करें]

विटामिन डी[संपादित करें]

आयरन[संपादित करें]

ओमेगा-3 फैटी एसिड्स, आयोडीन[संपादित करें]

गर्भावस्था, शिशु और बच्चे[संपादित करें]

कच्चा वीगनवाद[संपादित करें]

व्यक्तिगत चीज़े[संपादित करें]

तोइलेट्रीज़, गृहस्थी[संपादित करें]

कपड़े[संपादित करें]

दर्शन[संपादित करें]

नीतिशास्त्रीय वीगनवाद[संपादित करें]

पर्यावरणीय वीगनवाद[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

विगनवादियों और शाकाहारियों में अन्तर[संपादित करें]

भोजन जो शाकाहारी नहीं खाते भोजन जो वीगनवादी नहीं खाते
  • मांस
  • मछली
  • मुर्गी या किसी अन्य प्राणी का मास
  • सभी भोजन जो "भोजन जो शाकाहारी नहीं खाते" के अन्तरगत लिखा गया हो।
  • अण्डे (अधिकांश शाकाहारी भी इसे नहीं खाते)
  • दूध या उसके उत्पाद
  • शहद
  • जानवर के चमड़े से बनने वाला भोजन (या वस्तुओं का प्रयोग)
  • ऊन
  • कॉस्मेटिक्स
  • जानवार की चरबी से बने साबुन[9]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. वीगनवाद और पण्य रूप में पशुओं के लिए:
    हेलेना Pedersen, Vasile Staescu, "Conclusion: Future Directions for Critical Animal Studies," in Nik Taylor, Richard Twine (eds.), The Rise of Critical Animal Studies: From the Margins to the Centre, Routledge, 2014 (pp. 262–276), p. 267: " ... we are vegan because we are ethically opposed to the notion that life (human or otherwise) can, or should, ever be rendered as a buyable or sellable commodity."
    गैरी Steiner, Animals and the Limits of Postmodernism, Columbia University Press, 2013, p. 206: " ... ethical veganism, the principle that we ought as far as possible to eschew the use of animals as sources of food, labour, entertainment and the like ... [This means that animals] ... are entitled not to be eaten, used as forced field labor, experimented upon, killed for materials to make clothing and other commodities of use to human beings, or held captive as entertainment."
    गैरी Francione, "Animal Welfare, Happy Meat and Veganism as the Moral Baseline," in डेविड एम० Kaplan, The Philosophy of Food, यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया प्रेस, 2012 (pp. 169–189) p. 182: "Ethical veganism is the personal rejection of the commodity status of nonhuman animals ..."
    गैरी Steiner, "Animal, Vegetable, Miserable", दी न्यू यॉर्क टाइम्स, 21 November 2009: "People who are ethical vegans believe that differences in intelligence between human and non-human animals have no moral significance whatsoever. The fact that my cat can't appreciate Schubert's late symphonies and can't perform syllogistic logic does not mean that I am entitled to use him as an organic toy, as if I were somehow not only morally superior to him but virtually entitled to treat him as a commodity with minuscule market value."
    सामान्यतः पशुओं के पण्यीयीकरण के लिए:
    कैथरीन Gillespie, "Nonhuman animal resistance and the improprieties of live property," in Irus Braverman (ed.), Animals, Biopolitics, Law, Routledge, 2015, chapter six. See in particular the section "The Animal-as-Commodity."
    Rosemary-Claire Collard, Kathryn Gillespie, "Introduction," in कैथरीन Gillespie, Rosemary-Claire Collard (eds.), Critical Animal Geographies, Routledge, 2015, p. 2.
    Gregory R. Smulewicz-Zucker, "The Problem with Commodifying Animals," in Gregory R. Smulewicz-Zucker (ed.), Strangers to Nature: Animal Lives and Human Ethics, Lanham, MD: Lexington Books, 2012, pp. 157–175.
    Rhoda Wilkie, "Sentient Commodities: The Ambiguous Status of Livestock," Livestock/Deadstock: Working with Farm Animals from Birth to Slaughter, Temple University Press, 2010, chapter 6, pp. 115–128; also 176–177.

    डेविड N. Cassuto, "Owning What You Eat: The Discourse of Food," in J. Ronald Engel, Laura Westra, Klaus Bosselman (eds.), Democracy, Ecological Integrity and International Law, Cambridge Scholars Publishing, 2009.

  2. "The Great Vegan vs. Plant-Based Debate - UC Davis Integrative Medicine" (en-US में). http://ucdintegrativemedicine.com/2015/02/the-great-vegan-vs-plant-based-debate/#gs.o0WPXYI. 
  3. Laura Wright, The Vegan Studies Project: Food, Animals, and Gender in the Age of Terror, University of Georgia Press, 2015, p. 2.
  4. Brenda Davis, Vesanto Melina, Becoming Vegan: Express Edition, Book Publishing Company, 2013, p. 3.
  5. Laura H. Kahn, Michael S. Bruner, "Politics on Your Plate: Building and Burning Bridges across Organics, Vegetarian, and Vegan Discourse," in Joshua Frye (ed.), The Rhetoric of Food: Discourse, Materiality, and Power, Routledge, 2012, p. 46.
  6. Gary Francione, Robert Garner, The Animal Rights Debate: Abolition Or Regulation?, Columbia University Press, 2010, p. 62.
  7. Philip J. Tuso, et al., "Nutritional Update for Physicians: Plant-Based Diets", The Permanente Journal, 17(2), Spring 2013, pp. 61–66. doi:10.7812/TPP/12-085 PMID 23704846

    Debra K. Moser, Barbara Riegel, Cardiac Nursing, Elsevier Health Sciences, 2008, p. 158.

  8. Michael Shapiro, "Sea Shepherd's Paul Watson: 'You don't watch whales die and hold signs and do nothing'", द गार्डियन, 21 September 2010.

    Matthew Cole, "Veganism," in Margaret Puskar-Pasewicz (ed.), Cultural Encyclopedia of Vegetarianism, ABC-Clio, 2010 (pp. 239–241), p. 241.

  9. http://www.vrg.org/nutshell/vegan.htm#what

साँचा:वीगनवाद और शाकाहार साँचा:पशु अधिकार साँचा:आहार साँचा:Simple living

साँचा:खाद्य उद्योग आलोचना


सन्दर्भ त्रुटि: "n" नामक सन्दर्भ-समूह के लिए <ref> टैग मौजूद हैं, परन्तु समूह के लिए कोई <references group="n"/> टैग नहीं मिला। यह भी संभव है कि कोई समाप्ति </ref> टैग गायब है।