मांस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
मांस के विभिन्न प्रकार
मांस का कीमा

मांस, माँस या गोश्त उन जीव ऊतकों और मुख्यतः मांसपेशियों को कहते हैं, जिनका सेवन भोजन के रूप में किया जाता है। मांस शब्द, को आम बोलचाल और व्यावसायिक वर्गीकरण के आधार पर भूमि पर रहने वाले पशुओं के गोश्त के संदर्भ मे प्रयोग किया जाता है (मुख्यत: कशेरुकी: स्तनधारी, पक्षी और सरीसृप), जलीय मतस्य जीवों का मांस मछली की श्रेणी में जबकि अन्य समुद्री जीव जैसे कि क्रसटेशियन, मोलस्क आदि समुद्री भोजन की श्रेणी में आते हैं। वैसे यह वर्गीकरण पूर्णत: लागू नहीं होता और कई समुद्री स्तनधारी जीवों को कभी मांस तो कभी मछली माना जाता है। पोषाहार की दृष्टि से मानव के भोजन में मांस, प्रोटीन, वसा और खनिजों का एक आम और अच्छा स्रोत है। सभी पशुओं और पौधों से प्राप्त भोजनों में, मांस को सबसे उत्तम के साथ सबसे अधिक विवादास्पद खाद्य पदार्थ भी माना जाता है। जहां पोषण की दृष्टि से मांस एक पोषाहार हैं वहीं विभिन्न धर्म इसके सेवन से अपने अनुयायियों को दूर रहने की सलाह देते हैं। जो पशु पूर्ण रूप से अपने भोजन के लिए मांस पर निर्भर होते हैं उन्हें मांसाहारी कहा जाता है, इसके विपरीत, वनस्पति खाने वाले पशुओं को शाकाहारीमांस जानवरों का मांस है जिसे भोजन के रूप में खाया जाता है।[1] प्रागैतिहासिक काल से ही मनुष्य मांस के लिए जानवरों का शिकार और हत्या करता रहा है। सभ्यता के आगमन ने मुर्गियों, भेड़ों, खरगोशों, सूअरों और मवेशियों जैसे जानवरों के प्राणी पालन की अनुमति दी। यह अंततः बूचड़खानों की सहायता से औद्योगिक पैमाने पर मांस उत्पादन में उनके उपयोग का कारण बना।

मांस मुख्य रूप से पानी, प्रोटीन और वसा से बना होता है। यह खाने योग्य कच्चा है, लेकिन आम तौर पर इसे विभिन्न तरीकों से पकाकर और मसालेदार बनाके या संसाधित करने के बाद खाया जाता है। असंसाधित मांस बैक्टीरिया और कवक द्वारा संक्रमण और अपघटन के परिणामस्वरूप घंटों या दिनों के भीतर खराब या सड़ जाएगा। भले ही इसका बड़े पैमाने पर उत्पादन और खपत मानव स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए जोखिम पैदा करने के लिए निर्धारित किया गया है। कई धर्मों के नियम हैं जिनमें मांस खाया जा सकता है या नहीं खाया जा सकता है। मांस खाने की नैतिकता, मांस उत्पादन के पर्यावरणीय प्रभावों या उपभोग के स्वास्थ्य प्रभावों के बारे में चिंताओं के कारण शाकाहारी और शुद्ध शाकाहारी मांस नहीं खा सकते हैं।

बाइबल में मांस निषेध[संपादित करें]

पूर्ण परमात्मा ने माँस खाने का आदेश कभी नहीं दिया। पवित्र बाईबल के उत्पत्ति विषय में सर्व प्राणियों के खाने के विषय में पूर्ण परमात्मा का आदेश है कि मनुष्यों के लिए फलदार वृक्ष तथा बीजदार पौधे दिए हैं जो तुम्हारे खाने के लिए हैं तथा अन्य प्राणियों को जिनमें जीवन के प्राण हैं उनके लिए छोटे-छोटे पेड़ और घास, झाड़ियां तथा बिना फल वाले पेड़ आदि खाने को दिए हैं। (उत्पत्ति ग्रन्थ 1:29,1:28)[1]

उत्पादन[संपादित करें]

मांस किसी जानवर को मारकर और उसका मांस काटकर उत्पादित किया जाता है।[2] इन प्रक्रियाओं को क्रमशः पशुबध और कसाईखाना कहा जाता है। कृत्रिम परिवेशीय मांस उत्पादन में अनुसंधान चल रहा है; यानी जानवरों के शरीर के बाहर। जो पौधे छोटे जीवों और कीड़े का सेवन करते हैं मांसभक्षी पादप कहलाते है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. NEWS, SA (2019-12-20). "मांस खाना महापाप है-जानिए मांस खाने के क्या हैं नुकसान?". SA News Channel (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2022-05-30.
  2. "मांस ऑनलाइन". लवलोकल.इन. अभिगमन तिथि १ जून २०२१.