विश्व व्यापार संगठन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ)केवल एक ही संगठन हैं जो अंतरराष्ट्रीय देशों के बीच व्यापार के नियमों के साथ काम करता हैं। अपने दिल में विश्व व्यापार संगठन के समझौते पर बातचीत की और दुनिया के व्यापारिक राष्ट्रों के थोक द्वारा के हस्ताक्षर किऐ गये और उनके संसदों में पुष्टि कर रहे हैं। विश्व व्यापार संगठन का लक्ष्य यह हैं कि वह उत्पादकों के वस्तुओं और सेवाओं, निर्यातकों और आयातकों के व्यापारों की संचालन करने में मदद करते हैं। विश्व व्यापार संगठन ने यह भी सुनिश्चित किया हैं कि व्यक्तियाँ, कंपनियाँ और सरकारों को दुनिया भर के व्यापार नियमों के बारे में पता हैं और उन्हें विश्वास दिलाता हैं कि नितियों का कोई अचानक बदलाव नहीं होगा। दुसरे शब्दों में, नियम 'पारदर्शी' और उम्मीद के मुताबिक होना चाहिए।

विश्व व्यापार संगठन का प्रतीक चिन्ह

इतिहास[संपादित करें]

विश्व व्यापार संगठन सन् १९९५ मे उत्पन्न हुआ था। सबसे कम उर्म संगठनों में से विश्व व्यापार संगठन वारिस को पर शुल्क सामान्य समझौते और व्यापार (गैट) दुसरा विश्व युध में उत्पन्न हुअ था। पिछले ५० वर्षों में विश्र्व व्यापार प्रगती की ओर बढ़ रहा हैं। विश्व व्यापार संगठन क मुख्य भवन विलियम रापार्द के रूप में माना जाता है,जिसे निर्मान भूमि के भूखंडो की ऐक संख्या के संघ द्वारा बनाई गई थी। सन:१९२१ में स्विस परिसंघ संपत्ति का अधीकरण किया और लीग ओफ नेशंस को पेशकश किया,जिसने वह स्थल अंतर्राष्ट्रीय श्रम कार्यालय को नामित किया। दोनो समितिया औपचारिक रूप से विश्व युध्द १ समाप्त होने के बाद हस्ताक्षर के साथ बनाया गया था।

विश्व व्यापार संगठन वार्ताओं से जन्मा हैं और जो कुछ भी विश्व व्यापार करता हैं वह वार्ता का परिणाम हैं। विश्व व्यापार संगठन के मौजूदा काम के थोक पर शुल्क सामान्य समझौते और व्यापार(गैट) के तहत १९८६-९४ वार्ता उरुग्वे दौर कहा जाता हैं। विश्व व्यापार संगठन के वर्तामान में नए वार्ता के लिए मेजबान, 'दोहा विकास कार्यसूची' २००१ में शुरु किया जा रहा हैं। कही देशों में व्यापार बाधाओं का सामना करना पड़ा हैं और उन्हें कम करना चाहता था। वार्ता के द्वारा व्यापार बाज़ार खोलने में मदद मिली हैं।

विश्व व्यापार संगठन और गैट

सिद्धांतों[संपादित करें]

विश्व व्यापार संगठन समझौते लंबी और जटील हैं क्योंकि वे कानूनी ग्रंथो की गतिविधियों को एक विस्तृत रेंज को कवर करता हैं। इन सिद्धांतो बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली का नीँव हैं।

गैर-भेदभाव[संपादित करें]

एक देश अपनी व्यापारिक साझीदारोँ के बीच भेदभाव नहीं करना चाहिए और इसे अपने स्वयं के और विदेशी उत्पादों, सेवाओं और नागरिकों के बीच भेदभाव नहीं करना चाहिए।

अधिक खुला[संपादित करें]

व्यापार बाधाओं को कम करने का सबसे स्पष्ट तरीका व्यापार को प्रोत्साहित करना हैं, इन बाधाओँ मे शामिल हैं सीमा शुल्क(या टैरिफ) और उपाय जेसे आयत पर रोक लगाना या कोटा चुनिंदा मात्रा में प्रतिबंधित है।

उम्मीद के मुताबिक और पारदर्शी[संपादित करें]

विदेशी कंपनियो,निवेशको और सरकारो को विश्वास होना चाहिए कि व्यापार बाधाए मनमनाने ढंग से बडाया नही जाना चाहिए। स्थिरता और भविष्‍य वचनीयता के साथ निवेश को प्रोत्साहित करता हैं, रोज़गार का सृजन होता हैं और उपभोक्ताओं पूरी तरह प्रतियोगिता का लाभ उठाता हैं।

अधिक प्रतिस्पर्धी[संपादित करें]

इस तरह के निर्यात सब्सिडी के रूप में 'अनुचित' प्रथाओं, हतोत्साहित और लागत बाजार में हिस्सेदारी हासिल करने के लिए नीचे पर उत्पादों की डंपिंग; मुद्दे जटिल हैं, और नियमों क्या उचित है या अनुचित है स्थापित करने के लिए प्रयास करें, और कैसे सरकारों अतिरिक्त आयात शुल्क अनुचित व्यापार की वजह से नुकसान के लिए क्षतिपूर्ति की गणना चार्ज द्वारा विशेष रूप से, जवाब कर सकते हैं।

सदस्यों और पर्यवेक्षकों[संपादित करें]

सदस्यों[संपादित करें]

२९ जुलाई २०१६ तक विश्व व्यापार संगठन में १६४ सदस्यों हैं। विश्व व्यापार संगठन की सदस्याता के तारीखों के साथ यह कुछ सदस्यें हैं:

अफगानिस्तान २९ जुलाई २०१६

अल्बानिया ८ सितंबर २०००

अंगोला २३ नवंबर १९९६ (गैट: ८ अप्रैल १९९४)

एंटीगुआ और बारबुडा १ जनवरी १९९५ (गैट: ३० मार्च १९८७)

अर्जेंटीना १ जनवरी १९९५ (गैट: ११ अक्टूबर १९६७)

आर्मीनिया ५ फरवरी २००३

ऑस्ट्रेलिया १ जनवरी १९९५ (गैट: १ जनवरी १९४८)

क्यूबा २० अप्रैल १९९५ (गैट: १ जनवरी १९४८)

साइप्रस ३० जुलाई १९९५ (गैट: १५ जुलाई १९६३)

चेक गणराज्य १ जनवरी १९९५ (गैट: १५ अप्रैल १९९३)

यमन २६ जून २०१४

जाम्बिया १ जनवरी १९९५ (गैट: १० फरवरी १९८२)

जिम्बाब्वे ५ मार्च १९९५ (गैट: ११ जुलाई १९४८)

विश्व व्यापार संगठन के सदस्य

प्रेक्षक सरकारों[संपादित करें]

एलजीरिया

अंडोरा

आज़रबाइजान

बहामा

बेलोरूस

भूटान

बोस्निया और हर्जेगोविना

कोमोरोस

भूमध्यवर्ती गिनी

इथियोपिया

पवित्र देखो (वैटिकन)

ईरान

इराक

लेबनान गणराज्य

लीबिया

साओ टोमे और प्रिंसिपे

सर्बिया

सूडान

सीरिया अरब गणतंत्र

उज़्बेकिस्तान

लाभ[संपादित करें]

  • लागत में कटोती और जीवन स्तर को बढ़ाएँ
  • विवादो को निपटाने और व्यापार तनाव को कम
  • आर्थिक विकास और रोजगार को प्रोत्साहित
  • कटौती अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्यापार कर की लागत
  • प्रोत्साहित सुशासन
  • मदद के देशों का विकास
  • कमजोर एक मजबूत आवाज दे
  • पर्यावरण और स्वास्थ्य का समर्थन
  • शांति और स्थिरता के लिए योगदान
  • सुर्खियों से टकराने के बिना प्रभावी हो।

संदर्भ[संपादित करें]

https://www.wto.org/english/res_e/doload_e/inbr_e.pdf

https://www.wto.org/english/thewto_e/cwr_e/cwr_history_e.htm