विश्व पर्यावरण दिवस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
विश्व पर्यावरण दिवस
Ecologia.jpg
आधिकारिक नाम संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यावरण दिवस
अन्य नाम Eco Day, World Environment Day, WED
प्रकार अंतरराष्ट्रीय
उद्देश्य पूरे विश्व को पर्यावरण की सुरक्षा क्यों करनी चाहिए, इसे समझाने हेतु।
अनुष्ठान पर्यावरण की सुरक्षा
तिथि 5 जून
First time 1974 जून 5; 43 वर्ष पहले (5-06-1974)

विश्व पर्यावरण दिवस पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण हेतु पूरे विश्व में मनाया जाता है। इस दिवस को मनाने की घोषणा संयुक्त राष्ट्र ने पर्यावरण के प्रति वैश्विक स्तर पर राजनीतिक और सामाजिक जागृति लाने हेतु वर्ष 1972 में की थी। इसे 5 जून से 16 जून तक संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण सम्मेलन में चर्चा के बाद शुरू किया गया था। 5 जून 1974 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया।

इतिहास[संपादित करें]

वर्ष 1972 में संयुक्त राष्ट्र द्वारा मानव पर्यावरण विषय पर संयुक्त राष्ट्र महासभा का आयोजन किया गया था। इसी चर्चा के दौरान विश्व पर्यावरण दिवस का सुझाव भी दिया गया और इसके दो साल बाद, 5 जून 1974 से इसे मनाना भी शुरू कर दिया गया। 1987 में इसके केंद्र को बदलते रहने का सुझाव सामने आया और उसके बाद से ही इसके आयोजन के लिए अलग अलग देशों को चुना जाता है।[1]

इसमें हर साल 143 से अधिक देश हिस्सा लेते हैं और इसमें कई सरकारी, सामाजिक और व्यावसायिक लोग पर्यावरण की सुरक्षा, समस्या आदि विषय पर बात करते हैं।

विश्व पर्यावरण दिवस को मनाने के लिए कवि अभय कुमार ने धरती पर एक गान लिखा था, जिसे 2013 में नई दिल्ली में पर्यावरण दिवस के दिन भारतीय सांस्कृतिक परिषद में आयोजित एक समारोह में भारत के तत्कालीन केंद्रीय मंत्रियों, कपिल सिब्बल और शशि थरूर ने इस गाने को पेश किया।

आयोजन[संपादित करें]

विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य पर भोपाल में स्थानी वृक्षों के बीज को मिट्टी की गेंद बना कर पुनर्रोपित करने की कार्यशाला
स्थानी वृक्षों के बीज को मिट्टी की गेंद बना कर पुनर्रोपित करने की कार्यशाला के दौरान बनाई गई गेंदे
वर्ष विषय प्रस्तोता देश
1974 केवल एक दुनिया संयुक्त राज्य अमेरिका
1975 मानव निपटान ढाका, बांग्लादेश
1976 पानी: जीवन हेतु महत्वपूर्ण संसाधन कनाडा
1977 ओजोन परत पर्यावरण संबंधी चिंता; भूमि हानि और मृदा क्षरण बांग्लादेश
1978 बिना विनाश के विकास बांग्लादेश
1979 हमारे बच्चों के लिए एक ही भविष्य है - बिना विनाश के विकास बांग्लादेश
1980 नई सदी की नई चुनौती: बिना विनाश के विकास बांग्लादेश
1981 भूजल; मानव खाद्य श्रृंखला में जहरीले रसायन बांग्लादेश
1982 दस साल बाद स्टॉकहोम (पर्यावरण संबंधी चिंता का नवीकरण) बांग्लादेश
1983 खतरनाक अपशिष्ट प्रबंधन और निपटान: अम्लीय वर्षा और ऊर्जा बांग्लादेश
1984 बंजरता बांग्लादेश
1985 युवा: जनसंख्या और पर्यावरण पाकिस्तान
1986 शांति के लिए एक पेड़ कनाडा
1987 पर्यावरण और शरण: एक छत से ज्यादा केन्या

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]