वार्ता:यादव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

यह पृष्ठ यादव लेख के सुधार पर चर्चा करने के लिए वार्ता पन्ना है। यदि आप अपने संदेश पर जल्दी सबका ध्यान चाहते हैं, तो यहाँ संदेश लिखने के बाद चौपाल पर भी सूचना छोड़ दें।

लेखन संबंधी नीतियाँ

असंदर्भित[संपादित करें]

इस लेख अथवा भाग में इस समय विस्तार अथवा सुधार किया जा रहा है। इसको बनाने एवं सम्पादित करने में आपकी किसी भी सहायता का स्वागत है।--Mahensingha (वार्ता) 18:07, 24 फ़रवरी 2015 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

अनुरोध व प्रार्थना[संपादित करें]

लेख का वर्तमान प्रारूप इतिहास कि अति गहन खोज व संदर्भों के लिए अतिशय परिश्रम से निर्मित किया गया है। सभी साथियों से करबदध प्रार्थना है कि क्रप्या इसके स्वरूप को बनाए रखे। लेख मे मात्र प्राचीन पारंपरिक हिन्दू यादव (आभीर या आहीर, वृष्णि, सत्वत व अंधक) जाति को आधार माना गया है तथा लेख इस बात पर कोई प्रकाश नही डाल रहा है कि वर्तमान की अहीर जाति या कोई समुदाय इसकी विषय सामाग्री से संबन्धित है अथवा नहीं। लेख में यह तथ्य भी ससंदर्भ सम्मिलित है कि वर्तमान में कुछ जातियाँ जैसे कि अहीर, ग्वाला, गावली व राजपूतों का एक समुदाय प्राचीन यादव या आभीर वंश से अपना संबंध बताते हैं परन्तु इस कथन का कोई सर्वमान्य ऐतिहासिक प्रमाण नहीं है। फिर भी किसी को किसी प्रकार का भी संदेह होने कि दशा मे, कृपया प्रस्तुत वार्ता मे लिखे, चर्चा करें और सच को प्रसारित करने मे मदद करे। मुझे आप सभी से पूर्ण सहयोग कि आशा है। --महेन सिंह 21:07, 22 जून 2015 (UTC)

@Mahensingha: मैंने ध्यान से तो लेख को नहीं देखा लेकिन फिर भी आपका कार्य बहुत अच्छा लगा। इसे ऐसे ही जारी रखें और अन्य पृष्ठों में सुधार कार्य करके हमारी सहायता करें।☆★संजीव कुमार (✉✉) 04:54, 23 जून 2015 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]
User:संजीव कुमार जी कृपा करके पेज का नाम बताए। मे अपनी पूरी कोशिश करुगा की भारत की समृद्ध संस्कृति के किसी भी पहलू का वर्णन कर सकू। धन्यवाद --महेन सिंह 10:55, 4 जुलाई 2015 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

सदस्य फोरम द्वारा प्रस्तुत लेख निरंतर बर्बरता का शिकार[संपादित करें]

विकिपीडिया मात्र ससंदर्भित तथ्यों को प्रकाशित करता है यह स्वयं के विचारों के लिए कदापि नहीं है। उक्त सदस्य लगातार लेख मे अपने निजी राजनैतिक विचारों के समावेश से बिगाड़ने का कार्य कर रहे है। संदर्भित सामग्री को हटा कर अपने राजनैतिक विचार बार बार लिख देना सही नहीं है। इन्हे इनके वार्ता पृष्ठ पर सावधान भी किया गया है परंतु यह विकिपीडिया के किसी भी नियम को मानते ही नहीं है। न ही यह प्रस्तुत वार्ता पृष्ठ पर कोई स्पष्टीकरण ही दे रहे है। इस संदर्भ मे मेरा सभी प्रशासकों से भी अनुरोध है कि कृपया इस संदर्भ मे उचित कार्यवाही करें। मैंने ट्विंकिल टूल के प्रयोग द्वारा इस संदर्भ मे प्रशासकों को अवगत भी करना चाहा परंतु शायद यह हिन्दी विकिपीडिया पर कार्यान्वित नहीं हो प रहा है। धन्यवाद।--☆★महेंन सिंह (✉✉) 18:42, 30 अक्टूबर 2015 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

Mixing of ancient and modern yadavs.[संपादित करें]

This article is irrelevant as it has mixed ancient and modern yadavs but in reality they are different. Saichana (वार्ता) 11:04, 13 मई 2020 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

If you consider ancient Yadav and modern Yadav differently, then the ability of historians who do research will be questioned. In reality, the name Yadav is the same as that which is in real. You cannot tell them apart, you can separate them according to certain criteria, such as on the economic, social basis that the Yadavs today have become weak, on the basis of education, and in modern India they have no rulling state of any kind. But you cannot separate anyone from its root. The root is the same, the branches that come out of it are different from each other.Thank You Arun singh Yaduvanshi (वार्ता) 20:53, 29 जून 2020 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

I don't think they are. The dumb logic someone's trying to implement here is "differentiating Yadava and Yadav"! Which also raises up a question that Rama and Ram, Laxmana and Laxman, Shiva and Shiv, Ravana and Ravan were different too? What kinda logic is that? Sanskrit words have an extra 'a' at the end which Hindi don't. The object or substance remains same, it does not change.HinduKshatrana (वार्ता) 14:34, 30 जून 2020 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

Both are one, 'a' is often used in the English language last of the word, but this does not mean that both are different. An article can be made on the ancient Yadavas about the kingdoms ruled by the Yaduvansh. The basic element of both is one.Arun singh Yaduvanshi (वार्ता) 21:42, 30 जून 2020 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

False sanskritisation[संपादित करें]

This book[1] was written before Yadav mahasabha and it clearly shows three subdivisions of Ahirs it shows Ahirs considered themselves descendants of krishna long before Yadav mahasabha it destroys their claims that ahirs started to claim Yaduvanshi after.

Ruler of jaunpur heerchand Yadav used Yadav surname long before so called Sanskritisation. [2] Uday singh jadeja (वार्ता) 20:24, 31 मई 2022 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

Abhira (Ahir) king claimed to be of somavansh and called himself somavanshya Bhushan. As Yadava/Yaduvansh is a subclan of somavansha also they where a branch of Gopala dynasty of Nepal[3] Uday singh jadeja (वार्ता) 20:31, 31 मई 2022 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

The Trikatakas/Abhira (Ahir) claimed to be of haihayas and the haihayas branch of the Yadavas/Yaduvanshas[4] Uday singh jadeja (वार्ता) 20:58, 31 मई 2022 (UTC)उत्तर दें[उत्तर दें]

  1. https://books.google.co.in/books?id=VYnlAAAAMAAJ&redir_esc=y
  2. https://jaunpur.nic.in/tourist-place/sheetala-maata-chaukiya/
  3. https://books.google.co.in/books?id=cc0LAAAAIAAJ&q=Abhira+descendants+of%C2%A0Lunarrace+of+the+Ksatriyas&dq=Abhira+descendants+of%C2%A0Lunarrace+of+the+Ksatriyas&hl=en&sa=X&ved=2ahUKEwi8v5Xrw4r4AhVI7HMBHdlpAscQ6AF6BAgMEAM/
  4. https://books.google.co.in/books?id=0bkMAAAAIAAJ&q=abhira+trikuta&dq=abhira+trikuta&ei=2H9dS8qMIaOykAT6oazFBA&cd=7&redir_esc=y/