रैगिंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रैगिंग का शब्द अधिकांश रूप से भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और श्रीलंका में प्रयोग किया जाता है। इस शब्द का मतलब है कि कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में वरिष्ठ छात्र नए छात्रों से अपनी बड़ाई प्रकट करने के लिए बहुत ही अपमानजनक रूप से पेश आते हैं, अभद्र हरकतें और अभद्र तरीकों का प्रदर्शन करने पर जोर देते हैं। यह कई बार घिनौना रूप धारण करता है जब नए छात्र मानसिक या शारीरिक यातना झेलने लगते हैं। [1][2]

वर्तमान रूप में कहा जाता है कि श्रीलंका दुनिया में रैगिंग से सर्वाधिक प्रभावित देश है। भारत में विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग ने भारतीय विश्वविद्यालयों में इसको रोकने के लिए कई निर्देश जारी किए हैं। इसके लिए एक टोल फ्री हेल्पलाइन भी शुरू की गई है।[3]

परिचय[संपादित करें]

रैगिंग की शुरूआत पहली बार सुखद हो सकती है, इसीलिए इसका नाम माला समाया है। इस सप्ताह या आगे भी, सभी नवागंतुकों को उनके साथियों के नाम और गृहनगर को याद करने का आदेश दिया जाता है। कहा जाता है कि इस अभ्यास का उद्देश्य बैच के साथी (स्थानीय स्तर पर बैच फिट के रूप में) के बीच दोस्ती बढ़ाना है।

ड्रेस कोड रैगिंग[संपादित करें]

नए छात्रों को किसी विशेष अवधि के लिए एक विशिष्ट ड्रेस पहनने के लिए कहा जाता है। निर्धारित ड्रेस कोड आमतौर पर अजीब होती है, जैसे पूरी तरह से काले या सफ़ेद कपड़े, तेल लगे हुए बाल और एक विशेष शैली में कंघी, ऐसे शर्ट पहनना जिसमें पट्टियाँ नहीं हैं, लड़कियों के लिए लंबी स्कर्ट ड्रेसिंग आदि। ड्रेस कोड रैगिंग नए छात्रों को अजीब और असहज महसूस करा सकता है क्योंकि अक्सर उन्हें ऐसी वेशभूषा में हर किसी का अनावश्यक ध्यान मिलता है।

रैगिंग की गंभीरता[संपादित करें]

2001 में भारत के उच्चतम न्यायालय ने रैगिंग पर संज्ञान लेते हुए इसकी रोकथाम के लिए केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो के पूर्व निदेशक ए राघवन की अध्यक्षता में एक समिति बनाई। मानव संसाधन विकास मंत्रालय में अपने अधीन आने वाले शिक्षा संस्थानों में रैगिंग के विरुद्ध कड़े निर्देश जारी किए। कई राज्यों ने भी इस पर रोक लगाने के लिए कानून बनाए। 1997 में तमिलनाडु में विधानसभा में रैगिंग-विरोधी कानून पास किया गया।[4]


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Newsletter" (PDF). Society Against Violence in Education. February 2008. Archived फ़रवरी 16, 2012 at the वेबैक मशीन.
  2. "Approach of jadavpur university towards ragging" (PDF). Jadavpur University. 2008-09. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  3. "Annual Report 2010-2011" (PDF). University Grants Commission (India). पृ॰ 29. अभिगमन तिथि 2 July 2016. Section 1.3(j) Anti-Ragging Cell
  4. रैगिंग : एक भयानक मज़ाक