रासायनिक समीकरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी रासायनिक अभिक्रिया के प्रतीकात्मक निरूपण को रासायनिक समीकरण कहते हैं। इसे समीकरण इसलिये कहा जाता है कि इसमें समता चिन्ह (=) का प्रयोग किया जाता है (= के स्थान पर का भी प्रयोग किया जाता है)। समता चिन्ह के बायीं ओर क्रिया करने वाले (अभिकारक) (reactants) लिखे जाते हैं तथा इसके दायीं ओर उत्पाद (products) लिखे जाते हैं। समीकरण का अधार यह है कि किसी रासायनिक अभिक्रिया में भाग लेने वाले भिभिन्न तत्वों के परमाणुओं की संख्या अभिक्रिया के उपरान्त भी अपरिवर्तित रहती है।

सबसे पहले रासायनिक समीकरण द्वारा रासायनिक अभिक्रिया का निरूपण सन १६१५ में जीन बेग्विन ने किया।

उदाहरण
2Na + O2 → 2NaO
रासायनिक समीकरण में अभिकरकों का मेल अवश्य होता है किन्तु अभिकरकों की अणुओं की संखाएं इनके द्वारा बनाये जा रहे उत्पादों की अणुओं की संख्याएँ समान होती है. 

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]