रसबेर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
रसभरी की चार प्रजातियों के फल.दक्षिणावर्त शीर्ष बाएं से: बौल्डर रसभरी, कोरियाई रसभरी, ऑस्ट्रेलियाई देशी रसभरी, पश्चिम भारतीय रसभरी
रूबस इडास और आर. स्ट्रिगोसस के बीच आमतौर पर रसभरी की खेती

रूबस जाति में पौधे की प्रजातियों के एक समूह का खाने योग्य फल है रसभरी (raspberry), इनमें से अधिकांश उपजाति आइडिओबेटस (Idaeobatus) की हैं; यह नाम खुद भी इन पौधों के लिए प्रयुक्त होता है। रसभरी बारहमासी होती हैं। नाम मूलतः रूबस इडाइअस (Rubus idaeus) नामक यूरोपीय प्रजाति के लिए संदर्भित है (लाल फलों के साथ) और अब भी इसके मानक अंग्रेजी नाम के रूप में प्रयुक्त होता है।[1]

प्रजाति[संपादित करें]

आइडिओबेटस उपजाति में रसभरी प्रजातियों के उदाहरणों में निम्नलिखित शामिल हैं:

  • रूबस क्रेटेजीफोलिअस (कोरियाई रसभरी)
  • रूबस इडाइअस (यूरोपीय लाल रसभरी)
  • रूबस ल्यूकोडर्मिस (व्हाईटबार्क या पश्चिमी रसभरी, ब्लू रसभरी, ब्लैक रसभरी)
  • रूबस औक्सिडेंटलिस (काले रसभरी)
  • रूबस पर्वीफोलिअस (ऑस्ट्रेलियाई देशी रसभरी)
  • रूबस फोनीकोलासिअस (वाइन रसभरी या वाइनबेरी)
  • रूबस रोजीफोलिअस (पश्चिम भारतीय रसभरी)
  • रूबस स्ट्रिगोसस (अमेरिकी लाल रसभरी) (पर्यायवाची. आर. इडाइअस भेद इडाइअस स्ट्रिगोसस)

अन्य उपजाति में वर्गीकृत रूबस की अनेक प्रजातियों को भी रसभरी कहा जाता है, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं:

  • रूबस आर्कटिकस (आर्कटिक रसभरी, उपजाति साईंक्लाकटिस)
  • रूबस डिलीसिओसस (बोल्डर रसभरी, उपजाति एनोप्लोबेटस)
  • रूबस निवेलिस (हिमपात रसभरी, उपजाति शैमेबेटस)
  • रूबस ओडोरेटस (खिली हुई रसभरी, उपजाति अनोप्लोबेटस)
  • रूबस सिएबोल्डी (मोलुक्का रसभरी, उपजाति मलाचोबेटस)

खेती[संपादित करें]

रसभरी खेती, बगीचे में फूल
खेती रसभरी की अपरिपक्व फल
colspan="6" align="center" bgcolor=#FF8080 टन में आउटपुट, 2003-2004:
FAOSTAT (एफएओ (FAO))
Flag of Russia.svg रूस 95000 26 % 110000 28%
Flag of Serbia.svg सर्बिया 79471 21% 79180 20%
Flag of the United States.svg संयुक्त राज्य 48535 13% 50000 13%
Flag of Poland.svg पोलैंड 42941 12% 42000 11%
Flag of Germany.svg जर्मनी 20600 6 % 20500 5 %
Flag of Ukraine.svg युक्रेन 19700 5 % 20000 5 %
Flag of Canada.svg कनाडा 14236 4 % 13700 4 %
Flag of Hungary.svg हंगरी 9000 2 % 10000 3 %
Flag of the United Kingdom.svg यूनाइटेड किंगडम 8000 2 % 8000 2 %
Flag of France.svg फ़्रान्स 6830 2 % 7500 2 %
द रेस्ट 27603 7 % 27890 7 %
कुल 371916 100 % 389061 100 %
दुनिया भर में रसभरी की उपज

ताजे फलों के बाज़ार और किराने के उत्पादों में इस्तेमाल होने वाले अलग-अलग त्वरित जमे फल, प्यूरी, जूस, या सूखे फल के रूप में वाणिज्यिक प्रसंस्करण के लिए रसभरियां पैदा की जाती हैं। परंपरागत रूप से, रसभरियां मध्य-ग्रीष्म की फसल थी, लेकिन नई तकनीक, कल्टीवार (दो प्रजातियों का संकर) और परिवहन के साथ अब साल भर उन्हें प्राप्त किया जा सकता है। सर्वोत्कृष्ट विकास के लिए रसभरियों को पर्याप्त सूर्य और पानी की जरूरत होती है। यद्यपि नमी जरूरी होती है, लेकिन गीली और भारी मिट्टी या अत्यधिक सिंचाई से फाइटोफ्थोरा नामक जड़ों के फंगस पैदा हो सकते हैं, जो कि लाल रसभरी के लिए सबसे गंभीर कीट समस्याओं में से एक है। नम समशीतोष्ण क्षेत्रों में लगायी गयी खेती आसानी से बढ़ती जाती है और इसकी छंटाई न की जाय तो इसमें फैलते जाने की प्रवृत्ति है। पक्षियों के मल में पाए जाने वाले बीजों के कारण बगीचे के खाली पड़े स्थानों में रसभरियों के फैले हुए पौधे अक्सर ही देखे जाते हैं।

वाणिज्यिक रूप से सबसे अधिक पैदा की जाने वाली रसभरी के दो प्रकार उपलब्ध हैं, ग्रीष्म-कालीन प्रकार जो कि मध्य-गर्मी में अपेक्षाकृत कम अवधि में द्वितीय-वर्ष की फसल (फ्लोरीकेंस) में प्रचूर फल देते हैं और दुगने- या "सदा"-बहार पौधे, जो कि ग्रीष्म के अंत में पहले वर्ष की फसल (प्राइमोकेंस) में कुछ फल धारण करते हैं और गिर जाते हैं, साथ ही दूसरे साल भी गर्मी में फल धारण करते हैं। 3 से 9 सहिष्णु क्षेत्र (हार्डीनेस जोन) में रसभरियों की खेती की जा सकती है।

परंपरागत रूप से जाड़े के समय प्रसुप्त कैन्स (पौधे) के रूप में रसभरियां रोपी जाती हैं, हालांकि कोमल, टिसू कल्चर द्वारा पैदा किये गये पौधे अधिक आम हो गये हैं। "लौंग केन प्रोडक्शन" नामक एक विशेष उत्पादन प्रणाली में एक साल के लिए स्कॉटलैंड (यूके) या वॉशिंगटन राज्य (यूएस) जैसे उत्तरी जलवायु में पौधों को पैदा किया जाता है, जहां जल्दी समुचित कलियां निकल आती हैं। उसके बाद जड़ सहित इन पूरे पौधों को खोद कर निकालने के बाद स्पेन जैसे गर्म जलवायु में फिर से रोप दिया जाता है, जहां वे जल्दी से खिलने लगते हैं और बहुत जल्दी मौसम की फसल उत्पादित करते हैं। पौधों को 1 मीटर की दूरी पर उपजाऊ मिट्टी व अच्छी तरह से बनी नाली में रोपना चाहिए; रसभरियां आमतौर पर ऊंची क्यारियों/मेड़ों में रोपी जाती हैं, अगर जड़ों में कीट लगने की कोई समस्या हो।

इसके फूल मधुमक्खियों और अन्य परागण-पतंगों के लिए एक प्रमुख रस के स्रोत हैं।

रसभरियां बहुत ही सशक्त होती हैं और स्थानीय स्तर पर आक्रामक हो सकती हैं। वे आधारीय शाखाओं (चूषक के नाम से भी जानी जाती हैं) का उपयोग करके फैलती हैं; विस्तारित भूमिगत शाखाएं जो जड़ों तथा अलग पौधों में विकसित होती हैं। वे मुख्य पौधे से कुछ दूरी से नए पौधों का अंकुरण कर सकती हैं। इस कारण से, रसभरियां अच्छी तरह से फैलती हैं और अगर अनियंत्रित छोड़ दिया जाय तो वे पूरे उद्यान पर कब्ज़ा जमा सकती हैं।

जब फल आसानी से टोरस/पात्र जैसा हो जाता है और उसका रंग गहरा (प्रजाति तथा कल्टीवर पर निर्भर है कि लाल, काला, जामुनी या सुनहरा पीला) हो जाता है तब उसे एकत्र कर लिया जाता है। यही वो समय है जब फल पूरी तरह पके और पूरे मीठे होते हैं। अतिरिक्त फल से रसभरी जैम बनाए जा सकते हैं या उन्हें बर्फ में जमा दिया जाता है।

पत्तों को ताजे या सूखे रूप में हर्बल और औषधीय चाय में इस्तेमाल किया जा सकता है। इनके स्वाद कसैले होते हैं और मासिक धर्म को नियमित करने में प्रभावी होने के कारण ये हर्बल औषधि में ख्यात हैं।

प्रत्येक रसभरी वजन में औसतन 4 ग्राम की होती है[2] और लगभग 100 ड्रुपलेट्स (फल का वो भाग जिसमें बीज होता है) से बनी होती है,[3] प्रत्येक में एक रसदार गूदा और उसके बीच में एक बीज होता है। रसभरी की झाड़ियां एक साल में कई सौ फल दे सकती है। ब्लैकबेरी या ड्यूबेरी के विपरीत, एक बार इसे पात्रधारक (रिसेप्टेकल) से निकाल दिया जाय तो रसभरी का भीतरी भाग खोखला हो जाता है।

कल्टीवर्स (संकर या उपजाए जाने वाले)[संपादित करें]

एक "सुनहरा" रसभरी की खेती

अनेक प्रकार के रसभरी कल्टीवर्स को चुना गया है। हाल ही में हुए प्रजनन में कांटेरहित और अधिक मजबूती के साथ सीधे खड़े कल्टीवर पैदा हुए, जिन्हें खूंटे की जरूरत नहीं पड़ती.

लाल रसभरियों (रूबस इडाइअस और/या रूबस स्ट्रिगोसस) का काली रसभरियों (रूबस ऑक्सीडेंटलिस) के साथ संकरण कराया गया है ताकि जामुनी रसभरियां पैदा की जा सके और रूबस जाति की अन्य उपजाति के साथ विभिन्न प्रजातियों के संकरण से बोयसेनबेरी और लोगानबेरी जैसे अनेक संकर प्रजातियों को पैदा किया गया। रूबस की उपजायी गयी अंतरंग रसभरियों और कुछ एशियाई प्रजातियों के बीच संकरण की भी जांच जा रही है।

चयनित महत्वपूर्ण खेती[संपादित करें]

स्रोत: नई आरएचएस (RHS) बागवानी का शब्दकोश.

  • बोय्ने
  • फेर्टोडि वीनस
  • रुबिन बुलगर्सकी
  • कास्केड डॉन
  • ग्लेन क्लोवा
  • ग्लेन मॉय
  • किलार्नी
  • मलाहट
  • मॉलिंग शोषण
  • टाइटन
  • विल्लामेट्टे
लाल, मध्य गर्मी
  • कथबर्ट
  • लॉयड जॉर्ज
  • मिकर
  • न्यूबर्घ
  • रिप्ले
  • स्कीना
  • कॉविचन
  • चेमैनुस
  • सानिच
लाल, गर्मियों के अंत में
  • कास्केड डिलाईट
  • कोहो
  • फेर्तोडी रुबीना
  • ग्लेन प्रोसेन
  • मॉलिंग लियो
  • ऑक्टेविया
  • श्र्चोएनेमन्न
  • टुलामीन
लाल, प्रीमोकेन, गिरावट, शरद ऋतु में फलना
  • मित्रता
  • ऑगस्टा
  • शरद ऋतु परमानंद
  • कैरलाइन
  • फेर्टोडी केत्स्ज़ेर्तेर्मो (Fertődi Kétszertermő)
  • विरासत
  • जोसेफिने
  • रिप्ले
  • समिट
  • जेवा हर्ब्सटेर्नटे
सोना/पीला, प्रिमोकाने, गिरावट, पतझड़ का फलना
  • ऐनी
  • फॉलगोल्ड
  • फेर्टोडी अरनीफर्ट
  • गोल्डेनवेस्ट
  • स्वर्ण रानी
  • मधु रानी
बैंगनी
  • ब्रैंडीवाइन
  • रॉयल्टी
काला
  • ब्लैक हॉक
  • ब्रिस्टल
  • कंबरलैंड
  • ग्लेंको
  • जेवेल
  • मंगेर
  • ओहियो एवरबिअरेर
  • सेप्टर

स्कॉटलैंड में, अनोखे स्वाद के फल के उत्पादन के लिए अन्य बेरियों के साथ रसभरियों का संकरण किया गया है। टायबेरी के उत्पादन के लिए स्कॉटिश क्रोप्स रिसर्च इंस्टीच्युट में रसभरी और ब्लैकबेरी का संकरण किया गया।

रोग और कीट[संपादित करें]

रसभरियों को कभी-कभी कुछ लेपिड़ोपटेरा प्रजाति के लार्वा (तितलियां और पतंगे) द्वारा खा लिया जाता है। रूबस को खाने वाले लेपिडोपटेरा की सूची देखें. बोटरायटिस सिनेरिया या ग्रे मोल्ड रसभरी और अन्य मुलायम फलों का एक आम फफुन्दीय संक्रमण है। यह देखा जाता है कि ग्रे मोल्ड रसभरियों पर पैदा होते हैं और विशेष रूप से चोट खाए फल को प्रभावित करते हैं, क्योंकि बी. सिनेरिया जीवाणु को प्रवेश का आसान रास्ता मिल जाता है।
मिट्टी के धूम्रीकरण के पहले रसभरी के पौधों को उस जमीन पर नहीं लगाया जाना चाहिए जहां पहले आलू, टमाटर, काली मिर्च, बैगन या कंद लगाये गये हों. ये फसल वर्टीसिलिअम विल्ट रोग के पोषक हैं, यह एक ऐसा फफूंद है जो वर्षों तक मिटटी में रह सकता है और रसभरी में फ़ैल सकता है।[4]

व्यापार[संपादित करें]

रसभरियां एक महत्वपूर्ण व्यापारिक फल हैं, जो व्यापक रूप से दुनिया के सभी समशीतोष्ण क्षेत्रों में उगायी जाती हैं। अधिकांश सबसे महत्वपूर्ण आधुनिक वाणिज्यिक लाल रसभरी कल्टीवर आर. इडाइअस तथा आर. स्ट्रिगोसस के बीच संकरण से उत्पन्न होते हैं।[5] कुछ वनस्पतिशास्त्रियों का मानना है कि यूरेशियाई और अमेरिकी लाल रसभरियां एक अकेली सर्कमबोरियल (circumboreal) प्रजाति रूबस इडाइअस से संबंधित हैं; जहां यूरोपीय पौधों को या तो आर. इडाइअस उपजाति इडाइअस या आर. इडाइअस भिन्न इडाइअस वर्गीकृत किया जाता है और देशी उत्तरी अमेरिकी लाल रसभरियों को या तो आर. इडाइअस उपजाति स्ट्रिगोसस, या आर. इडाइअस भिन्न स्ट्रिगोसस वर्गीकृत किया जाता है।

काले रसभरी, रूबस ऑक्सीडेंटलिस, की भी कभी-कभी संयुक्त राज्य अमेरिका में खेती की जाती है, जिससे ताजे और जमे हुए सहित जैम, परिरक्षित तथा अन्य उत्पाद प्राप्त होते हैं, जिनमें प्रजाति का विशिष्ट मजेदार स्वाद होता है।

बैंगनी रसभरियों का उत्पादन लाल व काली रसभरियों के उद्यान-विज्ञान संकरण द्वारा होता है और इसके अलावा ये कुछ जंगली इलाकों में (उदाहरण के लिए, वरमोंट में) भी पायी जाती हैं जहां अमेरिकी लाल व काली रसभरियां दोनों प्राकृतिक रूप से पैदा होती हैं। इन देशी अमेरिकी पौधों के लिए अनौपचारिक नाम रूबस × नेगलेक्टस प्रयुक्त होता है, जिनका वाणिज्यिक उत्पादन दुर्लभ है।

लाल और काली रसभरी प्रजातियां अल्बिनो-जैसी हल्की-पीली किस्म की होती हैं, जो एंथोसायनिन रंग के लिए अप्रभावी जीन के प्रकटन के परिणामस्वरूप हुआ करती है। सुनहरी रसभरी, पीली या (कभी-कभी) नारंगी रसभरी के कई नामों से जानी जाने वाली रसभरियां अपने संबंधित प्रजातियों के विशिष्ट स्वाद को कायम रखती हैं। पूर्वी संयुक्त राज्य अमेरिका में, वाणिज्यिक रूप से सबसे अधिक बेचीं जाने वाली विवर्ण रसभरियां लाल रसभरियों से व्युत्पन्न हैं। काली रसभरी की पीली-संतान या फलन कभी-कभार जंगलों में मिल जाया करती है या घरेलू बगीचों में उगाई जाती है।

पोषक तत्व और स्वास्थ्य के लाभ[संपादित करें]

Raw Raspberries
पोषक मूल्य प्रति 100 ग्रा.(3.5 ओंस)
उर्जा 60 किलो कैलोरी   260 kJ
कार्बोहाइड्रेट     14.7 g
- शर्करा 5.4 g
- आहारीय रेशा  8 g  
वसा .8 g
- संतृप्त  0 g
- एकल असंतृप्त  .1 g  
- बहुअसंतृप्त  .5 g  
प्रोटीन 1.5 g
विटामिन A equiv.  1 μg  0%
- बीटा-कैरोटीन  120 μg  1%
विटामिन C  54 mg 90%
कैल्शियम  3 mg 0%
लोहतत्व  5 mg 40%
सोडियम  1 mg 0%
प्रतिशत एक वयस्क हेतु अमेरिकी
सिफारिशों के सापेक्ष हैं.
स्रोत: USDA Nutrient database

रसभरियों में महत्वपूर्ण मात्रा में पोलिफेनोल एंटीऔक्सिडेंटस होते हैं, जैसे कि एंथोसायनिन रंजक जो कि अनेक मानव रोगों के खिलाफ संभावित स्वास्थ्य संरक्षण से जुड़े हैं।[6] समग्र फल संरचना इसके पोषण गुण में योगदान करती है, क्योंकि यह आहारीय फाइबर के अनुपात को बढ़ाती है, इस कारण इसे सबसे अधिक फाइबर सार वाले ज्ञात वनस्पति खाद्यों में रखा जाता है, इसके कुल वजन का 20% फाइबर होता है। रसभरियां विटामिन सी का एक समृद्ध स्रोत हैं, 30 मिलीग्राम के प्रति एक कप में विटामिन सी (दैनिक उपयोगिता का लगभग 50%), मैंगनीज (दैनिक उपयोगिता का लगभग 60%) और आहारीय फाइबर (दैनिक उपयोगिता का लगभग 30%) हुआ करता हैं। रसभरियों में पर्याप्त मात्रा में बी विटामिन 1-3, फोलिक एसिड, मैग्नीशियम, तांबा और लौह के सार होते हैं।[7]

रसभरियां एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण सभी फलों के शीर्ष के करीब की श्रेणी में आती हैं, विशेष रूप से एलाजिक एसिड (एलागोटेनीन्स से), क्युएरसेटिन, गलिक एसिड, एंथोसायनिंस, सायनायडिन्स, पेलार्गोनायडिन्स, कैटेचिंस, कैम्पफेरोल और सैलीसायलिक एसिड के उनके घनीभूत सार के कारण. पीली रसभरियां और अन्य विवर्ण पीले-रंग के फलों में एंथोसायनिन्स कम होता है।

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया जा चुका है, अपने एंटीऑक्सीडेंट विटामिन सी और पोलीफेनोल्स के समृद्ध सार की वजह से, रसभरियों का लगभग 4900 प्रति 100 ग्राम का एक ओआरएसी (ऑक्सीजन रैडिकल एब्जौरबेंस कैपेसिटी) मूल्य होता है, इसके साथ ही यह शीर्ष श्रेणी के ओआरएसी फलों में भी शामिल है। क्रेनबेरी और जंगली ब्लूबेरी में लगभग 9000 ओआरएसी इकाइयां होती हैं और सेब में औसतन 2800.[8]

प्रयोगात्मक मॉडल में निम्नलिखित रोग-रोधी गुण पृथक किये गये हैं। हालांकि आज की तारीख में मानव पर इनके प्रभावों को साबित करने वाले कोई नैदानिक अध्ययन नहीं हुए हैं, लेकिन प्रारंभिक चिकित्सा अनुसंधान से पता चलता है कि नियमित रूप से रसभरी खाने से निम्नलिखित के खिलाफ लाभ की संभावना है:[9][10][11]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

Wikisource-logo.svg
विकिसोर्स में इस लेख से सम्बंधित, मूल पाठ्य उपलब्ध है:
  • रसभरी
  • लाल रसभरी के पत्ते, जड़ी बूटी के रूप में प्रयोग
  • चम्बोर्ड लिकर रोयाल डे फ्रांस
  • डाई
  • पाक फलों की सूची
  • रसभरी केटोन
  • जैलोटोल, रसभरी से उदृत कम कैलोरी-चीनी की विकल्प निष्कर्षण, मक्का और कई बीट प्राकृतिक स्रोत

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. वनस्पतियों के एनडब्ल्यू (NW) यूरोप: रूबस इडेयस
  2. स्वास्थ्य और चिकित्सा तथ्य पत्रक, ब्लैकबेरिस ~ कनेक्टिंग बेरी स्वास्थ्य लाभ शोधकर्ताओं
  3. Iannetta, P. P. M.; Wyman, M.; Neelam, A.; Jones, C.; Taylor, M. A.; Davies, H. V.; Sexton, R. (2000). "A causal role for ethylene and endo-beta-1,4-glucanase in the abscission of red-raspberry (Rubus idaeus) drupelets". Physiol Plant. 110 (4): 535–543. डीओआइ:10.1111/j.1399-3054.2000.1100417.x. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  4. "प्लांटिंग इन्फोर्मेशन" से प्रमाणित रसभरी संयंत्रों रोपण http://www.spoonerfarms.com/plantinginformation.htm
  5. हक्सले, ए., एड. (1992). नई आरएचएस (RHS) बागवानी का शब्दकोश. मैकमिलन ISBN 0-333-47494-5.
  6. 2007 इंटरनैशनल बेर्री हेल्थ बेनिफिट्स सिम्पोसिम से जर्नल ऑफ़ एग्रीकल्चरल एण्ड फ़ूड केमेस्ट्री प्रेजेंट्स रीसर्च, जर्नल ऑफ़ एग्रीकल्चरल एण्ड फ़ूड केमेस्ट्री एसीएस (ACS) पब्लिकेशन्स, फरवरी 2008
  7. विश्व की स्वास्थ्यप्रद फूड्स, रासबेरी के लिए गहराई प्रोफ़ाइल पोषक
  8. Wu X, Beecher GR, Holden JM, Haytowitz DB, Gebhardt SE, Prior RL (2004). "Lipophilic and hydrophilic antioxidant capacities of common foods in the United States". J. Agric. Food Chem. 52 (12): 4026–37. PMID 15186133. डीओआइ:10.1021/jf049696w. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  9. Liu M, Li XQ, Weber C, Lee CY, Brown J, Liu RH (2002). "Antioxidant and antiproliferative activities of raspberries". J. Agric. Food Chem. 50 (10): 2926–30. PMID 11982421. डीओआइ:10.1021/jf0111209. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)
  10. Heinonen M (2007). "Antioxidant activity and antimicrobial effect of berry phenolics—a Finnish perspective". Mol Nutr Food Res. 51 (6): 684–91. PMID 17492800. डीओआइ:10.1002/mnfr.200700006. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  11. Cerdá B, Tomás-Barberán FA, Espín JC (2005). "Metabolism of antioxidant and chemopreventive ellagitannins from strawberries, raspberries, walnuts, and oak-aged wine in humans: identification of biomarkers and individual variability". J. Agric. Food Chem. 53 (2): 227–35. PMID 15656654. डीओआइ:10.1021/jf049144d. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)सीएस1 रखरखाव: एक से अधिक नाम: authors list (link)

साँचा:Rubus