सामग्री पर जाएँ

मुखाभिगम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

मुखाभिगम (अंग्रेजी: Oral Sex) भी मैथुन का एक तरीका है जिसे प्राय: सम्भोग से पूर्व महिला की योनि को मुख, जीभ, होंठ के प्रयोग से उत्तेजित किया जाता है। इसे आम बोलचाल की भाषा में मुख मैथुन कहते हैं।[1][2][3]


किसी भी यौन अभिविन्यास के लोग मुख मैथुन का अभ्यास कर सकते हैं।

फार्म[संपादित करें]

मुख मैथुन यौन क्रिया है जिसमें किसी पुरुष के मुंह या जीभ का उपयोग करके किसी महिला के जननांग को पुरुष के मुंह मे घर्षण करके उत्तेजित करना है। फेससिटिंग के दौरान महिला पुरुष के चेहरे पर बैठती है और अपने योनि को पुरुष के मुख मे धक्का देकर घर्षण करती है। और कुछ देर बाद पुरुष के मुख के अन्दर स्खलन करती है। ओरल सेक्स भी दोनों भागीदारों द्वारा एक ही समय में तथाकथित "69" स्थिति में किया जा सकता है। सम्भोग के समय महिला पुरुष के मुख के अन्दर पेसाब करेगी या थूकेगी तो यौन उत्तेजनाएं और ज्यादा होती हैं। Autofellatio एक संभावित लेकिन दुर्लभ प्रकार है; अत्यंत लचीली रीढ़ वाली महिलाओं के लिए ऑटोकुनिलिंगस भी संभव हो सकता है।

कई पुरुषों को मुख मैथुन करने वाली एक महिला तक सीमित समूह सेक्स के एक कार्य को गैंग्सक, ब्लोबैंग या लाइनअप के रूप में संदर्भित किया जाता है, समूह सेक्स के लिए स्लैंग टर्म गैंग बैंग के सभी डेरिवेटिव। Bukkake और gokkun में मुख मैथुन भी शामिल हो सकता है।

सांस्कृतिक विचार[संपादित करें]

लक्ष्मण मंदिर, खजुराहो

मुख मैथुन पर सांस्कृतिक विचार से उच्च सम्मान होते हैं।[1] यह, विशेष रूप से फ़ेलेटियो, [36] को कई संस्कृतियों और दुनिया के कुछ हिस्सों में वर्जित भी माना गया है, या कम से कम हतोत्साहित किया गया है। कुछ न्यायालयों के कानून अधिनियम के संबंध में यौन अपराधों के प्रयोजनों के लिए मुख मैथुन को भेदक सेक्स के रूप में मानते हैं, अधिकांश देशों में गुदा मैथुन विवाहेतर यौन संबंध करके इसे अभ्यास कर सकते हैं। धर्मग्रंथों ने मुख मैथुन का सम्मान किया है । मनु घोषणा करते हैं कि अगर किसी व्यक्ति ने जल में संभोग किया है तो उसे 'कष्टदायक उत्तापन' व्रत रखना चाहिए , जिसमें वह तीन दिन तक केवल सुबह भोजन करता है , अगले तीन दिन केवल संध्याकाल को और इसके बाद आनेवाले तीन दिनों में वह कुछ भी नहीं खाता है । 'कामसूत्र' भी इस का ठीक - ठीक समर्थन नहीं करता । लेकिन पुरुष के लिए वात्स्यायन कहते हैं - "अपनी पत्नी वा अन्य महिला के मुँह में जो पुरुष अपना शिश्न डालता है , वह अपने पूर्वजों के पंद्रह वर्षों के पारलौकिक जीवन को नष्ट देता है ।"[4] लेकिन महिला अपनि योनि किसि भी पुरुष के मुख मे घर्षण कर स्खलन कर सकती है। क्यूं की पुरुष को बढे भाग्य से महिला की योनि मे अपना मूंह लगानेको मिलती है ।

दूसरे जानवर[संपादित करें]

कई प्रजातियों के बीच जानवरों के साम्राज्य में मुख मैथुन देखा गया है।[5] जैसे मानव, चमकादड, बंदर आदि[6] यह सुझाव दिया गया है कि प्राइमेट्स, गैर-प्राइमेट्स और मनुष्यों की ओरल सेक्स करने की प्रवृत्ति के कारण विकासवादी लाभ है।[7] Fellatio फ्रूट बैट (सिनोप्टेरस स्फिंक्स) के साथ होता है; यह तब देखा गया है जब चमगादड़ संभोग कर रहे होते हैं। ये बल्ले के जोड़े मैथुन में अधिक समय व्यतीत करते हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Janell L. Carroll (2009). Sexuality Now: Embracing Diversity. सेनगेज लर्निंग. पपृ॰ 265–267. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-495-60274-3. अभिगमन तिथि August 29, 2013.
  2. Wayne Weiten; Margaret A. Lloyd; Dana S. Dunn; Elizabeth Yost Hammer (2008). Psychology Applied to Modern Life: Adjustment in the 21st century. सेनगेज लर्निंग. पृ॰ 422. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-495-55339-7. अभिगमन तिथि February 26, 2011.
  3. Śāstrī, Devadatta (1982). Kāmasūtra kā samājaśāstrīya adhyayana (Hindi में). Vividha Bhāratī Prakāśana. पृ॰ 221. विभिन्न आचार्यों के मत –औपरिष्टक कर्म निन्दित मैथुन है , इसे नहीं करना चाहिए । शास्त्र भी इस घृणित कर्म का निषेध करते हैं...सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  4. Kakkar, Sudhir (2007-09-01). Kamyogi. Rajkamal Prakashan. पृ॰ 146. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-267-0865-9.
  5. Woods, Stacey Grenrock (1 Oct 2004). "Do animals have oral sex?". Esquire.
  6. Min Tan; Gareth Jones; Guangjian Zhu; Jianping Ye; Tiyu Hong; Shanyi Zhou; Shuyi Zhang; Libiao Zhang (October 28, 2009). Hosken, David (संपा॰). "Fellatio by Fruit Bats Prolongs Copulation Time". PLOS ONE. 4 (10): e7595. PMID 19862320. डीओआइ:10.1371/journal.pone.0007595. पी॰एम॰सी॰ 2762080. बिबकोड:2009PLoSO...4.7595T.
  7. Brooks, Cassandra (अक्टूबर 30, 2009). "A Little Fellatio Goes a long way". ScienceNOW. मूल से एप्रिल 17, 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि जुलाई 24, 2010. Cite journal requires |journal= (मदद)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]