मालागासी लोग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मालागासी
Family Madagascar.jpg
एक मालागासी परिवार
कुल जनसंख्या

२.२ करोड़

ख़ास आवास क्षेत्र
माडागास्कर, कोमोरोस, मेयोट, रेयूनियों, मॉरीशस, फ़्रान्स
भाषाएँ
मालागासी भाषा
धर्म
सर्वात्मवाद, ईसाई धर्म, इस्लाम
अन्य सम्बंधित समूह
डायक, बांटु

मालागासी (Malagasy) दक्षिणपूर्वी अफ़्रीका की मुख्यभूमि से कुछ दूर हिन्द महासागर में स्थित माडागास्कर द्वीप-राष्ट्र की मुख्य मानव जाति का नाम है। यह लोग अधिकतर मालागासी भाषा बोलते हैं और माडागास्कर देश के लगभग सभी लोग इस समुदाय के सदस्य हैं। हालांकि माडागास्कर अफ़्रीका के इतना पास स्थित है, मालागासी लोगों के मूल पूर्वज प्राचीनकाल में नौकाओं द्वारा हिन्द महासागर के पार स्थित इंडोनीशियामलेशिया के बोर्नियो द्वीप के क्षेत्र से आये थे। इसके उपरांत पूर्वी अफ़्रीका से भी कुछ लोग आकर इनमें मिल गये और आधुनिक मालागासी जाति इसी मिश्रण से बनी है।[1]

उच्चभूमीय और तटवासी[संपादित करें]

मालागासी लोग दो मुख्य वर्गों में विभाजित हैं। पहला वर्ग "उच्चभूमि" वालों का है जो माडागास्कर द्वीप के बीच के पहाड़ी व पठारी क्षेत्रों में बसते हैं। जब बोर्नियों से मालागासी के पूर्वज तीसरी से दसवी शताब्दी ईसवी में समुद्र पार करके माडागास्कर पहुँचे तो वे अपने साथ चावल लाये थे, जो सबसे अधिक द्वीप के इन मध्य उच्चभूमि इलाक़ों में पनप पाता है। मालागासी लोगों का दूसरा वर्ग "तटवासियों" का है। हालांकि दोनों वर्गों में ही बोर्नियों व पूर्वी अफ़्रीका से आये पूर्वजों का मिश्रण है, तटवासी मालागासियों में पूर्वी अफ़्रीकियों की वांशजता अधिक है क्योंकि वे आकर तट के ख़ाली क्षेत्रों में बस गये थे। इसी कारणवश उच्चभूमियों का रंग तटवासियों से कुछ-कुछ हलका भी है।

उच्चभूमि मालागासियों में एक उपसमुदाय, मेरीना, विशेष रूप से द्वीप पर प्रबल रहा है और उन्होंने १८वीं सदी के अन्त में द्वीप को अपने अधीन संगठित करना आरम्भ कर दिया और १९वीं सदी तक लगभग पूरे द्वीप को एक राज्य में बाँध लिया। इसके बाद फ़्रान्स ने बलपूर्वक माडागास्कर पर आक्रमण किया और उसे अपना उपनिवेश बना लिया। बांटो और राज करो की नीति अपनाते हुए उन्होंने मेरिनाओं को अपने अधीन सरकार चलाने में मिला लिया और भिन्न वर्गों के बीच में द्वेश और प्रतिस्पर्धा के बीज बोये। १९६० में स्वतंत्रता के बाद भी यह तनाव बने रहे हैं।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Memories of Madagascar and Slavery in the Black Atlantic by Wendy Wilson-Fall, 2015, Ohio University Press
  2. "From Blessing to Violence: History and Ideology in the Circumcision Ritual of the Merina," Maurice Bloch, Cambridge University Press, 1986, ISBN 9780521314046, ... From the beginning of nationalist activity, but especially from 1940 onwards, the French tried to exacerbate tensions between the Merina and the coastal peoples of Madagascar by employing a 'divide and rule' policy ...