मधु रोड राष्ट्रीय उद्यान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
मधु रोड राष्ट्रीय उद्यान
மடு றோட் தேசிய பூங்கா
आईयूसीएन श्रेणी द्वितीय (II) (राष्ट्रीय उद्यान)
लुआ त्रुटि Module:Location_map में पंक्ति 502 पर: Unable to find the specified location map definition. Neither "Module:Location map/data/Sri Lanka Northern Province" nor "Template:Location map Sri Lanka Northern Province" exists।
अवस्थितिउत्तरी प्रांत
निकटतम शहरमन्नार
निर्देशांक08°55′50″N 80°12′50″E / 8.93056°N 80.21389°E / 8.93056; 80.21389निर्देशांक: 08°55′50″N 80°12′50″E / 8.93056°N 80.21389°E / 8.93056; 80.21389
क्षेत्रफल631 कि॰मी2 (244 वर्ग मील)
स्थापित28 जून 1968 (1968-06-28) (अभ्यारण्य)
22 जून 2015 (2015-06-22) (राष्ट्रीय उद्यान)
प्रशासकवन्यजीव संरक्षण विभाग

मधु रोड राष्ट्रीय उद्यान उत्तरी श्रीलंका के एक राष्ट्रीय उद्यान है। यह उद्यान मन्नार से लगभग 25 किमी (16 मील) की दूरी पर स्थित है। मधु रोड क्षेत्र को 1937 के फौना और फ्लोरा संरक्षण अध्यादेश (नंबर 2) के तहत 28 जून 1968 को एक अभयारण्य के रूप में नामित किया गया था। अभयारण्य 26,677 हेक्टेयर (65,920 एकड़) के क्षेत्र को कवर करता है।[1][2]

इतिहास[संपादित करें]

श्रीलंका के गृहयुद्ध की समाप्ति के बाद सरकार ने उत्तरी प्रांत के विभिन्न अभयारण्यों को राष्ट्रीय उद्यानों में बदलने की योजना की घोषणा की।[3][4] अभयारण्य अवैध रेत उत्खनन, पेड़ की कटाई और सरकार द्वारा अनियोजित विकास के अधीन था।[5][6] संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम की सहायता से सरकार द्वारा उत्पादित उत्तरी प्रांत का एक एकीकृत सामरिक पर्यावरण मूल्यांकन और अक्टूबर 2014 में प्रकाशित सिफारिश की गई कि मधु रोड अभयारण्य, विकसित क्षेत्रों को छोड़कर, और आसपास के राज्य के स्वामित्व वाले जंगलों को राष्ट्रीय उद्यान में उन्नत किया जाए।[7] सिफारिश के अनुसार अभयारण्य का क्षेत्र 26,677 हेक्टेयर (65,920 एकड़) से बढ़कर 63,067 हेक्टेयर (155,843 एकड़) हो जाएगा, जिसके परिणामस्वरूप पास के राज्य के स्वामित्व वाले जंगलों को अवशोषित किया जाएगा।[8]

मधु रोड अभयारण्य 22 जून 2015 को 63,067 हेक्टेयर (155,843 एकड़) के क्षेत्र के साथ एक राष्ट्रीय उद्यान बन गया।[9][10]

वनस्पति और जीव[संपादित करें]

मधु रोड में असंख्य प्रकार के पक्षी पाए जाते हैं जिनमें भारतीय मोर, शिकरा, मैना, कोयल, नीलकंठ पक्षी, घरेलू गौरैया शामिल हैं। उद्यान में पाए जाने वाले स्तनधारियों में एशियाई हाथी, भालू, गोल्डन सियार, चीतल, लंगूर, तेन्दुआ, काकड़, भैंस, जंगली सुअर आदि शामिल हैं।[1][8]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Clean Energy and Network Efficiency Improvement Project - Initial Environmental Examination" (PDF). Asian Development Bank. October 2014. पपृ॰ 24–25.
  2. Green, Michael J. B. (1990). IUCN Directory of South Asian Protected Areas. International Union for Conservation of Nature. पृ॰ 194. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 2-8317-0030-2.
  3. "New Wildlife Parks In The North". The Sunday Leader. 1 June 2010.
  4. Ladduwahetty, Ravi (28 July 2014). "Elephant experts predict miserable failure". Ceylon Today. मूल से 26 January 2016 को पुरालेखित.
  5. Kannangara, Nirmala (9 September 2012). "Sanctuaries Threatened By Excavations And Deforestation". The Sunday Leader.
  6. Kuruwita, Rathindra (21 April 2012). "Madhu forest sanctuary in Mannar District being systematically destroyed through excavating sand and felling trees". dbsjeyaraj.com/Lakbima News.
  7. Mallawatantri, Ananda; Marambe, Buddhi; Skehan, Connor, संपा॰ (October 2014). Integrated Strategic Environment Assessment of the Northern Province of Sri Lanka (PDF). Central Environmental Authority, Sri Lanka and Disaster Management Centre of Sri Lanka. पृ॰ 75. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-955-9012-55-9.
  8. Abhayagunawardena, Vidya (29 March 2015). "Will conservation boom in the north?". The Sunday Times (Sri Lanka).
  9. "PART I : SECTION (I) — GENERAL Government Notifications THE FAUNA AND FLORA PROTECTION ORDINANCE (CHAPTER 469) Order under Subsection (4) of Section 2" (PDF). The Gazette of the Democratic Socialist Republic of Sri Lanka Extraordinary. 1920/03. 22 June 2015.[मृत कड़ियाँ]
  10. "National Parks". Department of Wildlife Conservation. मूल से 2016-01-20 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2016-01-16.