भोगला सोरेन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
भोगला सोरेन

भोगला सोरेन संताली भाषा के विख्यात साहित्यकार हैं। इनके द्वारा रचित एक नाटक राही रांवाक् काना के लिये उन्हें सन् 2010 में साहित्य अकादमीपुरस्कार से सम्मानित किया गया।[1] इनकी प्रमुख कृतियां है- राही रांवाक काना (नाटक), सूडा साकोम (नाटक), राही चेतान ते (नाटक), खोबोर कागोज (नाटक), सोसनो: (नाटक), बिटलाहा (नाटक), मान दिसोम पोरान परायनी (नाटक), उपाल (उपन्यास), चापोय (उपन्यास) एवं संताली भाषा लिपि और साहित्य का विकास (लेख)।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "अकादमी पुरस्कार". साहित्य अकादमी. अभिगमन तिथि 11 सितंबर 2016.