बेग़म अख़्तर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
बेगम अख़्तर
بیگم اختر
Begum Akhtar -EMI-1.jpg
पृष्ठभूमि की जानकारी
जन्मनामअख़्तरी बाई फ़ैज़ाबादी
जन्म7 अक्टूबर 1914
मूलफ़ैज़ाबाद, उत्तर प्रदेश, भारत
मृत्यु30 अक्टूबर 1974(1974-10-30) (उम्र 60)[1]
शैलियांग़ज़ल, ठुमरी, दादरा[2]
गायिका
सक्रिय वर्ष1929–1974

बेगम अख़्तर के नाम से प्रसिद्ध, अख़्तरी बाई फ़ैज़ाबादी (७ अक्टूबर १९१४- ३० अक्टूबर १९७४) भारत की प्रसिद्ध गायिका थीं, जिन्हें दादरा, ठुमरीग़ज़ल में महारत हासिल थी। उन्हें कला के क्षेत्र में भारत सरकार पहले पद्म श्री तथा सन १९७५ में मरणोपरांत पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। उन्हें "मल्लिका-ए-ग़ज़ल" के ख़िताब से नवाज़ा गया था।[3]

लोकप्रिय लेखिका शिवानी अपने खास अंदाज में उनके बारे में लिखती हैं, “बालिका अख़्तरी को बचपन से ही संगीत से कुछ ऐसा लगाव था कि जहाँ गाना होता, छुप छुप कर सुनती और नकल करती। घर वालों ने पहले तो इन्हें रोकना चाहा; पर समुद्र की उत्तुंग तरंगो को भला कौन रोक सकता था! यदि कोई चेष्टा भी करता, तो शायद लहरों का वह सशक्त ज्वारभाटा उसे ही ले डूबता।”[4]

२०१४ की फ़िल्म डेढ़ इश्क़िया में विशाल भारद्वाज ने बेगम अख़्तर की प्रसिद्ध ठुमरी हमरी अटरिया पे का आधुनिक रीमिक्स रेखा भारद्वाज की आवाज में प्रस्तुत किया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. In Memory of Begum Akhtar The Half-inch Himalayas, by Shahid Ali Agha, Agha Shahid Ali, Published by Wesleyan University Press, 1987. ISBN 0-8195-1132-3.
  2. Dadra Thumri in Historical and Stylistic Perspectives, by Peter Lamarche Manuel, Peter Manuel. Published by Motilal Banarsidass Publ., 1989. ISBN 81-208-0673-5. Page 157.
  3. New Release: Begum Akhtar: Love’s Own Voice Archived 2011-06-06 at the Wayback Machine Hindustan Times, 31 August 2009.
  4. मेरा रंग (2019-06-02). "मल्लिका-ए-ग़ज़ल पर एक मुकम्मल किताब है 'अख़्तरीः सोज़ और साज़ का अफ़साना'". MeraRanng- स्त्री विमर्श, फेमिनिज़्म हिंदी में, महिला सशक्तिकरण. अभिगमन तिथि 2021-06-14.