बाख़्त्री भाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
कुषाण सम्राट कनिष्क का सन् १५० ईसवी के लगभग ज़र्ब किया गया सिक्का, जिसपर बाख़्त्री में लिखा है ' ϷΑΟΝΑΝΟϷΑΟ ΚΑΝΗϷΚΙ ΚΟϷΑΝΟ', शाओनानोशाओ कनिष्की कोशानो', यानि 'शहनशाह कनिष्क कुषाण'

बाख़्त्री (फ़ारसी: باختری) या बैक्ट्रीयाई (अंग्रेज़ी: Bactrian) प्राचीनकाल में मध्य एशिया के बाख़्तर (बैक्ट्रीया) क्षेत्र में बोली जाने वाली एक पूर्वी ईरानी भाषा थी जो समय के साथ विलुप्त हो गई। भाषावैज्ञानिक नज़रिए से बाख़्त्री के पश्तो, यिदग़ा और मुंजी भाषाओँ के साथ गहरे सम्बन्ध हैं। यह प्राचीन सोग़दाई और पार्थी भाषाओं से भी मिलती-जुलती थी। बाख़्त्री को लिखने के लिया ज़्यादातर यूनानी लिपि इस्तेमाल की जाती थी, इसलिए इस कभी-कभी 'यूनानी-बाख़्त्री' (या 'ग्रेको-बाख़्त्री') भी कहा जाता है।[1] उत्तर भारत पर राज करने वाला कुषाण वंश भी इस भाषा को इस्तेमाल करता था इसलिए इसे कभी-कभी 'कुषाण भाषा' या 'कुषाणी-बाख़्त्री' भी कहते हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. History of civilizations of Central Asia Archived 17 अप्रैल 2016 at the वेबैक मशीन., Vadim Mikhaĭlovich Masson, UNESCO, 1994, ISBN 978-92-3-102846-5, ... The importance of Hellenism in Central Asia may be best illustrated by the fact that the Greek alphabet was adopted to write the Bactrian language ...