सामग्री पर जाएँ

बहिष्कार, विनिवेश और प्रतिबंध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

बहिष्कार, विनिवेश और प्रतिबंध (अंग्रेज़ी: Boycott, Divestment and Sanctions) (बीडीएस) एक फिलिस्तीनी नेतृत्व वाला[1] आंदोलन है जो इज़राइल के खिलाफ बहिष्कार, विनिवेश और आर्थिक प्रतिबंधों को बढ़ावा देता है।[1] इसका उद्देश्य इज़राइल पर उस बात को पूरा करने के लिए दबाव डालना है जिसे बीडीएस आंदोलन अंतरराष्ट्रीय कानून के तहत इज़राइल के दायित्वों के रूप में वर्णित करता है,[2] जैसे कब्जे वाले क्षेत्रों से वापसी, वेस्ट बैंक में अलगाव बाधा को हटाने, इज़राइल के अरब-फिलिस्तीनी नागरिकों के लिए पूर्ण समानता के रूप में परिभाषित किया गया है, और "फिलिस्तीनी शरणार्थियों के अपने घरों और संपत्तियों पर लौटने के अधिकारों का सम्मान, सुरक्षा और प्रचार करना"। यह आंदोलन फ़िलिस्तीनी बीडीएस राष्ट्रीय समिति द्वारा आयोजित और समन्वित है। पूरी दुनिया मैं बीडीएस आंदोलन को मिल रहे समर्थन को देख विश्वभर की यहूदीवादी (Zionist) सरकारों ने इसके खिलाफ कानून बनाएं जिससे उस देश के लोग इज़राइल का बहिष्कार न कर सके, जिन्हे बीडीएस विरोधी कानून कहा जाता हैं।

Boycott, Divestment and Sanctions
संक्षेपाक्षर BDS
स्थापना 9 जुलाई 2005 (2005-07-09)[3]
संस्थापक उमर बरघौती,[4] रमी शात[5]
प्रकार लाभ निरपेक्ष संस्था
उद्देश्य बहिष्कार, सक्रियतावाद
सामान्य सहयोजक
महमूद नवाज़ा
मुख्य अंग
फिलिस्तीनी बी॰डी॰एस॰ राष्ट्रीय संगठन [6]
जालस्थल bdsmovement.net
अप्रैल 2017 में लंदन में स्कूल ऑफ ओरिएंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज के बाहर एक बीडीएस प्रदर्शन

बीडीएस को रंगभेद विरोधी आंदोलन के आधार पर तैयार किया गया है। इसके समर्थक फिलिस्तीनियों की दुर्दशा की तुलना रंगभेद युग के काले दक्षिण अफ़्रीकी लोगों से करते हैं। कई देशों में आंदोलन के समर्थन में प्रदर्शन और सम्मेलन आयोजित किए गए हैं। हंडाला, इसका शुभंकर, जो इसके चिन्ह पर अंकित है, फिलिस्तीनी पहचान और "वापसी का अधिकार" का प्रतीक है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में इज़राइल लॉबी ने बीडीएस के विरोध को अपनी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक बना लिया है, उनके हिसाब से यह उनके लिए हानिकारक है। 2015 के बाद से, इजरायली सरकार ने इस विचार को बढ़ावा देने के लिए लाखों डॉलर खर्च किए हैं कि बीडीएस यहूदी विरोधी है और इसे विदेशों में कानूनी रूप से प्रतिबंधित कर दिया जाए, हालांकि बीडीएस के प्रवक्ताओं का कहना है की वह यहूदी विरोधी नहीं पर ज़ायोनिस्ट विरोधी है।

पृष्ठभूमि

[संपादित करें]

1948 में इज़राइल राज्य की स्थापना के बाद से, फिलिस्तीनियों और अरबों के मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए इज़राइल की सरकार की भारी आलोचना की गई है, जैसे कि रंगभेद में शामिल होने का आरोप, जो फिलिस्तीनी आर्थिक समृद्धि को नुकसान पहुंचाता है। इसके परिणामस्वरूप कई आक्रामक हमले हुए, जिसका जवाब इजरायली सरकार ने अधिक आक्रामक सैन्य कार्रवाइ और अरब-फिलिस्तीनी नागरिकों के खिलाफ नस्लीय भेद के साथ दिया।

जून 2015 में, आरएएनडी निगम के एक अध्ययन में अनुमान लगाया गया कि इज़राइल के खिलाफ एक सफल BDS अभियान से इज़राइली अर्थव्यवस्था को दस वर्षों में कुल $47 बिलियन का नुकसान हुआ होगा।[7] यह आंकड़ा उस मॉडल पर आधारित था जिसने पिछले अंतरराष्ट्रीय बहिष्कारों की जांच की थी; रिपोर्ट में कहा गया है कि बीडीएस के आर्थिक प्रभावों का आकलन करना मुश्किल है क्योंकि प्रतिबंधों की प्रभावशीलता के साक्ष्य मिश्रित हैं।

बीडीएस आंदोलन सबसे बड़े बहिष्कार आंदोलनों में से एक है, शांतिपूर्ण होने के कारण इसे लगभग दुनिया के हर भाग से समर्थन मिलता है।

बीडीएस को दक्षिण अफ्रीकी संगठनों और सार्वजनिक हस्तियों से समर्थन मिला है जो रंगभेद के खिलाफ संघर्ष में शामिल थे। ऐसा समर्थन बीडीएस के लिए प्रतीकात्मक रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि यह खुद को रंगभेद विरोधी आंदोलन के आध्यात्मिक उत्तराधिकारी के रूप में स्थापित करने की कोशिश करता है। दक्षिण अफ़्रीकी आर्कबिशप डेसमंड टूटू (1931-2021), जो अपने रंगभेद विरोधी और मानवाधिकार सक्रियता के लिए जाने जाते हैं, ने अपने जीवनकाल के दौरान बीडीएस का समर्थन किया। 2012 में, दक्षिण अफ़्रीकी, अफ़्रीकी नेशनल कांग्रेस (एएनसी) पार्टी ने बीडीएस को अपना समर्थन देते हुए कहा, "फ़िलिस्तीनी इज़राइल के साथ संघर्ष में पीड़ित और उत्पीड़ित हैं।"

जून 2018 में, सोशलिस्ट इंटरनेशनल ने बीडीएस के लिए अपने समर्थन की घोषणा की। कनाडा की ग्रीन पार्टी के सदस्य ने 2016 में बीडीएस का समर्थन करने के लिए मतदान किया, पार्टी के नेता एलिजाबेथ मे की कड़ी आपत्तियों के बावजूद, जिन्होंने इस्तीफा देने की धमकी दी थी, परंतु पार्टी ने बीडीएस का समर्थन किया।

11 सितंबर 2019 को, ब्रिटिश ट्रेड्स यूनियन कांग्रेस ने "फिलिस्तीन : आत्मनिर्णय के अधिकारों का समर्थन" शीर्षक से एक प्रस्ताव पारित किया, जिसमें "फिलिस्तीनियों के न्याय और समानता के अधिकारों को प्राथमिकता देने का आह्वान किया गया, जिसमें अंतरराष्ट्रीय कानून पर आधारित इन सिद्धांतों को सभी पर लागू करना शामिल है।" ब्रिटेन ने इज़राइल के साथ व्यापार किया", और "ट्रम्प के 'सौदे' सहित फिलिस्तीनियों के लिए किसी भी प्रस्तावित समाधान के विरोध की घोषणा की, जो आत्मनिर्णय और अपने घरों में लौटने के उनके सामूहिक अधिकारों को मान्यता देने वाले अंतरराष्ट्रीय कानून पर आधारित नहीं है"।

यहूदी और बीडीएस आंदोलन

[संपादित करें]

इज़राइली सरकार ने बीडीएस पर यहूदी विरोधी होने का दावा किया था परंतु 2020 प्यू रिसर्च पोल के अनुसार, 10% अमेरिकी यहूदी बीडीएस आंदोलन का समर्थन करते हैं[8], और 2020 के जे स्ट्रीट पोल के अनुसार, 40 से कम उम्र के लगभग एक चौथाई अमेरिकी यहूदी इजरायली उत्पादों के बहिष्कार का समर्थन करते हैं। अर्नोल्ड सीना का मानना है कि यह अंतर संकेत देता है कि युवा प्रगतिशील अमेरिकी यहूदी पुरानी पीढ़ियों की तुलना में इज़राइल का कम मजबूती से समर्थन करती है।[9]

  1. "What is BDS?". BDS Movement (अंग्रेज़ी में). 2016-04-25. मूल से 6 अगस्त 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2023-12-10.
  2. Tripp, Charles (2013-02-25). The Power and the People: Paths of Resistance in the Middle East (अंग्रेज़ी में). Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-521-80965-8.
  3. Ananth 2013, पृ॰ 129.
  4. Thrall 2018.
  5. "Palestinian civil society calls on Egyptian authorities to immediately release activist Ramy Shaath". BDS Movement. 2 October 2019. मूल से 20 September 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 July 2020.
  6. Barghouti 2011, पृ॰ 61.
  7. Kittrie, Orde F. (2015-12-01). Lawfare: Law as a Weapon of War (अंग्रेज़ी में). Oxford University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-19-026359-1.
  8. Center, Pew Research (2021-05-11). "7. U.S. Jews' connections with and attitudes toward Israel". Pew Research Center's Religion & Public Life Project (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 2023-12-10.
  9. Feldman, David (2018-12-29). Boycotts Past and Present: From the American Revolution to the Campaign to Boycott Israel (अंग्रेज़ी में). Springer. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-3-319-94872-0.