बनू सक़ीफ़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
६०० ईसवी में अरबी क़बीलों का विस्तार जिसमें थ़क़ीफ़​ भी देखे जा सकते हैं

बनू सक़ीफ़ या बनू थ़क़ीफ़​ (अरबी: بنو ثقیف, अंग्रेज़ी: Banu Thaqif) पैग़म्बर मुहम्मद के काल में एक अरबी क़बीला था। यह ताइफ़ शहर का मुख्य क़बीला था और इसके वंशज अब सउदी अरब, सीरिया, लेबनान, मिस्र, जॉर्डन, इराक़ और तुनीसिया जैसे कई देशों में बसे हुए हैं। अक्सर इनके नाम में 'सक़ाफ़ी' नाम जुड़ा होता है। इस्लाम के आने से पहले यह अल-लात नामक अरबी देवी के उपासक हुआ करते थे।[1]

उच्चारण[संपादित करें]

अरबी लिपि का ث अक्षर भारतीय उपमहाद्वीप और ईरान में 'स' उच्चारित किया जाता है जबकि अरबी प्रायद्वीप में इसका आम उच्चारण बिंदु-वाला 'थ़' है। इसलिए 'सक़ीफ़' और 'थ़क़ीफ़​' दोनों ठीक हैं। ध्यान दें कि बिंदु-वाले 'क़' का उच्चारण भी 'क' से मिलता-जुलता लेकिन ज़रा अलग है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. The encyclopaedia of Middle Eastern mythology and religion, Jan Knappert, Element, 1993, ISBN 978-1-85230-427-0, ... She was especially venerated by the Thaqif clan in Taif, east of Mecca, in the form of a large stone, a square rock, kept in a wooden structure ... Allat was known to Herodotus as Alilat, and she was called the Mother of the Gods ...