फेलिस बीटो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
फेलिस बीटो
Felice Beato.jpg
एक अज्ञात छायाकार द्वारा ली गयी फेलिस बीटो की तस्वीर (शायद स्वयं ली गयी) 1866।
जन्म 1832
वेनिस, लोम्बार्डी-वेनेशिया साम्राज्य
मृत्यु 29 जनवरी 1909 (76 वर्ष)
फ्लोरेंस, इटली की राजशाही
राष्ट्रीयता ब्रितानी
अन्य नाम फेलिक्स बीटो
व्यवसाय छायाकार
प्रसिद्धि कारण पूर्व एशिया की तस्वीरें खींचने वाले शुरुआती लोगों में से एक, युद्ध की तस्वीरें लेने वाले शुरुआती पत्रकारों में से एक।
संबंधी एंटोनिओ बीटो (भाई)

फेलिस बीटो (1832-29 जनवरी 1909), जिसे फेलिक्स बीटो के नाम से भी जाना जाता है, एक इतालवी -ब्रिटिश छायाकार (फोटोग्राफर) था। वह उन शुरुआती फोटोग्राफरों मे से एक था जिन्होने पूर्व एशिया में तस्वीरें खींची थीं साथ ही वो युद्ध की तस्वीरें खींचने वाले पहले फोटोग्राफरों मे से एक था। बीटो को उसकी विशिष्ट शैली के काम के लिए याद किया जाता है। उसकी तस्वीरों में एशिया और भूमध्य सागरीय क्षेत्र के विचार, संस्कृति और वास्तुकला बड़ी कुशलता से परिलक्षित होती है। उसकी विभिन्न देशों की यात्रा और आवास ने उसे इन देशों को निकट से देखने और समझने का अवसर प्रदान किया था और इस अनुभव की सहायता से उसने अपनी तस्वीरों के माध्यम से यूरोप और अमेरिका के अधिकतर लोगों को इन देशों की संस्कृति, व्यक्तियों और घटनाओं को जानने और समझने का अवसर दिया जिससे वो पहले पूरी तरह से अंजान थे।

आज भी बीटो द्वारा खींची गयी तस्वीरें 1857 का भारतीय विद्रोह और दूसरे अफ़ीम युद्ध जैसी घटनाओं की एक सच्ची छवि हमारे सम्मुख प्रस्तुत करतीं है। बीटो की तस्वीरें फोटोपत्रकारिता की शुरुआत को भी दर्शाती हैं। बीटो के काम ने बहुत से अन्य समकालीन और उसके बाद आने वाले फोटोग्राफरों को प्रभावित किया। अपने जापान प्रवास के दौरान उसने कई स्थानीय छायाकारों के साथ ना सिर्फ काम किया बल्कि उनको प्रशिक्षण भी दिया। उसकी विधा की फोटोग्राफी का स्थानीय छायाकारों पर एक गहरा और चिरस्थायी प्रभाव पड़ा।

प्रारंभिक जीवन और पहचान[संपादित करें]

2009 में खोजे गए एक मृत्यु प्रमाण पत्र से पता चलता है कि बीटो का जन्म 1832 में वेनिस में हुआ और 29 जनवरी 1909 को फ्लोरेंस में उनकी मृत्यु हो गई । मृत्यु प्रमाण पत्र भी इंगित करता है कि वह एक ब्रिटिश नागरिक थे और अविवाहित थे। इस बात की संभावना है कि उनके बचपन में बीटो और उनका परिवार कोर्फू चले गए, जो उस समय आयोनियन द्वीप समूह में ब्रिटिश संरक्षित राज्य का हिस्सा था, इसलिए बीटो एक ब्रिटिश राष्ट्रमंडल नागरिक थे।

कई तस्वीरों पर "फेलिस एंटोनियो बीटो" और "फेलिस ए बीटो" के हस्ताक्षर हैं, और लंबे समय तक यह माना जाता रहा कि कोई एक फोटोग्राफर ही किसी तरह मिस्र और जापान के जैसे एक दूसरे से काफी दूर स्थित जगहों पर एक ही समय पर तस्वीरें खींचता था। 1983 में इसे चैंटल एडेल ने दिखाया कि "फेलिस एंटोनियो बीटो" ने दो भाइयों, फेलिस बीटो और एंटोनियो बीटो का प्रतिनिधित्व करता है, जिन्होंने कभी-कभी एक साथ काम किया, और एक ही हस्ताक्षर साझा किया। समान हस्ताक्षरों से उत्पन्न होने वाली उलझनें यह पहचानने में समस्या पैदा करती हैं कि दोनों फोटोग्राफरों में से कौन सा चित्र किसने खींचा है।

भूमध्यसागरीय क्षेत्र[संपादित करें]

फ़ेलिस बीटो कैसे एक फोटोग्राफर बने, इसके बारे में अधिक जानकारी उपलब्ध नहीं है, हालांकि यह कहा जाता है कि उन्होंने 1851 में पेरिस में अपना पहला और एकमात्र लेंस खरीदा था। संभवतः वह 1850 में माल्टा में ब्रिटिश फोटोग्राफर जेम्स रॉबर्टसन से मिले और उनके साथ 1851 में कॉन्स्टेंटिनोपल गए थे। जेम्स रॉबर्टसन (1813–88), 1855 में उनके बहनोई बन गए। इंपीरियल मिंट के अधीक्षक, रॉबर्टसन ने कुछ शुरुआती वाणिज्यिक फोटोग्राफी स्टूडियो में से एक स्टूडियो राजधानी में 1854 और 1856 के खोला था। रॉबर्टसन 1843 के बाद से इंपीरियल ओटोमन टकसाल में एक उकेरक (नक़्क़ाश) रहे थे और संभवत: 1840 के दशक में उन्होंने फोटोग्राफी की शुरुआत की थी। 1853 में दोनों ने एक साथ फोटो खींचना शुरू किया और "रॉबर्टसन एंड बीटो" नामक एक साझेदारी फर्म बनाई, जब रॉबर्टसन ने पेरा, कॉन्स्टेंटिनोपल में एक फोटोग्राफिक स्टूडियो खोला। रॉबर्ट्सन और बीटो के साथ बीटो के भाई एंटोनियो भी शामिल हो गए और 1854 या 1856 में माल्टा और 1857 में ग्रीस और जेरूसलम में फोटोग्राफिक अभियानों पर उनके साथ गए। 1850 में साझेदारी फर्म द्वारा खींची गई कई तस्वीरों पर "रॉबर्टसन, बीटो एंड कं" के हस्ताक्षर हैं, और माना जाता है कि "एंड कं" से आशय अंतोनियो (एंटोनियो) से है। 1854 के अंत में या 1855 की शुरुआत में जेम्स रॉबर्टसन ने बीटो की बहन लियोनिडा मारिया मटिल्डा बीटो से शादी की। उनकी तीन बेटियाँ, कैथरीन ग्रेस (जन्म 1856), एडिथ मार्कोन वैरिगेशन (जन्म 1859), और हेलेन बीट्रुक (जन्म 1861) थीं।

क्रीमिया[संपादित करें]

1855 में फेलिस बीटो और रॉबर्टसन ने बाल्कलावा, क्रीमिया की यात्रा की, जहां उन्होंने रोजर फेंटन के जाने के बाद क्रीमियन युद्ध की सूचना संबंधी कार्य संभाल लिया। बीटो जाहिरा तौर पर रॉबर्टसन के सहायक थे, हालांकि युद्ध-क्षेत्र की अप्रत्याशित स्थितियों ने बीटो को अधिक सक्रिय भूमिका निभाने के लिए मजबूर कर दिया। युद्ध के गरिमापूर्ण पहलुओं के लिए फेंटन के चित्रण के विपरीत, बीटो और रॉबर्टसन ने विनाश और मौत को दिखाया। उन्होंने सितंबर 1855 में सेवस्तोपोल के पतन के लगभग 60 चित्र खींचे। उनकी क्रीमियन छवियों ने नाटकीय रूप से युद्ध की सूचना देने और तस्वीर खींचने के तरीके को बदल दिया।

भारत[संपादित करें]

A photograph of the ruins of a palace with human skeletal remains in the foreground
सिकंदर बाग महल के खंडहर, के आगे बिखरे हुए विद्रोहियों के अस्थि अवशेष, लखनऊ, भारत, 1858

फरवरी 1858 में बीटो कलकत्ता पहुंचे और 1857 के भारतीय विद्रोह के बाद के दस्तावेज बनाने के लिए पूरे उत्तरी भारत की यात्रा शुरू की। इस दौरान उन्होंने संभवतः पहली बार लाशों की तस्वीरें खींचीं। ऐसा माना जाता है कि लखनऊ के सिकंदर बाग के महल में ली गई उनकी कम से कम एक तस्वीर में नाटकीय प्रभाव को बढ़ाने के लिए उन्होने भारतीय विद्रोहियों की दफन लाशों के अस्थि अवशेषों को खोद कर आँगन में फिर से बिखरवाया था। बीटो ने दिल्ली, कानपुर, मेरठ, बनारस, अमृतसर, आगरा, शिमला और लाहौर आदि शहरों में भी तस्वीरें खींची। जुलाई 1858 में बीतो के भाई एंटोनियो भी भारत आये, जो बाद में दिसंबर 1859 में स्वास्थ्य कारणों से भारत छोड़ गए। एंटोनियो 1860 में मिस्र में बस गए, और 1862 में थेब्स में एक फोटोग्राफिक स्टूडियो स्थापित किया।

चीन[संपादित करें]

1860 में बीटो ने 'रॉबर्टसन एंड बीटो' की साझेदारी को छोड़ दिया, हालांकि रॉबर्टसन ने 1867 तक नाम का इस्तेमाल बरकरार रखा। बीटो को भारत से दूसरे अफीम युद्ध के दौरान एंग्लो-फ्रांसीसी सैन्य अभियान की तस्वीर लेने के लिए चीन भेजा गया था। वह मार्च में हांगकांग पहुंचे और तुरंत शहर और उसके आसपास यानी कैंटन तक की तस्वीरें लेना शुरू कर दिया। बीटो की तस्वीरें चीन में सबसे पहले ली गई तस्वीरों में से एक हैं।

हांगकांग में रहते हुए, बीटो की मुलाकात इलस्ट्रेटेड लंदन न्यूज़ के लिए काम करने वाले कलाकार और संवाददाता चार्ल्स विर्गमैन से हुई। दोनों ने एंग्लो-फ्रांसीसी सेनाओं के साथ उत्तर की ओर तलैयन खाड़ी, फिर पेहंग और पेहो के मुहाने पर स्थित ताकू किला, और पेकिंग और किंग्गी युआन में उपनगरीय समर पैलेस तक की यात्रा की और तस्वीरें खींचीं। इस मार्ग के स्थानों के लिए और बाद में जापान में, विर्गमैन और अन्य ने इलस्ट्रेटेड लंदन न्यूज़ के लिए चित्र अक्सर बीटो की तस्वीरों से प्राप्त किए गए थे।

ताकू किले[संपादित करें]

The interior of an earthen and wooden fort with dead bodies scattered around it
21 अगस्त 1860 को कब्जा करने के तुरंत बाद ताकू किले का आंतरिक भाग

दूसरे अफीम युद्ध की बीटो की तस्वीरों में सबसे पहले एक सैन्य अभियान का दिनांकित और संबंधित छवियों के अनुक्रम के माध्यम से दस्तावेजीकरण किया गया है। ताकू किलों की उनकी तस्वीरें इस दृष्टिकोण को कम पैमाने पर दर्शाती हैं, जिससे लड़ाई का एक कथात्मक पुनर्सृजन होता है। चित्रों का क्रम किलों की पहुँच, बाहरी दीवारों और किलेबंदी पर बमबारी के प्रभाव और अंततः मृत चीनी सैनिकों के शवों सहित किलों के भीतर तबाही को दर्शाता है। तस्वीरों को इसी क्रम में नहीं खींचा गया था, क्योंकि मृत चीनी सैनिकों के शवों को हटाने से पहले उनकी तस्वीरें पहले ली जानी थीं; क्योंकि इसके बाद ही बीटो किलों के बाहरी और आंतरिक स्थानों की तस्वीरें ले सकते थे।

अभियान के एक सदस्य डॉ डेविड एफ रेनी ने अपने अभियान संस्मरण में कहा, "मैं पश्चिम की ओर प्राचीर पर चला जिस पर मृतकों के शव छितरे हुए थे, तेरह शव एक समूह में तोप के आसपास पड़े थे। श्रीमान बीटो यहां बहुत उत्साह में थे, और मृतकों के इस समूह को 'सुंदर,' कह रहे थे, और प्रार्थना कर रहे थे कि जब तक वो इनकी तस्वीरें न ले लें इन्हें छेड़ा न जाये। और उन्होनें यह काम अगले कुछ मिनट में पूरा कर लिया।"

ग्रीष्मकालीन महल[संपादित करें]

अक्टूबर 1860 में, आग के हवाले किए जाने से पहले ग्रीष्मकालीन महल (यीहे युआन) का वेंचांग मंडप या वेंचांग बुर्ज (文昌阁)।

फेलिस बीटो ने ग्रीष्मकालीन महल (समर पैलेस) बीजिंग, में चीनी सम्राटों के निजी निवास की एक तस्वीरों की श्रृंखला बनाई, जिसमें महल के मंडप, मठ और सुंदर झील उद्यान के चित्र शामिल हैं। कुछ तस्वीरें 6-18 अक्टूबर, 1860 के बीच खींची गयी थीं, जब संयुक्त राजनयिक मिशन के 20 सदस्यों की यातना देकर हत्या करने के मामले में बदला लेने के लिए ब्रिटिश फर्स्ट डिवीजन के इशारे पर लॉर्ड एल्गिन द्वारा महल की इमारत को आग के हवाले कर दिया गया था। चीन में फेलिस बीटो द्वारा ली गई नवीनतम तस्वीरें युवराज एंगिन और राजकुमार कुंगा की हैं, जो बीजिंग में बीजिंग समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए आये थे।

जापान[संपादित करें]

बर्मा[संपादित करें]

मृत्यु और विरासत[संपादित करें]

2009 में प्राप्त उनके मृत्यु प्रमाण पत्र से पता चलता है कि उनकी मृत्यु 29 जनवरी 1909 को फ्लोरेंस, इटली में हुई थी, हालांकि पहले माना जाता था कि बीटो की मृत्यु रंगून या मंडालय में 1905 या 1906 के आसपास हुई थी।

चाहे बीटो का स्वयं का काम हो या स्टिलफ्रीड और एंडरसन के रूप में बेचा गया या फिर उनका गुमनाम काम हो, पश्चिमी समाज पर बीटो के काम का एक बड़ा प्रभाव पड़ा। बीसवीं शताब्दी के आरंभिक पचास वर्षों में, बीटो की एशिया की तस्वीरों ने, यात्रा डायरी बनाने के मानकों का गठन किया, समाचार पत्रों और अन्य प्रकाशनों में छपी उनकी तस्वीरों ने पश्चिमी समाज को बहुत सी एशियाई संस्कृतियों को जानने और समझने में मदद की।

छायाकारी तकनीक[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]