नेपाल का ध्वज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
नेपाल का ध्वज
नेपाल का ध्वज
प्रयोग राष्ट्रीय ध्वज National flag
अनुपात नीचे देखें
अंगीकृत दिसम्बर 16, 1962
अभिकल्पना दो लाल रंग के त्रिकोण और नीले रंग के किनारे के साथ में अर्ध चन्द्र और सूर्य मिलाकर
नेपाल के अंतरण
प्रयोग 1962 से पहले का पुराना ध्वज Vexillological symbol IFIS Historical.svg

नेपाल का राष्ट्रीय ध्वज विश्व का एक मात्र ऐसा झन्डा है जो चौकोर या आयताकार नहीं है जो दो त्रिकोणिय आकार को ऊपर नीचे रख कर बनाया गया है। विश्व में एक और झंडा है जो चौकोर नही है वह है अमेरिका के ओहाइयो का। नेपाल के राष्ट्रिय झंडे के ऊपर वाले त्रिकोण में एक अर्ध चाँद और नीचे वाली त्रिकोण में एक सूर्य अंकित है जिसका मतलब बताया जाता है कि जब तक सूरज-चाँद रहेगा तब तक पृथ्वी पर नेपाल का अस्तित्व रहेगा। इस ध्वज के किनारे नीले रंग के किनारे लगे हैं जो शान्ति का प्रतिक है। ध्वज के बीच का भाग गहरे लाल रंग का है जो नेपाल का राष्ट्रीय रंग है। नेपाल का राष्ट्रीय पुष्प गुराँस भी इसी रंग का है। गहरा लाल विजय का भी प्रतिक है। 1962 तक नेपाल के झंडे पर चाँद और सूरज पर चेहरे बने होते थें। ध्वज का आधुनिकीकरण करने के लिए ध्वज के चंद्र और सूर्य पर से चेहरे को हटा दिया गया लेकिन फिर भी राजा अपने ध्वज पर चाँद और सूरज पर चेहरे का प्रयोग राजतंत्र खत्म होने (2008) तक करता रहा। इस ध्वज को 16 दिसम्बर 1962 को अपनाया गया जब देश का नया संविधान लिखा गया। यह अनोखा त्रिकोणिय ध्वज शताब्दियों से नेपाल में प्रयोग में चलता रहा लेकिन द्वि त्रिकोणिय ध्वज का इस्तेमाल 19 वीं शताब्दि से चलन में आया। ध्वज के आज का स्वरुप इसके प्राथमिक स्वरुप से लिया गया है जिसका प्रयोग 2000 साल पहले से हो रहा है।

प्रतीकवाद[संपादित करें]

सभी छोटे रियासतों को एकिकरण करने के बाद पृथ्वीनारायण शाह ने इस ध्वज को अपनाया। वर्तमान समय में ध्वज के सिद्धांत में परिवर्तन आ गया है। नीले किनारे वर्तमान में शान्ति और एकता का प्रतिक बन गया है। गहरा लाल नेपाल का राष्ट्रिय रंग है और यह नेपालियों कि विरता भी प्रदर्शित करता है। दो त्रिकोण हिमालय पर्वत को प्रदर्शित करता है। इस पर खगोलिय पिंड जो दर्शायें गयें है वे स्थायित्व का प्रतिक है, उन्हे आशा है कि जब तक सूर्य और चाँद रहेंगे तब तक नेपाल का अस्तित्व रहेगा। चाँद यह भी दर्शाता है कि नेपाली लोग शांतिप्रिय और शांत मिजाज के होते हैं, जबकि सूर्य दर्शाता है कि नेपाली भयंकर संकल्पवादी होते हैं। चाँद नेपाल के हिमालयी क्षेत्र के ठंडक को भी दर्शाता है, जबकि सूर्य तराई क्षेत्र के गर्मी को दर्शाता है। एक अन्य व्यख्या है कि: ध्वज कि जो बनावट है वह नेपाल के मठ-मंदिरों को भी दर्शाता है।

अन्य ध्वज[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]