नागोरे दरगाह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

नागौर दरगाह (अंग्रेज़ी:Nagore Dargah) (जिसे कभी-कभी नगूर दरगाह या हज़रत सय्यद शाहुल हमीद की दरगाह भी कहा जाता है) सूफी संत 'नागोरे शाहुल हमीद (1490-1579 ई०)[1] की कब्र पर निर्मित दरगाह है। यह दक्षिण भारतीय राज्य तमिलनाडु के तटीय शहर नागौर में स्थित है। इसके बाहरी दरवाजे हमेशा खुले रहते हैं। आंतरिक दरवाजे खोलने का समय 4:30 से 07:00 बजे और 6:25 बजे से शाम 9:30 बजे तक है। शुक्रवार को 12 से दोपहर 2:30 बजे तक दरवाजे खुले रहते है। माना जाता है कि शाहुल हामिद ने नागोरे में कई चमत्कार किए हैं और तंजावुर के 16 वीं शताब्दी के एक शासक राजा अचुताप्पा नायक की शारीरिक समस्याओं को ठीक किया था। उन्हें स्थानीय रूप से नागोरे अन्डावर के रूप में जाना जाता है, जिसका अर्थ है "नागोरे का देवता"।माना जाता है कि नागोरे दरगाह, शाहुल हामिद के भक्तों ने हिंदुओं के योगदान के साथ बनाया है।दरगाह में पांच मीनार हैं, तंजावुर प्रताप सिंह (1739-1763 सीई) के हिंदू मराठा शासक के साथ, सबसे ऊंचा मीनार का निर्माण उन्होंने करवाया दरगाह एक प्रमुख तीर्थस्थान केंद्र है जो इस्लाम और हिंदू धर्म दोनों से तीर्थयात्रियों को आकर्षित करता है, जिसमें दो धर्मों के बीच शांतिपूर्ण सह-अस्तित् काप्रतीक है।[2]

संत के बारे में[संपादित करें]

शाहुल हामिद बड़ुषा कादिरी का जन्म उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में मानिकपुर में सईद हसन कुथोस बाबा कादिरी और बीबी फातिमा के घर हुआ था।वह प्रसिद्ध सूफी संत, मुहम्मद अब्दुल क़ादिर जीलानी के 13 वीं पीढ़ी के वंशज थे।[3]उन्होंने ग्वालियर में इस्लामिक शिक्षा मुहम्मद ग़ौसे के मार्गदर्शन में की थी।उन्होंने मक्का की तीर्थ यात्रा छोड़ दी और फिर अपनी आध्यात्मिक टीम के साथ मालदीव, श्रीलंका और तमिलनाडु चले गए।[4] इतिहासकारों सय्यद और कादिर हुसैन (1957) 10 नवंबर 1504 को अपने जन्म की तिथि, 10 नवंबर 1570 को मृत्यु और 1533-34 के दौरान नागोरे पहुंचने की तिथि रखते थे।[5]अन्य स्रोतों में मृत्यु के वर्ष 1558, 1570 या 1579 के रूप में उल्लेख किया गया है।[6]माना जाता है कि वह एक सरल और पवित्र जीवन का नेतृत्व किया करते थे,और उनको नागोरे अन्डावर (नागोरे का देवता)का नाम दिया गया है।[7]इस अवधि के दौरान तंजौर क्षेत्र के बाहर उनकी लोकप्रियता बढ़ी। उन्हें मीरा साहब,[8] कादिर वाली और गंज-ए-सवाई भी कहा जाता था।[9]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Hunter, Sir William Wilson (1908). Imperial gazetteer of India, Volume 19. Oxford: Claredon Press.
  2. Landis, Dan; Albert, Rosita D. (2012). Handbook of Ethnic Conflict: International Perspectives. London: Springer Science+Business Media, LLC. पृ॰ 150. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-4614-0447-7.
  3. Raj 2006, p. 69
  4. Mohammada 2007, p. 224
  5. Werbner 1998, pp. 58–60
  6. Raj 2006, p. 69
  7. Mohammada 2007, p. 224
  8. Mohammada 2007, p. 225
  9. V., Mayilvaganan (2010-10-30). "Nagore dargah draws Hindus in droves". The Times of India. अभिगमन तिथि 2013-02-15.