दीवाना (1992 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दीवाना
दीवाना.jpg
दीवाना का पोस्टर
निर्देशक राज कँवर
निर्माता गुड्डू धनोआ,
ललित कपूर
अभिनेता ऋषि कपूर,
दिव्या भारती,
शाहरुख़ ख़ान,
अमरीश पुरी
संगीतकार नदीम श्रवण
प्रदर्शन तिथि(याँ) 26 जून 1992
समय सीमा 162 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी

दीवाना 1992 की हिन्दी भाषा की नाटकीय प्रेमकहानी फ़िल्म है। इसका निर्देशन राज कँवर ने किया। मुख्य भूमिका में ऋषि कपूर, दिव्या भारती और शाहरुख खान है। यह शाहरुख की पहली फिल्म थी और वह फिल्म के दूसरे भाग में ही दिखाई देते हैं। दिल आशना है शाहरुख खान की पहली फिल्म होने वाली थी, लेकिन दीवाना को पहले जून 1992 को रिलीज़ किया गया। इसलिए यह उनकी पहली फिल्म हुई। यह फ़िल्म 1992 की बेटा के बाद दूसरी सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फ़िल्म थी। इस फ़िल्म ने 17 करोड़ की कमाई की। इसका संगीत 1992 का सबसे ज्यादा बिकने वाला संगीत था।

संक्षेप[संपादित करें]

काजल (दिव्या भारती) एक प्रसिद्ध गायक रवि (ऋषि कपूर) के प्यार में पड़ती है और उससे शादी करती है। रवि के लालची चाचा प्रताप (अमरीश पुरी) और चचेरा भाई नरेंद्र (मोहनीश बहल) रवि के धन पर अपना कब्जा करने के लिए दृढ़ हैं। नरेंद्र पहले काजल से बलात्कार करने की कोशिश करता है लेकिन पकड़ा जाता है। प्रताप तब रवि की हत्या के लिए गुंडो को काम पर रखता जो प्रताप के बेटे नरेंद्र के साथ उसे चट्टान से फेंक देते हैं।

काजल की सास (सुषमा सेठ) एक नया जीवन शुरू करने के लिए काजल को दूसरे शहर में ले जाती है। एक नए शहर में, विधवा और उदास काजल अपने दर्द को भूलने की कोशिश करती है। एक दिन एक युवा आदमी राजा (शाहरुख खान) काजल से मिलता है और उसके साथ प्यार करता है। जब वह काजल से अपना प्यार कबूल करता है, तो वह बताती है कि वह विधवा है। राजा के पिता अपने नौकरों से काजल से छुटकारा पाने के कहते है। ऐसा पता लगने के बाद राज अपने पिता के साथ संबंध खत्म करता है। वह काजल की सास से प्रार्थना करता है कि काजल उससे विवाह करे। उसकी सास को लगता है कि काजल को फिर से शादी करनी चाहिए इसलिए वह उसे राजी करती है।

राजा और काजल शादी कर लेते हैं लेकिन वो उसे नहीं स्वीकारती। एक दिन अस्पताल से लौटने के बाद, काजल उसे स्वीकार करती है और उसके साथ प्यार करती है और दोनों अंतत एक साथ खुश हैं। एक दिन राजा एक आदमी को गुंडों से बचाता है। वह उसका इलाज करता है और उस आदमी से मित्रता करता है, जो रवि ही है।

जब राजा रवि को घर लाता है, तो काजल यह देखकर चौंक जाती है कि उसके पति का नया दोस्त उसका पहला पति है। हालाँकि जब सत्य प्रकट होता है तब काजल राजा के साथ रहती है और रवि की मां रवि के साथ रहती है। रवि के चाचा जान जाते हैं कि रवि जीवित है और राजा और काजल का अपहरण कराते हैं। काजल एक बम से बंधी होती है। रवि बम को बंद करने का प्रबंधन करता है, लेकिन प्रताप प्रकट होता है और कहता है कि वह राजा को मार देगा और काजल को विधवा बना देगा। रवि बम को बंद कर देता है जिससे एक बड़ा विस्फोट हुआ और प्रताप के साथ-साथ रवि मारा गया। रवि की स्मृति का सम्मान करते हुए काजल और राजा एक साथ रहते हैं।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

दीवाना
नदीम-श्रवण द्वारा
जारी 1992
लेबल वीनस म्यूजिक
नदीम-श्रवण कालक्रम

पायल
(1992)
दीवाना
(1992)
बेखुदी
(1992)

सभी गीत समीर द्वारा लिखित; सारा संगीत नदीम-श्रवण द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."ऐसी दीवानगी"अलका याज्ञनिक, विनोद राठौड़6:59
2."कोई न कोई चाहिए"विनोद राठौड़6:23
3."सोचेंगे तुम्हें प्यार"कुमार सानु6:03
4."तेरी उम्मीद तेरा इंतजार"कुमार सानु, साधना सरगम6:19
5."पायलिया"कुमार सानु, अलका याज्ञनिक7:57
6."तेरे दर्द से दिल"कुमार सानु4:51
7."तेरी इसी अदा पर सनम"कुमार सानु, साधना सरगम5:12
8."तेरी उम्मीद तेरा इंतजार" (II)कुमार सानु, साधना सरगम2:13

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]